For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Ajay Tiwari
Share

Ajay Tiwari's Friends

  • Prakash P
  • Mahendra Kumar
  • Naveen Mani Tripathi
  • Samar kabeer
  • दिनेश कुमार
  • नादिर ख़ान
  • rajesh kumari
 

Ajay Tiwari's Page

Latest Activity

नादिर ख़ान and Ajay Tiwari are now friends
Feb 4
Ajay Tiwari commented on Mahendra Kumar's blog post विद्वता के पैमाने /लघुकथा
"आदरणीय महेंद्र जी, सुकरात के प्रख्यात कथन को आधार बना ज्ञान के खोखले आधुनिक मानकों पर अच्छी टिप्पणी की है. हार्दिक बधाई. इसे पढ़ते हुए मीर का एक शेर याद आया : यही जाना कि कुछ न जाना हाए सो भी इक उम्र में हुआ मालूम सादर "
Jan 16
Ajay Tiwari commented on Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan"'s blog post लिप्सा के परित्याग से खिलता आत्म प्रसून
"आदरणीय पंकज जी, अच्छा प्रयोग है. हार्दिक बधाई. मतले के मिसरों में रब्त कुछ कम है. आम तौर पर खुदी(अहं) के ख़त्म होने को चैन और सुकून का कारण माना जाता है चैन और सुकून के उजड़ने का कारण नहीं. सादर "
Jan 16
Ajay Tiwari commented on surender insan's blog post ग़ज़ल "ऐसे भी माहौल बनाया जाता है"
"आदरणीय कालीपद जी, फइलुन(112) का प्रयोग मुतकारिब को छोड़ कर अन्य ज्यादातर बहरों में होता है लेकिन इसका सबसे ज्यादा प्रयोग मुतदारिक में होता है मिसाल के लिए…"
Jan 16
Ajay Tiwari commented on SALIM RAZA REWA's blog post तू अगर बा - वफ़ा नहीं होता - सलीम रज़ा रीवा
"आदरणीय सलीम साहब, आपकी बात ठीक है लेकिन कोशिश यही होनी चाहिए की मिस्ररा भी ठीक हो और शेरियत भी बनी रहे. सादर   "
Jan 16
Ajay Tiwari commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की--ये अजब क़िस्सा रहा है ज़िन्दगी में
"आदरणीय निलेश जी, उम्दा ग़ज़ल हुई है. हार्दिक बधाई. ' काश दो लब मेरे होंठों को चूमें'  इस मिसरे में 'वो' छूट गया लगता है. . यूं तो सारे शेर खूबसूरत हैं लेकिन एक शेर अलग से चमक रहा है : सोचने के वक़्त तुम को सोचता…"
Jan 16
Ajay Tiwari commented on SALIM RAZA REWA's blog post तू अगर बा - वफ़ा नहीं होता - सलीम रज़ा रीवा
"आदरणीय सलीम साहब, तीसरे शेर को निकाल देने से ग़ज़ल बेहतर हो गयी है. दूसरे शेर में 'तो' कम होने से मेरी मुराद ये थी कि दोनों मिसरों को जोड़ने वाला संयोजक इनमे नहीं है. दोनों मिसरों को अगर सरल वाक्य के रूप में लिखें तो यह बात स्पष्ट हो जायेगी…"
Jan 15
Ajay Tiwari commented on डॉ संगीता गांधी's blog post लघुकथा -गठबंधन की गाँठें
"आदरणीया संगीता जी, कथा के मध्यम से एक सार्थक राजनैतिक व्यंग के लिए हार्दिक बधाई. सादर.  "
Jan 14
Ajay Tiwari commented on SALIM RAZA REWA's blog post तू अगर बा - वफ़ा नहीं होता - सलीम रज़ा रीवा
"आदरणीय सलीम साहब, अच्छे अशआर हुए हैं. हार्दिक बधाई. दूसरे शेर में एक 'तो' कम है. तीसरा शेर कुछ अपूर्ण सा है. मक्ता बहुत अच्छा है. सादर "
Jan 14
Ajay Tiwari commented on Rahila's blog post ***नामर्द*** राहिला (लघुकथा)
"आदरणीया राहिला जी, कथा के लिए एक नया परिदृश्य तलाश कर उसे एक सामजिक व्यंग के सक्षम औजार में बदल देना बहुत अच्छा  लगा. (खूबसूरती ये है कि व्यंग में आक्रोश और करुणा दोनों अन्तर्निहित है )  कथा अगर लम्बी कहानी के फार्म में होती शायद परिवेश की…"
Jan 14
Ajay Tiwari commented on Mahendra Kumar's blog post बे-आवाज़ सिक्के /लघुकथा
"आदरणीय महेंद्र जी, यह कथा बहुत अच्छी तरह से स्वक्षता अभियान के विखंडन का विमर्श प्रस्तुत करती है. हार्दिक बधाई. जमाल जैसे पात्र के मुंह से 'शौच' जैसे शब्द का प्रयोग थोड़ा असंगत लगता है.   सादर "
Jan 14
Ajay Tiwari commented on Manan Kumar singh's blog post विमोचन(लघु कथा)
"आदरणीय मनन जी, कथा के माध्यम से आज के साहित्यिक परिदृश्य पर अच्छी टिप्पणी की है. हार्दिक बधाई "
Jan 14
Ajay Tiwari commented on surender insan's blog post ग़ज़ल "ऐसे भी माहौल बनाया जाता है"
"आदरणीय सुरेन्द्र जी, सादर नमन, फेलुन(22) को 211 और 112 दोनों वजनों पर एक साथ किसी बह्र में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता. फेलुन(22) का  211 के वजन पर सिर्फ मुतकारिब में ही इस्तेमाल होता है.(211 वस्तुत: सिर्फ एक गणितीय प्रारूप है वास्तविक तक्ती…"
Jan 14
Ajay Tiwari commented on somesh kumar's blog post कंधों का तनाव(कहानी )
"आदरणीय सोमेश जी, बहुत अच्छी कहानी है.   'इसी बीच पिताजी ऊपर से बड़ी भतीजी को आवाज़ लगाते हैं' जैसा भाषा प्रयोग थोड़ा पुराने तरह का लगता है जिससे बचा जा सकता है. सादर   "
Jan 13
Ajay Tiwari commented on विनय कुमार's blog post मुआफ़ी- लघुकथा
"आदरणीय विनय जी, असाधारण सादगी के साथ आपके गद्य में असाधारण अभिव्यंजना की क्षमता भी है. कथा बहुत स्पर्शी है.हार्दिक बधाई. "
Jan 13
Ajay Tiwari commented on Ram Awadh VIshwakarma's blog post ग़ज़ल- मिला कुछ नहीं जाँच पड़ताल में।
"आदरणीय राम अवध जी, अच्छे अशआर हुए हैं, हार्दिक बधाई. 'तमाचा पड़ा वक्त का गाल में'    मुहावरे के अनुसार तमाचा गाल 'पर' पड़ता है. सादर    "
Jan 13

Profile Information

Gender
Male
City State
U P
Native Place
Ballia
Profession
IT

Ajay Tiwari's Blog

ग़ज़ल - अक्सर खुद से खुद ही लड़ कर, खुद से खुद ही हारे हम - अजय तिवारी

फ़ेलुन  फ़ेलुन  फ़ेलुन  फ़ेलुन  फ़ेलुन  फ़ेलुन  फ़ेलुन  फ़ा

 22      22      22       22     22      22      22      2  

अक्सर खुद से खुद ही लड़ कर, खुद से खुद ही हारे हम

और किसी  से  शिकवा कैसा, अपने हाथ  के मारे हम

 

हम अपनी पर आ जाते तो, दुनिया बदल भी सकते थे

लेकिन थी कोई बात कि जिससे, बन के रहे बेचारे हम

तन्हाई ने कर डाला है,  जिस्म को अब  मिट्टी का ढेर 

साथ तेरे  चाहा था  मिल कर,  छूते  चाँद-सितारे …

Continue

Posted on December 27, 2017 at 2:12pm — 26 Comments

ग़ज़ल - सोचो कुछ उनके बारे में, जिनका दिया जला नहीं

मुफ्तइलुन मुफाइलुन  //  मुफ्तइलुन मुफाइलुन

2112       1212      //   2112      1212

क्या करें और क्यों करें, करके भी फायदा नहीं

दिल में जो दर्द है तो है, लब पे कोई गिला नहीं 

 

उसके कहे से हो गये, लाखों के घर तबाह पर 

उसने कहा कि उसने तो, कुछ भी कभी कहा नहीं

 

सच तो हमेशा राज था, सच था हमेशा सामने

सच तो सभी के पास था, ढूंढे से पर मिला नहीं 

 

दोनों के दोनों चुप थे पर, गहरे में कोई शोर था

दोनों ने ही…

Continue

Posted on October 20, 2017 at 7:47am — 23 Comments

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 11:16pm on November 1, 2017, Prakash P said…
आदरणीय श्री अजय तिवारी जी सदर प्रणाम..माफ़ कीजियेगा ये मेरा
प्रथम प्रयास था अतः बहुत कमियां हैं मेरे लेखन में ..आपका सुझाव हृदय से स्वीकार करता हूँ .ग़ज़ल की कक्षा अावश्य मार्गदर्शक सिद्ध होगी मेरे लिए, धनयवाद !नहीं उपस्थित होने का कारण बैंक का थकाऊ कार्य है ..उसके लिए क्षमा प्रार्थी हूँ.
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92
"आ. भाई नादिर जी, बेहतरीन गजल से मंच का शुभारम्भ करने के लिए हार्दिक बधाई ।"
9 minutes ago
Ashish shrivastava replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92
"हर गाम पे वो हमको सताएँ तो क्या करें , फिर भी हमारे दिल को वो भाएँ तो क्या करें । जा कर बसे हमारे…"
19 minutes ago
Ashish shrivastava replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92
"आदरणीय सार्थक जी , ग़ज़ल के लिये मुबारकबाद । ग़ज़ल पर और काम करना अभी अपेक्षित है ।"
59 minutes ago
Ashish shrivastava replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92
"आदरणीय राम अवध जी , बढ़िया ग़ज़ल कही । मुबारकबाद क़ुबूल करें ।"
1 hour ago
Ashish shrivastava replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92
"आदरणीय मुसाफ़िर जी , ग़ज़ल प्रशंसनीय है । तीसरे शे'र का ऊला मिस्रा बात को स्पष्टतः नहीं कह रहा ।"
1 hour ago
Ashish shrivastava replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92
"वाह , आदरणीय । ग़ज़ल अच्छी कही , लेकिन कहीं कहीं बह्र निभ नहीं पाई है । सादर ।"
1 hour ago
Ashish shrivastava replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92
"बहुत उम्दा ग़ज़ल ,मुहतरम नादिर साहब । मुबारकबाद !"
1 hour ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (जो अज़मे तर्के उल्फ़त कर रहा है )
"आद0 तस्दीक अहमद जी सादर अभिवादन। बहुत उम्दा ग़ज़ल कही आपने। इस शैर पर अतिरिक्त तालियां। मरीज़े इश्क़…"
1 hour ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की -खेल सारे, हर तमाशा छोड़ कर
"आद0 नीलेश भाई जी सादर अभिवादन। बहुत बेहतरीन ग़ज़ल कही आपने। हरेक शैर दमदार। मुबारकवाद कुबूल करें। सादर"
1 hour ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on KALPANA BHATT ('रौनक़')'s blog post अंगुलिमाल(लघुकथा)
"आद0 कल्पना भट्ट जी सादर अभिवादन। लघुकथा का उत्तम प्रयास। शेष आरिफ जी कह चुके हैं। इस प्रस्तुति पर…"
1 hour ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92
"उनकी अदाएँ हमको सताएं तो क्या करें रुख़ से निक़ाब ख़ुद वो उठाएं तो क्या करें टुकड़ों पे जिनके पलते रहे…"
2 hours ago
Sarthak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-92
"वो अहद ही अगर न निभाये तो क्या करें तस्वीर उसकी याद दिलाये तो क्या करें सोचा किया यही की दरिया में…"
4 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service