For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

All Blog Posts (11,791)

कबाड़ी काल

 कुछ भी

अनुपयोगी नहीं है

उसके लिए

सभी पर है

उसकी निगाहें 

गहन कूड़े से भी

बीन और लेता है छीन

वह

प्राप्य अपना 

जो है जगद्व्यव्हार में

वह भी

और जो नहीं है वह भी

बीन लेगा एक दिन वह 

पेड़ –पौधे,  नदी=-पर्वत

और पृथ्वी

यहां तक की जायेगा ले    

सूरज गगन, नीहार, तारे

चन्द्र भी

ब्रह्माण्ड के सारे समुच्चय

लोग कहते हैं प्रलय 

कहते रहे  

किन्तु तय है

बीन…

Continue

Added by डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव on February 14, 2016 at 7:22pm — No Comments

दर्द खामोशियों

212 212 212 212
दर्द खामोशियों में लिखूंगा तुम्हे
गर मुनासिब हुआ तो सिउँगा तुम्हे

याद हर एक पन्ना किताबां बना
मैं जिगर में हमेशा रखूँगा तुम्हे

मैंकदों से नहीं है मेरा वास्ता
पर जरूरी हुआ तो पिऊंगा तुम्हे

हौसलों इस कदर टूट बिखरे अगर
तुम ही बोलो तो कैसे जिऊंगा तुम्हे

जिंदगी शक न कर तू मेरे वादे पर
मुस्कुराता हुआ ही मिलूँगा तुम्हे

Added by Srivastava amod bindouri on February 14, 2016 at 6:03pm — No Comments

ग़ज़ल (निभा रहे हैं )

 ग़ज़ल ( निभा रहे हैं )

  12122 ----12122)

फरेब उल्फ़त में खा रहे हैं /

सितमगरों से निभा रहे हैं /

घटाएं हों क्यों न पानि पानी

वो छत पे ज़ुल्फ़ें सुखा रहे हैं /

हुई है  मुद्दत ये सुनते सुनते

वो मुझको अपना बना रहे हैं /

शराब ख़ोरी तो है  बहाना

किसी को दिलसे भुला रहे हैं /

लगाके इल्ज़ाम दूसरों पर

वो अपनी ग़लती छुपा रहे हैं /

मेरे लिए बज़्म में वो आये

मगर सभी फ़ैज़ पा…

Continue

Added by Tasdiq Ahmed Khan on February 14, 2016 at 11:47am — 2 Comments


सदस्य टीम प्रबंधन
ग़ज़ल प्रयास 3 ....// डॉ. प्राची



212 212 212 212

संग सुख-दुख सहेंगे ये वादा रहा।

साथ हर वक्त देंगे ये वादा रहा।

चाँदनी रात में ओढ़ कर चाँदनी

तुम जो चाहो, जगेंगे ये वादा रहा।

हाथ सर पर दुआओं का बस चाहिए

हम भी ऊँचा उढ़ेंगे ये वादा रहा।

राह काँटो भरी ये पता है हमें

हौसलों पर बढ़ेंगे ये वादा रहा।

दीप बाती से हम, जब भी मिल कर जले

हर अँधेरा हरेंगे ये वादा रहा।

देह के पार जो चेतना द्वार है

हम वहाँ पर मिलेंगे…

Continue

Added by Dr.Prachi Singh on February 14, 2016 at 11:30am — 2 Comments

काले काले घोड़े (नवगीत)

पहुँच रहे मंजिल तक

झटपट

काले काले घोड़े

 

भगवा घोड़े खुरच रहे हैं

दीवारें मस्जिद की

हरे रंग के घोड़े खुरचें

दीवारें मंदिर की

 

जो सफ़ेद हैं

उन्हें सियासत

मार रही है कोड़े

 

गधे और खच्चर की हालत

मुझसे मत पूछो तुम

लटक रहा है बैल कुँएँ में

क्यों? खुद ही सोचो तुम

 

गाय बिचारी

दूध बेचकर

खाने भर को जोड़े

 

है दिन रात सुनाई देती

इनकी टाप सभी…

Continue

Added by धर्मेन्द्र कुमार सिंह on February 14, 2016 at 11:03am — No Comments

चौकीदारी - ( लघुकथा ) –

चौकीदारी -  ( लघुकथा )  –

"तिवारी जी,सुना है आप के तो दौनों बेटे बहुत बडे   गज़टैड अफ़सर हैं!आप कैसे आ फ़ंसे यहां बृद्धाश्रम में"!

"सुनील जी, मैं तो यहां स्वेच्छा से आया हूं, बच्चे तो बहुत ज़िद करते हैं अपने साथ रखने की"!

"क्यों मज़ाक करते हो तिवारी जी,दिल बहलाने को सब यही कहते हैं, पर कौन अपना घर परिवार छोड कर यहां आता है"!

"यह मज़ाक नहीं,हक़ीक़त है"!

"फ़िर इसके पीछे कोई विशेष कारण रहा होगा"!

"ठीक सोचा आपने"!

"अगर ऐतराज़ ना हो तो वह कारण भी बता…

Continue

Added by TEJ VEER SINGH on February 14, 2016 at 10:56am — 5 Comments

संग क़ातिल का तू मांगता, क्या करूँ- ग़ज़ल इस्लाह के लिये

2122 122 122 12
है गज़ब का तेरा, मामला क्या करूँ।
संग क़ातिल का तू, मांगता क्या करूँ।।

ये मुहब्बत की औ मुस्कुराने की ज़िद।
मन तू पागल हुआ, जा रहा क्या करूँ।

डूबकर तू नज़र के समन्दर में भी।
आंसुओं से बचत, चाहता क्या करूँ।।

जाल में खुद उलझ कर परिंदे बता।
ख्वाब परवाज़ के, देखता क्या करूँ।।

तू बता खुद ही तू, रास्ता अब दिखा।
आग से प्यास का, फैसला क्या करूँ।।

Added by Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan" on February 14, 2016 at 10:01am — No Comments

एक थी रानी (लघुकथा )राहिला

लंदन से जावेद को लौटे सिर्फ दो दिन ही हुये थे । और इन दो दिनों में वो खूब समझ गया था कि इस बार अम्मी-अब्बू किसी भी सूरत में उसकी शादी से फारिग होना चाहिते हैं। अब वो वक्त आ गया था जब उसे अपनी मुहब्बत का खुलासा कर देना चाहिये।

"अब्बा!मुझे आपसे कुछ जरूरी बात करनी है।"वो सोफे पर धसते हुये बोला ।

"किस बारे में?"

"जी..शादी के बारे में।"

"हां..हां..कहो।"

"दरासल मैं एक लड़की को बहुत पहले से पसंद करता हूं और चाहता हूं कि आप उसके घर पैगाम भिजवा दें।"कह वो अब्बा का चेहरा पढ़ने… Continue

Added by Rahila on February 14, 2016 at 12:03am — 3 Comments

अपने अपने सपने--

बनारसी गईया चरा के लौटे और उनको चरनी पर बाँध के पीठ सीधा करने के लिए झोलंगी खटिया पर लेट गए। इस बार पानी महीनों से बरस नहीं रहा तो घाँस भी कम हो गयी है सिवान में, गर्मी अलग बढ़ गयी है। गमछी से माथे का पसीना पोंछते हुए मेहरारू को आवाज़ दिए " अरे तनी एक लोटा पानी त पिलाओ रघुआ की महतारी, बहुत गरम है आज"। दरवाज़े पर नज़र दौड़ाये तो साइकिल नहीं दिखी, मतलब रघुआ कहीं निकला है।

" कहाँ गायब हौ तोहार नवाब, खेत बारी से कउनो मतलब त नाहीं हौ, कम से कम गईया के ही चरा दिहल करत", पानी लेते हुए मेहरारू से…

Continue

Added by vinaya kumar singh on February 13, 2016 at 11:48pm — No Comments

कोयल

बसंत की शोभा बनती  

कोयल मीठी बोलती

डाली डाली पर उड़ती

अमृत रस है घोलती

राही से कुछ कहती

नव उमंग से भरती

तन की पीड़ा हरती

मन में खुशियाँ भरती

कड़वाहट को दूर करती

सबका दिल है जीतती

प्यारी सबको लगती

कौवे पर नजर रखती

सदा मेहनत से बचती

घोसले का इंतेजार करती

मौका देख खुद अंडे देती

कौवे के अंडे बाहर करती

उसके संग साजिस करती

बच्चों को नहीं पालती

कोयल कौवे संग…

Continue

Added by Ram Ashery on February 13, 2016 at 4:30pm — No Comments

नवगीत....’छंद माला के काव्य-सौष्ठ्व’

मन आंगन की चुनमुन चिड़िया,

चंचल चित्त पर धैर्य सिखाती.

‌गांव-शहर हर घर-आंगन में

इधर फुदकती उधर मटकती

फिर तुलसी चौरे पर चढ़ कर

 चीं चीं स्वर में गीत सुनाती

आस-पास के ज्वलन प्रदूषण

दूर करे इतिहास बुझाती.  1   मन आंगन की चुनमुन चिड़िया..

देह धोंसले घास-पूस के

मिट्टी रंग-रोगन अति सोंधी

आत्मदेव-गुरु हुये कषैले

सिर पर यश की थाली औंधी

बच्चों के डैने जब नभ को

लगे नापने, मां ! हर्षाती.   २   मन…

Continue

Added by Kewal Prasad on February 13, 2016 at 3:00pm — 2 Comments

कोहरा (लघुकथा) /शेख़ शहज़ाद उस्मानी

खुला दरवाज़ा देख कर वह सीधे अन्दर की ओर जाने लगी।



"शुभ प्रभात! आइये, अब कैसे आना हुआ?"



"भरी दोपहरी में अक्सर ख़ूब सताया है, सोचा ऐसे में इन्हें कुछ राहत दे दूँ! बच्चे तो होंगे न अंदर ?"- धूप ने अभिवादन स्वीकार कर झोपड़ी के दरवाज़े से कहा।



"नहीं, उन्हें भी सबके साथ काम पर जाना होता है भोर होते ही !" - दरवाज़े ने उत्तर दिया।



"इतने घने कोहरे में भी!"



"हाँ, अपने अपने पेट के लिए अपने हिस्से की कमाई के लिये..."



"ओह, यह कोहरा कैसे… Continue

Added by Sheikh Shahzad Usmani on February 13, 2016 at 8:28am — 7 Comments

बसंत

(1)

आया बसंत

मेरा मन मलंग 

रंगों के संग

.

(2)

पीली सरसों 

इठलाती खेतों में 

मलय संग 



(3)

मुदित पुष्प 

सज कर रंगों से 

भौंरों के संग 

.

(4)

अमराई में 

कोयल की कुहुकें 

जल तरंग

.

(5)

विरह गीत 

मंजुल होठों पर 

अश्रु के संग 

.

(6)

तान सुरीली

दूर उपवन में 

राधा के संग 

.

(7)

लाल अगन 

दहके उपवन 

टेसू के…

Continue

Added by Arun Kumar Gupta on February 12, 2016 at 4:30pm — No Comments

दीवानगी एक रोग (लघुकथा)/सतविंदर कुमार

मित्र के घर कि ओर जाना हुआ।घर के दरवाज़े पर दस्तक दी।दरवाज़ा खुला।पर दरवाज़ा खोलने वाले के चेहरे पर अज़ीब सा रूखापन।बहुत ही संक्षिप्त सा अभिवादन।चेहरा ही बहुत कुछ बोल रहा था।मित्र के बेटे का ,जिसने दरवाज़ा खोला ।घर से दूर हॉस्टल में रहकर पढ़ाई करता है।ऐसा रूखापन उसके चेहरे पर पहले कभी नहीं देखा।वह बहुत हंसमुख और जिंदादिल लड़का है।आज उसकी भावभँगिमा शिकायत सी करती प्रतीत हो रही थी।

उसकी शिक्षा से सम्बन्धी बात हुई।फिर हाल चाल पूछा और अपने मित्र के बारे में पूछा।लड़के ने आश्चचर्य से देखा।उसका… Continue

Added by सतविंदर कुमार on February 12, 2016 at 3:10pm — 2 Comments

** कविता::सियाचीन के शहीदों के नाम **

सौ बार जनम दे मां मुझको, सौ बार तुझी पर मरना है,

सौ बार ये तूफां आने दे, बाहों में इसको भरना है,

ख्वाब है मेरा मां तुझपर सौ बार लुटानी हैं सांसे,

सौ बार तेरी गोदी में सोकर फख्र खुदी पर करना है,

जमती अन्तिम सांस ने जब ये शेरों की मानिन्द कहा,

तब वीरों के इस जज्बे को हर दुश्मन ने जय हिंद कहा ll



जो तूफां की सरशैया पर हंसते-हंसते लेटा हो,

हंसकर उसकी मां बोली हर मां का ऐसा बेटा हो,

फख्र है मुझको जाते-जाते सियाचीन की गोद भर गया,

खाली मेरी गोद नहीं…

Continue

Added by Er Anand Sagar Pandey on February 12, 2016 at 11:00am — 8 Comments

"माँ शारदे वंदना "

भवदिव्य भाव मनोरमां,झन झनक झन झनकार दे

जय जयति जय जय ,जयति जय जय जयति जय माँ शारदे

कमलासिनी वरदायिनी माता हमें वरदान दे

जय जयति ........

चरणों में तेरे हैं समर्पित ज्ञान की ले याचना

वेदों का कर दो दान माते कर रहे हम प्रार्थना

माँ हम फसें मझधार में भवतारिणी तू तार दे

जय जयति.......

माँ छेड़ दो वो राग जिससे स्वरमयी धारा बहे

लोकों में तीनो मातु तेरी लोग सब जै जै कहें

स्वरदायनी माँ स्वरस्वती स्वर का हमें अधिकार दे

जय…

Continue

Added by Amit Tripathi Azaad on February 12, 2016 at 10:00am — 1 Comment

ग़ज़ल - नज़र आती है (योगेन्द्र "यश")

हारकर जीत नज़र आती है,
ग्रीष्म में शीत नज़र आती है|

गुस्से में हो फिर भी पगली में,
प्यार की प्रीत नज़र आती है|

लफ्ज़ प्यार के कहती है जब भी,
दिल को इक गीत नज़र आती है|

छू लेता नाज़ुक से उसको मैं,
ये भी इक रीत नज़र आती है|

(मौलिक एवं अप्रकाशित)

Added by Yogendra Jeengar on February 12, 2016 at 7:52am — 1 Comment

ग़ज़ल-नूर ख़ुशबुओं का सफ़र

२१२२/१२१२/२२/

ख़ुशबुओं का सफ़र नहीं आया,
खत लिए नाम:बर नहीं आया.
.
सुब’ह, राहें भटक गया... कोई,
शाम तक उस का घर नहीं आया.
.
देर तुम से न देर मुझ से हुई,
वक़्त ही वक़्त पर नहीं आया.
.  
चलते चलते गुज़ार दी सदियाँ,
अब भी मौला का दर नहीं आया.   
.
जिस्म की छाँव में रखा जिन को,
उन पे मेरा असर नहीं आया.
.
‘नूर’ ऐसा!! निगाहें क्या उठती,
हश्र पर कुछ नज़र नही आया.
.
मौलिक / अप्रकाशित 
निलेश "नूर"

Added by Nilesh Shevgaonkar on February 11, 2016 at 6:40pm — 4 Comments

गजल

2122 2122 212

काँपती घाटी बुलाती है किसे
वादियाँ चुप अब उठाती हैं किसे?1

उलफतें अब हो रहीं बेजार हैं
मुफ्त की माशूका'भाती है किसे?2

हो गयी कुर्सी सियासत की कला
देखिये फिर से लुभाती है किसे?3

शोर कितने कर रहे बेघर सभी
सोचते हैं फिर बसाती है किसे?4

हो भले अपना निशाँ अब एकला
चंचला इसको थमाती है किसे?5
मौलिक व अप्रकाशित@मनन

Added by Manan Kumar singh on February 10, 2016 at 9:00pm — 5 Comments

गूंगी गुड़िया (लघुकथा) - सुनील

"अररे ये लाल वाली साड़ी क्यूँ पहन ली, वह काले रंग वाली साड़ी पहनो ना..उसमे तुम बहुत खूबसूरत लगती हो।" परेश ने उत्तरा को देखते ही कहा।

"परेश यह साड़ी मुझे बहुत पसंद है और वैसे भी शादी जैसे शुभ मुहूर्त मे काली साड़ी.."



"कौन सोचता है आजकल इतना ? और ये देखो..कानों में भी तुमने छोटे छोटे बुंदे पहन लिये, वो बड़े वाले झुमके पहनो न.." परेश ने फिर टोका।



"वो भारी होने की वजह से मेरे कानों मे दर्द करते हैं, इसलिए ये बुंदे.."



"तुम्हारे आगे भी हद है…

Continue

Added by Sunil Verma on February 10, 2016 at 8:12pm — 7 Comments

Monthly Archives

2016

2015

2014

2013

2012

2011

2010

1999

1970

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity


सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to मिथिलेश वामनकर's discussion ओ बी ओ लाइव महा उत्सव अंक-64 की संकलित समस्त रचनाएँ
"आदरणीय गोपाल नारायन जी, आपने ओबीओ लाइव महा उत्सव में जो रचना प्रस्तुत की है वह हाइकु का अत्यंत…"
3 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Kewal Prasad's blog post नवगीत....’छंद माला के काव्य-सौष्ठ्व’
"भाई केवल प्रसाद जी, आपकी कृति का यों पद्यबद्ध देखना आह्लादित कर गया ! प्रस्तुत गीत भी प्रवहमान…"
4 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to मिथिलेश वामनकर's discussion ओ बी ओ लाइव महा उत्सव अंक-64 की संकलित समस्त रचनाएँ
"आदरणीय सतविन्दर जी, आपका प्रयास रंग लने लगा है. वैसे आपको अभी एक लम्बी यात्रा करनी है. लेकिन यात्रा…"
4 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to मिथिलेश वामनकर's discussion ओ बी ओ लाइव महा उत्सव अंक-64 की संकलित समस्त रचनाएँ
"हार्दिक धन्यवाद आदरणीय ब्रजेन्द्र नाथ जी. अपेक्षा है, आप अपनी उपस्थिति सभी आयोजनों में बनाये…"
4 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to मिथिलेश वामनकर's discussion ओ बी ओ लाइव महा उत्सव अंक-64 की संकलित समस्त रचनाएँ
"आदरणीय रमेश चौहानजी, आपके छन्द अभिधात्मक अर्थात सपाटबयानी का शिकार हो गये हैं. रचनाओं में तुकान्तता…"
4 hours ago
Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan" shared मिथिलेश वामनकर's discussion on Facebook
4 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to मिथिलेश वामनकर's discussion ओ बी ओ लाइव महा उत्सव अंक-64 की संकलित समस्त रचनाएँ
"आदरणीय गिरिराज भाईजी, आयोजन में आपकी प्रस्तुति की गहनता प्रभावित कर गयी. हार्दिक बधाइयाँ ! "
4 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to मिथिलेश वामनकर's discussion ओ बी ओ लाइव महा उत्सव अंक-64 की संकलित समस्त रचनाएँ
"आदरणीय शेख शहज़ाद उस्मानीजी, 1- रचना की लम्बाई कम करने के लिए पुनरावृत्ति वाली पंक्तियों में ......…"
4 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to मिथिलेश वामनकर's discussion ओ बी ओ लाइव महा उत्सव अंक-64 की संकलित समस्त रचनाएँ
"आदरणीय मिथिलेश भाईजी, आयोजन की सभी मान्य रचनाओं के संकलन को इतनी शीघ्रता से प्रस्तुत करने केलिए…"
5 hours ago
Parvez khan commented on Rahila's blog post एक थी रानी (लघुकथा )राहिला
"राहिला जी बहुत सस्पेंस रखा आपने रचना मे । जिसे पडते हुये लग रहा था कि उसकी बीमारी की बजह से उसकी…"
5 hours ago
Janki wahie commented on TEJ VEER SINGH's blog post चौकीदारी - ( लघुकथा ) –
"आज़ की विडम्बना माँ बाप तो चौकीदार भर ही रह गए।मार्मिक कथा।हार्दिक बधाई आ.tez vir ji"
6 hours ago
Janki wahie commented on Rahila's blog post एक थी रानी (लघुकथा )राहिला
"ज़ोर का झटका धीरे से ।गज़ब का पञ्च ।लाज़वाब कथा है ये प्रिय राहिला ।हार्दिक बधाई मेरी।सुंदर कथ्य और…"
6 hours ago

© 2016   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service