For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गनेश जी "बागी")

All Blog Posts (8,027)

तुझ बिन..! ( अतुकांत )

 

कैसी शुष्कता है?

जो धूप में

बदन झुलसा रही

भीतर में इतनी आग

विरह की जो

केवल धुआं

और धुआं देती है

राख तक नसीब नहीं

जिसे रख लूँ संजो कर

दूँ तेरी हथेली पर

जब मिलन की बेला हो

और कहूँ कि....

यह पाया मैंने

तुझ बिन...!

     जितेन्द्र ' गीत '

( मौलिक व् अप्रकाशित )

 

Added by जितेन्द्र 'गीत' on April 18, 2014 at 8:32am — 6 Comments

ग़ज़ल …. है बहाना आज फिर शुभकामनाओं के लिये

 रदीफ़ -के लिये 

काफ़िया -शुभकामनाओं ,संभावनाओं , याचनाओं 

अर्कान -2122 ,2122 ,2122 ,212 



है बहाना आज फिर शुभकामनाओं के लिये 

आँधियों की धूल में संभावनाओं के लिये . 



नींद क्यों आती नहीं ये ख्वाब हैं पसरे हुये 

हो गई बंजर जमीनें भावनाओं के लिये .



है बड़ा मुश्किल समझना जिंदगी की धार को 

माँगते अधिकार हैं सब वर्जनाओं…

Continue

Added by dr lalit mohan pant on April 18, 2014 at 1:29am — 6 Comments

दोहे-१६-(खिचड़ी)

यह जीवन का चक्र है,पतझड़ फिर मधुमास!
बस कुछ दिन की बात है,हो क्यों मित्र उदास!!
नेता नित नित गढ़ रहे ,नये नये भ्रमजाल !

जनता भूखों मर रही,इनकी मोटी खाल !!
स्वाभिमान को बेचकर,क्रय कर लाये लोभ!
जानबूझकर ढो रहे,केवल कुंठित क्षोभ!!
झूठा ही इक बार तो,कर दो यूँ इकरार!
जीवित हो जाऊँ पुनः,कह दो मुझसे प्यार!!
माना तुमको रहा नहीं,अब तो मुझसे प्यार!
किया…
Continue

Added by ram shiromani pathak on April 17, 2014 at 11:00pm — 3 Comments

चुनाव

         चुनाव

भरे नहीं थे पिछले घाव

लो फिर आगया चुनाव

मुद्दों की मलहम लेकर

घर-घर बाँट रहे हैं

फिर नए साजिश की

क्या ये सोच रहे हैं ?

धर्म मज़हब की लेकर आड़

करते नित नए खिलवाड़

फिर शह-मात की बारी है

सियासी जंग की तैयारी है

आरोप प्रत्यारोप का

भयंकर गोला बारी है

विकास की उम्मीद लिए

परिवर्तन पर परिवर्तन

लेकिन थमता नहीं यहाँ

कुशासन का ये नर्तन

कहीं मुँह बड़ा हुआ…

Continue

Added by Maheshwari Kaneri on April 17, 2014 at 6:30pm — No Comments

ग़ज़ल : तभी जाके ग़ज़ल पर ये गुलाबी रंग आया है

बह्र : १२२२ १२२२ १२२२ १२२२

महीनों तक तुम्हारे प्यार में इसको पकाया है

तभी जाके ग़ज़ल…

Continue

Added by धर्मेन्द्र कुमार सिंह on April 17, 2014 at 5:53pm — 5 Comments

वो गयी न ज़बीं से

वो गयी न ज़बीं से …

आबाद हैं तन्हाईयाँ ..तेरी यादों की महक से

वो गयी न ज़बीं से .मैंने देखा बहुत बहक के

कब तलक रोकें भला बेशर्मी बहते अश्कों की

छुप सके न तीरगी में अक्स उनकी महक के

सुर्ख आँखें कह रही हैं ....बेकरारी इंतज़ार की

लो आरिज़ों पे रुक गए ..छुपे दर्द यूँ पलक के

ज़िंदा हैं हम अब तलक..... आप ही के वास्ते

रूह वरना जानती है ......सब रास्ते फलक के

बस गया है नफ़स में ....अहसास वो आपका

देखा न एक…

Continue

Added by Sushil Sarna on April 17, 2014 at 5:13pm — 2 Comments

अतुकांत कविता .....प्रवृत्ति.....

सुख-दुःख सिक्के के दो पहलू है,

फिर भी दुःख क्यों सुख पर ,

नहले पे दहला-सा लगता है |

सुख क्यों हमें जीवन में,

ऊंट के मुहं में जीरा-सा प्रतीत होता है |

क्यों नहीं हम दोनों ही हाल में,

एक-सा रह पाते है |



प्यार-नफ़रत मनुष्य की प्रवृत्ति है

फिर भी प्यार पर नफ़रत हमेशा ,

सेर पर सवा सेर सा लगता है |

प्यार कितना भी मिले जीवन में,

दाल में नमक-सा लगता है |

थोड़ी-सी भी नफ़रत हमें,

पहाड़-सी क्यों दिखती है |

एक से दूजा जुड़ा फिर भी ,

एक…

Continue

Added by savitamishra on April 17, 2014 at 1:41pm — 5 Comments

लक्ष्यहीन वाल्मिकी

मैं सबसे प्रेम करता था|

मेरे प्रेम को

एक मोबाइल कॉल की तरह अग्रेषित किया

मेरे अपनों ने ही

चमकते सिक्कों की ओर|

मेरे परिवार में मैं मूर्ख कहलाया |

मेरा लक्ष्य प्रेम था,

इसलिए…

Continue

Added by Chandresh Kumar Chhatlani on April 17, 2014 at 12:44pm — 5 Comments

फ़ितूर (दीपक कुल्लुवी)

मेरे अंजुमन में रौनकें बेशक़ कम होंगी ज़रूर

क्या सोच के दोज़ख़ की तरफ़ चल दिए हज़ूर



आपने तो एक बार भी मुड़के देखा नहीं हमें

न जानें था किस बात का अपने आपपे गरूर



यह वक़्त किसी के लिए रुक जाएगा यहाँ 

निकाल देना चाहिए सबको दिमाग़ से यह फ़ितूर



चढ़ जाए एक बार तो हर्गिज़ उतरता ही नहीं

क़लम का हो शराब का हो या शबाब का हो सरूर



मासूम से थे हम 'दीपक' शायर 'कुल्लुवी'हो गए

हमसे क्या आप खुद से भी हो गए बहुत दूर

दीपक…

Continue

Added by DEEPAK SHARMA 'KULUVI' on April 17, 2014 at 11:30am — 3 Comments


सदस्य कार्यकारिणी
जहाँ प्यार के, खिलें कँवल (मनमोहन छंद)

मनमोहन छंद : लक्षण: जाति मानव, प्रति चरण मात्रा १४ मात्रा, यति ८-६, चरणांत लघु लघु लघु (नगण) होता है.

अब तक थी जो ,सुलभ डगर

आगे साथी,कठिन सफ़र

संभल- संभल,रखें कदम

साथ चलेंगे ,जब- जब  हम

 

सब काँटों को ,चुन-चुन कर

फूल बिछाएँ,पग-पग पर

आजा चुन लें ,राह नवल

 जहाँ प्यार के ,खिलें कँवल 

 

 फूल हँसेंगे ,खिल-खिलकर

 कष्ट सहेंगे, मिलजुलकर

 पथ का होगा, सही चयन

 सही दिशा में, रहें…

Continue

Added by rajesh kumari on April 17, 2014 at 11:30am — 10 Comments

माँ के हाथों सूखी रोटी का मजा - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'

2122        2122         212

आँसुओं को यूँ  मिलाकर  नीर में

ज्यों  दवा  हो  पी  रहा हूँ  पीर में

**

हाथ की रेखा  मिटाकर चल दिया

क्या लिखा है क्या कहूँ तकदीर में

**

कौन  डरता   जाँ  गवाने  के  लिए

रख जहर जितना हो रखना तीर में

**

हर तरफ उसके  दुशासन डर गया

मैं न था कान्हा  जो बधता चीर में

**

माँ के  हाथों  सूखी  रोटी का मजा

आ  न  पाया  यार  तेरी  खीर में

**

शायरी  कहता  रहा…

Continue

Added by laxman dhami on April 17, 2014 at 10:30am — 5 Comments

मेरी साँसों में तुम ही हो,मेरा अन्दाज भी हो तुम

मेरी धडकन में हो तुम ही,मेरी आबाज भी हो तुम

मेरी साँसों में तुम ही हो,मेरा अन्दाज भी हो तुम 

यहाँ है अब तलक चर्चा हमारी ही मुहब्बत का

मगर मत भूल जाना तुम ,मेरे हमराज भी हो तुम

तुम्हारे ही निशाने पर रहा हूँ मैं हमेशा ही

कभी लगता है क्यों मुझको निशानेबाज भी हो तुम

कभी पल भर मैं ठहरा था, तेरी जुल्फों के साये मे

मुझे अहसास है अब तक ,मेरे सरताज भी हो तुम

गये लम्हों की कहकर थे ,कई अरसे गुजारे हैं

नहीं फिर…

Continue

Added by umesh katara on April 17, 2014 at 8:12am — 10 Comments


सदस्य कार्यकारिणी
कविता..........बृजेश

कविता -

शरीर में चुभे हुए काँटे

जो शरीर को छलनी करते हैं;

वह टीस 

जो दिल की धड़कन

साँसों को निस्तेज करती है

 

यह तुम्हें आनंद नहीं देगी

प्रेम का कोरा आलाप नहीं यह

वासना में लिपटे शब्दों का राग नहीं

छद्म चिंताओं का दस्तावेज़ नहीं

इसे सुनकर झूमोगे नहीं

 

यह तुम्हें गुदगुदाएगी नहीं

सीधे चोट करेगी दिमाग पर

तड़प उठोगे

यही उद्देश्य है कविता का

 

रात के स्याह-ताल…

Continue

Added by बृजेश नीरज on April 16, 2014 at 10:09pm — 22 Comments

फायदा क्‍या गजल

2122 2122 1222

क्‍या शिकायत करू मैं इस जमानें से

फायदा क्‍या है किसी को बतानें से

अब मजारो की तरफ यूँ न देखो तुम

आ सकेगें हम न आँसू बहानें से

बदनसीबी साथ मेरे उम्र भर थी

सो रहा हूँ चोट खा कर जमानें से

यार मेरे तुम बहाओ न अश्‍को को

फायदा क्‍या अब यहाँ दिल जलानें से

रूठ कर हम से चले ही गये वो जब

साथ ना अब तो मिले कुछ बतानें से

मौलिक एवं अप्रकाशित अखंड गहमरी गहमर…

Continue

Added by Akhand Gahmari on April 16, 2014 at 6:00pm — 8 Comments

ग़ज़ल ‘ ऐसा दिया है ज़हर ‘ --- 'चिराग'

221 2121 1221 212

 

बाज़ारे-इश्क़ सज गया पूरे उफान पर

शीला का नाम चढ़ गया सबकी ज़बान पर

 

धंधे की बात कीजिए कच्ची कली भी है

क्या कुछ नहीं मिलेगा मेरी इस दुकान पर

 

मुँह में दबाए पान मियाँ किस तलाश में

रंगीनियाँ भुला भी दो उम्र अब ढलान पर

 

कूंचे में आए हुस्न का बाज़ार देखने

चोरी से देखते है सभी इक निशान पर

 

रोज़ आते हैं दीवाने यहाँ गम को बाँटने

करते है वाह-वाह वो घुंघरू की तान…

Continue

Added by Mukesh Verma "Chiragh" on April 16, 2014 at 5:00pm — 18 Comments

मेरे खतों को लगा दिल से चूमती है वो

१२१२     ११२२    १२१२     २२

हसींन जुल्फ कहीं पर बिखर रही होगी

हवा है महकी उधर से गुजर रही होगी

 

फलक पे चाँद है बेताब चांदनी गुमसुम

कहीं जमी पे वो बुलबुल निखर रही होगी

 

जमी पे आज हैं बिखरे तमाम आंसू यूं

ग़मों में डूबी ये शब किस कदर रही होगी

 

मेरे खतों को लगा दिल से चूमती है वो

खुदा कसम ये खबर क्या खबर रही होगी

 

जो जान हम पे छिड़कती उसे नहीं देखा

वो झिर्रियों से ही तकती नजर रही…

Continue

Added by Dr Ashutosh Mishra on April 16, 2014 at 12:12pm — 10 Comments

इशारों को शरारत ही कहूं या प्यार ही समझूं

1222 1222 1222 1222

इशारों को शरारत ही कहूं या प्यार ही समझूं

कहूं मरहम इन्हें या खंजरों का वार ही समझूं

कशिश बातों में तेरी अब अजब सी मुझको लगती है

कहूं बातों को बातें या इन्हें इकरार ही समझूं

वो डर के भेडियो से आज मेरे पास आये हैं

कहूं हालात इसको या कि फिर एतवार ही समझूं

झरे आँखों से आंसू आज तो बरसात की मानिंद

कहूं मोती इन्हें या सिर्फ मैं जलधार ही समझूं

तेरी नजरों ने कैसी आग सीने में लगाई है

गुनहगारों सा मानूं तुमको या…

Continue

Added by Dr Ashutosh Mishra on April 16, 2014 at 11:00am — 4 Comments

मुहब्बत भी छीनी, मुरव्वत भी छोड़ी - ग़ज़ल

122 122 122 122

शरीफों से उनकी, शराफत न छीनो

उसूलों से उनकी, मुहब्बत न छीनो।

तुम्हें सर तुम्हारा, जो भारी हुआ है

मेरी सर उठाने की, हिम्मत न छीनो।

 

जफ़ा है तुम्हारे, रगों में बसी गर,

वफ़ा की हमारी, ये आदत न छीनो।

 

मुहब्बत भी छीनी, मुरव्वत भी छोड़ी,

फकत मुझसे अपनी, अदावत न छीनो।

 

दिया है बहुत हक, तुम्हें मैने खुद पे ,

निगाहों से मेरी, शिकायत न छीनो।

 

मेरी मुफलिसी में, यही है…

Continue

Added by CHANDRA SHEKHAR PANDEY on April 16, 2014 at 10:30am — 14 Comments

बेटियाँ होंगी न जब /गजल/कल्पना रामानी

212221222122212

गर्भ में ही निज सुता की, काटकर तुम नाल माँ!

दुग्ध-भीगा शुभ्र आँचल, मत करो यूँ लाल माँ!

 

तुम दया, ममता की देवी, तुम दुआ संतान की,

जन्म दो जननी! न बनना, ढोंगियों की ढाल माँ!

 

मैं तो हूँ बुलबुल तुम्हारे, प्रेम के ही बाग की,

चाहती हूँ एक छोटी सी सुरक्षित डाल माँ!

 

पुत्र की चाहत में तुम अपमान निज करती हो क्यों?

धारिणी, जागो! समझ लो भेड़ियों की चाल माँ!

 

सिर उठाएँ जो असुर, उनको…

Continue

Added by कल्पना रामानी on April 16, 2014 at 10:00am — 22 Comments

स्वप्न और सत्य /नीरज नीर

कभी कभी खो जाता हूँ ,

भ्रम में इतना कि 

एहसास ही नहीं रहता कि 

तुम एक परछाई हो..

पाता हूँ तुम्हें खुद से करीब 

हाथ बढ़ा कर छूना चाहता हूँ.

हाथ आती है महज शुन्यता .

स्वप्न भंग होता है ..

पर सत्य साबित होता है

क्षणभंगुर.

स्वप्न पुनः तारी होने लगता है.

पुनः आ खड़ी होती हो

नजरों के सामने .. 

नीरज कुमार नीर 

मौलिक एवं प्रकाशित 

Added by Neeraj Kumar 'Neer' on April 16, 2014 at 8:07am — 8 Comments

Monthly Archives

2014

2013

2012

2011

2010

1999

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-"OBO" मुफ्त विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

dr lalit mohan pant commented on dr lalit mohan pant's blog post ग़ज़ल …. है बहाना आज फिर शुभकामनाओं के लिये
" आ  .  गीतिका 'वेदिका जी जितेन्द्र 'गीत जी Mukesh…"
1 hour ago
वीनस केसरी replied to Admin's discussion खुशिया और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"स्तब्ध हूँ ... एक के बाद एक परिवार ने दो सदस्यों को इस तरह खो दिया ... दुखद विनम्र श्रद्धांजलि"
2 hours ago
अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव replied to Admin's discussion खुशिया और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"कुछ दिन पहले महोत्सव में संजय भाई हम सब के साथ थे और अचानक हम से बहुत दूर चले गये......... इतनी दूर…"
2 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion "ओ बी ओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक-37 in the group चित्र से काव्य तक
"इस माह का आयोजन अपने अनन्य भाई, अत्यंत चमत्कारी, संवेदनशील और संभावनापूरित रचनाकार तथा बहुत ही भले…"
2 hours ago
इमरान खान replied to Admin's discussion खुशिया और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"ओह सख्त अफसोस! हबीब भाई भी साथ छोड़ गये, ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे और परिवार वालों को दुख सहने की…"
2 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion खुशिया और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"एक पारिवारिक व्यक्तित्व, एक आत्मीय आवाज़ अब बस यादों के पन्नों का हिस्सा हो गयी. न कुछ कहते बन रहा…"
2 hours ago
Ashok Kumar Raktale replied to Admin's discussion खुशिया और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"एक के बाद एक लगातार मंच के दो जिंदादिल रचनाकारों का निधन. कुछ दिन पूर्व ही महोत्सव में संजय जी के…"
3 hours ago
जितेन्द्र 'गीत' commented on धर्मेन्द्र कुमार सिंह's blog post ग़ज़ल : तभी जाके ग़ज़ल पर ये गुलाबी रंग आया है
"कई दिन से उजाला रात भर सोने न देता था बहुत मजबूर होकर दीप यादों का बुझाया है..............बहुत बहुत…"
3 hours ago
भुवन निस्तेज commented on धर्मेन्द्र कुमार सिंह's blog post ग़ज़ल : तभी जाके ग़ज़ल पर ये गुलाबी रंग आया है
"बहुत खूब आदरणीय  महीनों तक तुम्हारे प्यार में इसको पकाया है तभी जाके ग़ज़ल पर…"
3 hours ago
नादिर ख़ान commented on धर्मेन्द्र कुमार सिंह's blog post ग़ज़ल : तभी जाके ग़ज़ल पर ये गुलाबी रंग आया है
"कई दिन से उजाला रात भर सोने न देता था बहुत मजबूर होकर दीप यादों का बुझाया है...... बहुत खूब कहा…"
3 hours ago
भुवन निस्तेज commented on कल्पना रामानी's blog post बेटियाँ होंगी न जब /गजल/कल्पना रामानी
"लाजवाब..आदरणीया कृपया बधाई स्वीकारें ..."
3 hours ago
नादिर ख़ान commented on dr lalit mohan pant's blog post ग़ज़ल …. है बहाना आज फिर शुभकामनाओं के लिये
"है बहाना आज फिर शुभकामनाओं के लिये आँधियों की धूल में संभावनाओं के लिये . आदरणीय मोहन जी बहुत…"
3 hours ago

© 2014   Created by Admin.

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service