For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गनेश जी "बागी")

All Blog Posts (8,702)

भय

" हरामखोर , काम पर ध्यान दे , जब देखो तब बातें करता रहता है " |
जमींदार की लिजलिजी नजर सुखिया पर गड़ी हुई थी , और एक प्रेम कहानी दम तोड़ चुकी थी |

 

मौलिक एवम अप्रकाशित

Added by vinaya kumar singh on September 23, 2014 at 2:17am — 1 Comment

"गली के मोड़ पर "

"अतुकांत"

_________

गली के मोड़ पर जब दिखती

वो पागल लडकी

हंसती

मुस्कुराती

कुछ गाती सकुचाती,

फिर तेज कदमो

से चल

गुजर जाती

चलता रहा था क्रम

अभ्यास में उतर आई

उसकी अदाएं

हँसा गईं कई बार कई बार

सोचने पर

विवश

विधाता ने सब दिया

रूप नख-शिख

दिमाग दिया होता थोडा

और सहूर

जीवन के फर्ज निभाने का,

वय कम न थी

मगर आज...........

दिखी न वो…

Continue

Added by Chhaya Shukla on September 22, 2014 at 10:18am — 11 Comments

ग़ज़ल..टल लिया जाए

ग़ज़ल..टल लिया जाए.

२१२२   १२१२   २२ 

 

क्यों न चुपचाप चल लिया जाए.

बात बिगड़े न टल लिया जाए.

--

जर्द हालात हैं ज़माने के.

रास्ता ये बदल लिया जाये.

--

दायरे तंग हो गए दिल के.

घुट रहा दम निकल लिया जाए.

--

थक गए पाँव चलकर मगर सोचा.

आपके साथ टहल लिया जाए.

--

बर्फ सी जीस्त ये जमी क्यों थी.

खिल गयी धूप गल लिया जाए.

--

वारिशें इश्किया शरारों की.

भींगते ही फिसल लिया…

Continue

Added by harivallabh sharma on September 22, 2014 at 1:55am — 5 Comments

जब जब भी कश्मीर उछाला जाता है

नफरत का इक तीर उछाला जाता है
जब जब भी कश्मीर उछाला जाता है

तख्त खेल का है सारा दुनियावालों
जब तब आलमगीर उछाला जाता है।

इन बेटों की बातों का अब क्या करना
इन की माँ का शीर उछाला जाता है।

पर्वत के साए में जमते रिश्तों में
सच्चा साधु पीर उछाला जाता है।

इन फ़िरका परस्त लोगों की महफ़िल में
ग़ालिब हो या मीर उछाला जाता है।

शेखर
मौलिक व अप्रकाशित

Added by CHANDRA SHEKHAR PANDEY on September 21, 2014 at 10:38pm — No Comments

दिल के आँसू पे यों फ़ातिहा पढ़ना क्या ..

212    212    212    212    212    212    212    212

 

दिल के आँसू पे यों फ़ातिहा पढ़ना क्या वो न बहते कभी वो न दिखते कभी

तर्जुमा उनकी आहों का आसाँ नहीं आँख की कोर से क्या गुज़रते कभी |

 

खैरमक्दम से दुनिया भरी है बहुत आदमी भीड़ में कितना तनहा मगर

रोज़े-बद की हिकायत बयाँ करना क्या लफ़्ज़ लब से न उसके निकलते कभी |

 

बात गर शक्ल की मशविरे मुख्तलिफ़ दिल के रुख़सार का आईना है कहाँ     

चोट बाहर से गुम दिल के भीतर छिपे चलते ख़ंजर हैं उसपे न…

Continue

Added by Santlal Karun on September 21, 2014 at 5:00pm — 3 Comments

ग़ज़ल ................. सुलभ अग्निहोत्री

है अपनी नस्ल पे भी फख्र अपने गम की तरह से

दिलों में घर किये हुए किसी वहम की तरह से

बहारें छोड़ती गईं निशान कदमों के मगर

उजाड़ मंदिरों के भव्य गोपुरम की तरह से

खरा है नाम पर नसीब इसका खोटा है बड़ा

ये मेरा देश बन के रह गया हरम की तरह से

बचे हैं गाँठ-गाँठ सिर्फ गाँठ भर रिश्ते अब

निभाये जा रहे हैं बस किसी कसम की तरह से

सजा गुनाह की उसे अगर दें, कैसे दें बता ?

हमारी रूह में बसा है वो धरम की तरह से

मेरी…

Continue

Added by Sulabh Agnihotri on September 21, 2014 at 4:30pm — 2 Comments

"है मधुर जीवंत बेला "

गीत

___

“है मधुर जीवंत बेला”

_______________

नैन में सपने पले हैं अब नहीँ हूँ मैँ अकेला ।

फिर जहां मुस्कान लाया, है मधुर जीवन्त बेला |

झूठ झंझट जग के सारे , हैं सभी तो ये हमारे ,

दीप आशा के जले हैं नेह से सारे सजाये

सत्य का निर्माण होगा, फिर सजेगा एक मेला ||

फिर जहाँ मुस्कान लाया, है मधुर जीवंत बेला..............

स्वप्न भी पूरे करूँ मैं, इस जगत को घर बना के,

और खुशियों से सजा…

Continue

Added by Chhaya Shukla on September 21, 2014 at 3:48pm — 4 Comments

क्षणिकाएँ --3 --- डा० विजय शंकर

वो सब जो

वन्दनीय है,

पूज्य है ,स्तुत्य है ,

...........त्याज्य है |

वो , जो

निंदनीय है ,

अधर्म है , अपकार है ,

...स्वीकार है , अंगीकार है ||



* * * * * * * * * * * * * * * * *



बेईमान व्यवस्था में

प्रश्न यह नहीं होता

कि कौन ईमानदार है ?

प्रश्न केवल यह होता है

कि किसको बेईमानी का

कितना अधिकार है ॥



* * * * * * * * * * * * * * * * *



संबंधों में

नमक की अहमियत

बनाये रखिये ,

सम्बन्ध… Continue

Added by Dr. Vijai Shanker on September 21, 2014 at 2:00pm — 9 Comments

ग़ज़ल ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,गुमनाम पिथौरागढ़ी

२२१ २१२१ १२२१ २१२

तुम मेरे नाम की पहचान बन गए
मेरे लिए ख़ुदा रब भगवान बन गए

दहशत के कारबार का सामान बन गए
लगता है सारे लोग ही हैवान बन गए

तेरे सभी ख़तों को रखा था सँभाल के
अब वो मेरे हदीस ओ क़ुरआन बन गए

हालात आज शहर के अब देखिये ज़रा
हँसते हुए थे शहर जो शमशान बन गए

ख़त आंसू सूखे फूल रखे थे सँभाल के
ज़ाहिर हुए जहां पे तो दीवान बन गए

मौलिक व अप्रकाशित
गुमनाम पिथौरागढ़ी

Added by gumnaam pithoragarhi on September 21, 2014 at 12:40pm — 7 Comments

एक दिन

अरे चाचा !

तुम तो बिलकुल ही बदल गये

मैंने कहा – ‘ तुम्हे याद है बिरजू 

यहाँ मेरे घर के सामने

बड़ा सा मैदान था 

और बीच में एक कुआं 

जहाँ गाँव के लोग

पानी भरने आते थे 

सामने जल से भरा ताल 

और माता भवानी का चबूतरा

चबूतरे के बीच में विशाल बरगद

ताल की बगल में पगडंडी

पगडंडी के दूसरी ओर

घर की लम्बी चार दीवारी

आगे नान्हक चाचा का आफर

उसके एक सिरे पर

खजूर के दो पेड़ 

पेड़ो के पास से…

Continue

Added by डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव on September 21, 2014 at 12:14pm — 10 Comments

अजनबी

212*4

अपना घर अजनबी और नगर अजनबी
हौसले अजनबी अपने पर अजनबी।

मंजिलें अजनबी संगे-दर अजनबी
रास्ते अजनबी दिल में डर अजनबी।

काफ़िले अजनबी हमसफर अजनबी
शाम है अजनबी और सहर अजनबी।

हर लहर अजनबी हर गुहर अजनबी
साहिलों पे है उतरा क़मर अजनबी

जब से तूने किया खूबतर अजनबी
तब से दुनिया का लगता है दर अजनबी।

है पता आशना नामाबर अजनबी
अब के टूटेगा मुझ पे कहर अजनबी।

शेखर
मौलिक व अप्रकाशित

Added by CHANDRA SHEKHAR PANDEY on September 21, 2014 at 11:41am — 4 Comments

मन

मन
भटकता है इधर- उधर,
गली- गली,नगर- नगर

करता नहीं अगर-मगर
प्रेम खोजता डगर-डगर

झेलता जीवन का कहर
व्यस्त रहता आठों प्रहर

घंटी के नादों में घुसकर
पांचों अजानो को सुनकर

गीता ,कुरआन पढकर
माटी की मूरत गढ़कर

कथा -कीर्तन सजाकर
संतों-महंतों से मिलकर

आज भी मानव मन
क्यों भ्रमित है निरंतर?

मौलिक व अप्रकाशित
विजय प्रकाश शर्मा

Added by Vijay Prakash Sharma on September 21, 2014 at 11:32am — 4 Comments

चूड़ियाँ

चूड़ियाँ

एक दिन

कॉफी हाउस में

दिखा

कलाई से कोहनी तक

कांच की चूड़ियों से भरा

हीरे के कंगन मढ़ा

एक खूबसूरत हाथ.

गूँज रही थी

उसकी हंसी चूड़ियों के

हर खनक के साथ.

फिर एक दिन

दिखा वही हाथ

कलाईयाँ सूनी थीं

चूड़ियों का कोई निशान

तक नहीं था

सूनी संदल सी

उस कलाई

के साथ

जुडी थी एक

खामोशी .

देर तक सोंचता रहा

क्या चूड़ियाँ

चार दिन की चांदनी

होती हैं.?

मौलिक व…

Continue

Added by Vijay Prakash Sharma on September 20, 2014 at 8:32pm — 9 Comments

ग़ज़ल

न गम है न मुझको खुशी है
अभी तो यहाँ बेख़ुदी है।

जो कहते हैं मुझको चढ़ी है
तो आँखों से उनके न पी है।

जो हैं ख़ुश्क लब इतने मेरे
तो आँखों में कितनी नमी है।

मुकम्मल नहीं दोनों आलम
यहाँ बस तुम्हारी कमी है।

निगाहों की अब क्या ज़रूरत
मेरे दिल में अब तू बसी है।

तुम्हें मैं अगर भूल जाऊं
तो इसमें तुम्हारी कमी है।

शेखर
मौलिक व अप्रकाशित

Added by CHANDRA SHEKHAR PANDEY on September 20, 2014 at 6:11pm — 3 Comments

रखे मुझको भी हरदम बाख़बर कोई मेरे मौला

रखे मुझको भी हरदम बाख़बर कोई मेरे मौला 

बड़े भाई के जैसा हो बशर कोई मेरे मौला 

 

हुआ घायल बदन मेरा हुए गाफ़िल कदम मेरे

मेरे हिस्से का तय करले सफ़र कोई मेरे मौला

 

मुझे तड़पा रही है बारहा क्यूं छाँव की लज्ज़त

बचा है गाँव में शायद शजर कोई मेरे मौला

 

उदासी के बियाबाँ को जलाकर राख कर दे जो

उछाले फिर तबस्सुम का शरर कोई मेरे मौला

 

खड़ा हूं आइने के सामने हैरतज़दा होकर

इधर कोई मेरे मौला उधर कोई मेरे…

Continue

Added by khursheed khairadi on September 20, 2014 at 6:00pm — 6 Comments


मुख्य प्रबंधक
लघुकथा : बंद गली (गणेश जी बागी)

                  नंद वन अपने नाम के अनुसार ही आनंद पूर्ण वातावरण के लिए जाना जाता था, सभी जानवर शांति और भाईचारा से जीवन व्यतीत करते थे किन्तु अब यहाँ सब कुछ बदल गया था, कालू भेड़िया और दुर्जन भैस राजा की छत्र - छाया में आनंद वन में अत्याचार कर रहे थे, यहाँ तक की दिनदहाड़े ही बहु बेटियों को अपने अड्डे पर उठा ले जाते थे और विरोध करने वालों को जान से मार देते थे ।
                 भोलू हिरन…
Continue

Added by Er. Ganesh Jee "Bagi" on September 20, 2014 at 4:30pm — 21 Comments

मैंने हयात सारी गुजारी गुलों के साथ

221   2121   1221    212  

 

जल जल के सारी रात यूं मैंने लिखी ग़ज़ल

दर दर की ख़ाक छान ली तब है मिली ग़ज़ल

 

 मैंने हयात सारी गुजारी गुलों के साथ

पाकर शबाब गुल का ही ऐसे खिली ग़ज़ल

 

मदमस्त शाम साकी सुराही भी जाम भी

हल्का सा जब सुरूर चढ़ा तब बनी ग़ज़ल

 

शबनम कभी बनी तो है शोला कभी बनी

खारों सी तेज चुभती कभी गुल कली ग़ज़ल

 

चंदा की चांदनी सी भी सूरज कि किरणों सी

हर रोज पैकरों में नए है ढली…

Continue

Added by Dr Ashutosh Mishra on September 20, 2014 at 1:30pm — 14 Comments

प्यार के दो बोल कह दे शायरी हो जाएगी - गजल (लक्ष्मण धामी ‘मुसाफिर’)

2122    2122    2122    212

*******************************

प्यार को साधो अगर तो जिंदगी हो जाएगी

गर  रखो  बैशाखियों सा बेबसी हो जाएगी /1

***

बात कड़वी प्यार से कह दोस्ती हो जाएगी

तल्ख  लहजे से कहेगा दुश्मनी हो जाएगी /2

***

फिर घटा छाने लगी है दूर नभ में इसलिए

सूखती हर डाल यारो फिर हरी हो जाएगी /3

***

मौत तय है तो न डर, लड़, हर मुसीबत से मनुज

भागना  तो  इक  तरह  से  खुदकुशी हो जाएगी /4

***

मन  मिले  तो पास  में सब, हैं दरारें  कुछ…

Continue

Added by laxman dhami on September 20, 2014 at 11:05am — 8 Comments

फिर कोई दिल मेँ न आया

2122 2122 2122 212



फिर कोई दिल मेँ न आया इक तेरे आने के बाद ।

फिर न कुछ खोया न पाया इक तुझे पाने के बाद ।



हमने देखेँ हैँ तुम्ही मेँ अपने दोनोँ ही जहाँ ,

हम कहाँ जायेगेँ हमदम तेरे ठुकराने के बाद ।



हमनेँ पी आँखोँ से तेरी शोख जामेँ जिन्दगी ,

कोई मधुशाला न देखी तेरे मयखाने के बाद ।



अपने होने की खबर भी दो घडी रहती है अब ,

इक तेरे आने से पहले इक तेरे जाने के बाद ।



दिन गुजारा हमने सारा बस खयालोँ मेँ तेरे ,

और फिर यादोँ की… Continue

Added by Neeraj Mishra "प्रेम" on September 20, 2014 at 4:00am — 5 Comments

उच्च-शिक्षा....(लघुकथा)

मध्यम वर्गीय परिवार में पला-बड़ा मुकेश, अपने  छोटे से शहर से अच्छे प्राप्तांक से स्नातक की डिग्री लेकर बड़े शहर में प्रसिद्द निजी शिक्षण संस्था से प्रबंधन की डिग्री लेना चाहता है.  आर्थिक समस्या के कारण उसे संस्था में प्रवेश नही मिल पा रहा है उसने कई बार संस्था के प्रबंध-समूह  से शुल्क में कमी करने की गुजारिश की, लेकिन शिक्षा भी तो व्यापार ही सिखाती है. अपने ही शहर के दो और छात्रों को उसी प्रसिद्द निजी संस्था की गुणवत्ता बताकर, प्रवेश दिलवाने से मुकेश के पास अब एक वर्ष के रहने और खाने के पूँजी…

Continue

Added by जितेन्द्र 'गीत' on September 19, 2014 at 11:34pm — 4 Comments

Monthly Archives

2014

2013

2012

2011

2010

1999

1970

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-"OBO" मुफ्त विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

laxman dhami replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 51
"आ० अमित भाई बेहतरीन ग़ज़ल हुई है हार्दिक बधाई ."
3 minutes ago
laxman dhami replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 51
"आ०  कल्पना बहन एक बेहतरीन मतले से सुरु हुई ग़ज़ल जिस तरह लाजवाब के साथ अंजाम तक पहुंची है उसके…"
7 minutes ago
laxman dhami replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 51
"आ०  दयाराम जी इस ग़ज़ल के लिएअढ़ाई स्वीकारें"
12 minutes ago
laxman dhami replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 51
"भटका दिया है हंसों को दाने बिखेरकर कौवे ही इस वतन का  हैं सम्मान बन  गए वह क्या बात कही…"
14 minutes ago
Akhand Gahmari replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 51
"ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" के 51 में एक प्रयास सींचा वतन लहू से पहचान बन गएकर लें सलाम आज जो…"
17 minutes ago
laxman dhami replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 51
"आदरणीय भाई दयाराम जी , गजल का अनुमोदन कर उत्साहवर्धन के लिए हार्दिक धन्यवाद ।"
18 minutes ago
laxman dhami replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 51
"आदरणीय भाई सौरभ जी , आपकी उपस्थिति से गजल का जो मान बढ़ा है और जो उत्साह वर्धन हुआ है उसके लिए…"
18 minutes ago
laxman dhami replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 51
"आदरणीय भाई  शिज्जू जी गजल की प्रशंसा के लिए हार्दिक धन्यवाद"
19 minutes ago
laxman dhami replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 51
"आदरणीय भाई भुवन जी आपकी प्रतिक्रिया से जो उत्साहवर्धन हुआ है उसके लिए आभार ।"
20 minutes ago
laxman dhami replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 51
"आदरणीय भाई गिरिराज जी उत्साहवर्धन के लिए हार्दिक धन्यवाद ।"
21 minutes ago
laxman dhami replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 51
"आदरणीय भाई विजय जी गजल का अनुमादन करने के जिए हार्दिक धन्यवाद ।"
22 minutes ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 51
"आदरणीय भुवनभाईजी, इस मंच पर आयोजनों का उद्येश्य सीखना-सिखाना ही है. इसीसे इनकी अवधारणा कार्यशाला की…"
22 minutes ago

© 2014   Created by Admin.

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service