For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

बसंत कुमार शर्मा
  • Male
  • जबलपुर, मध्यप्रदेश
  • India
Share

बसंत कुमार शर्मा's Friends

  • Prakash Chandra Baranwal

बसंत कुमार शर्मा's Groups

 

बसंत कुमार शर्मा's Page

Latest Activity

vijay nikore commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post क्या बस निंदा काफी है
"// टूट गए हैं सारे सपने, रुदन कर रहीं अबलाएँ. बार बार वे प्रश्न पूछकर, दग्ध हृदय को और तपाएँ.// सुन्दर रचना के लिए हार्दिक बधाई।"
10 hours ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post क्या बस निंदा काफी है
"आदरणीय laxman dhami जी आपका दिल से शुक्रिया "
11 hours ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post क्या बस निंदा काफी है
"आदरणीय गिरिराज भंडारी जी , आपका दिल से शुक्रिया "
11 hours ago
laxman dhami commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post क्या बस निंदा काफी है
"अति सुंदर..."
yesterday

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post क्या बस निंदा काफी है
"आदरणीय बसंत भाई ,  लाजवाब गीत रचना के लिये आपको हार्दिक बधाइयाँ ।"
yesterday

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post तुलसी को वनवास हो हो गया
"क्या बात है , आदरणीय बसंत भाई , बेहतरीन गीत रचना की है आपने , हार्दिक बधाइयाँ स्वीकार करें ।"
yesterday
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post तुलसी को वनवास हो हो गया
"आदरणीय रवि शुक्ल जी आपकी हौसला अफजाई का दिल से शुक्रिया "
yesterday
Ravi Shukla commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post तुलसी को वनवास हो हो गया
"आदरणीय बसंत कुमार जी बहुत सुन्‍दर नवगीत लिखा आपने भाव और कथ्‍य की दृष्टि दोनो से ही अच्‍छा लगा  । बधाई स्‍वीकार करें"
yesterday
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post क्या बस निंदा काफी है
" आदरणीय Samar kabeer जी हौसला अफजाई के लिए दिली शुक्रिया आपका "
Wednesday
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post क्या बस निंदा काफी है
"आदरणीय  Ravi Shukla जी  हौसला अफजाई के लिए दिली शुक्रिया आपका "
Wednesday
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post क्या बस निंदा काफी है
"आदरणीय KALPANA BHATT  जी हौसला अफजाई के लिए दिली शुक्रिया आपका "
Wednesday
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post तुलसी को वनवास हो हो गया
"आदरणीय Samar kabeer  जी, आपकी हौसला अफजाई के लिए दिल से बहुत बहुत शुक्रिया, आपके आदेश का अवश्य पालन होगा. यह ठीक भी होगा कि विधा लिखी जाये   "
Wednesday
Samar kabeer commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post तुलसी को वनवास हो हो गया
"जनाब बसंत कुमार शर्मा जी आदाब,बहुत सुंदर भावों से सजी इस रचना के लिये दिल से बधाई स्वीकार करें । एक निवेदन ये है कि कृपया रचना के साथ उसकी विधा भी लिख दिया करें ।"
Wednesday
Samar kabeer commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post क्या बस निंदा काफी है
"जनाब बसंत कुमार जी आदाब,बहुत सुंदर रचना हुई है,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।"
Wednesday
Ravi Shukla commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post क्या बस निंदा काफी है
"आदरणीय बसंत कुमार जी अच्‍छा गीत रचा है आपने भाव और कथ्‍य दोनो अच्‍छे लगे इसके लिये बधाई स्‍वीकार करें । सादर"
Wednesday
KALPANA BHATT commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post क्या बस निंदा काफी है
"अच्छी कविता हुई है आदरणीय हार्दिक बधाई |"
Tuesday

Profile Information

Gender
Male
City State
जबलपुर (मध्यप्रदेश)
Native Place
धौलपुर
Profession
भारतीय रेल यातायात सेवा
About me
बोन्साई एवं कविता लेखन में रूचि

बसंत कुमार शर्मा's Blog

क्या बस निंदा काफी है

निर्दोषों के हत्यारों की,

क्या बस निंदा काफी है.

घाटी में आतंकी मिलकर,

दिखा रहे हैं दानवता.

हृदय विलखता लिए हुए हम,

ओढ़े बैठे सज्जनता.

तड़प रही है भारत माता,

जयचंदों को माफ़ी है.

जाति धर्म की राजनीति में,

इंसान हो रहा गायब.

चमचों की कोशिश रहती है,

रहे हमेशा खुश साहब.

भोली जनता को गोली है,

पल पल नाइंसाफी है.

टूट गए हैं सारे…

Continue

Posted on July 18, 2017 at 4:52pm — 11 Comments

तुलसी को वनवास हो हो गया

घर टूटे मिट गए वसेरे,

महलों में आवास हो गया.

ऊँचे कद को देख लग रहा,

सबका बहुत विकास हो गया.

भूल गए पहचान गाँव की,

बसे शहर में जब से आकर.

नहीं अलाव प्रेम के जलते,

सूनी है चौपाल यहाँ पर.

 

अधरों पर मुस्कान…

Continue

Posted on July 18, 2017 at 9:25am — 5 Comments

मेरे गाँव में

मापनी २२१२ २२१२ २२१२  

 

आ  तो सही  एक  बार मेरे गाँव में

अद्भुत अतिथि सत्कार मेरे गाँव में

 

हर वक्त  रहते  हैं खुले सबके लिए

सबके दिलों के  द्वार  मेरे  गाँव  में

 

तालाब  नदियाँ और पनघट की छटा

है  प्रीति  का…

Continue

Posted on July 12, 2017 at 9:44am — 20 Comments

एक भारत श्रेष्ठ भारत

नवसृजन कर हम बनाएँ,

एक भारत श्रेष्ठ भारत

 

काम हो हर हाथ को,

ख़त्म हो बेरोजगारी.

हो न शोषण बालकों का,

और हो भय मुक्त नारी.

आचरण में भ्रष्टता से,

मुक्त हो अपनी सियासत.

 

शांति के हम दूत बनकर,…

Continue

Posted on July 11, 2017 at 8:41am — 10 Comments

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 2:23pm on September 28, 2015,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…

आपका अभिनन्दन है.

ग़ज़ल सीखने एवं जानकारी के लिए

 ग़ज़ल की कक्षा 

 ग़ज़ल की बातें 

 

भारतीय छंद विधान से सम्बंधित जानकारी  यहाँ उपलब्ध है

|

|

|

|

|

|

|

|

आप अपनी मौलिक व अप्रकाशित रचनाएँ यहाँ पोस्ट (क्लिक करें) कर सकते है.

और अधिक जानकारी के लिए कृपया नियम अवश्य देखें.

ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतुयहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

 

ओबीओ पर प्रतिमाह आयोजित होने वाले लाइव महोत्सवछंदोत्सवतरही मुशायरा वलघुकथा गोष्ठी में आप सहभागिता निभाएंगे तो हमें ख़ुशी होगी. इस सन्देश को पढने के लिए आपका धन्यवाद.

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 75 in the group चित्र से काव्य तक
"मुहतरम जनाब गिरिराज साहिब,प्रदत्त चित्र के अनुकूल सुन्दर दोहे हुए हैं ,मुबारकबाद क़ुबूल फरमायें"
10 minutes ago
Mohammed Arif replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 75 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय गिरिराज भंडारी जी आदाब,बेहरीन दोहों की रचना । प्रदत्त चित्र का सही निरूपण । हार्दिक बधाई…"
12 minutes ago
Sushil Sarna posted a blog post

जाम ... (एक प्रयास)

जाम ... (एक प्रयास)२१२२ x २शाम भी है जाम भी है वस्ल का पैग़ाम भी है।l  हाल अपना क्या कहें अब बज़्म ये…See More
31 minutes ago
Nita Kasar commented on Rahila's blog post ठिकाना (लघुकथा)राहिला
"सारगर्भित संदेशप्रद कथा है,आज की ही नही अपने कल की व्यवस्था करना ज़रूरी है ।जिससे आने वाली पीढ़ी के…"
48 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 75 in the group चित्र से काव्य तक
"मुहतरम जनाब सतविंदर साहिब ,छंदों में शिरकत ,प्रशंसा और हौसला अफ़ज़ाई का बहुत बहुत शुक्रिया"
1 hour ago
सतविन्द्र कुमार replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 75 in the group चित्र से काव्य तक
"सुन्दर यह दोहावली,लगी बहुत है ख़ास पढ़कर इनको बढ़ रही,फिर पढ़ने की आस"
2 hours ago
सतविन्द्र कुमार replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 75 in the group चित्र से काव्य तक
"सुन्दर चौपाई छ्न्द के लिए बहुत-बहुत बधाई आदरणीया प्रतिभा दीदी!"
2 hours ago
सतविन्द्र कुमार replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 75 in the group चित्र से काव्य तक
"हार्दिक बधाई आपको आदरणीय नमन जी!"
2 hours ago
सतविन्द्र कुमार replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 75 in the group चित्र से काव्य तक
"दो छंदों में आपने,की है अच्छी बात दोहों संग कुण्डलिया,है अच्छी सौगात। हार्दिक बधाई"
3 hours ago
सतविन्द्र कुमार replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 75 in the group चित्र से काव्य तक
"इंद्रवज्रा छ्न्द में इस अनुपम कृति के लिए सादर हार्दिक बधाई आदरणीय गोपाल सर,सादर"
3 hours ago
सतविन्द्र कुमार replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 75 in the group चित्र से काव्य तक
"बात पते की कह डाली है,चित्र सही ही यह बोला नीड़ घरों औ पंछी मन से,मर्म-जिंदगी सब खोला शब्द-शब्द से…"
3 hours ago
satish mapatpuri replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 75 in the group चित्र से काव्य तक
"क्या बात है .... बहुत खूब .... अति उत्तम सृजन ।बधाई आदरणीया प्रतिभा जी ।"
3 hours ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service