For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

बाल साहित्य

Information

बाल साहित्य

यहाँ पर बाल साहित्य लिखा जा सकता है |

Location: World
Members: 156
Latest Activity: Mar 5

इस समूह में सभी रचनाकारों द्वारा बाल साहित्य के साथ-साथ ही, बच्चों द्वारा रचित कवितायेँ, कहानियाँ और चित्र भी सादर आमंत्रित है.

Discussion Forum

हौले हौले बोल चिरैया.....लोरी //डॉ० प्राची 2 Replies

हौले-हौले बोल चिरैया, हौले-हौले बोलपलने में कान्हा सोया है, तू मत इत-उत डोलचिरैया हौले-हौले बोल...पलकों पर सपने थिरके हैं, अधरों पर मुस्कानचाँद हिण्डोला बन बैठा है, परियाँ देतीं तानटूट न जाएँ मीठे सपनें, ये तो हैं अनमोलचिरैया हौले-हौले बोल...कच्ची…Continue

Started by Dr.Prachi Singh. Last reply by Dr.Prachi Singh Feb 9.

क्लास में सफाई ( कथा) 1 Reply

स्कूल में आते ही बच्चों का ध्यान मुख्य पटल पर पड़ा जिसपर लिखा हुआ थाइस माह से स्कूल प्रबन्धक कमिटी ने तय किया है कि स्वछता अभियान के तहत जो क्लास सबसे ज्यादा साफ़ मिलेगी उस क्लास को इनाम के तौर पर एक ट्रॉफी मिलेगी साल के अंत में और जो क्लास सबसे…Continue

Started by KALPANA BHATT. Last reply by KALPANA BHATT Mar 5.

सबका प्यारा हिन्दुस्तान 7 Replies

कल-कल-कल-कलबहती नदियाँझर-झर-झर-झरझरते झरनेघुन-घुन-घुन-घुनगाते भँवरघिर-घिर-घिर-घिरबदरा बरसेजिन पर सबको है अभिमानमेरा प्यारा हिन्दुस्तानसबसे न्यारा हिन्दुस्तानतुमको प्यारा हिन्दुस्तानहमको प्यारा हिन्दुस्तानसबको प्यारा हिन्दुस्तान।पडोसियों ने सीमा…Continue

Started by सुरेश कुमार 'कल्याण'. Last reply by Saurabh Pandey Jan 19.

सांता आया (कविता) 3 Replies

सांता आया सांता आयाखुशियों का झोला लायासंग है उनके ढेर खिलौनेआये सबमें प्रेम पिरौने ।सर्द हवा कब रूकती हैसांता के मन को भाती हैलाल चोंगा लाल ही टोपीहैं फैलाते प्रेम की ज्योति ।बच्चों के मन को भातेबड़े भी उत्साह दिखातेनव वर्ष का आगमन होगायह साल भी मन…Continue

Started by KALPANA BHATT. Last reply by KALPANA BHATT Mar 5.

शेर मामा (कविता) 1 Reply

शेर मामाशेर मामा हो गए बीमारबोले अब कैसे करूँ शिकारसुन यह शेर की दशाबोला उनसे चतुर सियारशेर मामा तुम मत घबराओभालू डॉक्टर को बुलवाओदवाई देकर सुई लगेगीबीमारी आपकी झट भागेगी ।मौलिक एवं अप्रकाशितContinue

Started by KALPANA BHATT. Last reply by KALPANA BHATT Mar 5.

पेड़ पौधे

पौधे-पेड़ धरा के गहने, मिलकर धरा सजाते हैं।ये जीवों का पोषण करते, पर्यावरण बचाते हैं।।चम्पा, जूही, बेला, गेंदा, उपवन को महकाते हैं।इनका ही रस लेकर भौरे, मस्त मगन हो जाते है।।आम पपीता लीची अमरुद, हम बच्चों को भाते है।इनको खाकर ही हम सब, ताकतवर बन…Continue

Started by सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' Dec 6, 2016.

एक क्षुद्र जलधारा की कथा(बाल-कथा) 2 Replies

बाल-कथाएक क्षुद्र जलधारा की कथावह एक क्षुद्र जलधारा ही तो थी, जिसका अस्तित्व आगे जाकर एक पहाड़ी नदी मे विलुप्त हो जाता । लेकिन नदी तक पहुंचने का रास्ता इतना आसान न था । वैसे भी रास्ते तो हमेशा मुश्किलो भरे ही हुआ करते है; असान तो मंज़िलें हुआ करती है…Continue

Tags: बाल-कथा

Started by Mirza Hafiz Baig. Last reply by Saurabh Pandey Nov 24, 2016.

चिड़िया रानी चिड़िया रानी 2 Replies

चिड़िया रानी चिड़िया रानी, लगती हो तुम बड़ी सयानी।मुझको भी तो बतलाओ ना, बातें ढेरों नई-पुरानी ।सुबह-सुबह खिड़की पर आकरमुझको रोज़ जगाती हो,बातें करने जब आता हूँफुर से क्यों उड़ जाती हो?कुछ पल मेरे पास रुको ना, मुझे सुनाओ एक कहानी।चिड़िया रानी चिड़िया…Continue

Started by Dr.Prachi Singh. Last reply by indravidyavachaspatitiwari Oct 19, 2016.

बाल कविता -तोता दिन भर जपता नाम 2 Replies

तोता दिन भर जपता नामरघुपति राघव राजा रामआगन्तुक को करे सलामपपीता संग खाता आम।।बंदर मामा करते शोरदौड़ लगाते चारो ओरबागों को देते झकझोरदेख भागते जैसे चोर।।घुमती फिरती सुबह शामबिल्ली मौसी क्यों बदनामकरे दूध का काम तमामचूहें पहुचाती सुर धाम।।(मौलिक व…Continue

Started by सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप'. Last reply by सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' Oct 10, 2016.

बालगीत ( टहल के आएं ) 2 Replies

बालगीत ( टहल के आएं )-------------------------------सुबह हुई है टहल के आएं ।सेहत बच्चों आओ  बनायें ।(१ ) बाईं तरफ फुटपाथ पे आओ      मैन सड़क पर तुम जाओ     जाने कब वाहन आजाएं       सुबह हुई ---------------(२ )  आओ चमन में चल कर देखो        सुन्दर…Continue

Started by Tasdiq Ahmed Khan. Last reply by Tasdiq Ahmed Khan Oct 10, 2016.

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Profile IconMajid ali kawish and Anuraag Vashishth joined Open Books Online
5 minutes ago
Seema mishra commented on गिरिराज भंडारी's blog post ग़ज़ल -चुप कह के, क़ुरआन, बाइबिल गीता है - ( गिरिराज )
" आदरणीय गिरिराज जी शानदार ग़ज़ल, मुबारकबाद कुबूल फरमाएँ| सादर "
28 minutes ago

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on बासुदेव अग्रवाल 'नमन''s blog post ग़ज़ल (इंसानियत)
"आदरणीय वासुदेव भाई , गज़ल अच्छी हुई है ,  आपने बहर निभाने मे  सफल रहे आप । शब्दों का चुनाव…"
4 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on गिरिराज भंडारी's blog post ग़ज़ल -तड़प तड़प के क्यूँ वो बाहर निकले हैं - ( गिरिराज )
"आदरणीय सतविन्द्र भाई , उत्साह वर्धन के लिये आपका हृदय से आभार ।"
4 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on गिरिराज भंडारी's blog post ग़ज़ल -तड़प तड़प के क्यूँ वो बाहर निकले हैं - ( गिरिराज )
"आदरणीय वासुदेव भाई , हौसला अफज़ाई का तहे दिल से शुक्रिया ।"
4 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on गिरिराज भंडारी's blog post ग़ज़ल -तड़प तड़प के क्यूँ वो बाहर निकले हैं - ( गिरिराज )
"आदरणीय वासुदेव भाई , हौसला अफज़ाई का तहे दिल से शुक्रिया ।"
4 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल....अब कहाँ गुम हुये आसरे भीड़ में
"आदरनीय बृजेश भाई , अच्छी गज़ल कही है आपने , हार्दिक बधाइयाँ स्वीकार करें । मेरा सोचना है कि .. अगर…"
4 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आदरनीय नवीन भाई , खूबसूरत गज़ल के लिये बधाइयाँ आपको । आ,रवि भाई की बातों का ख्याल कीजियेगा । -- कुछ…"
4 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी posted a blog post

ग़ज़ल -चुप कह के, क़ुरआन, बाइबिल गीता है - ( गिरिराज )

22   22   22   22   22   2हर चहरे पर चहरा कोई जीता हैऔर बदलने की भी खूब सुभीता है सांप, सांप को…See More
4 hours ago
Sushil Sarna posted a blog post

ई-मौजी ...

ई-मौजी ...आज के दौर में क्या हम ई-मौजी वाले स्टीकर नहीं हो गए ?भावहीन चेहरे हैं संवेदनाएं…See More
4 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on Sushil Sarna's blog post एक शब्द ....
"आदरनीय सुशील भाई , खूब सूरत दार्शनिक कविता के लिये हार्दिक बधाइयाँ ।"
4 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on Mohit mukt's blog post अरे पगली (याचना} (कविता ):- मोहित मुक्त
"आदरनीय मोहित भाई , प्रेम भाव से ओत प्रोत कविता के लिये बधाई । शब्दों की वर्तनी का ख्याल कीजिये ...…"
4 hours ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service