For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी
  • 22, Male
  • बभनान-गोण्डा-उ.प्र
  • India
Share

विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी's Friends

  • Ashish Painuly
  • गिरिराज भंडारी
  • Kedia Chhirag
  • ASHISH KUMAAR TRIVEDI
  • Kewal Prasad
  • डॉ नूतन डिमरी गैरोला
  • Savitri Rathore
  • बृजेश नीरज
  • वेदिका
  • आशीष नैथानी 'सलिल'
  • पीयूष द्विवेदी भारत
  • saroj sharma
  • seema agrawal
  • Rekha Joshi
  • डॉ. सूर्या बाली "सूरज"

विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी's Groups

विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी's Discussions

हिन्दी छंद रचनाओं में अंग्रेजी के शब्दों के प्रयोग की समस्या
17 Replies

हम नौसिखुओं को हिन्दी की छंदोबद्ध रचनाओं में अंग्रेजी के कुछ शब्दों के प्रयोग में काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है।यथा मेरे द्वारा रचित एक दोहे की अर्द्धाली निम्नवत् है-//एफ. डी. आई से भला होगा देश…Continue

Started this discussion. Last reply by विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी Apr 5, 2013.

RSS

Loading… Loading feed

 

विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी's Page

Latest Activity


सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर left a comment for विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी
"आदरणीय विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी जी,  ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार की ओर से आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें... "
Aug 20, 2015
Archana Tripathi commented on विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी's blog post जागरूक बेटी (लघुकथा)
"Vindheyeshvari Prasad Tripathi ji , आपकी रचना पढ़कर अच्छा लगा ।उसपर गुरुजनो और वरिष्ठजनों की समीक्षा बहुत कुछ सीखा रही हैं ,आशा हैं बविष्य(भविष्य ) में हमे भी इसी तरह मार्गदर्शन मिलेगा। आज भी कन्याओं की शिक्षा पर आती बाधाओं पर प्रकाश डालती रचना क्व…"
Jul 25, 2015
विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी and Ashish Painuly are now friends
May 14, 2015
Hari Prakash Dubey commented on विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी's blog post कर्तव्य बोध (लघुकथा)
"आदरणीय विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी सुन्दर ,संदेशप्रद रचना , हार्दिक बधाई आपको !"
Feb 5, 2015
विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी posted a blog post

कर्तव्य बोध (लघुकथा)

खट- खट की आवाज सुनकर गली के कुत्ते भौंकने लगे। चोर कुछ देर शांत हो गये। थोड़ी देर बाद फिर से खोदने लगे। कुत्ते फिर भौंकने लगे।चोरों ने डंडा मारकर कुत्तों को भगाना चाहा, लेकिन कुत्ते निकले निरा ढीठ, वे और तेज भौंकने लगे। लाल मोहन ही क्या अब तो सारा मुहल्ला जाग चुका था । लेकिन किसी ने अपने बिस्तर से उठकर बाहर यह पता करने की ज़हमत नहीं उठायी कि कुत्ते भौंक क्यों रहे थे ।सुबह-सुबह पूरे मुहल्ले में यह ख़बर आग बनी थी, लाल मोहन लुट चुका है। मौलिक व अप्रकाशितSee More
Feb 5, 2015
dilbag virk and विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी are now friends
Oct 23, 2014
विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी commented on Arun Sri's blog post बिल्ली सी कविताएँ --- अरुण श्री !
"आदरणीय अरुण भाई जी! सुंदर रचना। आपके काव्य बिम्ब और उनकी अपील हृदय को छू रहे हैं। यही किसी रचना और रचनाकार की सफलता है। बधाई भाई।"
Aug 3, 2014
विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी commented on Shubhranshu Pandey's blog post गंगा के नाले (लघु कथा) // --शुभ्रांशु पाण्डॆय
"आदरणीय शुभ्रांशु भाई जी! अत्यंत मर्मस्पर्शी लघुकथा । निस्संदेह प्रायः बच्चे हम बड़ों से ही बुराई सीखते हैं।"
Aug 3, 2014
विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक - 43
"सही कहा आपने। बेहतरीन दोहावली। बधाई आदरणीय।"
May 11, 2014
विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक - 43
"भाई कृष्न सिंह जी! एक उम्दा प्रस्तुति। किंतु कहीं कहीं प्रवाह रूक रहा है।"
May 11, 2014
विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक - 43
"आदरणीय रमेश जी! अति सुन्दर भाव प्रवण छंद किन्तु रचना कर्म के स्तर पर अभी इस रचना पर और श्रम की आवश्यकता है।"
May 11, 2014
विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक - 43
"अति सुन्दर ओजस्वित गीत। रोम रोम रोमांचित हो उठा। सत्य है आज एक सिंह गर्जना की महती आवश्यकता है।"
May 11, 2014
विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक - 43
"नहीं आदरणीय मेरा मंतव्य यह नहीं था कि सुभाष चंद्र बोस जी को यह सम्बोधन आपने दिया। बल्कि मैं यह कहना चाहता था कि हम जैसे लोग नेता जी का केवल एक अर्थ लेते आज के आधुनिक नेता लुटेरे हत्यारे घोटालेबाज। आपने नेता जी शब्द को इस अर्थ में नया आयाम दिया है कि…"
May 11, 2014
विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक - 43
"आदरणीय सौरभ सर जी! सुंदर गीत। नेता जी शब्द को सही अर्थ यहीं प्राप्त हुआ है। आप द्वारा नया आयाम मिला है नेता शब्द को।"
May 10, 2014
विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक - 43
"आदरणीय नादिर खान जी! एक बेहतरीन गजल बधाई"
May 10, 2014
विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक - 43
"आदरणीय लक्ष्मण प्रसाद! उत्तम कुंडलिया छंद। लेकिन रचनाकर्म के स्तर अभी और प्रयास की आवश्यकता है।"
May 10, 2014

Profile Information

Gender
Male
City State
उत्तर प्रदेश
Native Place
बभनान
Profession
सहायक प्रवक्ता-भूगोल {आचार्य नरेंद्र देव किसान स्नातकोत्तर महाविद्यालय बभनान-गोण्डा (उ.प्र. भारत)}
About me
ईश्वर महान है। वह कभी गलत नहीं करता इसलिये उसके विधान में विश्वास करो।

विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी's Photos

Loading…
  • Add Photos
  • View All

विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी's Blog

संसद की गरिमा घटी (कुंडलिया छंद)

चुन गुण्डे संसद गये, करते हैं उत्पात।

लोकतंत्र के माथ पर, यह कलंक की बात॥

यह कलंक की बात, लात घूँसा चलता है।

मिर्च पाउडर फेंक, नोंच माइक देता है॥

देना हमें जवाब, आज गुण्डों को सुन।

भेजें सज्जन लोग, देश हित में हम चुन॥



भारत के इतिहास में, है काला अध्याय।

संसद में फेंका गया, जूता चप्पल हाय॥

जूता चप्पल हाय, नहीं क्यों उनको मारे।

चुनकर नमक हराम, गये संसद जो सारे॥

करते हैं खिलवाड़, तनिक न आये लज्जत।

पापी पामर नीच, कलंकित करता… Continue

Posted on February 15, 2014 at 12:56pm — 7 Comments

दुख और जीवन (सवैया गीत)

इस जीवन में दुख ही दुख है, गृह त्याग चलें वन गौतम नाई।

फिर भी संग छूट नहीं दुख से, घर बैठ सुता सुत नारि रोवाई॥

मन सूख रहा जग आतप से, अब नैन वरीष गये हरियाई।

बहु भांति विचार किया हमने, पथ कंटक झेल रहो जग भाई॥



यदि तृप्त नहीं मन तो भटके, जब तोष हुआ दुख तो मिटता है।

पर तृप्त करें किस भांति इसे, यह तो बिन बात के भी हठता है॥

हठवान बड़ा मन मान नहीं, भगवान कहो तुम ही समझाई।

पद पंकज में जब ध्यान लगे, तब छोड़ रहा मन है हठताई॥



मन की हठता सुन है तब ही, जब… Continue

Posted on February 7, 2014 at 7:52pm — 13 Comments

गणतंत्र दिवस (कुंडलिया छंद)

गणतंत्र दिवस शुभकामना, प्रेषित है श्रीमान।
झंडा ऊँचा नित रहे, बढ़े देश का मान॥
बढ़े देश का मान, निरंतर उन्नत भारत।
हर जन हो खुशहाल, नहीं हो कोई आरत॥
आम व्यक्ति गणराज, किन्तु तंत्र में है विवश।
फिर कैसा गणतंत्र, और ये गणतंत्र दिवस॥

मौलिक व अप्रकाशित

Posted on January 26, 2014 at 2:48pm — 8 Comments

चिंता के कुछ दोहे

नैतिकता के पतन से, फैला कंस प्रभाव॥
मात- पिता सम्मान नहि, नस नस में दुर्भाव॥

पश्चिम संस्कृति जी रहे, हम भूले निज मान।
कहते हम संतान कपि, जबकि हैं हनुमान॥

निज गौरव को भूलकर, बनते मार्डन लोग।
ये भी क्या मार्डन हुए, पाल रहे बस रोग॥

अपने घर में त्यक्त है, वैदिक ज्ञान महान।
महा मूढ़ मतिमंद हम, करते अन्य बखान॥

लौटें अपने मूल को, जो है सबका मूल।
पोषित होता विश्व है, सार बात मत भूल॥

मौलिक व अप्रकाशित

Posted on January 22, 2014 at 12:30pm — 16 Comments

Comment Wall (13 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 11:54am on August 20, 2015,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…

आदरणीय विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी जी, 

ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार की ओर से आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें...

At 12:34pm on May 3, 2013, PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA said…

सादर धन्यवाद 

स्नेही विनय जी 

आपने अपने व्यस्त समय से मुझे मार्गदर्शन किया. काफी विस्त्रत जानकारी दी. निराशा थी. प्रोत्साहन मिला .स्नेह बनाये रखिये. 

At 7:35pm on April 14, 2013, Kedia Chhirag said…

प्रिय बन्धु,आपका आभार किन शब्दों में व्यक्त करूँ ...शब्द नहीं हैं...आपने मुझको इस साईट से परिचित करवाकर मेरे लिए ज्ञान का महासागर समक्ष कर दिया है ....अब यह पूरी तरह मेरे ऊपर निर्भर है की मैं इस महासागर की कितनी गहराइयों में उतरकर अपने लिए ज्ञान के मोती चुनूँ...मेरा पूरा प्रयास रहेगा की हमेशा आप सबके स्नेहाशीष से आपकी अपेक्षाओं को पूरा कर सकने में समर्थ हो पाऊं .......अत्यंत आभार ....ह्रदय से ........

At 3:15pm on April 10, 2013, manoj shukla said…
आभार भाईसाहब त्रिपाठी जी
At 5:47pm on March 7, 2013, mrs manjari pandey said…

आदरणीय विन्ध्येश्वरी प्रसाद जी

 कल बहुतों का कल ले लेता .

कल को छीन  विकल कर देता।

पूरी रचना अच्छी लगी।

 

At 11:54pm on February 22, 2013, बृजेश नीरज said…

आपने मुझे मित्रता योग्य समझा इसके लिए आपका आभार!

At 5:44pm on August 20, 2012, लक्ष्मण रामानुज लडीवाला said…
आदरणीय विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठीजी, आपके जन्म दिन पर हार्दिक शुभकामनाए गुरुवर
इश्वर करे आप नयी उंचाइयां छुए और परिवार समाज और देश के विकास में योगदान करे |
हमारा आपका सदव्यवहार बना रहे  |
At 9:04am on April 29, 2012, Sanjay Mishra 'Habib' said…

प्रिय भाई विन्ध्येश्वरी जी, आपकी सहृदय संवेदनाओं से बड़ा संबल मिला है...

सादर नमन।

At 8:10pm on April 19, 2012, राकेश त्रिपाठी 'बस्तीवी' said…

Bhai Tripathi ji, Hamari Mitra mandali me aapka khule dil se svagat hai.

At 12:51pm on April 1, 2012, PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA said…

आदरणीय , श्री त्रिपाठी  जी.

सादर अभिवादन.
मैं सीखने आया हूँ. मार्गदर्शन और स्नेह अपेक्षित है. 
धन्यवाद.  स्नेह बनाये रखियेगा.
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Sheikh Shahzad Usmani commented on Janki wahie's blog post विस्थापित लघु कथा - जानकी बिष्ट वाही
"बहुत ही उम्दा समसामयिक परिदृश्य पर बेहतरीन प्रस्तुति के लिए हृदयतल से बहुत बहुत बधाई आपको आदरणीया…"
50 minutes ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on TEJ VEER SINGH's blog post कल का छोकरा – ( लघुकथा ) -
"आदरणीय तेज़वीर सिंहजी, हम सभी आपस में ही सीख रहे है. अबतक हुई इस पटल की लगभग दस कामयाब ऑनलाइन लघुकथा…"
1 hour ago
amita tiwari posted blog posts
1 hour ago
Amit Tripathi Azaad commented on TEJ VEER SINGH's blog post कल का छोकरा – ( लघुकथा ) -
"आदरणीय तेज वीर जी को सदर अभिनन्दन ,कल के छोकरे  के द्वारा दिलाया गया एक रिटायर सैनिक  को…"
1 hour ago
TEJ VEER SINGH commented on TEJ VEER SINGH's blog post कल का छोकरा – ( लघुकथा ) -
"हार्दिक आभार आदरणीय सौरभ पांडे जी!हम लोग जितना कुछ मन में आता है लिख डालते हैं!लघुकथा है या नहीं…"
1 hour ago
Dr T R Sukul posted a blog post

बसंती गंध

बसंती गंध-----------सोचा था,उस पार ,शान्त निर्विघ्न क्षणों में, पहुंच,तुम्हारी मधुरस्मृति को सतत…See More
1 hour ago
Kewal Prasad posted a blog post

अच्छे दिन !

१-   अच्छे दिन !सुबह-शाम !घर-चौबारे आशंकितप्रतीक्षारत सहेजते हैं...दीप-बाती और तेलआक्रोशित तम…See More
1 hour ago
Janki wahie posted a blog post

विस्थापित लघु कथा - जानकी बिष्ट वाही

चिता की नारंगी लपटें चटख धूप में एकसार हो रही हैं। दूर गाँव से आये पण्डित ने, जिसे ज़मील अहमद सरपंच…See More
1 hour ago
Sushil Sarna posted a blog post

अपना अधिकार रहने दो ....

अपना अधिकार रहने दो ....व्यथित हृदय कुछ तो रहने दो मन में व्यथा को शब्दों के लिबास मत दो शब्द सज…See More
1 hour ago
Sachin Dev posted a blog post

हिसाब ( गजल )

  1212         1122      1212     22                हिसाब ( गजल…See More
1 hour ago
MUKESH SRIVASTAVA commented on MUKESH SRIVASTAVA's blog post चुप्पी
"rachna pasandgee ke liye bahut bahtu aabhar Sushil Sarma jee aur Saurabh Pandey jee"
2 hours ago
Kewal Prasad commented on जयनित कुमार मेहता's blog post ख़िज़ाओं का नहीं होता दरख़्तों पर असर कोई (ग़ज़ल)
"''तड़पकर-चीखकर इंसानियत, है आज मरणासन्नकोई देता नहीं क्यों,दे ही दे अब तो ज़हर…"
3 hours ago

© 2016   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service