For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

satish mapatpuri
  • Male
  • patna, bihar
  • India
Share

Satish mapatpuri's Friends

  • Hari Prakash Dubey
  • Aarti Sharma
  • Neelkamal Vaishnaw
  • Ranveer Pratap Singh
  • deepti sharma
  • डॉ. सूर्या बाली "सूरज"
  • कुमार गौरव अजीतेन्दु
  • SHARIF AHMED QADRI "HASRAT"
  • CA (Dr.)SHAILENDRA SINGH 'MRIDU'
  • राज़ नवादवी
  • rajesh kumari
  • shashiprakash saini
  • Shashi Vivek
  • Arun Sri
  • Smrit Mishra

satish mapatpuri's Discussions

ज्योति पर्व दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं
3 Replies

ढोल-मजीरा , नाल-पखावज, शहनाई-मृदंग  राग-रागिनी, गायन-वादन , नृत्य-ताल और छंद .गीत, ग़ज़ल ,कविता सी लगती , है सबको हर बार दिवाली   नई उमंगें - नई उम्मीदें, ले आती हर बार दिवाली.        ---- सतीश…Continue

Started this discussion. Last reply by tejwani girdhar Nov 16, 2012.

जॉय मुखर्जी को श्रद्धांजलि
3 Replies

शागिर्द , लव इन टोकियो ,…Continue

Started this discussion. Last reply by विन्ध्येश्वरी प्रसाद त्रिपाठी Mar 11, 2012.

BIG BOSS
3 Replies

जरुरी नहीं कि हर विदेशी प्रोग्राम का हिंदी संस्करण हो. पोर्न स्टार के बल पर BIG BOSS की जरुरत नहीं है.मुझे याद है, जब अमिताभ बच्चन इस कार्यक्रम को HOST  कर रहे थे तो ऐसी कोई अश्लीलता नहीं…Continue

Started this discussion. Last reply by Afsos Ghazipuri Nov 27, 2011.

 

satish mapatpuri's Page

Latest Activity

satish mapatpuri replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-92
"प्रदत्त युग्म शब्द पर बेहतरीन बाल गीत .... अनुपम सृजन .... बधाई आदरणीय राणा साहेब ।"
yesterday
satish mapatpuri replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-92
"उपर बैठा जो व्यापारी  उसकी गठरी खोल ना  बोल तराजू बोल ना  .....अप्रतिम"
yesterday
satish mapatpuri replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-92
"तुम रूठे तो सावन रूठा  ...........  बाहर बूँदों की दस्तक है अन्दर विरहा धूप जले  ...... बेहतरीन कहन .... बेहद उम्दा सृजन .... बधाई आदरणीया प्रतिभा जी "
yesterday
satish mapatpuri replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-92
"सादर नमन आदरणीय "
yesterday
satish mapatpuri replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-92
"जग में दोनों की बलिहारी धूप छाँव बिन संकट भारी  .... वाह ...वाह .. बेहद उम्दा सृजन .... बधाई आदरणीय ।"
yesterday
satish mapatpuri replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-92
"इसी आस में चल रहे , लेकर छाले पाँव  ....अति सुंदर एवम सार्थक दोहावली ... बधाई आदरणीय धामी साहेब ।"
yesterday
satish mapatpuri replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-92
"वाह ... बेहतरीन ग़ज़ल .... बहुत खूब ।"
yesterday
satish mapatpuri replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-92
"सुंदर हाइकु से शानदार आगाज़ ..... बधाई आदरणीय "
yesterday
satish mapatpuri replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-92
"आपकी सराहना से संबल मिला है आदरणीय समर साहेब ..... आपने सही फ़रमाया है आदरणीय ... सा की जगह सी होनी चाहिए .... सा को बदलना तो सम्भव नहीं ... धूप की जगह घाम करना उचित होगा न ?"
yesterday
satish mapatpuri replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-92
"शुक्रिया आदरणीया नीलम जी ..... नमन ।"
yesterday
satish mapatpuri replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-92
"हौसला अफजाई के लिए आभारी हूँ आदरणीय राणा साहेब .... नमन ।"
yesterday
satish mapatpuri replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-92
"आपने सराहा .... मेरा श्रम सार्थक हुआ .... सादर नमन आदरणीय धामी साहेब ।"
yesterday
satish mapatpuri replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-92
"आपकी स्नेहिल सराहना से उत्साहवर्धन हुआ है आदरणीय .... सादर नमन ।"
yesterday
satish mapatpuri replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-92
"आपकी स्नेहिल प्रतिक्रिया से अभिभूत हूँ आदरणीया प्रतिभा जी .... नमन "
yesterday
satish mapatpuri replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-92
"आभार संग नमन आदरणीय "
yesterday
satish mapatpuri replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-92
"  गीत ज़िन्दगी का रूप है धूप और छाँव सा । थोड़ी सी शांति बहुत काँव - काँव सा । जाड़े   में कितनी  सुहानी ये धूप है । सुंदर  सनम सा हसीं  इसका रूप है । अलता रचाया  सुहागिन के पाँव सा । ज़िन्दगी का रूप है धूप और छाँव…"
yesterday

Profile Information

Gender
Male
City State
patna, Bihar
Native Place
Patna
Profession
Deputy Director (administration & account) at BIHAR BOARD OF OPEN SCHOOLING & EXAMINATION
About me
My Self Is Satish Mapatpuri.I am Lyricist &Writer.Having 25 years Experience In this Field.

satish mapatpuri's Photos

  • Add Photos
  • View All

Satish mapatpuri's Blog

अगर पूर्वजों के सहारे न होते .

अगर रंग - बिरंगे ये नारे न होते.
तो फिर हम भी इतने बेचारे न होते .
बस बातों के मरहम से भर जाते शायद .
अगर ज़ख्म दिल के करारे न होते .
भला किसकी हिम्मत सितम ढा सके यूँ .
अगर हम जो आदत बिगाड़े न होते .
कहीं ना कहीं से तो शह मिल रहा है .
निर्भया के बसन यूँ उतारे न होते .
मिट जाती  कब की  ये रस्मोरिवाज़ें .
अगर पूर्वजों के सहारे  न होते .
  
मौलिक और अप्रकाशित
सतीश मापतपुरी

Posted on September 20, 2015 at 10:00pm — 3 Comments

गुरुवर तुम्हें नमन है ( शिक्षक दिवस पर विशेष )

 

जिसने बताया हमको , लिखना हमारा नाम .

जिसने सिखाया हमको , कविता ,ग़ज़ल -कलाम .

समझाया जिसने हमको , दीने -धरम ,ईमान .

जिसने कहा कि एक है ,कह लो रहीम - राम .

भगवान से भी पहले ,करता नमन उन्हीं को .

मानों तो हैं  खुदा वो , ना मानों तो हैं आम .…

Continue

Posted on September 5, 2012 at 3:46am — 18 Comments

गुनाहगार बनाया क्यों ?

 

ऐ मालिक ! बता दे तू , कि बहार बनाया क्यों ?

गर बहार बना था , तो उजाड़ बनाया क्यों ?

चमन में खिलती हैं कलियाँ , कली से नेह भौरों को .

पर भंवरे काँप उठे उस वक़्त , आखिर खार बनाया क्यों ?

जुदाई प्यार की मंजिल , तड़पना दिल को पड़ता है .

दिवाना कहती है दुनिया , तो फिर यह  प्यार बनाया क्यों ?

मिलन की चाह होती है , मिलन होता मुकद्दर से .

तो मिलकर क्यों बिछड़ते हैं , आखिर दीदार बनाया क्यों ?

अगर मापतपुरी जालिम  , तो उस पे कर करम मौला .

ख़ता…

Continue

Posted on August 31, 2012 at 2:15am — 4 Comments

कबीरा खड़ा बाजार में

 [ एक ]

कठपुतली भी हँस रही, देख मनुज का हाल.

सबसे बड़ा मदारी वो , लिखे जो सबका भाल.

कौन नचाता है किसे, क्या इसका परमान.

सबकी डोर पे पकड़ जिसे, कहते कृपानिधान.

 जिस उर में लालच बसे ,वहाँ कहाँ ईमान .

देय वस्तु पर नेह जिसे , सबसे बड़ा नादान.

जीवन गगरी माटी की , जिसका करम कोंहार .

सरग - नरक येही ठौर है , जिसका जस व्यवहार .

देने वाले ने दिया , एक सूर्य और सोम .

किन्तु मनुज ने बाँट ली , धरती नदियाँ व्योम .

कहत अभागा नियति का , नीयत नियत…

Continue

Posted on August 3, 2012 at 1:27am — 6 Comments

Comment Wall (23 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 11:42pm on May 18, 2015,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…

At 1:57pm on May 18, 2013, लक्ष्मण रामानुज लडीवाला said…

जन्म दिवस की मंगलमय हार्दिक शुभकामनाए 

At 11:02am on September 10, 2012, SANDEEP KUMAR PATEL said…

आदरणीया satish sir ji  सादर प्रणाम
ग़ज़ल को पसंद करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद सहित सादर आभार

At 3:26am on May 19, 2012,
सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey
said…

राउर जनमदिन के हमरा ओरि से ढेरम्ढेर मुबारकबादी, भाईजी.. . 

दुका ना दुका में अतना अझुराइल रहुईं, ए भइया, जे कुबेरा भऽ गइल. ओबिओ पर हमार हेने लकम से ना आवल अतना बुझवा देले रहे जे हमार सतीश भाई पिपिताइल होइहें. भाई, पित्ता-पित्ती फरिका, पहिले दिल के कोरी आ भावना का ओरी से बड़हन बधाई.. . 

सादर

At 11:12pm on May 18, 2012, CA (Dr.)SHAILENDRA SINGH 'MRIDU' said…
जन्म दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं सर जी
At 11:52am on May 18, 2012,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

At 7:07pm on April 12, 2012, Sarita Sinha said…

satish ji namaskar, 

kavita ki sarahna ke liye aap ka dhanyvad.....

At 8:58pm on January 2, 2012, Mukesh Kumar Saxena said…

मै आपका बहुत ही आभारी हूँ की आपने मेरी कविता की सराहना करके मेरा उत्साह वर्धन किया

At 9:30am on August 2, 2011, Abhinav Arun said…

माह की श्रेष्ठ रचना चयन पर हार्दिक बधाई स्वीकारें सतीश जी !

At 1:56pm on July 7, 2011, Rash Bihari Ravi said…
आपकी रचना मानसरोवर-१ को महीने का सर्व्श्रेस्थ रचना चुने जाने पर बहुत बहुत बधाई...
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Mohammed Arif commented on Mohammed Arif's blog post कविता--कश्मीर अभी ज़िंदा है भाग-1
"सियासी चहरे बदलते रहते हैं । छप्पन इंच का सीना भी हिजड़ा नज़र आ रहा है और कश्मीर ख़ून में नहा रहा है…"
4 hours ago
Rakshita Singh commented on Rakshita Singh's blog post तुम्हारे स्पर्श से....
"आदरणीय कबीर जी नमस्कार, आपकी शिर्कत के लिए बेहद शुक्रिया...., आपको कविता पसंद  आयी ...लिखना…"
4 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani commented on Neelam Upadhyaya's blog post पापा तुम्हारी याद में
"वाह। गागर में यथार्थ का सागर! हार्दिक बधाई और आभार आदरणीया नीलम उपाध्याय जी"
5 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Mohammed Arif's blog post कविता--कश्मीर अभी ज़िंदा है भाग-1
"पर सियासद कितने दिन जिंदा रहने देगी कश्मीर को ?  कश्मीर के दर्द को उकेरने के लिए आभार और बधाई…"
5 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on gumnaam pithoragarhi's blog post ग़ज़ल .....
"बहुत खूब..."
5 hours ago
Samar kabeer commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (न मुँह को फेर के यूं आप जाएं ईद के दिन)
"जी,बहतर है ।"
6 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (न मुँह को फेर के यूं आप जाएं ईद के दिन)
"आ. भाई तस्दीक अहमद जी, ईद के मौके पर बेहतरीन गजल हुयी है । हार्दिक बधाई ।"
6 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani posted a blog post

मुफ़्त की ऑक्सीजन (लघुकथा)

"नहीं कमली! हम नहीं जायेंगे वहां!" इकलौती बिटिया केमहानगरीय जीवन के दीदार कर लौटी बीवी से उसकी बदली…See More
7 hours ago
Neelam Upadhyaya posted a blog post

पापा तुम्हारी याद में

जीवन की पतंग पापा थे डोरउड़ान हरदम आकाश की ओर पापा सूरज की किरणप्यार का सागर दुःख के हर कोने मेंखड़ा…See More
8 hours ago
Tasdiq Ahmed Khan posted blog posts
8 hours ago
TEJ VEER SINGH commented on TEJ VEER SINGH's blog post पतझड़ -  लघुकथा –
"हार्दिक आभार आदरणीय समर क़बीर साहब जी।आदाब।आपको ईद मुबारक़।"
10 hours ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (न मुँह को फेर के यूं आप जाएं ईद के दिन)
"मुहतरम जनाब समर साहिब आदाब  , ग़ज़ल में आपकी शिर्कत और हौसला अफज़ाई का बहुत बहुत शुक्रिया |…"
12 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service