For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
  • Male
  • Tinsukiya
  • India
Online Now
Share

बासुदेव अग्रवाल 'नमन''s Friends

  • बृजेश कुमार 'ब्रज'

बासुदेव अग्रवाल 'नमन''s Groups

 

बासुदेव अग्रवाल 'नमन''s Page

Latest Activity

बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-83
"ग़ज़ल ( खबर नहीं है कि सूरज किधर से निकला था) बहर:- 1212 1122 1212 22/112 जिधर वो रहते मैं क्योंकर उधर से निकला था, बड़ा मलाल जो उनकी नज़र से निकला था। कदम कदम पे मुझे जिंदगी में खार मिले, गुलों की चाह में मैं हर डगर से निकला था। रहें जो गुम हो…"
2 hours ago
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 73 in the group चित्र से काव्य तक
"आ0 सतीश मानपुरिया जी विषय वस्तु अनुसार बहुत सुंदर सात छंद हुए हैं हृदय से बधाई।"
Saturday
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 73 in the group चित्र से काव्य तक
"आ0 अखिलेश जी हास्य रस से भरपूर चित्र को सार्थक करती कुण्डलियाँ की हार्दिक बधाई। सार छंद में कुछ सुधार अपेक्षित है।"
May 19
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 73 in the group चित्र से काव्य तक
"आ0 प्रतिभा जी दोनों छंद बहुत सुंदर। हृदय से बधाई।"
May 19
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 73 in the group चित्र से काव्य तक
"आ0 तस्दीक अहमद खान साहिब आपकी कुण्डलियाँ और सार छंद की दोनों प्रस्तुतियाँ विषय अनुरूप बहुत सुंदर हुई है। हृदय से बधाई प्रस्तुत है।"
May 19
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 73 in the group चित्र से काव्य तक
"सौरभ जी आपकी प्रतिक्रिया सर आँखों।"
May 19
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 73 in the group चित्र से काव्य तक
"आ0 सतविंदर कुमार जी आपसे रचना को अनुमोदन मिला, यह त्वरित लिखी रचना सार्थक हुई। आपका हृदय से आभार। किसकी भी न मजाल ज्यादा उपयुक्त होता।"
May 19
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 73 in the group चित्र से काव्य तक
"आ0 तस्दीक अहमद खान साहिब आपसे रचना को अनुमोदन मिला, यह त्वरित लिखी रचना सार्थक हुई। आपका हृदय से आभार।"
May 19
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 73 in the group चित्र से काव्य तक
"आ0 अखिलेश कृष्ण जी आपसे रचना को अनुमोदन मिला, यह त्वरित लिखी रचना सार्थक हुई। आपका हृदय से आभार। किसकी भी न मजाल ज्यादा उपयुक्त होता।"
May 19
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 73 in the group चित्र से काव्य तक
"आ0 राजेश कुमारी जी आपसे रचना को अनुमोदन मिला, यह त्वरित लिखी रचना सार्थक हुई। आपका हृदय से आभार।"
May 19
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 73 in the group चित्र से काव्य तक
"आ0 मोहम्मद आरिफ जी आपसे रचना को अनुमोदन मिला, यह त्वरित लिखी रचना सार्थक हुई। आपका हृदय से आभार।"
May 19
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 73 in the group चित्र से काव्य तक
"वाह आ0 राजेश कुमारी जी प्रदत्त चित्र के अनुरूप सुंदर कुण्डलियाँ छंद हुए हैं। हृदय से बधाई।"
May 19
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 73 in the group चित्र से काव्य तक
"आ0 सतविंदर जी सुंदर कुण्डलियाँ छंद। सुंदर प्रस्तुति के लिए हार्दिक बधाई।"
May 19
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 73 in the group चित्र से काव्य तक
"सारी पहने लहरिया, घर से निकली नार। रीत रिवाजों में फँसी, लम्बा घूँघट डार। लम्बा घूँघट डार, फोन यह कर में धारे। किसकी नहीं मजाल, हाथ इज्जत पर डारे। अबला इसे न जान, लाज की खुद रखवारी। कर देती झट दूर, अकड़ चप्पल से सारी।। मौलिक व अप्रकाशित"
May 19
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-79
"आ0 अखिलेश कृष्ण जी दोनों ही कुण्डलियाँ विषय को पूर्णतया सार्थक करती हुई। दूसरी कुण्डलिया शिल्प की दृष्टि से कमजोर है। रोले का सम चरण 3+2+4+4 या 3+2+3+3+2 से आवश्यक है। आपके 3+2+3+2+3 हो रहे हैं। इसीलिए कुण्डलिया त्रिकल 'कटे' से प्रारम्भ…"
May 13
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-79
"वाहहहह आ0 अशोक कुमार रक्ताले जी प्रदत्त विषय पर बहुत सुंदर दोहे। हृदय से बधाई प्रेषित है।"
May 13

Profile Information

Gender
Male
City State
Tinsukia
Native Place
Tinsukia
Profession
कवि
About me
परिचय -बासुदेव अग्रवाल 'नमन' नाम- बासुदेव अग्रवाल; शिक्षा - B. Com. जन्म दिन - 28 अगस्त, 1952; स्थान - सुजानगढ़ (राजस्थान) रुचि - हर विधा में कविता लिखना। मुक्त छंद, पारम्परिक छंद, हाइकु, मुक्तक इत्यादि। गीत ग़ज़ल में भी रुचि है। परिचय - वर्तमान में मैँ असम प्रदेश के तिनसुकिया नगर में हूँ। मैं नारायणी साहित्य अकादमी से जुड़ा हुवा हूँ। हमारी नियमित रूप से मासिक कवि गोष्ठी होती है जिनमें मैं नियमित रूप से भाग लेता हूँ। नारायणी के माध्यम से मैं देश के प्रतिष्ठित साहित्यिकारों से जुड़ा हुवा हूँ। whatsup के कई ग्रुप से जुड़ा हुवा हूँ जिससे साहित्यिक कृतियों एवम् विचारों का आदान प्रदान गणमान्य साहित्यकारों से होता रहता है। Blog - narayanitsk.blogspot.com बासुदेव अग्रवाल 'नमन'

बासुदेव अग्रवाल 'नमन''s Blog

आओ सब मिल कर संकल्प करें

आओ सब मिल कर संकल्प करें।

चैत्र शुक्ल नवमी है आज, नूतन कुछ तो करें।

आओ सब मिल कर संकल्प करें॥



मर्यादा में रहना सीखें, सागर से बन कर हम सब।

मर्यादा में रहना सिखलाएं, तोड़े कोई इसको जब।

मर्यादा के स्वामी की, धारण तो यह सीख करें।

आओ सब मिल कर संकल्प करें॥



मात पिता गुरु और बड़ों की, सेवा का ही मन हो।

भIई मित्र और सब के, लिए समर्पित ये तन हो।

समदर्शी सा बन कर हम, सबसे व्यवहार करें।

आओ सब मिल कर संकल्प करें॥



उत्तम आदर्शों को हम,… Continue

Posted on April 5, 2017 at 11:49am — 3 Comments

ग़ज़ल(जीवन पथिक संसार में चलते चलो तुम सर्वदा)

बह्र-- 2212 2212 2212 2212



जीवन पथिक संसार में चलते चलो तुम सर्वदा,

राहों में आए कष्ट जो सहते चलो तुम सर्वदा।



अनजान सी राहें तेरी मंजिल कहीं दिखती नहीं,

काँटों भरी इस राह में हँसते चलो तुम सर्वदा।



बीते हुए से सीख लो आयेगा उस को थाम लो,

मुड़ के कभी देखो नहीं बढ़ते चलो तुम सर्वदा।



बहता निरंतर जो रहे गंगा सा निर्मल वो रहे,

जीवन में ठहरो मत कभी बहते चलो तुम सर्वदा।



मासूम कितने रो रहे अबला यहाँ नित लुट रही,

दुखियों के मन… Continue

Posted on April 3, 2017 at 7:24pm — 14 Comments

ग़ज़ल (इंसानियत)

ग़ज़ल (इंसानियत)



2212 2212 2212 2212



इंसान के खूँ की नहीं प्यासी कभी इंसानियत,

फिर भूल तुम जाते हो क्यों अक्सर यही इंसानियत।



जो जिंदगी तुम दे नहीं सकते उसे लेते हो क्यों,

पर खून बहता ही रहा रोती रही इंसानियत।



जब गोलियाँ बरसा जमीं को लाल खूँ से तुम करो,

संसार में आतंक को ना मानती इंसानियत।



हे जालिमों जब जुल्म तुम अबलों पे हरदम ही करो,

मजलूम की आहों में दम को तोड़ती इंसानियत।



थक जाओगे तुम जुल्म कर जिंदा रहेगी ये… Continue

Posted on March 21, 2017 at 12:33pm — 7 Comments

"होली" सायलीछंद

"होली" सायलीछंद



शिल्प- 1 2 3 2 1 शब्द



(1)

होली

का त्योहार

जीवन में लाया

रंगों की

बौछार।



(2)

होली

में जलते

अत्याचार, कपट, छल

निष्पाप भक्त

बचते।



(3)

होली

लाई रंग

हों सभी लाल

खेलें पलास

संग।



(4)

होली

देती छेद

ऊँच नीच के

मन से

भेद।



(5)

सत्रह

की होली

भाजपा की तूती

देश… Continue

Posted on March 12, 2017 at 1:22pm — 3 Comments

Comment Wall (2 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 7:13pm on November 20, 2016,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

आदरणीय
श्री बासुदेव अग्रवाल 'नमन' जी,

सादर अभिवादन,
यह बताते हुए मुझे बहुत ख़ुशी हो रही है कि ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार में विगत माह आपकी सक्रियता को देखते हुए OBO प्रबंधन ने आपको "महीने का सक्रिय सदस्य" (Active Member of the Month) घोषित किया है, बधाई स्वीकार करें | प्रशस्ति पत्र उपलब्ध कराने हेतु कृपया अपना पता एडमिन ओ बी ओ को उनके इ मेल admin@openbooksonline.com पर उपलब्ध करा दें | ध्यान रहे मेल उसी आई डी से भेजे जिससे ओ बी ओ सदस्यता प्राप्त की गई है |
हम सभी उम्मीद करते है कि आपका सहयोग इसी तरह से पूरे OBO परिवार को सदैव मिलता रहेगा |
सादर ।
आपका
गणेश जी "बागी"
संस्थापक सह मुख्य प्रबंधक
ओपन बुक्स ऑनलाइन

At 10:42pm on August 21, 2016,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…

आपका अभिनन्दन है.

ग़ज़ल सीखने एवं जानकारी के लिए

 ग़ज़ल की कक्षा 

 ग़ज़ल की बातें 

 

भारतीय छंद विधान से सम्बंधित जानकारी  यहाँ उपलब्ध है

|

|

|

|

|

|

|

|

आप अपनी मौलिक व अप्रकाशित रचनाएँ यहाँ पोस्ट (क्लिक करें) कर सकते है.

और अधिक जानकारी के लिए कृपया नियम अवश्य देखें.

ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतुयहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

 

ओबीओ पर प्रतिमाह आयोजित होने वाले लाइव महोत्सवछंदोत्सवतरही मुशायरा व  लघुकथा गोष्ठी में आप सहभागिता निभाएंगे तो हमें ख़ुशी होगी. इस सन्देश को पढने के लिए आपका धन्यवाद.

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Mohammed Arif commented on Dr.Prachi Singh's blog post दो कुण्डलिया छंद
"आदरणीया प्राची जी आदाब, कुंडलियों का बेहतरीन प्रयास है । कहीं-कहीं पर यति का प्रयोग छूट गया है ।…"
10 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-83
"वाह आ. गिरिराज जी ,बहुत अच्छी ग़ज़ल कही आपने...बहुत बहुत बधाई सादर "
12 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-83
"वाह आ. बासुदेव जी,बहुत खूब ग़ज़ल कही आपने..बहुत बहुत बधाईयां सादर "
15 minutes ago
Mohammed Arif replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-83
"आदरणीय गिरिराज भंडारी जी आदाब, शे'र दर शे'र दाद के साथ मुबारकबाद क़ुबूल करें ।"
15 minutes ago
Mohammed Arif replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-83
"आदरणीय वासुदेव अग्रवाल जी आदाब,ग़ज़ल का प्रशंसनीय प्रयास है । शे'र दर शे'र दाद के साथ…"
17 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-83
"वाह वा..आ. तस्दीक़ अहमद साहब..अच्छी ग़ज़ल के   लिए बधाई सादर "
17 minutes ago
Mohammed Arif replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-83
"आदरणीय तस्दीक़ अहमद जी आदाब,बहुत बेहतरीन ग़ज़ल ।कुछ तो बहुत ही सामयिक बन पड़े हैं । शे'र दर…"
20 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-83
"वाह वा..आ. मजाज़ साहब ..अच्छी ग़ज़ल से से नवाज़ा है आपने मंच को ..बहुत खूब ,,बधाई "
23 minutes ago
Mohammed Arif replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-83
"आदरणीय मजाज़ सुल्तानपुरी जी आदाब,हर शे'र लाजवाब । एक शे'र पर्यावरणीय बन पड़ा है जो बहुत ही…"
24 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-83
"वाह वा.. आदरणीय शिज्जू भाई...कमाल के अशआर हुए हैं.....ग़ज़ल के लिए बधाई सादर "
27 minutes ago
Mohammed Arif replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-83
"आदरणीय शिज्जू शकूर जी आदाब, लाजवाब ग़ज़ल । शे'र दर शे'र दाद के साथ मुबारकबाद पेश करता हूँ…"
29 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-83
"आ. मोहम्मद रिज़वान साहब,अच्छा आग़ाज़ किया है आपने मुशाइरे का ..लगभग सभी शेर एक सी तरक़ीब में कहे गए…"
29 minutes ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service