For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गनेश जी "बागी")

Er. Ganesh Jee "Bagi"'s Comments

Comment Wall (233 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 10:04pm on September 24, 2014,
AMOM
savitamishra
said…

बहुत बहुत आभार .....आपका

At 10:39pm on August 10, 2014, Santlal Karun said…

आदरणीय गणेश जी 'बागी' जी,

ओबीओ द्वारा 'माँ, बहन, बेटी के आँसू' को महीने की सर्वश्रेष्ठ रचना घोषित किए जाने के प्रति सहृदय सद्भावनाएँ व्यक्त करता हूँ | उक्त ग़ज़ल ने आप और निर्णायकों के मन को गहराई तक छू लिया है, जानकर बड़ी खुशी हुई | मुझे इस मंच पर आने के लिए हमारे संगठन की शिक्षिका श्रीमती मंजरी पाण्डेय ने प्रेरित किया था | उसके पहले मैं ओबीओ से परिचित नहीं था | व्यस्तता के कारण लिखने-पढ़ने का कार्य अधिक नहीं हो पाता, किन्तु जितना कुछ व्यस्तता में भी दबाए नहीं दबता और हृदयतल से बाहर आ जाता है, उसे प्रकाश में लाने के लिए ओबीओ और उसके जैसे मंचों का आभार मानता हूँ | ओबीओ पर आए मुझे अधिक समय नहीं हुआ तथा इस मंच पर अधिक रचनाएँ भी न प्रकाशित कर पाया, फिर भी यह सम्मान प्रदान किया गया है, जिससे ओबीओ के प्रति मेरे हृदय में निष्ठा और आदर का भाव और भी बढ़ गया है | ... पुन: हृदयपूर्वक सद्भावनाएँ !

At 10:36pm on August 7, 2014, Dr. Vijai Shanker said…
आदरणीय प्रबंध कार्य कारिणी एवं इंजी o गणेश जी ' बागी' जी ,
बहुत बहुत धन्यवाद . मुझे यह नहीं मालूम कि महीने का सक्रिय सदस्य कुछ माने रखता है , मैं तो एक कोशिश करता हूँ , वह किसी भी रूप में अच्छी हो , लोगों को अच्छी लगे और क्या चाहिए . सक्रियता अर्थात उपस्थिति अच्छी मानी जाती है , अच्छा लगा .
पोस्टल एड्रेस दे रहा हूँ :
डॉ o विजय शंकर
१५-ए , वसुधा अपार्टमेंट ,
सेक्टर -६ , वसुंधरा , गाजिअबाद , यू . पी . -२०१०१२

सद्भावनाओं सहित
डॉ o विजय शंकर
At 9:04pm on June 15, 2014, mrs manjari pandey said…
आदरणीय बागी जी हौसला अफज़ाई के लिए बहुशः धन्यवाद।
At 10:39am on June 11, 2014, Meena Pathak said…

आदरणीय बागी जी, सादर नमस्कार !!

आप के द्वारा बहुत ही सुखद समाचार मिला .. बहुत खुशी हो रही है पढ़ कर ..अनुग्रहीत हुई मै..हृदयतल से आभार ....मै 'सक्रिय सदस्य' चुनी गई हूँ इसका पूरा श्रेय ओबीओ परिवार को जाता है जहाँ से मुझे बहुत कुछ सीखने को मिला और सभी वरिष्ठों ने पग-पग पर मेरा मार्गदर्शन किया इसके लिए मै सदैव आभारी रहूँगी .. शब्दों की कमी पड़ रही है ..पुन: आप का और पूरे ओबीओ प्रबंधन का हृदयतल से आभार |

सादर

At 6:30am on May 8, 2014, Vindu Babu said…
आदरणीय बागी सर:
सादर नमस्ते!
आपने बड़ी सुखद सूचना दी है...बहुत अनुग्रहीत हूं आदरणीय.
आपका हृदयातल से बारम्बार आभार.
मैं शीघ्र ही एडमिन जी को अपनी e mail id उपलब्ध करा दूंगी.
सादर...पुन: आपको बहुत धन्यवाद.
-विन्दु
At 2:47pm on May 5, 2014, ganesh lohani said…

जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं | यूँ ही मुस्कराते रहें 

At 5:09pm on March 2, 2014, मोहन बेगोवाल said…
jnm din mubark ke liya bhut bhut dhnyvaad
At 10:57am on February 2, 2014, Sarita Bhatia said…

आदरणीय गणेश जी ,

नमस्कार !

आज सुबह सुबह मेल पाकर एक सुखद अहसास हुआ | जिसके लिए मैं आपकी एवं पूरी प्रबंधन टीम की तह दिल से आभारी हूँ कि मैं आपके मानकों पर पूरी उतर पाई | विशेषकर श्रेष्ठ जनों की जिन्होंने पग पग पर मेरा मार्गदर्शन किया और मुझे इस योग्य बनाया कि मैं खुले मन से अपनी अभिव्यक्ति रचनाओं के रूप में आप सब तक पहुंचा सकी | पुनः सभी का हार्दिक आभार स्नेहशीष बनाये रखें |....सादर  

At 11:29am on January 5, 2014, अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव said…

आदरणीय गणेशजी बागी, 

ओबीओ से हर व्यक्ति को बहुत कुछ सीखने मिलता है। प्रकाशित रचनायें इतनी अच्छी होती हैं कि हर कोई इस मंच में यथा संभव  सक्रिय रहना चाहता है। इस बार   सक्रिय सदस्य के  योग्य मुझे समझा गया इसके लिए मैं ओबीओ की प्रबंधन टीम और सभी सदस्यों को नव वर्ष की शुभकामनाओं के साथ ही आप सब  के प्रति आभार व्यक्त करता हूँ ॥...सादर     

At 5:49am on December 9, 2013, vandana said…

बहुत बहुत आभार आदरणीय बागी जी माह की सर्वश्रेष्ठ रचना चुने जाने का  श्रेय पूरी तरह से obo परिवार को जाता है जहाँ से सीखने को मिल रहा है

परिवार का स्नेहाशीष सदैव बना रहे |

At 12:41pm on December 6, 2013, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

आदरणीय बागी जी 

अज्ञानता वश मैंने  माह का सक्रिय  सदस्य चुने जाने पर  अपना आभार  माय ब्लॉग में पोस्ट किया  फिर मेन  रूम में प्रकट किया पर सौरभ जी के मार्ग  दर्शन से पता  चला कि यह स्थान ही उपयुक्त था  i अतः मै  एक बार पुनः मा० एडमिन  के सभी सदस्यों आदरणीय योगराज प्रभाकर जी , सौरभ पाण्डेय जी , डा ० प्राची सिंह जी, राजेश कुमारी जी ,अरुण कुमार निगम  जी , राणा प्रताप सिंह जी , संदीप कुमार पटेलजी , हबीब जी ,विन्ध्येश्वरी  त्रिपाठी  विनय  जी, प्रिय बंधु  ब्रिजेश नीरज जी ओर अनंत शर्मा 'अनंत' जी तथा आदरणीय आपका  आभारी एवं  कृतज्ञ  हूँ i  आपन सभी ने अपने अपने नजरिये से सदैव मेंरा मार्ग दर्शन किया है  और आगे भी करेंगे इसका विश्वास  है i  मेरे  ओ बी ओ मित्र  भी सदैव मेरी प्रेरणा के उत्स रहे है , मै उनके प्रति भी  अपना आभार  प्रकट करता हूँ i  इसके साथ ही ओ बी ओ परिवार के सभी सदस्यो  को भी मेरा सादर अभिनन्दन है i जिन सदस्यों  ने अपनी व्यक्तिगत  बधाई दी है ,उनका भी मैं  आभारी हूँ i आदरणीय शारदेंदु  जी , निकोरे जी व्   मित्र गिरिराज भंडारी जी इन सबसे भी  बहुत स्नेह मिला है  i यह पुरस्कार आप सब के स्नेह और दुलार का मूर्त्त स्वरुप है  i  अंत में  मै बागी जी का पुनः अभिनन्दन करता हूँ जिन्होंने यह सूचना मुझ तक पहुचने की जहमत उठाई i सादर i

At 6:09pm on December 5, 2013, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

आदरणीय  बागी जी

आपकी कृपा का आभारी हूँ  i

आपने और मा ० एडमिन मान दिया i

मै शब्दहीन -------- शत शत  आभार i

At 8:50am on November 8, 2013,
सदस्य कार्यकारिणी
sharadindu mukerji
said…

आदरणीय बागी जी,

मैं अभिभूत हूँ और ओ.बी.ओ. को नमन करता हूँ कि मेरी रचना को यह मान दिया गया. आप सबका स्नेह मेरे रचनाकर्म का पाथेय है. हार्दिक आभार.

शरदिंदु

At 9:26pm on November 7, 2013, shailendrakumar sharma said…

बंधुवर आपके द्वारा किए जा रहे रचनात्मक प्रयास अत्यंत सार्थक हैं । स्वस्तिकामनाएँ .... 

At 12:10am on October 6, 2013, D.K.Nagaich 'Roshan' said…

आदरणीय गणेश जी 'बागी' साहिब ... ये आपकी हुस्न-ए-नज़र और ज़र्रा नवाज़ी है, आपने ख़ाकसार को इस लायक समझा..आपका बहुत बहुत दिली शुक्रिया... मैं, ओ बी ओ और ओ बी ओ की चयन समिति परिवार का तहे दिल से शुक्रगुज़ार हूँ कि मेरी कोशिश को उन्होंने सराहा और इस खूबसूरत अंदाज़ में मेरी हौसला अफज़ाई की.. एक बार फिर , बहुत बहुत दिली शुक्रिया...

मैं, सारी वांछित जानकारियाँ अभी इ-मेल कर देता हूँ...

At 12:31am on September 25, 2013, Dipak Mashal said…

Shukriya Baagi bhaai :)

At 9:55pm on September 23, 2013, SANDEEP KUMAR PATEL said…

आदरणीय गणेश सर जी आपका ह्रदय से धन्यवाद स्नेह और आशीष बनाये रखिये सादर

At 8:55pm on September 15, 2013, ARVIND BHATNAGAR said…

aisa privacy settings  na samajh pane ke karan hua hai. jise ub thik kr diya hai.comment ko approve kar diya hai.....asuvidha ke liye khed hai.....

At 8:39pm on September 5, 2013, mrs manjari pandey said…

     

      आदरणीय गणेश बागी जी ,आपलोगों की हौसला-अफ़्ज़ाई का ही नतीज़ा है

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-"OBO" मुफ्त विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Neeraj Kumar 'Neer' commented on MAHIMA SHREE's blog post पटियाला से उना- हरियाली और रास्ता (दिलवाले दुल्हनियां ले जायेंगे – यात्रावृतांत-२ )
"बहुत  ही सुंदर यात्रा वृतांत प्रस्तुत किया , ऐसा प्रतीत हुआ मानो हम स्वयं वहाँ उस यात्रा मे…"
1 hour ago
MAHIMA SHREE posted a blog post

पटियाला से उना- हरियाली और रास्ता (दिलवाले दुल्हनियां ले जायेंगे – यात्रावृतांत-२ )

संगीत संध्या में धमाल करते-करते और रात्री-भोजन के  सुस्वादु व्यंजनों के दौरान भी एक दूसरे की जम कर…See More
2 hours ago
MAHIMA SHREE commented on MAHIMA SHREE's blog post पटियाला-शांत शहर और दिलवाले लोग (यात्रा वृतांत)
"आदरणीया राजेश दी नमस्कार , मैं कैमरा ले के गयी थी पर समारोह की मस्ती और उत्साह में ध्यान ही नहीं…"
3 hours ago
MAHIMA SHREE commented on MAHIMA SHREE's blog post पटियाला-शांत शहर और दिलवाले लोग (यात्रा वृतांत)
"// आय ! अईसन ! तब हम कह देब महिमा से कि कुल्हि लिखिह बाकि ई मत लिखिहा कि हमनी के नवरातो में चिकेन…"
4 hours ago
seemahari sharma added a discussion to the group बाल साहित्य
Thumbnail

'बंद करो सब शोर'.....बाल गीत

'बंद करो सब शोर'चंदा संग है चाँदनीजगमग चारो औरमुन्ना प्यारा सोएगाबंद करो सब शोर।निंदियाँ रानी…See More
4 hours ago
MAHIMA SHREE commented on MAHIMA SHREE's blog post पटियाला-शांत शहर और दिलवाले लोग (यात्रा वृतांत)
"// खूब मालूम है, छुटकी, ’अपने-अपने से’ कई  अलोते-पल दिठार होने वाले हैं ! तुम्हारी…"
4 hours ago
MAHIMA SHREE commented on MAHIMA SHREE's blog post पटियाला-शांत शहर और दिलवाले लोग (यात्रा वृतांत)
"आ. जीतेन्द्र जी .आपकी खुबसूरत टिप्पणी पाकर मन प्रसन्न हो गया और भान हो रहा है  कि आप सबको मंगल…"
4 hours ago
MAHIMA SHREE commented on MAHIMA SHREE's blog post पटियाला-शांत शहर और दिलवाले लोग (यात्रा वृतांत)
"आपका हार्दिक आभार शिज्जू जी | पटियाला की झलकियाँ आपको दे सकी मेरा सौभाग्य है .."
4 hours ago
Shashi Kant commented on Admin's group ग़ज़ल की कक्षा
"मैं शशि कांत इस कक्षा के सभी लोगो को प्रणाम करता हूँ। आप सभी लोगो को शायरी की दुनिया का तजुर्बा हे,…"
9 hours ago
वेदिका commented on MAHIMA SHREE's blog post पटियाला-शांत शहर और दिलवाले लोग (यात्रा वृतांत)
"ओह! मुझे परांदा ले के आयीं थी तीन नन्हीं नन्हीं बच्चियाँ... बांध ही नही पायी। लेकिन पंजाबी सोनी…"
10 hours ago
Dr. Vijai Shanker commented on Dr. Vijai Shanker's blog post बड़ी क्षणिकायें -1--एक प्रयोग - डा० विजय शंकर
"आदरणीय रमेश कुमार चौहान जी, प्रसंशा और  बधाई के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।  "
13 hours ago
Dr. Vijai Shanker commented on अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव's blog post भारत की कुण्डली में तीन अमंगल ग्रह ( आल्हा छंद ) अखिलेश कृष्ण श्रीवास्तव
""आजादी से बाद आज तक, हम धोखे पर धोखा खाय। अब भी अगर सम्भल न पाए, फिर तो बस भगवान बचाय।।…"
14 hours ago

© 2014   Created by Admin.

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service