For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

योगराज प्रभाकर's Comments

Comment Wall (85 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 11:59am on February 17, 2014, Santlal Karun said…

आदरणीय प्रभाकर जी, 

मैंने वांछित व्याकरणिक सुधार देख लिया है, हार्दिक आभार !

At 8:21am on February 17, 2014, Santlal Karun said…

आदरणीय योगराज प्रभाकर जी,

                'सामाजिक सरोकार' के अंतर्गत पोस्ट मेरे आलेख 'लैंगिक-यौनिक विकलांगता : राज्य और समाज का कर्तव्य' में एक वाक्य अंत में परिवर्तन के समय अशुद्ध चला गया है | अतएव निवेदन है कि लेख के दूसरे अनुच्छेद में  "इस मुद्दे पर संसद के रहनुमाई का आख़िरी चौखट अब और प्रभावशाली हो गया  है |" की जगह "इस मुद्दे पर संसद की रहनुमाई की आख़िरी चौखट अब और प्रभावशाली हो गई है |" कर देने की कृपा करें |

                अनुगृहीत होऊँगा |

                                                                              संतलाल करुण 

At 10:22am on January 21, 2014, vijay nikore said…

परम आदरणीय योगराज जी,

 

अभी कुछ दिन हुए आपने अपना मूल्यवान समय मेरी रचनाओं को दिया, और १ नहीं, २ नहीं, मेरी २२ रचनाएँ पढ़ीं और उन पर प्रतिक्रिया भी दी.... इस प्रकार आपने मुझको जो विशेष स्थान दिया है, और मान दिया है, मैं उसके लिए हृदयतल से आभारी हूँ। यह आपका ओ बी ओ सदस्यों के प्रति स्नेह अनूठा है, अत: इस स्नेह को नमन और आपको नमन।

 

आशा है, आपका स्नेह ऐसे ही मिलता रहेगा, और मेरी ओर से प्रयास में कमी नहीं होगी।

 

सादर और सस्नेह,

विजय निकोर

At 6:28pm on January 13, 2014,
सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी
said…

आदरणीय योगराज भाई , मित्रता स्वीकार करने के लिये आपका बहुत शुक्रिया ॥

At 8:26pm on November 18, 2013, MAHIMA SHREE said…

परम आदरणीय योगराज सर .. आपको जन्म दिवस की ढेरो बधाई ..... और शुभकामनाएं

"जीवेद् शरद: शतम्"...... यही मंगलकामना है ....

At 9:45am on November 18, 2013, बृजेश नीरज said…

आपको जन्म दिन की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें!

आप जियो हजारों साल, साल के दिन हों पचास हज़ार!

At 1:19am on November 18, 2013, जितेन्द्र पस्टारिया said…

आदरणीय योगराज जी, जन्मदिन की आपको हृदय से शुभकामनाये..

सादर!

At 1:11am on November 18, 2013,
सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey
said…

आदरणीय योगराजभाईसाहब, आजके दिन की सत्विकता को आप इसी तरह जीयें जैसे उसे अबतक जीते रहे हैं... जन्मदिन की अनेकानेक शुभकामनाएँ

शुभम्

--सौरभ

At 9:51am on November 12, 2013, डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव said…

आदरणीय प्रभाकर जी

इनबॉक्स में आपका सन्देश मिला,  आभारी हूँ

मैं अभी नया सदस्य बना हूँ  तौर तरीके सीख रहा हूँ  त्रुटिया  हो जाती हैं  बिलम्ब हो जाता है  पर फिर  भी हम एक परिवार हैं  मैं सदैव  मौलिक एवं अप्रकाशित ही भेजता हूँ  कभी अंकित करने में भूल हो सकती  है  जैसे हृदयाग्नि  शीर्षक कविता के साथ हुआ  मैंने संशोधन पोस्ट  किया था शायद मिला हो

आपसे ऐसे ही स्नेह और मार्ग दर्शन  की  कामना करता हूँ I  आपको और आपकी लेखनी को शत शत प्रणाम I

At 1:15am on October 19, 2013, Pankaj Mishra said…

आदरणीय योगराज सर,,,आपका बहुत बहुत धन्यवाद् मार्गदर्शन के लिये. ...
आशा है इश बाल कवि को भी एक मंच मिलेगा ..

At 5:27pm on October 7, 2013, विजय मिश्र said…

योगराज जी , अनेक शुभाकांक्षाएं और शुभाशंसायें !

सन्दर्भ को निचोड़ कर अगर इस सम्मानित इ-पत्रिका तक ले आऊँ तो निश्चित रूप से आपका यह आमन्त्रण मेरे लिए धन्य होने की बात है . कृतज्ञता से अभिभूत हूँ . नवरात्र की हर्दिक शुभकामनाएँ और माँ भगवती से सबों के कल्याण की कामना भी .

At 9:40am on December 31, 2012, कुमार गौरव अजीतेन्दु said…

आदरणीय योगराज सर, आपको सपरिवार नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ......

At 10:33pm on December 3, 2012,
सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey
said…

आपकी हार्दिक शुभकामनाएँ मेरे सिर-माथे, आदरणीय योगराजभाईजी.

At 3:22pm on November 18, 2012,
सदस्य टीम प्रबंधन
Dr.Prachi Singh
said…

जन्मदिवस की सादर हार्दिक शुभकामनाएं आदरणीय योगराज प्रभाकर जी.

At 1:52pm on November 18, 2012, लक्ष्मण रामानुज लडीवाला said…
इ-पत्रिका का मान बढे, योगराज सरताज
प्रभाकर  गुरु बने बढे, मिला प्यार का हाथ                
साठ पार फिर भी मिला, यह भी सुन्दर योग
प्रभु उनको शतायु करे, रहे हर वक्त निरोग ।
सपरिवार जन्म दिन की हार्दिक शुम्ब कामनाए -लक्ष्मण लडीवाला     
At 10:53am on November 18, 2012,
सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey
said…

स्वस्त्यस्तु ते कुशलमस्तु चिरायुरस्तु
विद्या विवेक कृतिकौशल सिद्धिरस्तु
ऐश्वर्यम्स्तु बलमस्तु राष्ट्रभक्तिः सदाऽस्तु
वंशः सदैव भवता हि सुदीप्तोऽस्तु ॥

आदरणीय योगराजभाईजी, आपको जन्मदिन की सादर बधाइयाँ व हार्दिक शुभकामनाएँ !!!

At 10:38am on November 18, 2012,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

जन्म दिन की हार्दिक बधाई स्वीकार करें आदरणीय गुरुदेव, ईश्वर से प्रार्थना है कि आपको स्वस्थ और लम्बी उम्र प्रदान करें ताकि आपका आशीर्वाद आजीवन मिलता रहे |

At 9:33am on October 2, 2012, कुमार गौरव अजीतेन्दु said…
आदरणीय योगराज सर...आपने जो सम्मान दिया उसके लिए आपका और पूरे ओबीओ परिवार का बहुत-बहुत धन्यवाद...
At 10:42pm on August 29, 2012, सूबे सिंह सुजान said…

sir, bhut khoob

At 11:49am on June 4, 2012, UMASHANKER MISHRA said…

योगिराज जी आज आपकी रचना से रूबरू होने का सौभाग्य मिला

लघु कथा में सच का सामना समाया हुवा है उत्तम कोटि का व्यंग है

हिंदी के प्रति आपकी आत्मीयता के सामने हम नतमस्तक हैं आभार आपका

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की- जिन की ख़ातिर हम हुए मिस्मार; पागल हो गये
"आ. भाई नीलेश जी, सादर अभिवादन । अत्यधिक ध्यानाकर्षक व मनभावन गजल हुई है । कई बार पढ़ चुका पर मन भरा…"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post ज़हर पी के मैं तेरे हाथ से मर जाऊँगा (रूपम कुमार 'मीत')
"आ. भाई रूपम जी, अभिवादन। अच्छी गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on सालिक गणवीर's blog post नहीं दो चार लगता है बहुत सारे बनाएगा.( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आ. भाई सालिक गणवीर जी, सादर अभिवादन। उम्दा गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसको भाया भीड़ का होकर खो जाना -लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई रूपम जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति व मनभावन प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार ।"
2 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसको भाया भीड़ का होकर खो जाना -लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई सालिक गणवीर जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति व सराहना के लिए आभार ।"
2 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसको भाया भीड़ का होकर खो जाना -लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई अमीरुद्ददीन जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति व सराहना के लिए आभार ।"
2 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसको भाया भीड़ का होकर खो जाना -लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई समर जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति व सराहना के लिए आभार । अंंतिम शेर को आपके…"
2 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसको भाया भीड़ का होकर खो जाना -लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई नीलेश जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति व सराहना के लिए आभार । अंंतिम शेर को आपके…"
2 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसको भाया भीड़ का होकर खो जाना -लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. लक्ष्मण जी,ग़ज़ल के प्रयास के लिए बधाई, बह्र-ए-मीर पर ख़ूब शे'र कहे आपने वाह!!"
6 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post जब-जब ख़्वाब सुनहरे देखे - ग़ज़ल
"आदरणीय बसंत कुमार शर्मा जी आदाब, बहतरीन ग़ज़ल हुई है दाद के साथ मुबारकबाद पेश करता हूँ, सादर।"
6 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (न यूँ दर-दर भटकते हम...)
"आ, अमीरुद्दीन साहिब जी, आदाब अच्छी ग़ज़ल हुई वाह!! चौथा शे'र ख़ूब पसंद आया,  "न जाने…"
6 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on सालिक गणवीर's blog post नहीं दो चार लगता है बहुत सारे बनाएगा.( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आ, सालिक सर्, प्रणाम बहुत ख़ूब ग़ज़ल हुई है, और दूसरा शे'र क्या ही कहने वाह!! फ़लक पर वो नये…"
7 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service