For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Ram Ashery
Share

Ram Ashery's Friends

  • सतविन्द्र कुमार
  • Er. Ganesh Jee "Bagi"
 

Ram Ashery's Page

Latest Activity

KALPANA BHATT commented on Ram Ashery's blog post (माँ रमा बाई
"माँ को नमन | "
Jun 3
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव commented on Ram Ashery's blog post (माँ रमा बाई
"माँ के लिये ह्रदय से निकले हर शब्द फूल हैं . भाव और शिल्प की चर्चा इस रचना में उचित नहीं प्रतीत होती  ."
Jun 1
Ram Ashery commented on दिनेश कुमार's blog post ग़ज़ल -- भले मैं कभी मुस्कुराया नहीं ( दिनेश कुमार )
"अति सुंदर अभिव्यक्ति है आपको हृदय से बधाई स्वीकार हो "
May 28
Ram Ashery posted a blog post

(माँ रमा बाई

(माँ रमा बाई को यह कविता समर्पित )माँ रमा बाई जी को कोटि कोटि वंदनआओ हम सब करें फूलों से अभिनंदनवक्त की पुकार समर्पित कर दो तन मनज्ञान की ज्योति से प्रकाशित करो वतनअब समाज में समता लाकर रहेगें हमनफरत सभी के दिलों से निकाल देगें हमउनके अधूरे काम को अब पूरा करेगें हमअज्ञान को संसार से मिटा कर रहेगें हमजीवन के हर क्षण में याद रहे यह प्रणटूटे दिलों को जोड़ एक माला बनाएँ हमखुशियाँ सभी के राह में सदा बिछाएँ हमदेश के विकास को सही अंजाम देगें हममाँ रमा बाई जी को कोटि कोटि वंदनआओ हम सब करें फूलों से…See More
May 28
Ram Ashery commented on Mohit mishra (mukt)'s blog post क्या कभी अरमानो को ,सीने में कुचला है आपने (कविता):-मोहित मुक्त
"सहृदय आभार आपने अपने मन की व्यथा को बहुत ही अच्छे से व्यक्त किया है आपको बहुत बहुत बधाई स्वीकार हो "
Mar 23
Ram Ashery commented on Mahendra Kumar's blog post मेरे प्यारे-प्यारे वैज्ञानिकों
" ati sunder "
Mar 22
Ram Ashery commented on Gurpreet Singh's blog post तरही ग़ज़ल (212-212-212-212)
"manneey gupreet ji ati sunder abhivykt kiya apne apko tahedil badhai "
Mar 22
Ram Ashery commented on rajesh kumari's blog post दुर्मिल सवैया ‘फाग बयार’
"फाग से सरोबोर रचना के लिए आपको बधाई स्वीकार हो "
Mar 9
Ram Ashery commented on Ram Ashery's blog post मधुमक्खी
"श्री मान भण्डारी जी आपको हृदय से आभार आपका सुझाव मैं ध्यान में रखूँगा "
Feb 24
Ram Ashery commented on Ram Ashery's blog post मधुमक्खी
"श्री मान भण्डारी जी आपको हृदय से आभार आपका सुझाव मैं ध्यान में रखूँगा "
Feb 24
Ram Ashery commented on सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप''s blog post मैं भी गलती करता हूँ (तरही गजल)
"बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति है जीवन में रस घोलती आपकी यह रचना समाज में चेतना का संचार करती है आपको बहुत बहुत बधाई स्वीकार हो "
Feb 21
Ram Ashery commented on Ram Ashery's blog post शिक्षा के पंख
"आपको सहृदय आभार स्वीकार हो अपने मेरी रचना को पढ़ा और अपने अमूल्य विचार दिये मैं आपका शुक्र गुजार हूँ "
Feb 21
लक्ष्मण रामानुज लडीवाला commented on Ram Ashery's blog post शिक्षा के पंख
"शिक्षा के महत्व को दर्शाती रचना के लिए बधाई "
Feb 21
Ram Ashery commented on Samar kabeer's blog post तरही ग़ज़ल
"कबीर साहब आप ने अपने विचारों की अभिव्यक्ति अति सुंदर ढंग से प्रस्तुत किया है आप को बहुत बहुत बधाई स्वीकार हो "
Feb 19
Ram Ashery commented on Ram Ashery's blog post शिक्षा के पंख
"आपको सहृदय आभार व्यक्त करता हूँ अपने मेरे विचारों को अपना अमूल्य समय देकर पढ़ा और मेरा उत्साह वर्धन के लिए एक बार फिर से बधाई स्वीकार हो "
Feb 19
Dr Ashutosh Mishra commented on Ram Ashery's blog post शिक्षा के पंख
"आदरणीय राम आश्रय जी इस सकारात्मक सोच प्रधान रचना लिए हार्दिक बधाई सादर"
Feb 19

Profile Information

Gender
Male
City State
surat
Native Place
Allahabad
Profession
service
About me
i am working in the institution as a teacher

क्यारी देखी फूल बिन ,माली हुआ उदास ।

कह दी मन की बात सब, जा पेड़ों के पास ॥

हिन्दी को समृद्धि करन हित, मन में जागी आस ।

गाँव गली हर शहर तक ,करना अथक प्रयास ॥

कदम बढ़ाओ सड़क पर ,मन में रख कर विश्वाश ।

मिली सफलता एक दिन ,सबकी पूरी आश ॥

सूरज चमके अम्बर में , करे तिमिर का नाश ।

अज्ञानता का भय मिटे, फैले जगत प्रकाश ॥

चंदा दमकी आसमान  ,गई जगत में छाय ।

हिन्दी पहुंची जन जन में, तब बाधा मिट जाय ॥

हिन्दी हमारी ताज अब, सबको रख कर पास ।

फूटा भांडा ढोंग का ,हुआ तिमिर का नाश ॥

घनी अंधेरी राह में जब राह न दिखती होय ।

हिन्दी साथ में तब चली, राह सुगम तब होय ॥

जब हिन्दी में बात करें, तो गर्व का अनुभव होय ।

गाँव शहर परदेश में , माथा नीच न होय ॥

पूरब पश्चिम उत्तर दक्षिण, चहुं दिश हिन्दी आज ।

जाति धर्म के बंधन मिटे, आयी समता आज ॥  

दूध और पानी की तरह ,मिल गए सभी समाज  ॥

पर्वत सोहे न भाल बिन, नदी बहे बिन नीर ।

देश न सोहे हिन्दी बिन , जीवन रहित शरीर ॥

ध्वज फहराए विश्व में, नभ तक जाए छाय ।

ममता जागे हृदय में , हिन्दी सभी अपनाय ॥

 मौलिक एवं प्रकाशित 

 

      

Ram Ashery's Photos

Loading…
  • Add Photos
  • View All

Ram Ashery's Blog

(माँ रमा बाई

(माँ रमा बाई को यह कविता समर्पित )

माँ रमा बाई जी को कोटि कोटि वंदन

आओ हम सब करें फूलों से अभिनंदन

वक्त की पुकार समर्पित कर दो तन मन

ज्ञान की ज्योति से प्रकाशित करो वतन

अब समाज में समता लाकर रहेगें हम

नफरत सभी के दिलों से निकाल देगें हम

उनके अधूरे काम को अब पूरा करेगें हम

अज्ञान को संसार से मिटा कर रहेगें हम

जीवन के हर क्षण में याद रहे यह प्रण

टूटे दिलों को जोड़ एक माला बनाएँ हम

खुशियाँ सभी के राह में सदा बिछाएँ…

Continue

Posted on May 27, 2017 at 3:00pm — 2 Comments

शिक्षा के पंख

शिक्षा के पंख लगे जब मानव तन में

रंक बने राजा हमारे देश के शासन में

झूमता हृदय सबका खुशी से उमंग में

संभव है सब कुछ आज इस जगत में

धरती को नापे डाले मात्र एक क्षण में

सागर को कैद करले अपनी मुट्ठी में

हिमालय जीत का स्वप्न रखे मन में

अपने यश की पताका गाड़दे अंबर में

भ्रम सारे टूट जाएँ जो फैले समाज में

नफरत मिट जाएँ आपसी व्यवहार में

विकास की नदी बहा दे अपने देश में

समता की फसल खूब लहरे समाज में

आज ममता, भाईचारा दिखे समाज…

Continue

Posted on February 17, 2017 at 2:30pm — 6 Comments

आज के पुजारी बन बैठे भगवान ।

दुनिया में है अपना देश महान

आज के पुजारी बन बैठे भगवान ।

करुणा, दया,और धर्म से वंचित

मानवता को करते ये लज्जित

प्रभु के ऊपर खुद होते सुशोभित

कहते जग में हम सबसे विद्वान  

आज के पुजारी बन बैठे भगवान ॥

शील समाधि प्रज्ञा सबसे वंचित

सभी को पता है इनकी हकीकत

अज्ञानता से चलती है सियासत

वेद ज्ञान से विमुख ये पुरोहित

देश में चहुं दिश फैला अज्ञान

आज के पुजारी बन बैठे भगवान ॥

देव दासी प्रथा खूब थी…

Continue

Posted on February 4, 2017 at 5:30pm — 5 Comments

मधुमक्खी

फूलों को प्यार से सुनाती है प्रेम धुन

उन्हीं पर लुटाती अपना सर्वस्य जीवन

बदले में फूलों को देती है नया जीवन

निभाते हैं रिश्ता ये दोनों सारा जीवन ॥

जो फूल हमारे जीवन लाते हैं खुशियाँ

मिटा देते गम भर देते हैं सारी खुशियाँ

भौरें और तितलियाँ बजाती हैं तालियाँ

बदले में जीवन भर करते हैं रंगरेलियाँ ॥

हम इंसानों को नहीं है जरा भी शरम

हम इन फूलों के प्रति कितने बेरहम

फूल तो क्या !कलियों पर नहीं रहम

कहीं भगवान के नाम पर करते…

Continue

Posted on January 20, 2017 at 9:00pm — 6 Comments

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 10:27pm on January 17, 2015,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

आदरणीय रामाश्रय जी, महोत्सव में आप अपनी रचना मुख्य पृष्ठ पर महोत्सव बैनर को क्लीक कर पोस्ट कर सकते हैं . 

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Naveen Mani Tripathi posted blog posts
5 minutes ago
Sushil Sarna posted a blog post

लौट आओ ....

लौट आओ .... बहुत सोता था थक कर तेरे कांधों पर मगर जब से तू सोयी है मैं आज तक बंद आँखों में भी चैन…See More
5 minutes ago
Niraj Kumar commented on rajesh kumari's blog post हैं वफ़ा के निशान समझो ना (प्रेम को समर्पित एक ग़ज़ल "राज')
"जनाब समर कबीर साहब, आदाब, 'रोजे का दरवाजा' क्या होता है मै इससे वाकिफ नहीं हूँ. स्पष्ट कर…"
8 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on Mohammed Arif's blog post लघुकथा--इशारा
"मुहतरम जनाब आरिफ़ साहिब आदाब ,अच्छी लघुकथा हुई है ,मुबारकबाद क़ुबूल फरमाएं"
8 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on MUZAFFAR IQBAL SIDDIQUI's blog post " फर्ज " ( लघु कथा )
"जनाब मुज़फ्फर साहिब ,अच्छी लघुकथा हुई है ,मुबारकबाद क़ुबूल फरमायें"
10 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on Naveen Mani Tripathi's blog post नए चेहरों की कुछ दरकार है क्या
"जनाब नवीन साहिब ,अच्छी ग़ज़ल हुई है ,मुबारकबाद क़ुबूल फरमाएं।"
12 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on rajesh kumari's blog post हैं वफ़ा के निशान समझो ना (प्रेम को समर्पित एक ग़ज़ल "राज')
"मुहतर्मा राजेश कुमारी साहिबा ,अच्छी ग़ज़ल हुई है ,मुबारकबाद क़ुबूल फरमाएं । शेर 4 का उला मिसरे की बह्र…"
17 minutes ago
Sushil Sarna commented on Dr.Prachi Singh's blog post चलो अब अलविदा कह दें......
"न मैं अब राह देखूँगी, न अब मुझको पुकारो तुम न अब उम्मीद होगी ये कि फिर मुझको सँवारो तुममुझे हर बार…"
24 minutes ago
Ajay Kumar Sharma commented on Dr.Prachi Singh's blog post चलो अब अलविदा कह दें......
"सुन्दर रचना.. बधाई हो."
28 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on Dr.Prachi Singh's blog post चलो अब अलविदा कह दें......
"मुहतर्मा प्राची साहिबा ,बहुत ही सुन्दर रचना हुई है ,मुबारकबाद क़ुबूल फरमाएं"
40 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on vijay nikore's blog post दरगाह
"मुहतरम जनाब विजय निकोरे साहिब ,बहुत ही सुन्दर रचना हुई है ,मुबारकबाद क़ुबूल फरमाएं"
42 minutes ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' posted a blog post

ग़ज़ल...वही बारिश वही बूँदें वही सावन सुहाना है-बृजेश कुमार 'ब्रज'

१२२२   १२२२ ​   १२२२    १२२२​वही बारिश वही बूँदें वही सावन सुहाना हैतेरी यादों का मौसम है लवों पे…See More
43 minutes ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service