For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गनेश जी "बागी")


मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
  • 38, Male
  • Ballia,U.P & Patna,Bihar
  • India
Share Twitter

Er. Ganesh Jee "Bagi"'s Friends

  • Chhaya Shukla
  • seemahari sharma
  • harivallabh sharma
  • sanjeev sharma
  • Amit Kumar "Amit"
  • Mukesh Verma "Chiragh"
  • अनिल कुमार 'अलीन'
  • Malendra Kumar
  • atul kushwah
  • bagesh kumar singh
  • savitamishra
  • Pankaj Mishra
  • Ajay Thakur
  • Santlal Karun
  • Alka Gupta
 

Er. Ganesh Jee "Bagi"'s Apps

Er. Ganesh Jee "Bagi" hasn't added any Apps yet.

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-"OBO" मुफ्त विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Sushil Sarna replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 52
"आदरणीय तिलक राज कपूर जी ऐसी ग़ज़ल जिसमें कहीं ख़ुशी में लिपटी गम की नमी हो , कहीं मौसम की बातें हों ,…"
1 minute ago
vandana commented on Alok Mittal's blog post दिये (लघुकथा)
"बहुत सुन्दर सन्देश आदरणीय बेहतरीन "
2 minutes ago
vandana replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 52
"सुन्दर भाव आदरणीय "
4 minutes ago
Sushil Sarna replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 52
"पटाखों संग फुलझरियाँ सुहाती हैं दिवाली मेंनुमाइश की चमक रंगीं बनाती हैं दिवाली में वाआआआआआआआआअह…"
17 minutes ago
dilbag virk replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 52
"कहीं जलते हुए दीपक कहीं ठंडा पड़ा चुल्‍हाबता दो तुम गरीबी क्‍यों न जाती हैं दिवाली में…"
47 minutes ago
dilbag virk replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 52
"सुंदर "
49 minutes ago
dilbag virk replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 52
"घरों में जलते हैं दीपक मुहब्बत के हज़ारों और ज़माने भर की खुशियाँ मुस्कुराती हैं दिवाली…"
52 minutes ago
Mahima Mittal is now a member of Open Books Online
55 minutes ago
Alok Mittal commented on Alok Mittal's blog post दिये (लघुकथा)
"आदरणीय जीतेन्द्र जी...आपका दिल से आभार ..मेरा हौसला बढाने के लिए .. "
55 minutes ago
Alok Mittal commented on Alok Mittal's blog post दिये (लघुकथा)
"आदरणीय rajesh kumari जी ....मेरा हौसला बढाने के लिए आपका हृदय ताल से बहुत आभार ..."
58 minutes ago
Alok Mittal commented on Alok Mittal's blog post दिये (लघुकथा)
"आदरणीय somesh kumar जी .....आपके स्नेह का आभार"
59 minutes ago
dilbag virk replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक - 52
"हुआ अरसा कभी देखा नहीं उसने मुझे छूकरसुना है मां की ऑंखें डबडबाती हैं दिवाली में।..............कडवा…"
1 hour ago

© 2014   Created by Admin.

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service