For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गनेश जी "बागी")

Er. Ganesh Jee "Bagi"'s Albums (14)

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-"OBO" मुफ्त विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity


सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on rajesh kumari's blog post चुभेंगी अगर तुमको बातें मेरी (ग़ज़ल 'राज')
"तुम्हें नींद आती नहीं है अगर कहाँ फिर कटेंगी ये रातें मेरी .. . इस शेर के आलोक में मैं आपकी इस ग़ज़ल…"
43 minutes ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव's blog post शाश्वत कोलाज
"सादर आभार आदरणीय गोपाल नारायनजी. "
51 minutes ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari commented on DR. HIRDESH CHAUDHARY's blog post सावन के झूलों ने मुझको बुलाया
"डॉ ह्रदेश चौधरी जी ,क्या सजीव चित्र खींचा है आपने सावन का अपने भी बचपन के दिन याद आ गए ,कितना…"
1 hour ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari commented on rajesh kumari's blog post चुभेंगी अगर तुमको बातें मेरी (ग़ज़ल 'राज')
"आ० डॉ गोपाल नारायण जी ,ग़ज़ल की नब्ज आपने पकड़ी है ,आपकी पारखी नज़र को सलाम/ नमन सच कहा इस ग़ज़ल में एक…"
1 hour ago
DR. HIRDESH CHAUDHARY posted a blog post

सावन के झूलों ने मुझको बुलाया

सावन के झूलों ने मुझको बुलायाडॉ० ह्रदेश चौधरीमदमस्त चलती हवाएँ, और कार में एफएम पर मल्हार सुनकर पास…See More
1 hour ago
Dr. Vijai Shanker posted a blog post

वह राज तंत्र था --डा० विजय शंकर

वह एक राजतंत्र थाएक द्रौपदी थी , एक ही ,वह भी थी उसी कुल की .पिता तुल्य राजा था वह ,सचमुच पूरा अंधा…See More
1 hour ago
mukesh jagmalpuriya is now a member of Open Books Online
1 hour ago

सदस्य कार्यकारिणी
rajesh kumari commented on rajesh kumari's blog post चुभेंगी अगर तुमको बातें मेरी (ग़ज़ल 'राज')
"जितेन्द्र गीत भैय्या ,आपको ग़ज़ल पसंद आई उसके अन्दर के दर्द को आप महसूस कर सके मानो मेरी ग़ज़ल सार्थक…"
1 hour ago
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव commented on rajesh kumari's blog post चुभेंगी अगर तुमको बातें मेरी (ग़ज़ल 'राज')
"महनीया यह तो माँ के दिल  की आवाज  लगती है  i बेहद भावपूर्ण i बेटे को नसीहत भी देती…"
2 hours ago
जितेन्द्र 'गीत' commented on rajesh kumari's blog post चुभेंगी अगर तुमको बातें मेरी (ग़ज़ल 'राज')
"बहुत खुबसूरत गजल,आदरणीया राजेश दीदी. दिल में उठती पीर को बहुत खूबसूरत और धीमे-धीमे स्वर  से…"
2 hours ago
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव commented on डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव's blog post शाश्वत कोलाज
"आदरणीय सौरभ जी आपसे प्रोत्साहन मिलना एक उपलब्धि लगती है  i  लगता है जैसे पूर्णांक मिल गया…"
2 hours ago

AMOM
laxman dhami commented on laxman dhami's blog post किस्मतें कब हैं जगी -गजल
"आ० भाई सौरभ जी मार्गदर्शन के लिए हार्दिक आभार l"
2 hours ago

© 2014   Created by Admin.

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service