For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

arunendra mishra
  • Male
  • MH
  • India
Share

Arunendra mishra's Friends

  • samsher singh "beniyaaz"
  • वेदिका
  • Neelkamal Vaishnaw
  • Albela Khatri
  • Sarita Sinha
  • SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR
  • राकेश त्रिपाठी 'बस्तीवी'
  • CA. SHAILENDRA SINGH 'MRIDU'
  • डॉ. नमन दत्त
  • Rohit Dubey "योद्धा "
  • वीनस केसरी
  • Abhinav Arun
  • DEEPAK SHARMA 'KULUVI'
  • Saurabh Pandey
  • आशीष यादव
 

arunendra mishra's Page

Profile Information

Gender
Male
City State
MH
Native Place
Raipur
Profession
Automobile Engineer

arunendra mishra's Photos

Loading…
  • Add Photos
  • View All

Arunendra mishra's Blog

जीवन तुझसे एक वर माँगू

जीवन तुझसे एक वर माँगू

पाप पुण्य से दूर 

जीवन की समझ माँगू 

एकाकी अगर सत्य हो तो 

तथागत बनने का वर माँगू

आवेश ही एक मात्र  मार्ग हो तो 

दुर्योधन का आवेश पाऊँ

क्षमा ही ध्येय हो तो 

युधिष्ठिर का मन पाऊँ 

समर्पण ही अगर सत्य हो तो 

समर्पण की धुरी पर जो कर्ण पिसा 

मैं भी समर्पित हूँ 

उपेक्षा अगर सत्य हो तो 

एकलव्य सा ध्यान…

Continue

Posted on May 30, 2012 at 9:30pm — 18 Comments

प्रियतम जब से मैंने प्रेम का आवाहन किया

प्रियतम जब से मैंने प्रेम का आवाहन किया 

करुण वेदना , विरह अश्रु , और मौन ने मेरा श्रृंगार किया 

कितनी संवेदना ,कितनी आह

कितने अश्रु , कितनी चाह

कितने आलाप , कितने गान

मिल कर भी

संतॄप्त न कर पाती

उर अरमनों में छिपे स्पंदन को,

प्रियतम जब से मैंने प्रेम का आवाहन किया 

सावन रिक्त , शशि सुप्त

सूरज न उग्र , रौद्र नयन हैं रुष्ट

प्रियतम जब से मैंने प्रेम का आवाहन किया 

करुण वेदना , विरह अश्रु , और मौन ने मेरा…

Continue

Posted on May 25, 2012 at 11:56pm — 9 Comments

संघर्ष अभी जीवित है ...वो मरा नहीं

पिता जी, 

संघर्ष अभी जीवित है 

वो मरा नहीं 

अब भी आपके सपने 

उसकी आँखों में ही है 

वो आँसुयों में बहे नहीं 

यद्यपि 

वह  टूटा नजर आ रहा 

परंतु , पिता जी 

अभी संघर्ष जीवित है 

वो मरा नहीं 

अभी भी उसमे अरमान है 

अनंत आकाश में उड़ने की ख्वाहिश  है 

जो आप ने उसे दिखाये थे 

यद्यपि 

वह  थक कर रुक गया…

Continue

Posted on April 18, 2012 at 12:30am — 4 Comments

ये कौन सा मोड़ है जीवन का

ये कौन सा मोड़ है जीवन का 

जहा सिर्फ अंतर्द्वंद है 

यक़ीनन मै जनता हूँ 

हर उस  रास्ते को

जो मेरे चौराहे से गुजरता है 

परन्तु फिर भी मै अविचल हूँ 

यकीन मानो ,…

Continue

Posted on April 13, 2012 at 1:00pm — 10 Comments

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 8:43pm on April 14, 2012, Admin said…

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity


सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on गिरिराज भंडारी's blog post ग़ज़ल - फिल बदीह -- बे ज़ुबाँ कह सके रास्ता भी नहीं ( गिरिराज भंडारी )
"आदरणीय सौरभ भाई , क्य़ा बात है ! क्या बात है ! क्या बात है आपकी लगन और परिश्रम के आगे नत मस्तक हूँ ।…"
3 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on गिरिराज भंडारी's blog post गज़ल - फिल बदीह -- सरे सुब्ह लगता है फिर रात होगी ( गिरिराज भंडारी )
"आदरणीय धर्मेंद्र भाई , हौसला अफज़ाई का बहुत शुक्रिया ॥"
3 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on गिरिराज भंडारी's blog post गज़ल - फिल बदीह -- सरे सुब्ह लगता है फिर रात होगी ( गिरिराज भंडारी )
"आदरणीय राणा भाई , गज़ल पर आपकी उपस्थिति से बेहद प्रसन्नता हुई , सराहना के लिये आपका आभारी हूँ…"
3 hours ago
Rekha Mohan shared Rana Pratap Singh's blog post on Facebook
7 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर commented on Sachin Dev's blog post ज़माना (ग़ज़ल)
"बहुत बढ़िया ग़ज़ल हुई है आदरणीय सचिन जी इस प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई।"
8 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर commented on Rana Pratap Singh's blog post दो गज़लें
"आदरणीय राणा सर, दोनों ग़ज़लें बेहतरीन हुई है शेर दर शेर दाद हाज़िर है।"
8 hours ago
Manoj kumar Ahsaas commented on Manoj kumar Ahsaas's blog post मेरी बेटी( तीसरी कविता)___मनोज कुमार अहसास
"जी सर बहुत आभार आप का आशीर्वाद बड़ा आधार है मेरे लिए सदैव एक नई राह आपने दी है मैं हिंदी की कक्षा भी…"
8 hours ago
Manoj kumar Ahsaas commented on Rana Pratap Singh's blog post दो गज़लें
"बहुत खूब बेहतरीन ग़ज़लें याद पुरानी आँख का पानी कुछ अलग लग रही है पता नहीं क्यों सादर"
8 hours ago

AMOM
Dr Ashutosh Mishra commented on Dr Ashutosh Mishra's blog post मजहब जिसने इंसानों को आपस में जोड़ा है
"आदरणीय मिथिलेश जी शंका के निवारण के लिए धन्यवाद ..सादर "
9 hours ago
Rajat rohilla and Sandeep Kumar are now friends
9 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर commented on Dr Ashutosh Mishra's blog post मजहब जिसने इंसानों को आपस में जोड़ा है
"काफ़िया दुरुस्त है आशुतोष जी बस इस काफ़िया के लफ़्ज़ों की कमी के लिए टोटा प्रयुक्त किया था।"
9 hours ago
सुनील प्रसाद(शाहाबादी) commented on shree suneel's blog post ग़ज़ल :मीआ़दे उल्फ़त देखिये
"खुबसूरत ग़ज़ल हुई है आदरणीय।"
9 hours ago

© 2015   Created by Admin.

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service