For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

माना होता खुदा को एक हमने

2222 1222 1222

लोगों को लूटने का फ़लसफ़ा होता ||
तो अपने नाम पर बाबा लगा होता ||

तूं तूं - मैं मैं न होती इस कदर हम में ,

तेरा मेरा अगर इक रास्ता होता ||

माना होता खुदा को एक हमने तो ,
फिर घर न कोई किसी का जला होता ||

उनको आया नज़र फर्के- लिबासां ही ,
काश !ये इक रंग का खूं भी दिखा होता ||

फिर मैं भी मानता परवाह है उसको ,
ग़र आंसू पोंछ बांहो में कसा होता ||

समझौता कर लिया हालात से उसने ,
हो जाती जीत ग़र ज़िद पे अड़ा होता||

.

मौलिक और अप्रकाशित

Views: 124

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Nazeel on March 18, 2015 at 8:41am
आदरणीय सौरभ पांड़े जी हार्दिक आभार. गुणीजनों की सलाहानुसार मैं इसको ठीक करने की कोशिश कर रहा हूं.

सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on March 18, 2015 at 5:59am

आप ग़ज़ल पर मिले सुझाव पर ध्यान दें.

शुभेच्छाएँ

Comment by Nazeel on March 17, 2015 at 7:51pm

आदरणीय  निर्मल नदीम जी बहुत बहुत धन्यवाद गलती में ध्यान दिलवाने के लिए।  ये अहसास  हो  गया  है मुझको इसको सुधारने  कोशिश रहा  हूँ 

Comment by Nirmal Nadeem on March 17, 2015 at 3:53pm

Muafi chahta hu janab. ghazal jo bhi kahi hai aapne wo khayaal to bahut khoobsoorat hai lekin ye bahr maine kahi nhi dekhi. shukriya.

Comment by Nazeel on March 16, 2015 at 7:57pm

बहुत-बहुत धन्यवाद  आदरणीय डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव जी और आदरणीय हरी प्रकाश दुबे जी.. जो कुछ तकनीकी त्रुटि है  वो  पता चल गई है  उसको सुधारने की कोशिश कर  रहा  हूँ 

Comment by Hari Prakash Dubey on March 16, 2015 at 7:45pm

 आ. नजील भाई सुन्दर प्रस्तुति है , तकनीकी पक्ष ज्यादा मैं भी नहीं जानता , विद्वजनो ने कह ही दिया है , हार्दिक बधाई आपको ! 

Comment by डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव on March 16, 2015 at 7:41pm

भाई नजील गजल तो आपने खूब कही पर  ---- भंडारी जीने कुछ कहा .  सादर .

Comment by Nazeel on March 16, 2015 at 5:21pm

हौंसला आफजाई के लिए तहे -दिल से शुक्रिया  आदरणीय भाई श्याम मठपाल जी … 

Comment by Shyam Mathpal on March 16, 2015 at 3:14pm

Aadarniya Nazeel Ji,

लोगों को लूटने का फ़लसफ़ा होता ||
तो अपने नाम पर बाबा लगा होता ||  ------ Hakikat bayan ki hai aapne... Bahut sundar. Dhero badhai.

Baba Neta Saudagar aur thagon ke sardar,

Sab janta Ko lutate Karte Bhavnawon Ka vyapar.

Comment by Nazeel on March 16, 2015 at 1:54pm

हौंसला बढ़ाने हेतु तहे-दिल से शुक्रिया आदरणीय  भाई गिरिराज भंडारी जी.. आप सही कह रहें हैं मैंने  ध्यान दिया जब मुकम्मल हो गई थी फिर मैंने छेड़छाड़ नहीं की आगे से ध्यान रखा करुंगा।  एक बार फिर से शुक्रिया  । 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Rakshita Singh is now a member of Open Books Online
30 minutes ago
Sushil Sarna posted a blog post

ज़िंदगी के सफे ...

ज़िंदगी के सफे ...हैरां हूँ बाद मेरे फना होने के किसी ने मेरी लहद को गुलों से नवाज़ा है एक एक गुल में…See More
34 minutes ago
KALPANA BHATT commented on KALPANA BHATT's blog post मूक दर्शक (लघुकथा)
"Ddhanywad aadarniya Mohammed Arif ji .Eid ki shubhkamnayen aapko"
45 minutes ago
Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan" commented on Saurabh Pandey's blog post ग़ज़ल : भइ, आप हैं मालिक तो कहाँ आपसे तुलना
"आदरणीय सौरभ सर बहुत ही उम्दा ग़ज़ल हुई है, हर शैर सवा अरब का प्रतिनिधित्व कर रहा है, भारत के परिवेश…"
49 minutes ago
बसंत कुमार शर्मा commented on Saurabh Pandey's blog post ग़ज़ल : भइ, आप हैं मालिक तो कहाँ आपसे तुलना
"वाह मुग्ध हूँ, आपकी ग़ज़ल पढ़कर, लाजबाब से भी लाजबाब, बहुत बहुत बधाई आपको. ईद मुबारक "
1 hour ago
बसंत कुमार शर्मा commented on Naveen Mani Tripathi's blog post गज़ल- कैसे कहूँ मै आप से मुझको गिला नहीं
"बेहतरीन ग़ज़ल "
1 hour ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल ---झुकी झुकी सी नज़र में देखा
"आ0 मित्र श्री जयनित मेहता जी सादर आभार ।"
1 hour ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post 52 शेर की ग़ज़ल।
"आ0 गोपाल नारायण श्रीवास्तव जी आभार ।"
1 hour ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post 52 शेर की ग़ज़ल।
"भाई जयनित मेहता जी आभार मित्र"
1 hour ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post गज़ल- कैसे कहूँ मै आप से मुझको गिला नहीं
"आ0 अनिता मौर्या जी शुक्रिया ।"
1 hour ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post गज़ल- कैसे कहूँ मै आप से मुझको गिला नहीं
"आ0 जयनित मेहता जी सादर आभार ।"
1 hour ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post पश्चिम का आँधी
"आदरणीय डॉ गोपाल नारायण श्रीवास्तव जी, आप बिलकुल सही हैं, यह १६ १० मात्रा पर ही है, फुर्र हुई चिट्ठी…"
2 hours ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service