For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...

ओपन बुक्स ऑनलाइन के सभी सदस्यों को प्रणाम, बहुत दिनों से मेरे मन मे एक विचार आ रहा था कि एक ऐसा फोरम भी होना चाहिये जिसमे हम लोग अपने सदस्यों की ख़ुशी और गम को नजदीक से महसूस कर सके, इसी बात को ध्यान मे रखकर यह फोरम प्रारंभ किया जा रहा है, जिसमे सदस्य गण एक दूसरे के सुख और दुःख की बातो को यहाँ लिख सकते है और एक दूसरे के सुख दुःख मे शामिल हो सकते है |

धन्यवाद सहित
आप सब का अपना
ADMIN
OBO

Views: 65827

Reply to This

Replies to This Discussion

dhanyavaad admin ji
Dushyant ji, namaskaar.

Nayee job ke liye aapko hardik badhayee. Hamari shubhkamna hai aap jeevan ke har kshetra mein nayee oochayeeyo ko par kare.
bahut bahut badhai ho dushyant jee.......ishwar se prarthana hai ki wo aapke upar isi tarah khusiyon ki barsaat karte rahen................
अभी अभी पता चला है कि आज आदरणीय बब्बन पाण्डेय जी कि शादी की सालगिरह है , ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के तरफ से मैं श्री / श्रीमती पाण्डेय को दीर्घ ,सफल वैवाहिक जीवन की कामना करता हू, बहुत बहुत बधाई बब्बन पाण्डेय जी,
shaadi ki saalgirah bahut bahut mubarak ho baban bhaiya.......

Baban Pandey ji ki shadi ke saalgirah par dhero badhayee.
मित्रों आज OBO के प्रधान संपादक आदरणीय श्री योगराज प्रभाकर जी की शादी की सालगिरह है.

मै उन्हें दिल से मुबारक बाद देता हूँ.

"बना रहे यह जोड़ा तब तक जब तक सूरज चाँद
अधरों पर मुसकान विराजे कभी ना होवे मांद
यह परिवार हुआ उनके ही आने से आबाद
बना रहे अब हम जैसों पर उनका आशीर्वाद"

योगी सर आपको एक बार फिर से शादी की सालगिरह की कोटिशः बधाइयाँ.
राणा भाई, इस काव्यात्मक बधाई के लिए बहुत बहुत धन्यवाद !
सत्य होता है हर सपना जहाँ आकर,
कल्पना लेती है आकार जिन्हे छूकर,

बंद दरवाजे खुल जाते है जहाँ जाकर,
दुश्मन भी आते है उनसे हारकर ,

हम भी गर्वान्वित है जिन्हे पाकर ,
वो है OBO संपादक योगराज प्रभाकर ,

पर उनकी भी है एक कमजोरी भयंकर ,
बन्ध जाती घिघी जब सामने हो मिसेज प्रभाकर,
ImageChef Sketchpad - ImageChef.com
OBO के प्रधान संपादक के १७ जुलाई १९८१ से लेकर अब तक के सफल वैवाहिक जीवन के लिये आज उनके २९ वें शादी की सालगिरह पर मेरे और पूरे ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के तरफ से कोटिश: बधाई और ईश्वर से आपकी लम्बी वैवाहिक जीवन के लिये हम सब प्रार्थना करते है|
अमर रहे आप दोनों का प्यार ,
ये दिन आता हैं जीवन में हर साल ,
रवि गुरु आप दोनों को देता बधाई ,
हर दम आता रहे अच्छा अच्छा ख्याल ,
आपकी छत्र छाया में हम तो चले ,
यु ही तो मिलता रहे आपका प्यार ,
भैया योगराज प्रभाकर आपके साथ भाभी जी को भी आज के दिन मुबारक हो ,

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Balram Dhakar's blog post ग़ज़ल : बलराम धाकड़ (पाँव कब्र में जो लटकाकर बैठे हैं।)
"आ. भाई बलराम जी, सादर अभिवादन। बेहतरीन गजल हुई है। हार्दिक बधाई।  क्या "शाइर" शब्द…"
3 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' posted a blog post

ग़ज़ल-रफ़ूगर

121 22 121 22 121 22 सिलाई मन की उधड़ रही साँवरे रफ़ूगर सुराख़ दिल के तमाम सिल दो अरे रफ़ूगर उदास रू…See More
11 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"आदरणीय चेतन प्रकाश जी नमस्कार। हौसला बढ़ाने के लिए हार्दिक धन्यवाद।"
12 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"आदरणीय ब्रजेश कुमार ब्रज जी हौसला बढ़ाने के लिए हार्दिक धन्यवाद।"
12 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"स आदरणीय समर कबीर सर् सादर नमस्कार। आदरणीय ग़ज़ल पर इस्लाह देने के लिए बेहद शुक्रिय: ।सर् आपके कहे…"
12 hours ago
Usha Awasthi posted a blog post

सौन्दर्य का पर्याय

उषा अवस्थी"नग्नता" सौन्दर्य का पर्याय बनती जा रही हैफिल्म चलने का बड़ा आधारबनती जा रही है"तन मेरा…See More
15 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Usha Awasthi's blog post वसन्त
"आ. ऊषा जी, सादर अभिवादन। अच्छी रचना हुई है। हार्दिक बधाई।"
17 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Anita Bhatnagar's blog post ग़ज़ल
"आ. अनीता जी, सादर अभिवादन। गजल का प्रयास अच्छा है पर यह और समय चाहती है। कुछ सुझाव के साथ फिलहाल इस…"
17 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Sushil Sarna's blog post दोहा मुक्तक .....
"आ. भाई सुशील जी, सादर अभिवादन। सुन्दर मुक्तक हुए हैं। हार्दिक बधाई।"
18 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted a blog post

दोहे वसंत के - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"

जिस वसंत की खोज में, बीते अनगिन सालआज स्वयं ही  आ  मिला, आँगन में वाचाल।१।*दुश्मन तजकर दुश्मनी, जब…See More
20 hours ago
PHOOL SINGH posted blog posts
yesterday
Balram Dhakar posted a blog post

ग़ज़ल : बलराम धाकड़ (पाँव कब्र में जो लटकाकर बैठे हैं।)

22 22 22 22 22 2 पाँव कब्र में जो लटकाकर बैठे हैं।उनके मन में भी सौ अजगर बैठे हैं। 'ए' की बेटी,…See More
yesterday

© 2023   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service