For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Vinay Kull
  • Male
  • varanasi. UP
  • India
Share on Facebook MySpace

Vinay Kull's Friends

  • bagesh kumar singh
  • Dr Babban Jee
  • Vindu Babu
  • वेदिका
  • ram shiromani pathak
  • आशीष नैथानी 'सलिल'
  • deepti sharma
  • डॉ. सूर्या बाली "सूरज"
  • PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA
  • JAWAHAR LAL SINGH
  • संदीप द्विवेदी 'वाहिद काशीवासी'
  • rajesh kumari
  • AVINASH S BAGDE
  • Atendra Kumar Singh "Ravi"
  • Gyanendra Nath Tripathi
 

Vinay Kull's Page

Profile Information

Gender
Male
City State
Varanasi ( UP)
Native Place
Varanasi
Profession
Retird From UP Industris Deppt.
About me
making Cartoons from last 40 years.

Vinay Kull's Photos

  • Add Photos
  • View All

Comment Wall (201 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 5:25am on September 18, 2016, Sheikh Shahzad Usmani said…
इस बार के कार्टून में पुलिस विभाग के 'समसामयिक' ऊपरी कमाई का सच्चा चिट्ठा खोलते सृजन के लिए तहे दिल से बहुत बहुत मुबारकबाद मोहतरम जनाब विनय कुल साहब। यह कृति देश के हर महकमे में व्याप्त भ्रष्टाचार का प्रतिनिधि-चित्रण करती है।
At 5:29pm on September 8, 2016, Ram Ashery said…

करते भगवान के सृजन का अपमान

कुदरत विरुद्ध चलने में रखते हैं शान

अपने माँ बाप का करते नहीं सम्मान 

उपदेश देते गीता का बनते प्रज्ञा वान 

जानवर से बदतर यहाँ रहते हैं इंसान 

शक्ल से सुंदर पर मन में बसा शैतान 

 

At 9:35pm on July 19, 2016, सुरेश कुमार 'कल्याण' said…
बहुत सुन्दर आदरणीय श्री विनय कुल जी, इसी पर मेरा एक नीति दोहा प्रस्तुत है-

नारी का सम्मान हो, त्यागें जो अभिमान।
जीवन ये खुशहाल हो, बढ़ता बुद्धि ज्ञान।।
At 5:13pm on July 11, 2016, सुरेश कुमार 'कल्याण' said…
बहुत ही सुन्दर व्यंग्य।
तो एक हाइकू हो जाए

महंगा तेल
राहें बड़ी मुश्किल
सस्ता सहारा
At 10:35pm on May 16, 2016, Krish mishra 'jaan' gorakhpuri said…
हा हा हा..बेहतरीन गुदगुदी।डा.के स्केच की भावभंगिमा वाकई जीवंत हैं..तहेदिल से शुक्रिया,बधाई।
At 12:19am on January 10, 2016, Sheikh Shahzad Usmani said…
बहुत बढ़िया समसामयिक परिदृश्य पर तीखा कटाक्ष/व्यंग्य करती पेशकश के लिए बहुत बहुत बधाई आपको आदरणीय विनय कुल जी।
At 2:24pm on January 9, 2016, Sheikh Shahzad Usmani said…
सर, बहुत बढ़िया प्रस्तुति रहती है आपकी, किन्तु ऐसे कटाक्ष पूर्ण कार्टून की प्रतीक्षा है कि या तो ख़ूब हँसी आ जाये, या गहन चिन्तन को पाठक प्रेरित हो जाये। सादर
At 7:28pm on December 7, 2015, kanta roy said…

अल बगदादी के प्रशिक्षण का असर अब रसोई तक आ पहुंचा है।  ट्रैनिंग का प्रताप है जी , बचकर रहना है जरूरी , हा हा हा हा --- बहुत कार्टून हुई है आपकी , बधाई आदरणीय विनय कुल जी। 

At 2:12pm on December 6, 2015, Sheikh Shahzad Usmani said…
आदरणीय मंच जानना चाहता हूँ क्या हम भी अपने कार्टून यहाँ विचारणार्थ प्रेषित कर सकते हैं? किस तरह, क्या प्रक्रिया रहती है, कृपया बताईयेगा ।
At 2:07pm on December 6, 2015, Sheikh Shahzad Usmani said…
बढ़िया व्यंग्य है आदरणीय विनय कुल साहब, लेकिन विडम्बना यह है कि उनसे प्रशिक्षण प्राप्त पकड़े जाने पर ही ऐसी उद्घोषणा करते हैं दिये गये मिशन को पूरा करने के बाद ही न । पति के लिए तो सास जी द्वारा दिया गया प्रशिक्षण पत्नी की दबंगी, ऊँची आवाज़, बेलन व चिमटा ही काफी है !
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी posted a blog post

ग़ज़ल (...महफ़ूज़ है)

2122 - 2122 - 2122 - 212वो जो हम से कह चुके वो हर बयाँ महफ़ूज़ हैदास्तान-ए-ग़ीबत-ए-कौन-ओ-मकाँ…See More
1 hour ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post असली - नकली. . . .
"आदरणीय अमीरुद्दीन साहिब, आदाब - सृजन के भावों को मान देने का दिल से आभार आदरणीय जी"
11 hours ago
Manan Kumar singh posted a blog post

एनकाउंटर(लघुकथा)

'कभी- कभी  विपरीत विचारों में टकराव हो जाता है।चाहे- अनचाहे ढंग से अवांछित लोग मिल जाते हैं,या वैसी…See More
12 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on Sushil Sarna's blog post असली - नकली. . . .
"आदरणीय सुशील कुमार सरना जी आदाब, वाह... क्या दर्शन है! नकली फूलों के संदर्भ में शानदार और मनमोहक…"
14 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी's blog post ग़ज़ल (...महफ़ूज़ है)
"आदरणीय सुशील कुमार सरना जी आदाब, ग़ज़ल पर आपकी आमद और ज़र्रा नवाज़ी का तह-ए-दिल से शुक्रिया।"
14 hours ago
Manan Kumar singh commented on Manan Kumar singh's blog post आजकल(लघुकथा)
"आपका हार्दिक आभार आदरणीय सुशील सरना जी। "
14 hours ago
Sushil Sarna commented on Ashok Kumar Raktale's blog post ग़ज़ल
"वाह आदरणीय जी बहुत खूबसूरत सृजन हुआ है सर । हार्दिक बधाई सर"
15 hours ago
Sushil Sarna commented on Manan Kumar singh's blog post आजकल(लघुकथा)
"वाह आदरणीय बहुत सुंदर और सार्थक प्रस्तुति है सर ।हार्दिक बधाई सर"
15 hours ago
Sushil Sarna commented on अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी's blog post ग़ज़ल (...महफ़ूज़ है)
"वाह आदरणीय अमीरुद्दीन साहिब बहुत खूबसूरत सृजन हुआ है सर । हार्दिक बधाई सर"
15 hours ago
Sushil Sarna posted a blog post

असली - नकली. . . .

असली -नकली . . . .सोच समझ कर पुष्प पर, अलि होना आसक्त ।नकली इस मकरंद पर  , प्रेम न करना व्यक्त…See More
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on Ashok Kumar Raktale's blog post ग़ज़ल
"आदरणीय अशोक कुमार रक्ताले जी आदाब, अच्छी ग़ज़ल हुई है बधाई स्वीकार करें,…"
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी's blog post ग़ज़ल (...महफ़ूज़ है)
"आदरणीय सुधीजन पाठकों ग़ज़ल के छठवें शे'र में आया शब्द "ज़र्फ़मंदों" को कृपया…"
yesterday

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service