For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

AMAN SINHA
Share on Facebook MySpace

AMAN SINHA's Friends

  • अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी
  • Samar kabeer
  • लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
 

AMAN SINHA's Page

Latest Activity

AMAN SINHA posted a blog post

पुरुष की व्यथा

अंतरराष्ट्रीय_पुरुष_दिवसपुरूष क्यूँरो नहीं सकता?भाव विभोर हो नहीं सकताकिसने उससेनर होने का अधिकार छिन लिया?कहो भलाउसने पुरुष के साथ ऐसा क्यूँ किया?क्या उसका मन आहत नहीं होता?क्या उसका तनतानों से घायल नहीं होता?झेल जाता है सब कुछबस अपने नर होने की आर मेंपर उसे रोने का अधिकार नहीं हैरोएगा तो कमज़ोर माना जायेगाऔरों से उसेकमतर आँका जायेगासमाज में फिर तिरस्कार होता हैअपनों के हीं सभा मेंफिर उसका वहिष्कार होता हैपर उसकारोना भी तो जरूरी है नामन की व्यथाकहना भी तो जरूरी है नाएक दिन ऐसा आयेगावो पूर्णत:…See More
Nov 19
AMAN SINHA posted a blog post

सावन सूखा बीत रहा है

सावन सूखा बीत रहा है, एक बूंद की प्यास में रूह बदन में कैद है अब भी, तुझ से मिलने की आस में जैसे दरिया के लहरों, में कश्ती गोते खाते है हम तेरी यादों में हर दिन, वैसे हीं डूबे जाते है जाने कितने मौसम बदले, रंगत बदले चेहरे बदले सिलवट तेरी टूट ना जाए, हम एक करवट भी ना बदले जैसे कोई उड़ता पंक्षी, पिंजरे में फंस कर रह जाए जैसे कोई मछली जल बीन, तड़प-तड़प कर मर जाए जैसे सीलन भरे कमरे में, धूप अचानक आ जाए बुनियादी दीवारों पर फिर, रंगत कोई छा जाए जैसे दलदली जमीन के तल पर, ठोस कोई आधार मिले मैं भी पाँव जमा…See More
Nov 14
Zaif commented on AMAN SINHA's blog post माँ-बाप
"आदरणीय अमन जी, बेहद लाजवाब कविता। Hats off!"
Nov 8
AMAN SINHA posted a blog post

माँ-बाप

माँ-बाप को समझना कहाँ आसान होता है?उनका साया हीं हम पर छत के समान होता हैप्रेम का बीज़ जिस दिन से माँ के पेट में पलता हैबाप के मस्तिष्क मे तब से हीं वो धीरे-धीरे बढ़ता हैपहले दिन से हीं बच्चा माँ के दूध पर पलता हैपर पिता के मेहनत से माँ के सिने में दूध पनपता हैसूने घर में कोई बालक जब किलकारी भरता हैउसके मधुर स्वर से हीं तो दोनों को बल मिलता हैपकड़ कर उंगली जीन हाथों ने चलना तुझको सिखायाअपने हिस्से का बचा निवाला जिसने तुझको खिलायासुबह ना देखी रात ना जानी हर मौसम की मार सहीएक तेरी हीं हठ के कारण…See More
Nov 7
AMAN SINHA posted a blog post

अपनी बोली

शिष्टाचार ही मिलती है पागलपन नहीं मिलतागैरों की बोली में अपनापन नहीं मिलता अपनी भाषा माँ का आँचल याद हमेशा आती हैद्वेष,क्रोध,विलाप हो जितना, हर भाव समझाकर जाती है पर भाषा के बल पर चाहे समृद्ध जितने भी हो जाओपर वहाँ पर डटें रहने की दृढ़ता अपनी भाषा से हीं पाओ किराए के मकान में कभी आँगन नहीं मिलतागैरों की बोली में अपनापन नहीं मिलता चाहे जितना लेख लिखो तुम, चाहे जितने व्याख्यान करोगैरों की भाषा में चाहे, तुम खुद पर अभिमान करो पर जब चोट हृदय को पहुंचे जो पहली बोली आती हैअपनी हीं भाषा की तुमको याद…See More
Oct 31
Ashok Kumar Raktale commented on AMAN SINHA's blog post अबके बरस जो आओगे
"आदरणीय अमन सिन्हा जी अच्छी कविता की है. तुकांतता को समझें. इससे कविता का सौन्दर्य कई गुना बढ़ जाता है. सादर"
Oct 27
AMAN SINHA posted a blog post

अबके बरस जो आओगे

अबके बरस जो आओगे, तो सावन सूखा पाओगेसूख चुके इन नैनों को तुम, और भींगा ना पाओगेऔर अगर तुम ना आए, प्यास ना दिल की बुझ पाएपत्थराई नैनों सा फिर, दिल पत्थर ना हो जाएअबके बरस जो आओगे, बसंत शुष्क सा पाओगेमन के उजड़े बागीचे में, एक फूल खिला ना पाओगे         और अगर तुम ना आए, अटकी डाली ना गिर जाएसूखे मुरझाए मन को मेरे, पतझर हीं ना भा जाएअबके बरस जो आओगे, सर्दी में तपते रह जाओगेमगर गरम रज़ाई में, मेरा एहसास ना पाओगे             और अगर तुम ना आए, अंगीठी की आग ना बुझासुखी लकड़ी की तरह कहीं, ख्वाब ना मेरे…See More
Oct 25
Mahendra Kumar commented on AMAN SINHA's blog post रोटी
"आदरणीय अमन जी, 1. रुखी-सुखी = रूखी-सूखी, मुज़रीम = मुज़रिम, इसिका = इसी का, जाते है = जाते हैं, नही = नहीं आदि। 2. //इसकी कही हीं है सही// क्या कहना चाह रहे हैं कुछ समझ नहीं आया। आदरणीय समर कबीर सर से मैं भी सहमत हूँ। यदि आप साहित्य के प्रति सच में…"
Oct 21
Samar kabeer commented on AMAN SINHA's blog post रोटी
"जनाब अमन सिन्हा जी आदाब, आपकी रचनाओं के भाव अच्छे होते हैं लेकिन जैसा कि पहले भी बताया जा चुका है,ये किसी विधा में बाँध कर ही अच्छे लगेंगे, ऐसे इनकी कोई क़ीमत नहीं, आप अगर कुछ सीखने के लिए तैयार हों तो मुझसे इस नम्बर पर सम्पर्क कर सकते…"
Oct 18
Shyam Narain Verma commented on AMAN SINHA's blog post रोटी
"नमस्ते जी, बहुत ही सुंदर और सार्थक प्रस्तुति, हार्दिक बधाई l सादर"
Oct 17
AMAN SINHA posted a blog post

रोटी

भूख लगती है कभी जो, याद इसकी आती हैना मिले तो पेट में फिर, आग सी लग जाती हैराजा हो या रंक देखो, इसके सब ग़ुलाम हैतीनो वक़्त खाने से पहले, करते इसे सलाम हैरुखी-सुखी जैसी भी हो, पेट यह भर जाती हैचाह में अपनी हर किसी, को राह से भटकाती हैजिसने इसको पा लिया, वो  राज सब पर कर गयाना मिली जिसे उसे, मुज़रीम भी देखो कर गया  कितना भी हो प्रेम सब में, इसके आगे फीका हैये चलाता है सभी को, सब पर वश इसिका हैपात पर पड़ा नहीं तो, जंग भी करवाता हैचाहे कितना बड़ा हवन हो, भंग भी करवाता हैदे सके ना जो पिता तो, वो पिता…See More
Oct 17
Mahendra Kumar commented on AMAN SINHA's blog post ना तुझे पाने की खुशी ना तुझे खोने का ग़म
"आदरणीय अमन जी, रचना के भाव अच्छे हैं जिस हेतु हार्दिक बधाई प्रेषित है। मेरा सुझाव है कि आप जिस भी विधा में लिखना चाहते हैं पहले उसके शिल्प का अध्ययन अवश्य कर लें। यह बात तब और भी ज़रूरी हो जाती है जब आप छन्दबद्ध रचना लिखते हैं। सौभाग्य से इस मंच पर…"
Oct 13
AMAN SINHA posted a blog post

अपराधी

हाँ-हाँ मैं अपराधी हुँ बस, अधर्म करने का आदि हूँपर मुझको खुद पर लाज नहीं, जो किया मैं उसपर गर्वित हुँजो देखा सब यहीं देखा, जो सीखा सब यहीं सीखामैं माँ के पेट का दोष नहीं, ना हीं मैं सुभद्रा का बेटा दूध की प्याली के खातिर, मैंने माँ को बिकते देखा हैअपने पेट की भूख मिटाने, बाप से पिटते देखा हैफटें कपड़ो से तन को ढकते, बहनों के संघर्ष को मैं जानूगिद्ध के जैसी कामुक नज़रें, मैं उन सब को पहचानूँ भरी दोपहरी सड़क पर चलना, बिन चप्पल के होता क्या?छत जो टपके बारिश में तो, आसमान को रोना क्या?हाथ पसारा रोटी…See More
Oct 10
AMAN SINHA commented on AMAN SINHA's blog post कितना कठिन था
"आदरणीय श्याम नारायण वर्मा जी,  सहर्ष धन्यवाद। "
Oct 5
AMAN SINHA commented on AMAN SINHA's blog post लडकपन
"आदरणीय बृजेश कुमार जी,  प्रोत्साहन के लिये धन्यवाद। आपको ज्ञात हो की यह रचना मेरे निजी अनुभव से बिल्कुल भी प्रेरित नहीं है। मैं कभी भी किसी के आकर्षण के लायक नहीं बन पाया। बस एक रोज़ कलम उठाई तो ये शब्द खुद हीं पन्ने पर छप गयें। आपको अच्छी लगी…"
Oct 5
AMAN SINHA commented on AMAN SINHA's blog post लडकपन
"आदरणीय लक्ष्मण धामी साहब,  आपके प्रोत्साहन के लिये असंख्य धन्यवाद।  मैं निश्चित तौर पर आप सभी के सुझावों को ध्याने में रखुंगा, और सही-सही लिखनी का प्रयास करुंगा।  धन्यवाद। "
Oct 5

Profile Information

Gender
Male
City State
KOLKATA
Native Place
KOLKATA
Profession
WRITER
About me
NEW WRITER

AMAN SINHA's Blog

पुरुष की व्यथा

अंतरराष्ट्रीय_पुरुष_दिवस



पुरूष क्यूँ

रो नहीं सकता?

भाव विभोर हो नहीं सकता

किसने उससे

नर होने का अधिकार छिन लिया?

कहो भला

उसने पुरुष के साथ ऐसा क्यूँ किया?

क्या उसका मन आहत नहीं होता?

क्या उसका तन

तानों से घायल नहीं होता?

झेल जाता है सब कुछ

बस अपने नर होने की आर में

पर उसे रोने का अधिकार नहीं है

रोएगा तो कमज़ोर माना जायेगा

औरों से उसे

कमतर आँका जायेगा

समाज में फिर तिरस्कार होता है

अपनों के हीं सभा… Continue

Posted on November 19, 2022 at 6:12pm

सावन सूखा बीत रहा है

सावन सूखा बीत रहा है, एक बूंद की प्यास में 

रूह बदन में कैद है अब भी, तुझ से मिलने की आस में

 

जैसे दरिया के लहरों, में कश्ती गोते खाते है 

हम तेरी यादों में हर दिन, वैसे हीं डूबे जाते है…

Continue

Posted on November 14, 2022 at 9:47am

माँ-बाप

माँ-बाप को समझना कहाँ आसान होता है?

उनका साया हीं हम पर छत के समान होता है



प्रेम का बीज़ जिस दिन से माँ के पेट में पलता है

बाप के मस्तिष्क मे तब से हीं वो धीरे-धीरे बढ़ता है



पहले दिन से हीं बच्चा माँ के दूध पर पलता है

पर पिता के मेहनत से माँ के सिने में दूध पनपता है



सूने घर में कोई बालक जब किलकारी भरता है

उसके मधुर स्वर से हीं तो दोनों को बल मिलता है



पकड़ कर उंगली जीन हाथों ने चलना तुझको सिखाया

अपने हिस्से का बचा निवाला जिसने… Continue

Posted on November 7, 2022 at 2:29pm — 1 Comment

अपनी बोली

शिष्टाचार ही मिलती है पागलपन नहीं मिलता

गैरों की बोली में अपनापन नहीं मिलता

 

अपनी भाषा माँ का आँचल याद हमेशा आती है

द्वेष,क्रोध,विलाप हो जितना, हर भाव समझाकर जाती है

 

पर भाषा के बल पर चाहे समृद्ध जितने भी हो जाओ

पर वहाँ पर डटें रहने की दृढ़ता अपनी भाषा से हीं पाओ

 

किराए के मकान में कभी आँगन नहीं मिलता

गैरों की बोली में अपनापन नहीं मिलता

 

चाहे जितना लेख लिखो तुम, चाहे जितने…

Continue

Posted on October 31, 2022 at 9:38am

Comment Wall

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

  • No comments yet!
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Sushil Sarna's blog post दोहा त्रयी. . . मैं क्या जानूं
"आ. भाई सुशील जी, सादर अभिवादन। अच्छे दोहे हुए हैं । हार्दिक बधाई। आ. भाई समर जी की बात से सहमत हूँ…"
4 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post गजल -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"आ. भाई समर जी, सादर अभिवादन। गजल पर उपस्थिति, उत्साहवर्धन व मार्गदर्शन के लिए आभार।"
4 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Dr.Prachi Singh posted a blog post

अक्सर मुझसे पूछा करती.... डॉ० प्राची

सपनों में भावों के ताने-बाने बुन-बुनअक्सर मुझसे पूछा करती...बोलो यदि ऐसा होता तो फिर क्या होता ?...…See More
8 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"आदाब। ओपनबुक्सॉनलाइनडॉटकॉम के संस्थापक एवं संचालन समीति द्वारा मुहतरम जनाब समर कबीर साहिब को तरही…"
10 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' commented on गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ''s blog post अगर हक़ीक़त में प्यार था तो सनम हमारे मज़ार जाएँ (137)
"आदरणीय , समर कबीर साहेब , आपकी हौसला आफ़जाई के लिए दिल से शुक्रगुज़ार हूँ |"
16 hours ago
मनोज अहसास commented on मनोज अहसास's blog post अहसास की ग़ज़ल:मनोज अहसास
"हार्दिक आभार आदरणीय समर साहब 'मन घिरा है वासना में,और मर्यादा में तन'--- इस मिसरे की बह्र…"
16 hours ago
Rakhee jain posted blog posts
19 hours ago
Tapan Dubey joined Admin's group
Thumbnail

ग़ज़ल की कक्षा

इस समूह मे ग़ज़ल की कक्षा आदरणीय श्री तिलक राज कपूर द्वारा आयोजित की जाएगी, जो सदस्य सीखने के…See More
20 hours ago
Tapan Dubey joined Admin's group
Thumbnail

सुझाव एवं शिकायत

Open Books से सम्बंधित किसी प्रकार का सुझाव या शिकायत यहाँ लिख सकते है , आप के सुझाव और शिकायत पर…See More
20 hours ago
Tapan Dubey joined Admin's group
Thumbnail

चित्र से काव्य तक

"ओ बी ओ चित्र से काव्य तक छंदोंत्सव" में भाग लेने हेतु सदस्य इस समूह को ज्वाइन कर ले |See More
20 hours ago
Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post दोहा त्रयी. . . मैं क्या जानूं
"जनाब सुशील सरना जी आदाब, अच्छे दोहे हुए हैं, बधाई स्वीकार करें I  'मैं क्या जानूं भोर…"
20 hours ago
Samar kabeer commented on मनोज अहसास's blog post अहसास की ग़ज़ल:मनोज अहसास
"जनाब मनोज अहसास जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है, बधाई स्वीकार करें I  'मन घिरा है वासना…"
20 hours ago

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service