For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

भोजपुरी साहित्य Discussions (237)

← Back to भोजपुरी साहित्य
Featured Discussions

"ओ बी ओ भोजपुरी काव्य प्रतियोगिता" अंक-1

भोजपुरी साहित्य प्रेमी लोगन के सादर प्रणाम, जइसन कि रउआ लोगन के खूब मालूम बा, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार अपना सुरुआते से साहित्य-समर्थन आ साहि…

Started by AdminLatest Reply


मुख्य प्रबंधक

"OBO लाइव विश्व भोजपुरी कवि सम्मेलन" (Now Close)

भोजपुरी साहित्य प्रेमी लोगन के सादर परनाम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार पिछला कई महिना से हर महीने सफलता पूर्वक "OBO लाइव मुशायरा" अउर "OBO लाइ…

Started by Er. Ganesh Jee "Bagi"Latest Reply

Discussions Replies Latest Activity

सदस्य टीम प्रबंधन

गजल (भोजपुरी) // -सौरभ

१२२ १२२ १२२ १२२ रटौले रटल बा नियम का ह, मत का ? बुझाइल कबो ना सही का, गलत का ! सियासत के सोझगर गनितओ बुझाई गुना-भाग छोड़ीं, बताईं जुगत का ?…

Started by Saurabh Pandey

2 Mar 14, 2019
Reply by Saurabh Pandey

होली -गीत

अइसन मौसम आइल बा मनवा अब फगुआइल बा।1 खिल रहल बा कली गुलाबी भौंरा खूब अगराइल बा।2 टहले के मिलल तब निमन नाहीं तब गभुआइल बा।3 कर रहल मनुहार गु…

Started by Manan Kumar singh

0 Dec 19, 2017

भोजपुरी

हमनी के भोजपुरी भाषा के संबंध में एतने जानी ले जा कि एकरा अंदर एतना क्षमता बा कि उ कवनो विषय या विधा पर आपन विचार व्यक्त करें में तनिकांे क…

Started by indravidyavachaspatitiwari

0 Oct 30, 2017

सदस्य टीम प्रबंधन

भोजपुरी नवगीत : फेर भइल बा चाक्का जाम // -सौरभ

फेर भइल बा चाक्का-जाम दलित-गरीबन के उकसावत !   बचवन के मन में छटपट्टी कोरा आँखिन में अचकच बा बूढ़ आँखि के सोझा सबकुछबिला रहल, झुठहीं मचमच बा…

Started by Saurabh Pandey

0 Jul 19, 2017

भोजपुरी गजल -उठि के नारी सक्ति सकार कइलs

फाइलातुन फाइलुन फऊल फेलुन  कहँवा से आइके जगार कइल जिनगी में साँइ से उजार कइल जिनगी से अइसन करार कइल सिनुरा वीरांगना पुछार कइल पँउआ बढ़त…

Started by PRAMOD SRIVASTAVA

5 Oct 25, 2016
Reply by Saurabh Pandey

भोजपुरी लधुकथा -नउटंकी।

"कइसन कइसन नउटंकी करेलीसन"  असपताल मां दरद के मारे कँहरत आ छटपटात उछलत मेहरारू के देखि बोली बोलली भउजी। "जवना के नउटंकी कहतारू नू ईहो भागिय…

Started by PRAMOD SRIVASTAVA

2 Oct 12, 2016
Reply by PRAMOD SRIVASTAVA

अकिल अझुराइल

आम असो आइल बा  खूब बउराइल बा  काँच बने चटनी त  सतुआ घोराइल बा  मावस ना बारी मा  बिजुरी बराइल बा  हाथ, हाथी, सायकिल  सभे अगराइल बा  जाति…

Started by PRAMOD SRIVASTAVA

6 Oct 4, 2016
Reply by PRAMOD SRIVASTAVA

करकट नर-कट

आप   कहीं   माई कहीं   बापू सँगे लुगाई धोती हटि पतलून त  खदरा कमरि, रजाई  खदरा कमरि, रजाई बदल संस्कृति  परिपाटी  जाति पाति भेदे नही      प…

Started by PRAMOD SRIVASTAVA

4 Sep 23, 2016
Reply by PRAMOD SRIVASTAVA

लगाव गाँछि

आव अपना दुअरा लगाव गाँछि नीम क सुधरि जाई हावा पानी घरवा जमीन क पितरन के दिनवा भुलाई ना जुगाड़ से हरियाली  देत उनकर नाम दिन चीन्ह क  लरिक…

Started by PRAMOD SRIVASTAVA

3 Sep 23, 2016
Reply by PRAMOD SRIVASTAVA

गीत भोजपुरी

राजा जी की बगिया में, सुगवा सुगीनिया में-2 लागल बावे प्रेमवा के डोर, ए सुगी मार ना हनि हनि ठोर-2 फुलवा लोरहन गइलीं जनक-दुलारी। ओही बगिया प…

Started by रामबली गुप्ता

1 Sep 20, 2016
Reply by PRAMOD SRIVASTAVA

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Rupam kumar -'मीत' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post मुँह ज़ख्मों के शे'र सुनाकर सीता है
"मुहतरम समर कबीर साहब जी, अगर "तू पहले से ज़्यादा सिगरेट पीता है" यह कर दिया जाए तो क्या…"
21 minutes ago
Rupam kumar -'मीत' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post ये ग़म ताज़ा नहीं करना है मुझको
"अमीरुद्दीन खान साहब आपने जो इस्लाह की उससे सहमत हूँ, मैंने सही कर लिया है। आपका स्नेह मिलता रहे,…"
25 minutes ago
Dimple Sharma joined Admin's group
Thumbnail

ग़ज़ल की कक्षा

इस समूह मे ग़ज़ल की कक्षा आदरणीय श्री तिलक राज कपूर द्वारा आयोजित की जाएगी, जो सदस्य सीखने के…See More
1 hour ago
Dimple Sharma updated their profile
1 hour ago
डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव posted a discussion

पूर्वराग के रंग कच्चे भी और पक्के भी: डॉ. गोपाल नारायन श्रीवास्तव

मानव के रूप में हम सभी ने अपने अंतस में शृंगार रस के संयोग और वियोग दोनों स्वरूपों का अनुभव अवश्य…See More
2 hours ago
Sushil Sarna posted blog posts
2 hours ago
Rupam kumar -'मीत' posted a blog post

ये ग़म ताज़ा नहीं करना है मुझको

१२२२/१२२२/१२२ ये ग़म ताज़ा नहीं करना है मुझको वफ़ा का नाम अब डसता है मुझको[१] मुझे वो बा-वफ़ा लगता…See More
2 hours ago
Dimple Sharma is now a member of Open Books Online
2 hours ago
सालिक गणवीर commented on सालिक गणवीर's blog post ग़ज़ल ( ये नया द्रोहकाल है बाबा...)
"मोहतरम समर कबीर साहब आदाब जनाब, मैं समझता हूँ एक शब्द के लिए इतनी बहस उचित नहीं है. इसे क्या मैं इस…"
10 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post अधूरे अफ़साने :
"आदरणीय समर कबीर साहिब, आदाब, सृजन के भावों पर आपकी स्नेह बरखा का दिल से आभार। आपके सुझाव का दिल से…"
20 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post अधूरे अफ़साने :
"आदरणीय  अमीरुद्दीन खा़न "अमीर " जी भावों पर आपकी मनोहारी प्रशंसा से सृजन सार्थक…"
20 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post अधूरे अफ़साने :
"आदरणीय  लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर जी भावों पर आपकी मनोहारी प्रशंसा से सृजन सार्थक हुआ,…"
20 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service