For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...

ओपन बुक्स ऑनलाइन के सभी सदस्यों को प्रणाम, बहुत दिनों से मेरे मन मे एक विचार आ रहा था कि एक ऐसा फोरम भी होना चाहिये जिसमे हम लोग अपने सदस्यों की ख़ुशी और गम को नजदीक से महसूस कर सके, इसी बात को ध्यान मे रखकर यह फोरम प्रारंभ किया जा रहा है, जिसमे सदस्य गण एक दूसरे के सुख और दुःख की बातो को यहाँ लिख सकते है और एक दूसरे के सुख दुःख मे शामिल हो सकते है |

धन्यवाद सहित
आप सब का अपना
ADMIN
OBO

Views: 65828

Reply to This

Replies to This Discussion

आज हमारे परिवार के सक्रिय सदस्य एवम सबके चहेता आदरणीय अलीम आज़मी जी और आदरणीया ममता पाण्डेय जी का जन्म दिन है, हम सभी आप के लम्बी उम्र और सफल जीवन की कामना करते है, जन्म दिन की बहुत बहुत शुभकामनाये स्वीकार करे,
janadin ki bahut bahut shubhkamnaye aleem jee aur mamata jee...

bhagwaan se yahi prarthana hai ki aap dono ko duniya ki saari khusiya mile aur aaplog ke jeewan me dukh naam ka koi chij hi naa ho.......

shubhkamna sahit.......PREETAM TIWARY


Admin said:
आज हमारे परिवार के सक्रिय सदस्य एवम सबके चहेता आदरणीय अलीम आज़मी जी और आदरणीया ममता पाण्डेय जी का जन्म दिन है, हम सभी आप के लम्बी उम्र और सफल जीवन की कामना करते है, जन्म दिन की बहुत बहुत शुभकामनाये स्वीकार करे,
भाइयो मैं आज से 15 साल पहले हुई एक घटना का ज़िक्र करना चाहता हू, वो दिन था 15 जून 1995 जब मैं और सरोज जी प्यार के बंधन मे बँधे यानी आज के दिन ही हमारी शादी हुई थी,
धन्यवाद,
साथियो, आज हमारे प्रिय श्री गणेश जी "बागी" की शादी कि 15 वीं सालगिरह है ! इस शुभ अवसर पर मैं अपनी एवं समस्त oBo परिवार कि तरफ से उनको शुभकामनाएं देना चाहता हूँ ! मैं परम पिता परमेश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि आपकी जोड़ी युगों युगों तक बनी रहे, और भगवान आपको और आपके पूरे परिवार को हर ख़ुशी और हर सफलता बख्शे !
बहुत बहुत धन्यवाद योगराज भईया, बस आप का आशीर्वाद जीवन भर बना रहे यही कामना है,
बागी भैया आपको शादी की सालगिरह मुबारक हो.
यह हास्य कविता बागी जी को उनकी शादी की १५ वीं सालगिरह पर स्पेम समर्पित है ! जोकि श्री राणा प्रताप सिंह जी के सहयोग से लिखी है !

बहर घूमने खाने की, देखो अब आदत ख़तम हुई
अपने बागी जी की अब, हर एक बगावत ख़तम हुई

जब डेढ़ दशक पहले शादी की, पड़ी पांव में बेड़ियाँ
गप्प लड़ाएं मित्रों संग, इसकी भी चाहत ख़तम हुई

अपने भैया को हैं भाए, बेलन इतने भाभी के
हलुए, खीर और पूडी, खाने की हसरत ख़तम हुई

तड़के ही उठ कर अब इनको, दूध भी लाना पड़ता है
दिन चढ़ने तक सोने की, जो भी थी राहत ख़तम हुई

भूल गए चौराहा और, पप्पू की चाय भी भूल गए
और सिनेमा के टिकटों की, सारी कीमत ख़तम हुई

पत्नी जी जब सामने आये, ये मिमियाते फिरते हैं
कभी दहाड़े, धरती हिलती, अब वो ताकत ख़तम हुई
waah waah....bagi ji ki peeda ko shabd de diye rana ji aur yogi sir ne ....wah
21 tareekh se apka chhota bhai apne jeevan me nayi job ke saath nayi shuruaat karne ja raha hai, central india ke ek bade MBA entrance coaching institute Cerebral Heights ki monthly magazine 'EnriCH" ka sub editor ban ke join kar raha hu....sabhi ki duaon ki jarurat hai.....:)
दुष्यंत जी, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के तरफ से मैं परम पिता परमेश्वर से कामना करते है की आप नई जॉब के साथ सफलता की बुलंदियों पर पहुचे,

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Balram Dhakar's blog post ग़ज़ल : बलराम धाकड़ (पाँव कब्र में जो लटकाकर बैठे हैं।)
"आ. भाई बलराम जी, सादर अभिवादन। बेहतरीन गजल हुई है। हार्दिक बधाई।  क्या "शाइर" शब्द…"
3 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' posted a blog post

ग़ज़ल-रफ़ूगर

121 22 121 22 121 22 सिलाई मन की उधड़ रही साँवरे रफ़ूगर सुराख़ दिल के तमाम सिल दो अरे रफ़ूगर उदास रू…See More
12 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"आदरणीय चेतन प्रकाश जी नमस्कार। हौसला बढ़ाने के लिए हार्दिक धन्यवाद।"
13 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"आदरणीय ब्रजेश कुमार ब्रज जी हौसला बढ़ाने के लिए हार्दिक धन्यवाद।"
13 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post सदा - क्यों नहीं देते
"स आदरणीय समर कबीर सर् सादर नमस्कार। आदरणीय ग़ज़ल पर इस्लाह देने के लिए बेहद शुक्रिय: ।सर् आपके कहे…"
13 hours ago
Usha Awasthi posted a blog post

सौन्दर्य का पर्याय

उषा अवस्थी"नग्नता" सौन्दर्य का पर्याय बनती जा रही हैफिल्म चलने का बड़ा आधारबनती जा रही है"तन मेरा…See More
15 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Usha Awasthi's blog post वसन्त
"आ. ऊषा जी, सादर अभिवादन। अच्छी रचना हुई है। हार्दिक बधाई।"
17 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Anita Bhatnagar's blog post ग़ज़ल
"आ. अनीता जी, सादर अभिवादन। गजल का प्रयास अच्छा है पर यह और समय चाहती है। कुछ सुझाव के साथ फिलहाल इस…"
17 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Sushil Sarna's blog post दोहा मुक्तक .....
"आ. भाई सुशील जी, सादर अभिवादन। सुन्दर मुक्तक हुए हैं। हार्दिक बधाई।"
18 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted a blog post

दोहे वसंत के - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"

जिस वसंत की खोज में, बीते अनगिन सालआज स्वयं ही  आ  मिला, आँगन में वाचाल।१।*दुश्मन तजकर दुश्मनी, जब…See More
20 hours ago
PHOOL SINGH posted blog posts
yesterday
Balram Dhakar posted a blog post

ग़ज़ल : बलराम धाकड़ (पाँव कब्र में जो लटकाकर बैठे हैं।)

22 22 22 22 22 2 पाँव कब्र में जो लटकाकर बैठे हैं।उनके मन में भी सौ अजगर बैठे हैं। 'ए' की बेटी,…See More
yesterday

© 2023   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service