For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

तुम्हारी कसम ...

तुम्हारी कसम ...

सच
तुम्हारी कसम
उस वक़्त
तुम बहुत याद आये थे
जब
सावन की फुहारों ने
मेरे जिस्म को
भिगोया था

जब
सुर्ख़ आरिज़ों से
फिसलती हुई
कोई बूँद
ठोडी पर
किसी के इंतज़ार में
देर तक रुकी रही

जब
तुम्हारे लबों के लम्स
देर तक
मेरे लबों से
बतियाते रहे

जब
घटाओं की
कड़कती बिजली में
मैं काँप जाती

जब
बरसाती तुन्द हवाओं से
चराग़ बुझ कर
मुझे तन्हा
कर जाते

जब
सहर के वक्त
बिस्तर पर
न कोई सलवट होती

बिखरे गज़रे के फूल होते

जब
तारीकियों में
हर आहात खामोश हो जाती
बस
होती थी तो
जिस्म में
शेष बची साँसों की तरह
इक इक सांस पे
रुकी हुई बरसात की
टपकती हुई
इक इक बूँद की
टप टप की आवाज़
जो
मेरी हर कसमसाहट को
अंगारों की तड़प दे जाती
सच
तुम्हारी कसम
उस वक्त तुम
मेरे तसव्वुर की चौखट पर
बिना दस्तक आये थे
मैं
कुछ कह न सकी
बस
भीगती रही , भीगती रही
बरसती बारिश में
तुम्हारी आगोश के
इंतज़ार में
इक इक पल
भीगता रहा
उस वक़्त
हाँ
उस वक़्त
कसम से
तुम बहुत याद आये थे

सुशील सरना
मौलिक एवं अप्रकाशित

Views: 68

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Sushil Sarna on June 25, 2017 at 2:40pm

आ.डॉ. गोपाल जी भाई साहिब आपके मुखारविंद से निकली इस काव्यात्मक प्रशंसा का  हार्दिक आभार सर। 

Comment by डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव on June 23, 2017 at 10:36pm

अब क्या मिसाल दूं मैं  तुम्हारे शबाब की ----- सादर .

Comment by Sushil Sarna on June 20, 2017 at 5:50pm

आदरणीय नरेंद्र सिंह जी सृजन को अपनी मधुर प्रतिक्रिया से अलंकृत करने का हार्दिक आभार। कुछ अपरिहार्य कारणों से प्रत्युत्तर में विलम्ब के लिए क्षमा चाहूंगा। 

Comment by Sushil Sarna on June 20, 2017 at 5:49pm

आदरणीय सोमेश कुमार जी सृजन के भावों को आत्मीय मान देने हेतु आपका तहे दिल से शुक्रिया। कुछ अपरिहार्य कारणों से प्रत्युत्तर में विलम्ब के लिए क्षमा चाहूंगा। 

Comment by narendrasinh chauhan on June 16, 2017 at 4:38pm

वाह, लाजवाब रचना 

Comment by somesh kumar on June 16, 2017 at 2:51pm

तुम्हारी कसम 
उस वक्त तुम 
मेरे तसव्वुर की चौखट पर 
बिना दस्तक आये थे 
मैं 
कुछ कह न सकी 
बस 
भीगती रही , भीगती रही 
बरसती बारिश में 
तुम्हारी आगोश के 
इंतज़ार में 
इक इक पल 
भीगता रहा 
उस वक़्त 
हाँ 
उस वक़्त 
कसम से 
तुम बहुत याद आये थे

bhut ghre tk utrte hue ahssas 

bhig gya mn aa gyi yaad

thanks  for sharing such a deep meaningful creation !

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Dr Ashutosh Mishra commented on Dr Ashutosh Mishra's blog post हुआ क्या आपको जो आप कहती बढ़ गयी धड़कन
"आदरणीय तेजवीर जी रचना पर आपकी प्रतिक्रिया के लिए ह्रदय से आभारी हूँ सादर"
9 minutes ago
KALPANA BHATT ('रौनक़') posted blog posts
20 minutes ago
Nita Kasar commented on TEJ VEER SINGH's blog post परोथन – लघुकथा -
"डर नही ये मन की धारणा है,जो आग्रह करती है थोड़ी तक ीफ झेली जा सकती है पर दर से कोई भूखा ना जाये…"
24 minutes ago
Sheikh Shahzad Usmani commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post बाज़ार में जूतमपैजार (लघुकथा)/ शेख़ शहज़ाद उस्मानी
"हौसला अफज़ाई के लिए तहे दिल से बहुत-बहुत शुक्रिया आदरणीय तेज वीर सिंह जी।"
27 minutes ago
Nita Kasar commented on Dr. Vijai Shanker's blog post आपका हक़ - डॉo विजय शंकर
"कम शब्दों में गहरी बात बधाई आद० विजय शंकर जी ।"
28 minutes ago
Sheikh Shahzad Usmani commented on नयना(आरती)कानिटकर's blog post वो दिन---
"शीर्षक बहुआयामी संकेत देने वाला होने के कारण पहले तो पाठक का ध्यान आकृष्ट कराता है रचना की ओर और…"
28 minutes ago
Sushil Sarna commented on vijay nikore's blog post प्राण-स्वप्न
"कभी मुंदती, कभी खुलती पलकें तुम्हारीशिशु-सी मुस्कान, कि मानो ईश्वर हो पासआसमान भी अब बिना सरहद का…"
30 minutes ago
Niraj Kumar commented on रामबली गुप्ता's blog post ग़ज़ल-गलतियाँ किससे नही होतीं-रामबली गुप्ता
"आदरणीय रामबली जी, उर्दू के उस्ताद शायरों की तरफ न भी जाय तो हिंदी में दुष्यंत के यहाँ भी ऐसी ग़ज़लों…"
31 minutes ago
Sheikh Shahzad Usmani commented on नयना(आरती)कानिटकर's blog post वो दिन---
"सबका साथ सबका विकास का सार्थक आह्वान करती बेहतरीन विचारोत्तेजक रचना के लिए सादर हार्दिक बधाई आदरणीय…"
32 minutes ago
Sushil Sarna commented on TEJ VEER SINGH's blog post परोथन – लघुकथा -
""हाँ बिटिया, नवरात्रे में दरवाजे से कोई कन्या खाली हाथ लौट जाय तो अशुभ होता है"।वाह…"
34 minutes ago
Sheikh Shahzad Usmani commented on Dr. Vijai Shanker's blog post आपका हक़ - डॉo विजय शंकर
"बेहतरीन कटाक्ष। साथ ही प्रेरक और विचारोत्तेजक। सादर हार्दिक बधाई आदरणीय डॉ. विजय शंकर जी।"
36 minutes ago
Sushil Sarna commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post सूत्र और सूत्रधार (लघुकथा)/शेख़ शहज़ाद उस्मानी
"आदरणीय शहजाद उस्मानी जी , आदाब सुंदर सार्थक और व्यंगात्मक कटाक्ष की इस सुंदर लघुकथा के लिए हार्दिक…"
38 minutes ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service