For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Pradeep Kumar Shukla
Share

Pradeep Kumar Shukla's Friends

  • Dr Ashutosh Vajpeyee
  • annapurna bajpai
  • कल्पना रामानी
  • sharadindu mukerji
  • बृजेश नीरज
  • वेदिका
  • Meena Pathak
  • anwar suhail
  • Ashok Kumar Raktale
  • Saurabh Pandey
 

Pradeep Kumar Shukla's Page

Latest Activity

Pradeep Kumar Shukla commented on Pradeep Kumar Shukla's blog post "विडम्बनाएं"
"Dhanyavaad  नादिर ख़ान sahab"
Mar 17, 2014
नादिर ख़ान commented on Pradeep Kumar Shukla's blog post "विडम्बनाएं"
"बहुत उम्दा रचना है आदरणीय प्रदीप जी, जिंदगी का निचोड़ आपकी रचना मे समाहित है... कितनी गहराई से सोच कर आपने इसे लिखा भाई कमाल है ।"
Mar 17, 2014
Pradeep Kumar Shukla commented on Neeraj Kumar Neer's blog post होली और बादर : गीत
"sundar holi geet Neeraj ji, badhai"
Mar 17, 2014
Pradeep Kumar Shukla commented on कल्पना रामानी's blog post कहमुकरियाँ-36 से 50/कल्पना रामानी
"bahut hi khoobsoorati se rachi gayin paheliyan, badhai Kalpana ji"
Mar 17, 2014
Pradeep Kumar Shukla commented on Pradeep Kumar Shukla's blog post "विडम्बनाएं"
"is sundar kaavyatmak pratikriya ke liye haardik aabhaar  मनोज कुमार सिंह 'मयंक' ji,  aapko bhi holi ke dheron shubhkaamnayein"
Mar 17, 2014
मनोज कुमार सिंह 'मयंक' commented on Pradeep Kumar Shukla's blog post "विडम्बनाएं"
"जन्म मृत्यु का चक्र वक्र हो या फिर सीधा | कोटि कोटि ब्रम्हांड, काल ने सबको जीता || द्वैत भाव भाव दुर्धर्ष पराक्रम से जय होगा | बिंदुमात्र अस्तित्व सिंधु बन कर लय होगा || उन्नत वैचारिक कविता के लिए कोटिशः बधाइयां आदरणीय प्रदीप भाई...सपरिवार,सस्नेह…"
Mar 17, 2014
Pradeep Kumar Shukla posted a blog post

"विडम्बनाएं"

किरणों को अभिशाप पड़ेंगी वे जिन जिन परकर देंगी परछाईं काली किसी पटल पर ।हर जीवन के संग जनमती मृत्यु, अजय हैहर आशा में छुपा निराशा का भी भय है ॥धन औ ऋण का योग बनाता सदा शून्य हैगोल शून्य सा भाल किन्तु रत धन औ ऋण में ।हासिल जिसका शून्य पराजय वह कहलातीकिन्तु शून्य को छू पाऊँ तो अजय विजय है ॥हर आशा में छुपा निराशा का भी भय है ॥जन्मदिवस कि ख़ुशी प्रसव के पीर से उपजीराम नाम का ज्ञान मरा में छुपा मिला था ।शब्द तो कहते हैं, पर क्या यह बात सही है ?हर बार निराशा के आखिर में आशा तय है ?हर आशा में छुपा…See More
Mar 17, 2014
Dr Ashutosh Vajpeyee and Pradeep Kumar Shukla are now friends
Dec 3, 2013
Pradeep Kumar Shukla might attend बृजेश नीरज's event
Thumbnail

ओबीओ लखनऊ चैप्टर काव्य गोष्ठी at कैफ़ी आज़मी अकादमी, गुरुद्वारा रोड, पेपर मिल कॉलोनी,

November 21, 2013 from 5pm to 7:30pm
ओबीओ लखनऊ चैप्टर द्वारा दिनांक २१.११.२०१३ को सायं ५.०० बजे से आल इंडिया कैफ़ी आज़मी अकादमी, पेपर मिल कॉलोनी, निशातगंज, लखनऊ में एक काव्य गोष्ठी का आयोजन किया है.इस काव्य गोष्ठी में आप सब सादर आमंत्रित हैं.कार्यक्रम का विवरण-कार्यक्रम: काव्य गोष्ठीदिनांक: २१.११.२०१३स्थान: कैफ़ी आज़मी अकादमी, गुरुद्वारा रोड, पेपर मिल कॉलोनी, निशातगंज, लखनऊ समय:सायं ५.०० बजे से पंजीकरण सायं ५.३० से रात्रि ७.३० तक काव्य गोष्ठी संयोजक शरदिंदु मुखर्जी 9935394949See More
Nov 13, 2013
Pradeep Kumar Shukla commented on sharadindu mukerji's blog post आँखों देखी – 5 आकाश में आग की लपटें
"waah, vaastav mein behad rochak anubhav raha hoga ... aise avismarniy anubhav aur is lekh Ke sarvottam rachna chune jaane par aapko bahut bahut badhai"
Nov 13, 2013
कल्पना रामानी left a comment for Pradeep Kumar Shukla
"आदरणीय प्रदीप जी, मेरी मित्र मंडली में आपका हार्दिक स्वागत"
Nov 8, 2013
कल्पना रामानी left a comment for Pradeep Kumar Shukla
Nov 8, 2013
Pradeep Kumar Shukla replied to बृजेश नीरज's discussion ओबीओ लखनऊ चैप्टर के संयोजक का चुनाव
"bahut bahut badhai Shardindu Sir ko"
Nov 8, 2013
Pradeep Kumar Shukla commented on Saurabh Pandey's blog post छठ महापर्व // -- सौरभ
"is vistrit jaankari ke liye vishesh dhanyavaad sir"
Nov 7, 2013
Pradeep Kumar Shukla commented on Dr Ashutosh Vajpeyee's blog post बलिष्ठ हुआ कलि है
"waah ... bahut sundar ... badhai aur dhanyavaad Dr. Ashutosh Vajpayee ji"
Oct 29, 2013
Pradeep Kumar Shukla and anwar suhail are now friends
Oct 29, 2013

Profile Information

Gender
Male
City State
Kanpur, UP
Native Place
Lucknow
Profession
Govt. Servant

Pradeep Kumar Shukla's Blog

"विडम्बनाएं"

किरणों को अभिशाप पड़ेंगी वे जिन जिन पर

कर देंगी परछाईं काली किसी पटल पर ।

हर जीवन के संग जनमती मृत्यु, अजय है

हर आशा में छुपा निराशा का भी भय है ॥

धन औ ऋण का योग बनाता सदा शून्य है

गोल शून्य सा भाल किन्तु रत धन औ ऋण में ।

हासिल जिसका शून्य पराजय वह कहलाती

किन्तु शून्य को छू पाऊँ तो अजय विजय है ॥

हर आशा में छुपा निराशा का भी भय है ॥

जन्मदिवस कि ख़ुशी प्रसव के पीर से उपजी

राम नाम का ज्ञान मरा में छुपा मिला था…

Continue

Posted on March 17, 2014 at 12:41am — 4 Comments

'सास बहू के झगड़े'

 

माँ ममता की लाली घर आँगन छा जाए

जब प्राची की गोद बाल दिनकर आ जाए ।

कलरव कर कर पंछी अपना सखा बुलाएं

चलो दिवाकर खुले गगन क्रीड़ा हो जाए ॥

 

सब जग में सुन्दरतम तस्वीर यही मन भाती

गोद हों शिशु अठखेलियाँ मैया हो दुलराती |

लगे ईश सी चमक मुझे उन नयनों से आती

तभी यक़ीनन नित प्रातः प्राची पूजी जाती ||

 

शीत काल है जब जब कठिन परीक्षा आई

खेल हुआ है कम तब तब रवि करे पढाई ।

और, स्वतंत्र हो खूब सूर्य तब चमक…

Continue

Posted on September 24, 2013 at 4:00pm — 14 Comments

Comment Wall (3 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 2:26pm on November 8, 2013, कल्पना रामानी said…

आदरणीय प्रदीप जी, मेरी मित्र मंडली में आपका हार्दिक स्वागत

At 2:25pm on November 8, 2013, कल्पना रामानी said…

At 11:33pm on September 25, 2013, annapurna bajpai said…

आदरणीय प्रदीप जी आपका ओ बी ओ परिवार मे  स्वागत है ।  

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Naveen Mani Tripathi posted blog posts
6 minutes ago
Sushil Sarna posted a blog post

लौट आओ ....

लौट आओ .... बहुत सोता था थक कर तेरे कांधों पर मगर जब से तू सोयी है मैं आज तक बंद आँखों में भी चैन…See More
6 minutes ago
Niraj Kumar commented on rajesh kumari's blog post हैं वफ़ा के निशान समझो ना (प्रेम को समर्पित एक ग़ज़ल "राज')
"जनाब समर कबीर साहब, आदाब, 'रोजे का दरवाजा' क्या होता है मै इससे वाकिफ नहीं हूँ. स्पष्ट कर…"
9 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on Mohammed Arif's blog post लघुकथा--इशारा
"मुहतरम जनाब आरिफ़ साहिब आदाब ,अच्छी लघुकथा हुई है ,मुबारकबाद क़ुबूल फरमाएं"
10 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on MUZAFFAR IQBAL SIDDIQUI's blog post " फर्ज " ( लघु कथा )
"जनाब मुज़फ्फर साहिब ,अच्छी लघुकथा हुई है ,मुबारकबाद क़ुबूल फरमायें"
12 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on Naveen Mani Tripathi's blog post नए चेहरों की कुछ दरकार है क्या
"जनाब नवीन साहिब ,अच्छी ग़ज़ल हुई है ,मुबारकबाद क़ुबूल फरमाएं।"
14 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on rajesh kumari's blog post हैं वफ़ा के निशान समझो ना (प्रेम को समर्पित एक ग़ज़ल "राज')
"मुहतर्मा राजेश कुमारी साहिबा ,अच्छी ग़ज़ल हुई है ,मुबारकबाद क़ुबूल फरमाएं । शेर 4 का उला मिसरे की बह्र…"
18 minutes ago
Sushil Sarna commented on Dr.Prachi Singh's blog post चलो अब अलविदा कह दें......
"न मैं अब राह देखूँगी, न अब मुझको पुकारो तुम न अब उम्मीद होगी ये कि फिर मुझको सँवारो तुममुझे हर बार…"
25 minutes ago
Ajay Kumar Sharma commented on Dr.Prachi Singh's blog post चलो अब अलविदा कह दें......
"सुन्दर रचना.. बधाई हो."
29 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on Dr.Prachi Singh's blog post चलो अब अलविदा कह दें......
"मुहतर्मा प्राची साहिबा ,बहुत ही सुन्दर रचना हुई है ,मुबारकबाद क़ुबूल फरमाएं"
41 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on vijay nikore's blog post दरगाह
"मुहतरम जनाब विजय निकोरे साहिब ,बहुत ही सुन्दर रचना हुई है ,मुबारकबाद क़ुबूल फरमाएं"
44 minutes ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' posted a blog post

ग़ज़ल...वही बारिश वही बूँदें वही सावन सुहाना है-बृजेश कुमार 'ब्रज'

१२२२   १२२२ ​   १२२२    १२२२​वही बारिश वही बूँदें वही सावन सुहाना हैतेरी यादों का मौसम है लवों पे…See More
45 minutes ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service