For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Er. Ambarish Srivastava's Comments

Comment Wall (37 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 10:05am on December 31, 2012, कुमार गौरव अजीतेन्दु said…

आदरणीय अग्रज अम्बरीश जी, आपको सपरिवार नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ.......

At 11:19am on October 16, 2012,
सदस्य टीम प्रबंधन
Dr.Prachi Singh
said…

जन्मदिवस की शुभकामनाओं के लिए बहुत बहुत धन्यवाद अम्बरीश जी.. दो दिन के लिए हरिद्वार प्रवास पर थी इसलिए सन्देश आज ही देख सकी. हार्दिक धन्यवाद 

At 4:26pm on September 13, 2012, लक्ष्मण रामानुज लडीवाला said…

आदरणीय अम्बरीश श्रीवास्तवजी, यह समाचार पढ़कर प्रसन्नता हुई क़ि दुरुद्वारा,सीतापुर में आपको सम्मानित किया गया है | इस उपलब्धि पर आपको हार्दिक बधाई - लक्ष्मण प्रसाद लडीवाला,जयपुर   

At 11:19am on August 7, 2012, seema agrawal said…

thanks Ambareesh jee 

At 2:54pm on August 1, 2012, डॉ. सूर्या बाली "सूरज" said…

अम्बरीष जी आपकी शुभकामनायेँ और बधाइयां मिली बहुत अच्छा लगा । आपको बहुत बहुत धन्यवाद!  ऐसे ही स्नेह बनाएँ रखें !

At 5:36pm on July 23, 2012, Albela Khatri said…




thank you so much my dear friend ! आपका बहुत बहुत धन्यवाद - हार्दिक  आभार, कृपया यों ही स्नेह बनाए रखिये, आपका सौजन्य ही  मेरा पराक्रम है, ખુબ ખુબ આભાર ...ખુબ ખુબ આભાર ....તમારી શુભકામનાઓ મારા સીર આંખો પર ...........

At 11:14pm on July 1, 2012, SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR said…

प्रिय और आदरणीय  अम्बरीश जी जन्म दिन पर (विलंबित)  ढेर सारी हार्दिक शुभ कामनाएं  आप दिन दिन उगें चमकें सूरज से हम सब रौशनी यों ही पायें .प्रभु सब मंगल करें .जय श्री राधे 

भ्रमर ५ 
At 9:46pm on June 30, 2012, CA (Dr.)SHAILENDRA SINGH 'MRIDU' said…

जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनाएं सर जी

At 10:36am on June 30, 2012, लक्ष्मण रामानुज लडीवाला said…
श्री अम्बरीश श्रीद्स्वस्तव जी,आपको जन्म दिन पर हमारी सपरिवार हार्दिक शुभ 
कामनाए भगवन आपको सतयु जीवन प्रदान कर देश समाज और परिवार में 
रचनातक कार्य करते रहने का सहस प्रदान करे - लक्ष्मण प्रसद लडीवाला
At 6:41am on June 30, 2012, कुमार गौरव अजीतेन्दु said…
आदरणीय अम्बरीष जी को जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई।
At 3:55pm on May 4, 2012,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…

आदरणीय अम्बरीश भाई, आपके स्नेह का ऋणी हूँ, सुबह सुबह प्रथम शुभकामना वो bhi कुण्डलिया के रूप में दूरभाष पर सुन कर मन आनंदित हो गया, बहुत बहुत आभार आपका |

At 6:35pm on April 10, 2012, MANISHI SINGH said…

aadarniya ambrish ji, saadar abhivadan 

aapka bahumulya margdarshan chahiye.

dhanyavaad. 

At 8:39pm on April 8, 2012, Mukesh Kumar Saxena said…

भाई अम्बरीश जी मै आपकी प्रशंशा का हकदार वन पाया हूँ सोच कर ख़ुशी होती है और आपकी सराहना जो अपने पात्रता और फर्क की की है उसके लिल्ये धन्यवाद.

At 4:16pm on April 8, 2012, Sarita Sinha said…

ambarish ji namaskar, pratikriya dene ke liye dhanyvad...

At 12:52pm on April 7, 2012, MAHIMA SHREE said…
अम्बरीश सर,
मैं अपने मेरे ऑफिस में obo site prohibited hai.. मैं जैसे तैसे खोल कर कमेंट्स करती हूँ...reply button काम नहीं कर रहा है ..और मेरा कमेन्ट delete भी नहीं
हो रहा है... INBOX. भी काम नहीं कर रहा .. इस
लिए massage भी नहीं कर पा रही हूँ....मैं अभी शाम ७ बजे तक कुछ करने में अक्षम हूँ...इसलिए क्षमा चाहती हूँ.....अब मैं ७ बजे के बाद ही अपनी गलतियों को सुधार पायुंगी...
क्षमाप्रार्थी ...
महिमा श्री
At 5:39pm on April 6, 2012, MAHIMA SHREE said…
आदरणीय अम्बरीश जी, नमस्कार
आपका हार्दिक धन्यवाद... आभारी हूँ...
At 12:34pm on April 1, 2012, PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA said…

आदरणीय  , श्री अम्बरीश  जी.

सादर अभिवादन.
धन्यवाद.  स्नेह बनाये रखियेगा.
At 11:34am on March 19, 2012, अश्विनी कुमार said…

राकेश त्रिपाठी 'बस्तीवी' replied to Ambarish Srivastava's discussion ''चित्र से काव्य तक प्रतियोगिता अंक -१२'' in the group चित्र से काव्य तक
माननीय मयंक जी, नमस्कार. वियर रस की नदिया बहा दी आपने. बधाई /////परम स्नेही बस्तीवी जी सादर अभिवादन भाई यह अद्भुत रस मेरे लिए नया है और इसे काव्य में समाहित करना भी एक कला है और इस रस को पहचानना भी अपने आप में अद्भुत है आप दोनों को बहुत बहुत बधाई :) वैसे शायद होली बीत गई बीत गई न :) सादर

At 12:34am on February 29, 2012, Monika Jain said…

Aaj ke daur me aadarsho ke saath jine ki pida ke dard ke saath watan ke prati aapki rachna me jo phikra nazar aati hai wo sarahniya hai.

Monika

At 1:56pm on February 1, 2012, Rajiv Gupta said…

नींद से जागा तो मेरी आँख में शबनम थी. 

ख़वाब में उसने मेरी आँखों को रुलाया होगा..

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Aazi Tamaam commented on Aazi Tamaam's blog post ग़ज़ल ~ "ठहर सी जाती है"
"मंच के सभी आदरणीय गुणीजनों को सहृदय प्रणाम गुस्ताखी के लिये दिल से क्षमा चाहूँगा ग़ज़ल में अगर कोई…"
9 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post दिया जला के उसी सम्त फिर हवा न करे (-रूपम कुमार 'मीत')
"आदरणीय समर कबीर साहिब, मैं और प्रयास करता हूँ, दिल से शुक्रिया"
11 hours ago
Samar kabeer commented on Krish mishra 'jaan' gorakhpuri's blog post 'जब मैं सोलह का था'~ग़ज़ल
"जनाब जान गोरखपुरी जी आदाब, ग़ज़ल अभी समय चाहती है,अभ्यासरत रहें ।"
11 hours ago
Samar kabeer commented on amita tiwari's blog post समूची धरा बिन ये अंबर अधूरा है
"मुहतरमा अमिता तिवारी जी आदाब, अच्छी रचना हुई है, बधाई स्वीकार करें ।"
12 hours ago
Samar kabeer commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post दिया जला के उसी सम्त फिर हवा न करे (-रूपम कुमार 'मीत')
"'लगा के आग मेरे घर को फिर हवा न करे किया है जो मेरे दुश्मन ने वो सगा न करे' मुझे इनमें भी…"
13 hours ago
Samar kabeer commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल-क्या करे कोई
"//दर पर ख़ुदा के अर्ज़-ए-तमन्ना करे कोई अब और दर्द देने न आया करे कोई'// ये ठीक है ।"
13 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Krish mishra 'jaan' gorakhpuri's blog post 'जब मैं सोलह का था'~ग़ज़ल
"जनाब कृष मिश्रा गोरखपुरी साहिब आदाब, ख़ूबसूरत इन्सानी जज़्बात से लबरेज़ ग़ज़ल की अच्छी कोशिश की है…"
13 hours ago
Rachna Bhatia commented on Krish mishra 'jaan' gorakhpuri's blog post ग़ज़ल: 'नेह के आँसू'
"आदरणीय समर कबीर सर् सादर नमस्कार। सर्,तबीअत सही न होने के बावज़ूद आपका हर रचना पर बारीक़ी से इस्लाह…"
14 hours ago
Rachna Bhatia commented on Krish mishra 'jaan' gorakhpuri's blog post ग़ज़ल: 'नेह के आँसू'
"आदरणीय कृष मिश्रा जी नमस्कार। आपकी ग़ज़ल हमेशा एक अलग क्लेवर के साथ होती है।बधाई।जहाँ तक रवानी को…"
14 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (निगाहों-निगाहों में क्या माजरा है)
"जनाब लक्ष्मण धामी भाई 'मुसाफ़िर' जी आदाब, ग़ज़ल पर आपकी आमद बाइस-ए-शरफ़ है, सुख़न…"
14 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on amita tiwari's blog post लो चढ़ आया फिर पूर्वी फेरी वाला
"आ. अमिता जी, सादर अभिवादन । अच्छी रचना हुई है । हार्दिक बधाई।"
15 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (निगाहों-निगाहों में क्या माजरा है)
"आ. भाई अमीरूद्दीन जी, सादर अभिवादन । अच्छी गजल हुई है । हार्दिक बधाई।"
16 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service