For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

सात फेरों की रस्में निभाओ मगर - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'

2122    1221    2212

**********************
रूह  प्यासी  बहुत  घट ये  आधा न दो
आज ला के निकट कल का वादा न दो


रूख  से  जुल्फें  हटा  चाँदनी  रात में
चाँद को  आह  भरने  का मौका न दो


फिर  दिखा  टूटता नभ  में तारा कोई
भोर  तक  ही  चले  ऐसी आशा न दो


प्यार  के  नाम  पर  खेल कर देह से
रोज  मासूम  सपनों  को धोखा न दो


सात फेरों  की  रस्में  निभाओ  मगर
देह  तक ही  टिके  ऐसा  रिश्ता न दो


चाहिए  अब  समाजों  को  ताजी हवा
तंग नजरों का खिड़की पे ताला न दो


है शिकारी  सी  फितरत  पता है हमें
जाल  फैला  के  थोड़ा सा दाना न दो


याद घर की मुसाफिर को आ जाएगी
वक्त  गौधूलि  के  आज  दीवा न दो


रचना - 10 जनवरी 15
मौलिक और अप्रकाशित

Views: 265

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' on February 5, 2015 at 1:07pm

ग़ज़ल पर उपस्थिति दर्ज कर उत्साहवर्धन और स्नेह के लिए सभी आ० प्रभुद्ध जानो का हार्दिक आभार   आशा है सहयोग बनाये रखेंगे l


मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on January 25, 2015 at 2:57pm

अच्छी ग़ज़ल हुई है आदरणीय लक्ष्मण धामी जी, बधाई.

Comment by Hari Prakash Dubey on January 24, 2015 at 7:49pm

आदरणीय लक्षमण धामी जी,

फिर  दिखा  टूटता नभ  में तारा कोई

भोर  तक  ही  चले  ऐसी आशा न दो......... सुन्दर रचना हार्दिक बधाई आपको  !

 

Comment by Rahul Dangi Panchal on January 24, 2015 at 7:06pm
आदरणीय एक एक शे'र लाजवाब वाह वाह वाह !
पर आदरणीय आप से व अन्य गुनीजनो से अनुरोध है मेरी ये छोटी सी उलझन दूर करने का कष्ट करें!

2122 1221 2212 आपकी इस बहर का क्या नाम है व इस बहर और
212 212 212 212 इस बहर मे क्या अन्तर है? सादर विनती!
Comment by somesh kumar on January 23, 2015 at 11:12pm

सुंदर ,दिलकश गज़ल 


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by शिज्जु "शकूर" on January 23, 2015 at 9:38pm

आदरणीय लक्ष्मण जी कमाल की ग़ज़ल हुई है बहुत बहुत बधाई आपको


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by मिथिलेश वामनकर on January 23, 2015 at 8:17pm

आदरणीय लक्ष्मण धामी जी बहुत बहुत बहुत बेहद उम्दा ग़ज़ल .... एक एक अशआर कमाल .... 

रूह  प्यासी  बहुत  घट ये  आधा न दो
आज ला के निकट कल का वादा न दो............ कमाल का मतला 


रूख  से  जुल्फें  हटा  चाँदनी  रात में
चाँद को  आह  भरने  का मौका न दो.........वाह वाह 


फिर  दिखा  टूटता नभ  में तारा कोई
भोर  तक  ही  चले  ऐसी आशा न दो..... दिल से दाद कुबूल करे 


प्यार  के  नाम  पर  खेल कर देह से
रोज  मासूम  सपनों  को धोखा न दो........ क्या कटाक्ष है सीधा वार करने वाला 


सात फेरों  की  रस्में  निभाओ  मगर
देह  तक ही  टिके  ऐसा  रिश्ता न दो....... ग़ज़ल का सुन्दर मोती


चाहिए  अब  समाजों  को  ताजी हवा
तंग नजरों का खिड़की पे ताला न दो..... आह दिल निकाल लिया इस शेर ने 


है शिकारी  सी  फितरत  पता है हमें
जाल  फैला  के  थोड़ा सा दाना न दो..... वाह वाह वाह 


याद घर की मुसाफिर को आ जाएगी
वक्त  गौधूलि  के  आज  दीवा न दो ... क्या खूब कहा ! आनंद आ गया 

दिल से लाखों बधाइयाँ .... बस कमाल ही कमाल .... दिल में उतर गया एक एक अशआर 

Comment by gumnaam pithoragarhi on January 23, 2015 at 7:09pm

प्यार के नाम पर खेल कर देह से
रोज मासूम सपनों को धोखा न दो

वाह क्या खूब ग़ज़ल हुई है वाह क्या बात है

Comment by Dr. Vijai Shanker on January 23, 2015 at 6:56pm
बहुत सुन्दर ग़ज़ल……और ये पक्तियां लजवाब.

चाँद को आह भरने का मौका न दो
भोर तक ही चले ऐसी आशा न दो
रोज मासूम सपनों को धोखा न दो
देह तक ही टिके ऐसा रिश्ता न दो
बहुत बहुत बधाइयां , आदरणीय लक्षमण धामी जी, सादर।
Comment by kanta roy on January 23, 2015 at 12:46pm
"देह तक टिके ऐसा रिश्ता ना दो "...चंद पंक्तियों में सम्पूर्ण प्रेम की चाहत को बेहद खूबसूरती से आकार दिया आपने आ. लक्ष्मण धामी जी आपने । बधाई आपको इस बेहतरीन रचना के लिए ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

आशीष यादव replied to आशीष यादव's discussion कइसे होई गंगा पार in the group भोजपुरी साहित्य
"आदरणीय श्री Shyam Narain Verma सर, बहुत बहुत धन्यवाद।"
5 minutes ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post महज चाहत का रिस्ता है - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'( गजल)
"आद0 लक्ष्मण धामी 'मुसाफ़िर' जी सादर अभिवादन अच्छा प्रयास है ग़ज़ल का। मतले के दोनों मिसरों…"
1 hour ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post ग़ज़ल को सँवारा है इन दिनों.- ग़ज़ल
"आद0 बसन्त कुमार शर्मा जी सादर अभिवादन समसामयिक विषयो के इर्द गिर्द घूमती बेहतरीन ग़ज़ल के लिए बधाई…"
1 hour ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post सितारों के बिना ये आसमाँ अच्छा नहीं लगता
"आद0 रूपम कुमार मीत जी सादर अभिवादन बेहतरीन ग़ज़ल पर शैर दर शैर दिली मुबारकबादक़ुबूल कीजिये"
1 hour ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप''s blog post गजल- कोख में आने से साँसों के ठहर जाने तक
"आद0 तेजवीर सिंह जी सादर अभिवादन आपकी ग़ज़ल ग़ज़ल पर उपस्थिति और प्रतिक्रिया का हृदयतल से धन्यवाद। सादर"
1 hour ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप''s blog post गजल- कोख में आने से साँसों के ठहर जाने तक
"आद0 आशीष यादव जी सादर अभिवादन आपकी ग़ज़ल ग़ज़ल पर उपस्थिति और प्रतिक्रिया का हृदयतल से धन्यवाद। सादर"
1 hour ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप''s blog post गजल- कोख में आने से साँसों के ठहर जाने तक
"आद0 ब्रजेश कुमार 'ब्रज' जी सादर अभिवादन आपकी ग़ज़ल ग़ज़ल पर उपस्थिति और प्रतिक्रिया का हृदयतल…"
1 hour ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' commented on सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप''s blog post गजल- कोख में आने से साँसों के ठहर जाने तक
"आद लक्ष्मण धामी 'मुसाफ़िर' जी सादर अभिवादन आपकी ग़ज़ल ग़ज़ल पर उपस्थिति और प्रतिक्रिया का…"
1 hour ago
Shyam Narain Verma replied to आशीष यादव's discussion कइसे होई गंगा पार in the group भोजपुरी साहित्य
"आदरणीय आशीष जी, बहुत ही सुंदर प्रस्तुति, हार्दिक बधाई l सादर"
2 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Saurabh Pandey's discussion गजल (भोजपुरी) // -सौरभ in the group भोजपुरी साहित्य
"आ. भाई सौरभ जी, सादर अभिवादन । भाषा के लिहाज से गजल को समझने में थोड़ी सी दिक्कत तो हुई पर मन…"
6 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' joined Admin's group
Thumbnail

भोजपुरी साहित्य

Open Books Online परिवार के सब सदस्य लोगन से निहोरा बा कि भोजपुरी साहित्य और भोजपुरी से जुड़ल बात…See More
6 hours ago
KALPANA BHATT ('रौनक़') posted a blog post

नौ दो ग्यारह ...(लघुकथा)

" काल सुबह कु तैयार हो जाना! हमलोगा को लेने बस आवेगी।"" किधर कु जाना है? मुकादम जी!" " अरे! उवा…See More
6 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service