For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Afroz 'sahr'
Share

Afroz 'sahr''s Groups

 

Afroz 'sahr''s Page

Latest Activity

Afroz 'sahr' commented on Samar kabeer's blog post ग़ज़ल बतौर-ए-ख़ास ओबीओ की नज़्र
"आली जनाब समर साहब आपकी इस तख़्लीक पर में क्या कहूँ । मुझे अल्फा़ज़ नहीं सुझाई देते । बस इतना ही कहूँगा,, , है तर्ज़े सुख़न आपकी तो निराली समर मैं ये सबसे कहा चाहता हूँ। सादर,,,,,,"
5 hours ago
Afroz 'sahr' commented on Mahendra Kumar's blog post ग़ज़ल - वक़्त कुछ ऐसा मेरे साथ गुज़ारा उसने
"आदरणीय महेंद्र कुमार जी अच्छी रचना पर बधाई आपको ।आपने मंच के नियमानुसार अर्कान नहीं लिखे हैं । बाकी गुणीजनों की राय आ ही जाएगी।सादर,,,"
5 hours ago
Afroz 'sahr' commented on KALPANA BHATT ('रौनक़')'s blog post ग़ज़ल (2)
"आदरणीया कल्पना रौनक़ जी सुंदर रचना के लिए बधाईआपको ।सादर"
yesterday
Afroz 'sahr' commented on rajesh kumari's blog post आईने में सिंगार कौन करे (फिलबदीह ग़ज़ल 'राज')
"मोहतरमा राजेश कुमारी जी आदाब बहुत अच्छी ग़ज़ल है शेर दर शेर दाद पेश ए ख़िदमत है कुबूल फ़रमाएँ ।"
yesterday
Afroz 'sahr' replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"जनाब आरिफ़ साहब आपको इस कामयाबी पर दिल की गहराईयों से बहुत बहुत मुबारकबाद पेश करता हूँ। अल्लाह से दुआ गो हूँ की अल्लाह आपको इसी तरह नवाज़ता रहे । आमीन,,,,,,,"
yesterday
Afroz 'sahr' replied to Rana Pratap Singh's discussion ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा-अंक 87 में शामिल सभी ग़ज़लों का संकलन (चिन्हित मिसरों के साथ)
"आदरणीय राणा प्रताप जी ख़ूबसूरत निज़ामत के लिए आपको ह्रदय तल से बहुत बहुत बधाई । सादर,,"
yesterday
Afroz 'sahr' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-87
"आदरणीय लक्षमण धानी साहब आपने ग़ज़ल को सराहा आपका मश्कूर हूँ ।"
Saturday
Afroz 'sahr' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-87
"आदरणीय दिनेश कुमार जी ग़ज़ल में शिरकत और सुख़न नवाज़ी का शुक्रिया ।"
Saturday
Afroz 'sahr' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-87
"janab Munish ji khoobsurat gazal he ! BADHAI aapko !"
Saturday
Afroz 'sahr' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-87
"आदरणीय राजीव कुमार जी बहुत सुंदर ग़ज़ल है। आपको मेंरी और से शेर दर शेर ढेरों बधाई। सादर,,"
Saturday
Afroz 'sahr' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-87
"जनाब शिज्जू शकूर साहब अच्छी ग़ज़ल है। बहुत बधाई आपको। गुणी जनों की राय पर ध्यान दें। सादर,,,"
Saturday
Afroz 'sahr' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-87
"आदरणीय दिनेश कुमार जी शानदार ग़ज़ल के लिए आपको जानदार बधाईईईईईऊऊ"
Saturday
Afroz 'sahr' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-87
"मोहतरमा राजेश कुमारी साहिबा ग़ज़ल में आपकी शिरकत हुई। नवाज़िशें आपकी। दिल की गहराईयों से आपका शुक्रगुज़ार हूँ । सादर,,,"
Saturday
Afroz 'sahr' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-87
"आदरणीय राज़ नवादवी साहब आदाब ग़ज़ल में आपकी शिरकत और सुख़न नवाजी़ पर आपका मश्कूर हूँ। सादर,,,"
Saturday
Afroz 'sahr' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-87
"आदरणीया राजेश कुमारी जी बहुत अच्छी ग़ज़ल के लिए आपको मेंरी और से ढेरों मुबारकबाद।सादर"
Saturday
Afroz 'sahr' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-87
"जनाब राज़ नवादवी साहब ग़ज़ल में शिरकत के लिए आपका शुक्रगुज़ार हूँ। सादर,,,,"
Saturday

Profile Information

Gender
Male
City State
ujjain
Native Place
ujjain
Profession
contractor
About me
contractor

Afroz 'sahr''s Blog

ग़ज़ल -ए- सहर

अर्कान,,,122/122/122/122



मुहब्बत में होना फ़ना चाहता हूँ।

अजब में दिवाना ये क्या चाहता हूँ।



चराग़ ए सुख़न यूँ जला चाहता हूँ।

ग़ज़ल में नया फ़लसफ़ा चाहता हूँ।



नहीं हूँ में कायल के झूठी अना का।

ख़ुदाया तिरी बस रज़ा चाहता हूँ।



सुख़नवर बहुत हैं अनोखे निराले।

में अंदाज़ अपना जुदा चाहता हूँ।



जुनूँ ने ख़िरद से ये क्या कह दिया है।

तिरी हिकमतों का पता चाहता हूँ।



जहाँ भी रहे तू महकता रहे बस।

फ़कत ये ख़ुदा से… Continue

Posted on September 17, 2017 at 1:29pm — 20 Comments

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 2:29pm on September 12, 2017,
सदस्य कार्यकारिणी
मिथिलेश वामनकर
said…

ग़ज़ल सीखने एवं जानकारी के लिए....

 ग़ज़ल की कक्षा 

 ग़ज़ल की बातें 

 

भारतीय छंद विधान से सम्बंधित जानकारी  यहाँ उपलब्ध है.

|

|

|

|

|

|

|

|

आप अपनी मौलिक व अप्रकाशित रचनाएँ यहाँ पोस्ट कर सकते है.

और अधिक जानकारी के लिए कृपया नियम अवश्य देखें.

ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतुयहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे.

 

ओबीओ पर प्रतिमाह आयोजित होने वाले लाइव महोत्सव, छंदोत्सव, तरही मुशायरा व लघुकथा गोष्ठी में आप सहभागिता निभाएंगे तो हमें ख़ुशी होगी. इस सन्देश को पढने के लिए आपका धन्यवाद.

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

KALPANA BHATT ('रौनक़') commented on TEJ VEER SINGH's blog post परोथन – लघुकथा -
"अच्छी कथा हुई है आदरणीय तेज वीर सिंह जी | हार्दिक बधाई |"
2 minutes ago
KALPANA BHATT ('रौनक़') commented on KALPANA BHATT ('रौनक़')'s blog post ग़ज़ल (३)
"आदाब आदरणीय समर भाई जी | जी भाई जी अभी सही करती हूँ , सादर धन्यवाद आपका , आप बहुत अच्छे से सिखाते…"
15 minutes ago
Samar kabeer commented on KALPANA BHATT ('रौनक़')'s blog post ग़ज़ल (३)
"बहना कल्पना भट्ट'रौनक़'जी आदाब,ग़ज़ल का प्रयास अच्छा हुआ है,बधाई स्वीकार करें । ये ग़ज़ल आपने…"
43 minutes ago
Dr Ashutosh Mishra commented on Samar kabeer's blog post 'अदब की मुल्क में मिट्टी पलीद कैसे हो'
"आदरणीय समर सर आपकी हर रचना से सीखते है हम सब बड़ी विनम्रता के साथ अपने एक संशय का निवारण चाहता…"
43 minutes ago
Sushil Sarna posted blog posts
50 minutes ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post तेरे इंतज़ार में ...
"आदरणीय समर कबीर साहिब, आदाब सृजन आपकी मधुर प्रशंसा का आभारी है। इंगित नुक्ते की त्रुटि को मैं अभी…"
53 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की -जैसे धुल कर आईना फ़िर चमकीला हो जाता है,
"शुक्रिया आ. डॉ साहब "
58 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की -जैसे धुल कर आईना फ़िर चमकीला हो जाता है,
"शुक्रिया आ. नन्द किशोर जी "
58 minutes ago
Dr Ashutosh Mishra commented on गिरिराज भंडारी's blog post ग़ज़ल - अब हक़ीकत से ही बहल जायें ( गिरिराज भंडारी )
"तख़्त की सीढ़ियाँ नई हैं अब कोई कह दे उन्हें, सँभल जायें तख़्त की सीढ़ियाँ नई हैं अब कोई कह दे उन्हें,…"
1 hour ago
Samar kabeer commented on नयना(आरती)कानिटकर's blog post वो दिन---
"मोहतरमा नयना जी आदाब,सुंदर प्रस्तुति हेतु बधाई स्वीकार करें ।"
1 hour ago
Samar kabeer commented on Dr. Vijai Shanker's blog post आपका हक़ - डॉo विजय शंकर
"आली जनाब डॉ.विजय शंकर जी आदाब,बहुत दिनों बाद आपकी रचना के दर्शन हुए । चन्द लाइनों में अपने एक किताब…"
1 hour ago
Dr Ashutosh Mishra commented on Mohammed Arif's blog post ग़ज़ल (बह्र -फेलुन) यह ग़ज़ल दुनिया की सबसे छोटी ग़ज़ल है। इसे "गोल्डन बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकार्ड्स" में शामिल किया गया है ।
"आदरणीय आरिफ जी इस समाचार को सुनकर बेहद खुशी हुयी आपकी इस सफलता पर ढेरों बधाई सादर "
1 hour ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service