For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ग़ज़ल -- कुरआन पढ़कर आरती करता रहा - (मिथिलेश वामनकर)

2122--2122--2122--212

इस मकां को बामो-दर से एक घर करती रही

माँ मुसलसल काम अपना उम्र भर करती रही

 

धूप बारिश सर्दियों को मुख़्तसर करती रही

बीज की कुछ कोशिशें मिलकर शज़र करती रही

 

मेरे सिर पर हाथ फेरा था कभी तहजीब ने 

पुरअसर थी वो दुआ अब तक असर करती रही

 

दर्द देखा जो किसी का चलते-चलते रुक गए

साथ में ताउम्र इक आदत सफ़र करती रही.

 

जब तलक खामोशियाँ थी दिल मेरे काबू में था

बात निकली और दिल को बेखबर करती रही  

 

आदमी जैसे मशीनी दम-ब-दम होता रहा 

जिंदगी गुमसुम अकेले में बसर करती रही

 

या पलक उठती नहीं, या तो पलक झुकती नहीं 

वो निगाहें एक जादू रात भर करती रही 

 

मैं इधर कुरआन पढ़कर आरती करता रहा  

वो दुआ में पाठ गीता का उधर करती रही

 

------------------------------------------------------------
(मौलिक व अप्रकाशित)  © मिथिलेश वामनकर 
------------------------------------------------------------

 

Views: 311

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by jaan' gorakhpuri on August 5, 2015 at 6:54pm
आ० मिथिलेश सर!क्या कहने, गज़ल पर कुछ कहने को है ही नही! बस दाद ही दाद निकल रही है हर शेर पर!पूरी गज़ल बेहतरीन शेरों से सजी है,निश्चित ही ये कहना पड़ेगा के मेरी समझ से उस्ताद स्तर की ये गज़ल हुयी है!
खासकर ये दो शेर मैं आपने पास रख रहा हूँ!

इस मकां को बामो-दर से एक घर करती रही
माँ मुसलसल काम अपना उम्र भर करती रही

मेरे सिर पर हाथ फेरा था कभी तहजीब ने
पुरअसर थी वो दुआ अब तक असर करती रही

सदस्य कार्यकारिणी
Comment by गिरिराज भंडारी on August 5, 2015 at 1:59pm

आदरणीय मिथिलेश भाई , खूबसूरत मतले से शुरु हुई गज़ल आखिर तक बहुत सुन्दर हुई है है  , पूरी गज़ल के लिये आपको हार्दिक बधाइयाँ ॥

मैं इधर कुरआन पढ़कर आरती करता रहा  

वो दुआ में पाठ गीता का उधर करती रही  -- हासिले गज़ल शेर के लिये अलग से बधाई आपको ।

Comment by नादिर ख़ान on August 5, 2015 at 1:09pm

इस मकां को बामो-दर से एक घर करती रही
माँ मुसलसल काम अपना उम्र भर करती रही......शानदार मतला कहा सर जी दिल को छू गया | 
दर्द देखा जो किसी का चलते-चलते रुक गए
साथ में ताउम्र इक आदत सफ़र करती रही..... वाह वाह सर क्या खूब कहा वैसे ये शिफत भी माँ से ही आती है|
मैं इधर कुरआन पढ़कर आरती करता रहा 
वो दुआ में पाठ गीता का उधर करती रही    बहुत खूब बहुत खूब बहुत खूब...
उम्दा ग़ज़ल के लिए मुबारकबाद आदरणीय मिथिलेश जी

Comment by Dr Ashutosh Mishra on August 5, 2015 at 1:07pm

आदरणीय मिथिलेश जी आजकल आपकी कलम कमाल कर रही है ..एक से बढ़कर एक शानदार ग़ज़ल ..आप से निवेदन है कि उर्दू के शब्दों के अर्थ जैसा आप पहले करते थे अवश्य करा कीजिये ..इस रचना के लिए हार्दिक बधाई सादर 


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by मिथिलेश वामनकर on August 5, 2015 at 11:58am

आदरणीय रवि जी, ग़ज़ल के प्रयास पर आपकी सार्थक प्रतिक्रिया पाकर अभिभूत हूँ. आपका हृदय से आभारी हूँ. ये ग़ज़ल कई दिनों से लिखकर रखी थी. बार बार सुधार करता रहा हूँ लेकिन एक बिंदु पर आकर मुझे गुंजाइश ही नहीं लगी और लगी भी तो मैं उसे ठीक नहीं कर पा रहा था. यही सोचकर कि और बेहतर बनाने में विद्वतजन की राय अवश्‍य कारगर होगी, इसे प्रस्तुत कर दिया. आपका अमूल्य मार्गदर्शन मिला है तदनुसार पुनः प्रयास करता हूँ. ग़ज़ल को समय देकर सराहना, अमूल्य और सार्थक प्रतिक्रिया आपका बहुत बहुत धन्यवाद .

Comment by Ravi Shukla on August 5, 2015 at 11:42am

आरणीय मिथिलेश जी

पहले तो एक बहुत ही शानदार ग़ज़ल के लिये दिल से दाद कुबूल करिये ।

एक पाठक के तौर पर कहना चाहेंगे

कया रवानी है अशआर में । बहुत खूब ।

उसी पाठक के तौर पर शेर दर शेर बात करें तो मतले से जो सफर हुस्‍ने मतला और बाकी के तीन शेर तक चला तो उसमें

आपका अनुभव शेर दर शेर बयान होता चला गया  । बहुत खूब ।

उसके बाद के दो अशआर में  मिसरा ए सानी जितने खूबसूरत बन पड़े है उतनी कशिश हमें उला मे नहीं लगी । बेहतर को और बेहतर बनाने में विद्वतजन की राय अवश्‍य कारगर होगी ।

और

मैं इधर कुरआन पढ़कर आरती करता रहा  

वो दुआ में पाठ गीता का उधर करती रही

शानदार । यकजहती का आलम,  क्‍या कहने इस शेर को आखिरी शेर का दर्जा दीजिये क्‍योंकि इस शेर को कहने के बाद ग़जल में कुछ कहने के लिये नहीं बचता ।

अच्‍छी ग़ल़ल के लिये पुन: बहुत बहुत बधाई स्‍वीकार करें ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"आ. बबीता बहन । प्रदत्त विषय पर उत्तम हाइकू हुए है। हार्दिक बधाई ।"
9 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"आ. भाई चेतन जी, सादर अभिवादन । विषयानुकूल बढ़िया हाइकू और कुण्डलिया सृजित हुए हैं।…"
41 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"आ. भाई सतविंद्र जी, सादर अभिवादन । दोहों की प्रशंसा के लिए हार्दिक आभार ।"
44 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"आ. भाई दयाराम जी, सादर अभिवादन । दोहों की प्रशंसा के लिए आभार ।"
45 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"आ. भाई सुरेंद्र जी, सादर अभिवादन । दोहों की प्रशंसा के लिए आभार ।"
46 minutes ago
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"आदरणीय सतविंद्र कुमार जी लाजबाब ग़ज़ल हुई है। बहुत बहुत बधाई।"
1 hour ago
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"आदरणीय मेठानी जी बहुत ही सार्थक ग़ज़ल कही है। बधाई स्वीकार कीजिए।"
1 hour ago
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"आदरणीय सतविंद्र कुमार जी आपका बहुत बहुत आभार।"
1 hour ago
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"आदरणीय लक्ष्मण धामी जी आपका हृदयतल से आभार।"
1 hour ago
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"आदरणीय दयाराम जी आपका अतीव आभार।"
1 hour ago
सतविन्द्र कुमार राणा replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"सादर आभार आदरणीय धामी जी"
1 hour ago
Manan Kumar singh replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-117
"बढ़िया कही मेठानी जी,बधाई।"
1 hour ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service