For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

गजोधर भाई, आप तो शराब नहीं पीते थे!/ जवाहर

मैं शाम को अपने घर पर बैठा टी वी देख रहा था. टी वी के एक न्यूज़ चैनल पर सामयिक विषयों पर गरमा गरम बहस चल रही थी. तभी दरवाजे की घंटी बजी. दरवाजा खोला तो गजोधर भाई थे.
मैने कहा – "आइये !"
उन्होंने कहा – "आज यहाँ नहीं बैठूंगा. चलिए कहीं बाहर चलते हैं."
मैंने कहा- "ठीक है चलेंगे. आइये पहले चाय तो पी लें. फिर चलते हैं."
उन्होंने कहा – "चलिए न बाहर ही चाय पीते हैं."
मैं उनके साथ हो लिया. चाय के दुकान जिसमे अक्सर हमलोग बैठकर चाय पीते थे, वहाँ न रुक कर गजोधर भाई के साथ और आगे बढ़ गया. मैंने पूछा – "कहाँ चाय पीयेंगे?"
उन्होंने कहा- "चलिए न आज आपको नई जगह ले चलते हैं."
पैदल चलते चलते हमलोग एक रेस्तरां के पास रुके. गजोधर भाई ने कहा- "आइये".
मैं भी उनके साथ रेस्तरां में घुस गया. रेस्तरां में मद्धिम लाइट जल रही थी. हमलोग एक खाली टेबुल देखकर उसी के पास बैठ गए.
वेटर आया पानी का ग्लास दे गया और आर्डर के लिए पूछने लगा. गजोधर भाई ने इशारे से कुछ समझाया और कहा दो जगह ले आओ. और एक जगह ही कुछ भुने हुए काजू, बादाम ले आना.
थोड़ी देर में वेटर आया और काजू बादाम दे गया. गजोधर भाई ने मुझसे कहा - "लीजिए!"
मैंने भी चम्मच से उठाकर काजू बादाम मुंह में डाला. थोड़ी ही देर में वेटर दो ग्लास में कुछ पीला-नारंगी सा द्रवीय पदार्थ, एक पात्र में आईस क्यूब और एक सोडा की बोतल रख गया. गजोधर भाई की आंखे चमकी और वे मेरी तरफ देखते हुए बोले – "लीजिए सिंह, साहब यह मेरी प्रोमोसन की खुशी में".
"आपका प्रोमोसन हुआ है, यह तो मुझे मालूम है! पर मिठाई की जगह यह क्या है? और आप तो शराब के घोर विरोधी थे."
"अरे सिंह साहब, आजकल मिठाई कौन खाता है? जिसे देखो वह सुगर का मरीज बना हुआ है. सब आजकल इसी से जश्न मनाते हैं. जब मेरा प्रोमोसन हुआ मेरे बॉस की खास फरमाईश थी. मजबूरन कुछ और अधिकारियों के साथ मुझे भी साथ देना पड़ा. शुरुआती ट्रेनिंग के दौरान भी शराब पीना, कांटे चम्मच से खाना कैसे खाया जाता है, वह भी सिखाया गया. उसके बाद पहली अप्रैल को....फिर ऐसे ही किसी और के प्रोमोसन में .... और अब आदत सी हो गयी है .... वीकेंड में अगर कुछ नहीं होता है, तो लगता है कुछ खाली खाली सा....मजा ही नहीं आता.....
खैर आपको ज्यादा जोर नहीं डालूँगा, इच्छा है तो, मेरी खुशी के लिए थोड़ा सा ले लीजिए ... नहीं तो बियर मंगवा देता हूँ ....आप बियर ले लीजिए."
मैंने कहा – "आपकी खुशी के लिए कोल्ड ड्रिंक्स ले लूँगा या कोई जूस अगर यहाँ मिलती हो तो."
फिर उन्होंने बेयरे को आवाज दी और जूस लाने को कहा. मैंने जूस ली और गजोधर भाई मेरे हिस्से की शराब भी गटक गए. पीते पीते ही उन्होंने कहा – "सिंह साहब, ऑफिसर बनना आज के माहौल में सिरदर्द है. काम से ज्यादा बॉस की जी हजूरी करनी पड़ती है. अपने काम के अलावा बॉस का काम भी करना पडता है. डेली घर पहुचने में लेट ... बीबी, बच्चों को इधर समय भी नहीं दे पा रहा हूँ. साप्ताहिक अवकाश के दिन भी अगर सपरिवार कही बाहर निकलने का प्रोग्राम हुआ, तो बॉस का बुलावा आ जाता है. इसीलिये अब तो समझिए टेंसन दूर करने के लिए ही पीता हूँ. इसे लेने का बाद अच्छी नीद आ जाती है. फिर से तरोताजा होकर काम में लग जाते हैं.".... इस तरह गजोधर भाई बातें करते रहे और नयी नयी पैग लेते गए. मैं तो बोर हो रहा था, फिर भी दोस्ती की है तो निभानी तो पड़ेगी ही ...
अब गजोधर भाई आपे में नहीं थे..... "मेरी बीबी न जाने अपने को क्या समझती है ..दिन रात अपने मायके का ही गुणगान करती रहती है ..उसका भाई, उसका बाप से हम क्या मांगने जाते हैं? अपना कमाते हैं, अपना खाते हैं..... हर मौके पर उसे नई साड़ी लाकर देते हैं..... जन्म दिन और शादी के सालगिरह पर कुछ गहने भी बनवा देता हूँ..... अब कार के लिए जिद कर रही है. वह भी ले दूंगा. जरा पहले का 'लोन' 'किलियर' होने दीजिए. 'साले' की ऐसी की तैसी....."
मुझे लगा, दूसरे टेबुल वाले क्या सोच रहे होंगे ... अब मैंने बेयरे को टोका और बिल लाने को कहा – बेयरा बिल लेकर आया. बिल चुकाकर गजोधर भाई को रिक्शे में बिठा, उनके घर तक ले आया. दरवाज खोलने मिसेज गजोधर ही आई थी. देखते ही बोली - "आज फिर पीकर आया है न.... हर दिन का यही हाल हो गया है, मै तो परेशान हूँ इनसे, क्यों ये अधिकारी बने? कर्मचारी ही ठीक थे".
मैंने मिसेज गजोधर से कहा - "आज इन्हें आराम करने दीजिये ... कल मैं शाम को आऊँगा और गजोधर भाई से बात करूंगा". इतना कह मैं अपने घर वापस आ गया और सोचता रहा शराब का घोर विरोधी शराबी कैसे बन गया?
दुसरे दिन शाम को मैं गजोधर भाई के घर था. गजोधर भाई नजरें नीची किये हुए बैठे थे. उनकी मिसेज चाय बनाने किचेन में जा चुकी थी.
बात मैंने ही शुरू की - "गजोधर भाई, आपको शराब की लत कैसे लग गयी आप तो शराब के घोर विरोधी थे ... आप ही कहा करते थे .... सभी बुराइयों की जड़ शराब ही है."
अब गजोधर भाई शुरू हुए - "ऑफिसर बनने के बाद दो सप्ताह की ट्रेनिंग में हम सबको मैनेजमेंट सेंटर में रखा गया, वहां ऑफिसर के तौर तरीके सिखाये गए, कैसे खड़ा होना है, अपने नीचे वाले सहकर्मी से कैसे बात करनी है, कैसे गंभीर रहने की आदत डालनी है, चाय कैसे पीनी है, कांटा-चम्मच कैसे पकड़ा जाता है, फिर शराब कैसे पी जाती है ... आदि आदि ... और इसी क्रम में मैंने भी सबके आग्रह पर एक पैग पहली बार लिया ... मुझे बिलकुल अच्छा नहीं लग रहा था ... तभी एक सह प्रशिक्षु ने ताना मारा - "अरे भाई गजोधर ऊपर जाओगे तो चित्रगुप्त महोदय पूछेंगे - 'तुम्हे संसार में भेजा था, लाइफ एन्जॉय करने को ... तुमने एन्जॉय किया?' तो क्या जवाब दोगे? अरे यार, चार दिनों की जिन्दगी है, खाओ पियो मस्त रहो, कल किसने देखा है?" ... बस मैं ताव में आ गया... वहां तो लड़कियां और महिलाएं भी पी रही थी .... एक पैग लेने के बाद मुझे तो काफी कड़वा लगा ... लगा, ... मेरी गर्दन ही मरोड़ी जा रही ... मैंने न करनी चाही थी, पर उसी सह प्रशिक्षु दोस्त ने कहा- 'अभी नहीं, एक पैग और लो और ऑंखें बंद कर देखो कैसे मजा आता है!'... बस फिर क्या मैं दूसरी दुनिया में था और एक अनजाने से अद्भुत आनंद की अनुभूति करने लगा ... अभी तक जो हरकतें करने में मुझे लज्जा महसूस होती थी वह भी करने लगा ... डांसिंग फ्लोर पर सबके साथ मैं भी झूमने लगा ..."
मैंने पुछा - "क्या वहां कोई ऐसा ब्यक्ति नहीं था, जो शराब नहीं ले रहा था?"
गजोधर भाई - "थे, कई ऐसे लोग थे जो शराब की जगह 'फ्रूट जूस' ले रहे थे ..
मैं - "तो इसका मतलब आपकी कमजोरी ने आपको इस गर्त में ढकेला... जूस पीने वाले आपसे बहादुर निकले.....आपके अन्दर ये ख्वाब मचल रहा होगा कि पीकर देखें, यहाँ तो कोई देख भी नहीं रहा है .. नहीं ?"
गजोधर भाई ने सहमती व्यक्त की.
तबतक भाभी जी (मिसेज गजोधर) चाय के साथ कुछ नमकीन लेकर आ गयी थी. हमलोगों ने एक साथ बैठकर चाय पी, कुछ इधर उधरकी बात चीत की.
चाय पी लेने के बाद मैंने गजोधर भाई से कहा- "चलिए पार्क में चलते हैं वहां कुछ और बातें करेंगे."
हमदोनो पार्क में आ गए ..
मैंने कहा - "गजोधर भाई, प्रकृति में ऐसी बहुत सी चीजें हैं, जिन्हें हम ध्यान से नहीं देखते नहीं महसूस करते हैं....देखिये इस गुलाब के फूल को! काँटों के बीच सबसे ऊपर कैसे मुस्कुरा रहा है, देखियें इन तितलियों को, कैसे मचल रही है! पक्षियों को देखिये, कैसे आकाश की ऊँचाई को नाप रहे हैं. बड़े बड़े वृक्षों को देखिये - ये भीषण गर्मी में भी तन कर खड़े रहते हैं और पथिकों को छाया प्रदान करते हैं. बहती हुई नदी की धारा को देखिये, हर बाधाओं से निपटती हुई दोनों किनारों की प्यास बुझाती हुई, समुद्र में जा मिलती है ... समुद्र की लहरों को देखिये ...कैसे शोर मचाती हुई आती है ओर किनारों से टकड़ा कर, शांत हो वापस लौट जाती है..... छोटे बच्चे को गोद में उठाइए - कैसे आपको पहचानने लगते हैं!. आप घर परिवार वाले हैं, उन्हें लेकर कभी इन पार्कों में आइये, उनके साथ खेलिए - देखिये.... कैसा आनंद और खुशी आपको मिलती है! आप शराब में अपने को मत डुबाइये ... यह शराब ठंढे प्रदेशों के लिए, वह भी सही परिमाण में आवश्यक है, पर हमारा मुल्क तो ऐसे ही गर्म है, यहाँ इसकी आवश्यकता नहीं. यहाँ शराब की नशे में बहुत सारे लोग अनगिनत अपराध के चंगुल में फंस जाते है, जिसके लिए उन्हें ताउम्र पछताना पड़ता है."
बस आज इतना ही, चले घर वापस चलते हैं. गजोधर भाई कभी मेरी और देखते कभी नजरें नीची कर लेते ... हम दोनों वापस अपने अपने अपने घर आ गए.

(मौलिक व अप्रकाशित) 

जवाहर लाल सिंह 

Views: 243

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by JAWAHAR LAL SINGH on May 14, 2013 at 9:53pm

श्रद्धेय कुशवाहा जी, सादर अभिवादन! 

आपका आशीर्वाद मिला ! बहुत बहुत आभार !
Comment by PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA on May 13, 2013 at 5:08pm

आदरणीय सिंह साहब जी 

सादर 

धारा प्रवाह कथा 

आगे क्या होगा ?

दिखावे हेतु सिद्धन्त बदलना 

सुन्दर तरीके से समझाना 

बधाई 

Comment by JAWAHAR LAL SINGH on May 13, 2013 at 7:25am

धन्यवाद शालिनी जी!

Comment by shalini kaushik on May 13, 2013 at 12:15am

 बहुत ही सुन्दर और सार्थक रचना।   सादर,

Comment by JAWAHAR LAL SINGH on May 12, 2013 at 3:49am

आदरणीया कुंती जी, सादर अभिवादन!

आपकी सकरात्मक और उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया का आभार! 

Comment by JAWAHAR LAL SINGH on May 12, 2013 at 3:48am

आदरणीय बृजेश जी सादर अभिवादन!

आपका आशीर्वाद मिला धन्य हुआ! आपका बहुत बहुत आभार!

Comment by JAWAHAR LAL SINGH on May 12, 2013 at 3:45am

आदरणीय केवल प्रसाद जी, सादर अभिवादन!

सराहना के लिए हार्दिक आभार!

Comment by coontee mukerji on May 11, 2013 at 6:41pm

बहुत सुंदर संदेश दिया है आप ने इस कथन में. मन खुश हो गया ./सादर

Comment by बृजेश नीरज on May 11, 2013 at 6:12pm

बहुत सुन्दर! पढ़ने के बाद कुछ कहने को नहीं बस चुपचाप मनन करने को जी हो रहा है। लेखक की गंभीरता और कथ्य का प्रवाह बरबस पाठक को बांधे रहता है। बधाई बधाई बधाई! 

Comment by Kewal Prasad on May 11, 2013 at 11:35am

’गजोधर भाई, प्रकृति में ऐसी बहुत सी चीजें हैं, जिन्हें हम ध्यान से नहीं देखते नहीं महसूस करते हैं....।’  बहुत ही सुन्दर और सार्थक रचना।  बधाई स्वीकारें।   सादर,

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

बासुदेव अग्रवाल 'नमन' commented on Saurabh Pandey's blog post ग़ज़ल : भइ, आप हैं मालिक तो कहाँ आपसे तुलना
"वाहहह आ0 सौरभ जी ईद के पावन मौके पर क्या जानदार ग़ज़ल कही है। एक एक शेर लाजबाब। शेर दर शेर दाद हाजिर…"
13 minutes ago
Mahendra Kumar replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"वो चाँद मेरा आता है बस ईद के ही दिन दुनिया के जिसने सीख लिए हैं चलन तमाम ईद के मुक़द्दस अवसर आपको और…"
21 minutes ago
surender insan posted a blog post

ग़ज़ल

उसकी मौज़ में रहता हूँ।मैं दरिया सा बहता हूँ।।ख़ुद हो शेर अगर आमद।तभी ग़ज़ल कहता हूँ।।सच्ची बात कहूँ जब…See More
3 hours ago
Mohammed Arif replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"अपनों से गले मिलने ईद आ गई देखो,घर-आँगन में ख़ुशियाँ छा गई । ओबीओ साहित्यिक परिवार के समस्त सदस्यों…"
4 hours ago
Samar kabeer commented on Samar kabeer's blog post क़दम उठाने से पहले विचार करना था
"जनाब भाई विजय निकोर जी आदाब,ग़ज़ल में शिर्कत और सुख़न नवाज़ी के लिये आपका तहे दिल से शुक्रगुज़ार हूँ ।"
4 hours ago
Samar kabeer commented on Samar kabeer's blog post क़दम उठाने से पहले विचार करना था
"जनाब नवीन मणि त्रिपाठी जी आदाब,सुख़न नवाज़ी के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया ।"
4 hours ago
Hari Prakash Dubey commented on Hari Prakash Dubey's blog post कागज़ की नाव :कहानी
" बहुत शुक्रिया आपका आदरणीय  सुनील प्रसाद(शाहाबादी) जी ! सादर "
10 hours ago
Hari Prakash Dubey commented on Hari Prakash Dubey's blog post कागज़ की नाव :कहानी
"आदरणीय  बृजेश कुमार 'ब्रज जी ,रचना पर आपके समर्थन के लिए आपका आभार ! सादर "
10 hours ago
Hari Prakash Dubey commented on Hari Prakash Dubey's blog post कागज़ की नाव :कहानी
"आदरणीय  डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव सर ,आपकी सीख से काफी कुछ समझ आ गया है , पुनः…"
10 hours ago
Hari Prakash Dubey commented on Hari Prakash Dubey's blog post कागज़ की नाव :कहानी
"आदरणीया  rajesh kumari जी ,हार्दिक आभार आपका ,आपकी बातों को संज्ञान में लेते हुए…"
10 hours ago
Hari Prakash Dubey commented on Hari Prakash Dubey's blog post कागज़ की नाव :कहानी
"सहमत आदरणीय  Ravi Prabhakar सर ! सादर"
10 hours ago
surender insan commented on दिनेश कुमार's blog post ग़ज़ल -- भले मैं कभी मुस्कुराया नहीं ( दिनेश कुमार )
"वाह वहुत बढ़िया ग़ज़ल हुई है जी। शेर दर शेर दिली दाद कबूल फरमाये जी।"
10 hours ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service