For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

कुछ नया इसमें नहीं , दास्तां पुरानी दे गया 

यार मेरा आँख को नमकीन पानी दे गया |

मैं इसे सबको सुनाऊं , लोग सुनते झूम के 
वो जलाकर दिल मेरा , मुझको कहानी दे गया |

भूल सकता हूँ भला मैं किस तरह उसको बता
याद करने को तडपता दिल निशानी दे गया |

हक उसे तो है मुकरने का मगर मुझको नहीं
हल्फनामा ले गया , वा'दा जुबानी दे गया |

बाद मुद्दत जी रहे जिनको लगाकर हम गले
प्यार करके ' विर्क ' वो यादें सुहानी दे गया |

                                -----------  दिलबाग विर्क

Views: 136

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by राज लाली बटाला on May 8, 2012 at 1:39am

हक उसे तो है मुकरने का मगर मुझको नहीं

हल्फनामा ले गया , वा'दा जुबानी दे गया | khoob rahi !! Virk ji 

सदस्य कार्यकारिणी
Comment by rajesh kumari on May 7, 2012 at 9:07am

बहुत प्यारी भावपूर्ण ग़ज़ल लिखी है विर्क जी 

Comment by Roshni Dhir on May 6, 2012 at 10:49pm

विर्क जी बहुत सुंदर गजल कही .. वाह

Comment by PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA on May 6, 2012 at 9:16pm

हक उसे तो है मुकरने का मगर मुझको नहीं

हल्फनामा ले गया , वा'दा जुबानी दे गया | vah ji vaah. bahut hoshiyar hai vo. badhai.
Comment by dilbag virk on May 6, 2012 at 7:32pm

आभार................

लेकिन  डॉ. होने का सौभाग्य मुझे प्राप्त नहीं है 

Comment by संदीप द्विवेदी 'वाहिद काशीवासी' on May 6, 2012 at 7:16pm

सुन्दर ग़ज़ल की प्रस्तुति डॉ. साहब! बधाई!

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-106
"जनाब आसिफ़ ज़ैदी साहिब आदाब,तरही मिसरे पर ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,लेकिन ग़ज़ल अभी कुछ और समय चाहती…"
4 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post अधूरी सी ज़िंदगी ....
"आद0 Dr.Prachi Singh जी सृजन को आत्मीय मान देने का दिल से आभार। "
4 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post प्रतीक्षा लौ ...
"आदरणीय amod shrivastav (bindouri)जी सृजन को आत्मीय मान देने का दिल से आभार। "
4 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post प्रतीक्षा लौ ...
"आदरणीय  सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप जी सृजन को आत्मीय मान देने का दिल से…"
4 hours ago
Amit Kumar "Amit" replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-106
"आदरणीय नादिर साहब जी बहुत-बहुत धन्यवाद आपका इशारा समझ में आ गया।"
4 hours ago
Manan Kumar singh replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-106
"शुक्रिया।"
4 hours ago
Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-106
"आ0 आसिफ जैदी साहब तहेदिल से शुक्रिया"
4 hours ago
Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-106
"आ0 अमित जी तहेदिल से शुक्रिया"
4 hours ago
Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-106
"आ0 नादिर खान साहब तहेदिल से शुक्रिया"
4 hours ago
Naveen Mani Tripathi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-106
"आ0 नादिर खान साहब तहेदिल से शुक्रियः"
4 hours ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-106
"जनाब मुनीश साहब उम्दा कोशिश हुयी है मुबारकबाद कुबूल करें "
4 hours ago
Asif zaidi replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-106
"जनाब तन्हा जी बहुत बहुत बधाई सुन्दर प्रस्तुति के लिए मोहतरम।"
4 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service