For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

धारावाहिक कहानी :- मिशन इज ओवर (अंक-२)

मिशन इज ओवर (कहानी )

लेखक -- सतीश मापतपुरी

अंक -१ पढ़ने हेतु यहाँ क्लिक करे

  • अंक - दो

                   इंसान अगर जीने का मकसद खोज ले तो निराशा स्वत: दम तोड़ देगी. विकास को निराशा के गहरे अँधेरे कुंए में आशा की एक टिमटिमाती रोशनी नज़र आई,उसने मन ही मन सोचा -" क्यों न एड्स के साथ जी रहे लोगों के पुनर्वास और उनके प्रति लोगों के दृष्टिकोण में सकारात्मक बदलाव को अपने जीवन का मकसद बना लूँ ?"................. और धीरे -धीरे यह सोच दृढ़ संकल्प बन गया. विकास ने महसूस किया कि उसकी जिजीविषा अंगड़ाई लेकर जाग उठी है. उसने खुद को हल्का महसूस किया.

आज कई रोज के बाद विकास शाम को कमरे से बाहर निकला और सुनीता से मिलने मेडिकल कॉलेज के हॉस्टल जा पंहुचा I उसने सुनीता को बिना वजह बताए अपने गाँव जाने की बात बताई और बिना उसका जवाब सुने, बिना उसकी तरफ देखे, वहाँ से वापस हो लिया I उसने सुनीता को कुछ कहने का मौका नहीं दिया I उसकी कानो में क्रमशः क्षीण पड़ती जा रही सुनीता की आवाज़ अभी भी आ रही थी- 'विकास सुनो ......विकास रुको............ विकास रुका तो I ' लेकिन न तो वह रुका और न ही पलट कर सुनीता की तरफ देखा I चलते समय उसने सुनीता को अपना कोई पता-ठिकाना भी नहीं बताया था I

 

अब विकास के सामने उसके जीवन का मकसद और भी स्पष्ट हो चुका था I वह जानता था कि इस मकसद को अमली-जामा पहनाने में उसके बचपन का मित्र रहमत अली मदद कर सकता है I रहमत अली जन-सेवा एवं समाज-सेवा के लिए स्वयं को समर्पित कर चुका था I

विकास गाँव आकर रहमत अली से मिला I वह मन ही मन काफी देर से सोच रहा था कि रहमत से अपनी बात कहे तो कहे कैसे? अगर ईरादा पक्का हो तो राहें खुद-ब-खुद निकल आती हैं I दोनों बातचीत करते हुए गाँव के मध्य से गुजर रहे थे, अचानक कुछ शोरगुल सुनायी पड़ा I एक घर के सामने भीड़ लगी हुई थी I दोनों उस घर के सामने आकर खड़े हो गए I गाँव में रहमत अली की न सिर्फ प्रतिष्ठा थी बल्कि वह लोगों में काफी लोकप्रिय भी था I ग्रामोत्थान ,नारी-जागरण ,साक्षरता जैसी कई स्वयं सेवी संस्थायें रहमत अली के संरक्षण में चल रही थीं I वहां पहुचने पर दोनों को मालुम हुआ कि रामलाल अपने छोटे भाई श्यामलाल को घर से निकाल रहा है और गाँव वाले भी रामलाल का ही साथ दे रहें हैं I पूछने पर रामलाल ने रहमत अली को बताया कि-'मेरे भाई को एड्स हो गया है,अब भला मैं इसे घर में कैसे रख सकता हूँ?'

विकास की आशा के विपरीत रहमत अली इस मामले पर खामोश रह गया ................................................................

क्रमश:

अंक ३ पढ़ने हेतु यहाँ क्लिक करे

 

Views: 270

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Er. Ambarish Srivastava on September 5, 2011 at 11:31pm

बहुत अच्छी कहानी लिखी आपने !बहुत बहुत बधाई आपको !  किसी भी परिस्थिति में इंसान को हार नहीं माननी चाहिए विकट से विकट स्थिति में भी इंसान को जीने के लिए कोई न कोई मिशन मिल ही जाता है ! :-)

Comment by satish mapatpuri on August 13, 2011 at 1:02am

जय हो गुरूजी, आप मिशन इज ओवर का हर अंक पढ़ रहे हैं,इसके लिए शुक्रिया.

रविजी, हर लेखक -कवि अर्थात साहित्यकार अपने युग का प्रतिनिधि होता है, वह वही लिखता है -जो समाज में घटित होता है. आपने अपना बहुमूल्य समय निकाल कर मेरी कहानी पढ़ी और अपनी राय व्यक्त की, इसके लिए बहुत -बहुत धन्यवाद.

परम आदरणीय सौरभजी, आपकी सराहना से मुझे प्रेरणा मिलती है, धन्यवाद.


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on August 12, 2011 at 2:56pm

घटनाक्रम का टेम्पो बहुत ही फास्ट रखा है आपने, सतीशभाई.  तीसरे अंक का एकदम से इंतज़ार है..

बहुत अच्छे, सतीशभाई. शुभ-शुभ.. ..

 

Comment by Atendra Kumar Singh "Ravi" on August 12, 2011 at 9:27am

aapne kya jan jagran abhiyan chalaya hai .....is kahani ke madhyam se ......padkar achha laha badhai swikaar karen aur saath hi naman..........

Comment by Rash Bihari Ravi on August 11, 2011 at 2:28pm

bahut badhia apna dost se bole ki nahi bole tensan de diye bhai 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

अमीरुद्दीन 'अमीर' replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"धन्यवाद लक्ष्मण धामी मुसाफ़िर जी, मेरी तरफ़ से भी आपको और सभी को गणतंत्र दिवस की हार्दिक…"
18 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"ओबीओ परिवार के समस्त सदस्यों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ..."
18 hours ago
DR ARUN KUMAR SHASTRI commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"गजल में आपकी सादगी का गुमां मुझको हुआ है //लम्हा लम्हा हरफ ब हरफ बानगी से जुडा हुआ है…"
yesterday
Samar kabeer commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"बहुत शुक्रिय: प्रिय ।"
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"रूह के पार मुझको बुलाती रही' क्या कहने.. आ. भाई समर जी।"
yesterday
Samar kabeer commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"भाई गुरप्रीत सिंह जी आदाब, बहुत अर्से बाद ओबीओ पर आपको देख कर ख़ुशी हुई ।"
yesterday
Gurpreet Singh jammu commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"/रूह*हर दर्द अपना भुलाती रही// यूँ कहें तो:- 'रूह के पार मुझको बुलाती रही वाह वाह आदरणीय समर…"
yesterday
Gurpreet Singh jammu commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"आदरणीया रचना भाटिया जी नमस्कार। बहुत ही बढ़िया ग़ज़ल का प्रयास आपकी तरफ से । पहले दोंनों अशआर बहुत…"
yesterday
Samar kabeer commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"//रूह*हर दर्द अपना भुलाती रही// यूँ कहें तो:- 'रूह के पार मुझको बुलाती रही'"
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"आ. रचना बहन सादर अभिवादन । अच्छी गजल हुई है । हार्दिक बधाई। मेरे हिसाब से मिसरा यह करें तो अधिक…"
yesterday
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"आदरणीय समर कबीर सर् सादर नमस्कार। सर् सुधारने की कोशिश की है। देखें क्या सहीह है ? एक आवाज़ कानों…"
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post ढूँढा सिर्फ निवाला उसने - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"जनाब लक्ष्मण धामी भाई 'मुसाफ़िर' जी आदाब, सहवन बग़ैर तख़ल्लुस मक़्ते की जगह मतला टाईप हो…"
yesterday

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service