For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

गहन अँधेरे में

रात-अँधेरे सारी रात

टटोलते कोई एक शब्द

स्वयं में स्माविष्ट कर ले 

जो तुम्हारे आने का उल्लास

चले जाने का विषाद

कभी बूँद-बूँद में लुप्त होती

खिलखिलाती रंग-बिरंगी हँसी

और प्यारी हिचकियाँ तुम्हारी

आँसू ढुलकाती, मेरी ओर ताकती

दीप-माला-सी तुम्हारी आँखें

कि मोहनिद्रा में जैसे

मेरे ओठों पर तुम

अपने शब्दों को खोज रही हो

यह प्रासंगकि नहीं है क्या

कि मैं रात-अँधेरे सारी रात

टटोल रहा हूँ वह एक शब्द

स्माविष्ट हो जिसके आवर्त में

तुम्हारी सारी उपरोक्त सर्ष्टि

पर घायल हताश रात में

अन्धकार की सीमा खोजते

विस्मय हत

हर नई सुबह यही जाना कि

बहुत कम थी सारी रात

तुम्हारे आने के सुख

और मजबूर चले जाने के दुख

को प्रथक करने के लिए

गहन धुँधलापन ओढ़े

आज जब मेरे समय के साँचे में

अवशेष पल फड़फड़ा रहे हैं

लिपट रही है मुझसे 

तुम्हारे हृदय की दुखती हुई धड़कन

तुम्हारी वह कष्टमयी मजबूरी

बिखरते खयालों में बरसती बेचैनी

यह जानो प्रिय कि

तुम्हारे आँसुओं की नमी

अभी मेरी आँखों में बाकी है

             -------

-- विजय निकोर

(मौलिक व अप्रकाशित)

Views: 153

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by vijay nikore on October 8, 2019 at 1:37pm

इस आत्मीय सराहना के लिए आपका हार्दिक आभार, मित्र सुशील जी।

Comment by vijay nikore on October 8, 2019 at 1:36pm

आत्मीय सराहना के लिए आपका हार्दिक आभार, भाई समर कबीर जी।

Comment by Sushil Sarna on October 8, 2019 at 12:21pm

वाह आदरणीय विजय निकोर जी हमेशा की तरह नायाब भावों के सैलाब को समेटे शानदार प्रस्तुति। दिल से बधाई सर।

Comment by Samar kabeer on October 7, 2019 at 7:47am

प्रिय भाई विजय निकोर जी आदाब,बहुत ख़ूब, वाह, लाजवाब रचना,इस प्रस्तुति पर बधाई सरकार करें ।

Comment by vijay nikore on October 4, 2019 at 4:13pm

सराहना के लिए आपका हार्दिक आभार, मित्र श्याम नारायन जी

Comment by Shyam Narain Verma on October 2, 2019 at 6:18pm
आदरणीय विजय जी, प्रणाम, बहुत ही सुंदर प्रस्तुति, हार्दिक बधाई l सादर
Comment by vijay nikore on October 2, 2019 at 12:05pm

इस आत्मीय सराहना के लिए आपका हार्दिक आभार, भाई समर कबीर जी।

Comment by Samar kabeer on September 25, 2019 at 8:04am

प्रिय भाई विजय निकोर जी आदाब,बहुत उम्द: और हमेशा की तरह प्रभावशाली सृजन, इस शानदार प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"आदरणीय मुनीश 'तन्हा' जी आदाब बहुत अच्छी ग़ज़ल हुई है दिली मुबारकबाद क़ुबूल फरमाएँ ! मतला…"
21 seconds ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"रेख़्ता पर बहुत कुछ ग़लत होता है,उस पर भरोसा न करें ।"
6 minutes ago
रवि भसीन 'शाहिद' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"आदरणीय समर कबीर साहब, सादर प्रणाम। बहुत बेहतर सर, आगे से इसका ध्यान रखूँगा। ये जानकारी देकर मेरी…"
1 hour ago
रवि भसीन 'शाहिद' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"आदरणीय अनीस भाई, मतला बहुत ख़ूब कहा आपने, और दूसरा शेर भी बहुत अच्छा लगा। आपको इस ग़ज़ल की रचना पर…"
1 hour ago
रवि भसीन 'शाहिद' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"आदरणीय अजय भाई, बहुत ख़ूब मतला हुआ है, और ग़ज़ल के बाक़ी शेर भी अच्छे हैं,  मुबारक़बाद क़ुबूल करें।…"
1 hour ago
रवि भसीन 'शाहिद' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"आदरणीय दण्डपाणि नाहक़ जी, आपकी भरपूर दाद और मुहब्बत के लिए तह-ए-दिल से आपका शुक्रिया अदा करता हूँ।"
2 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"आदरणीय राजेश कुमारी जी, दाद और मुबारक़बाद के लिए बहुत शुक्रिया।"
2 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"आदरणीय अनीस भाई, आदाब। बधाई के लिए तह-ए-दिल से आपका आभार है।"
2 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"आदरणीय रवि शुक्ला जी, मैं आपकी हौसला-अफ़ज़ाई के लिए बहुत आभारी हूँ। मुझे कुछ ग़लतफ़हमी थी, आदरणीय समर…"
2 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"आदरणीय अमित भाई, आपकी बधाई और दाद का तह-ए-दिल से शुक्रिया।"
2 hours ago
अजय गुप्ता replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"उत्तम प्रयास के लिए बहुत-बहुत शुभकामनाएं अनीश जी"
2 hours ago
अजय गुप्ता replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-116
"रु-ब-रु हो कर ही समझे, क्या समझ बैठे थे हम ख़्वाब में मिलने को ही मिलना समझ बैठे थे हम धप्प से आया…"
2 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service