For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Deepak Sharma Kuluvi's Comments

Comment Wall (30 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 10:40pm on May 2, 2014, Abid ali mansoori said…

swagat hai aapka

At 5:27pm on January 7, 2013, श्रीराम said…

 'कुल्लवी' जी अभिवादन और स्वागत है आप का मित्र बनने पर .

At 2:43pm on October 11, 2012, राज़ नवादवी said…

Thanks Kulluvi Saheb, your appreciation of my writing is very valuable to me. Regards

At 1:33pm on July 25, 2012, ganesh lohani said…

At 1:29pm on July 25, 2012, ganesh lohani said…

At 11:37pm on July 18, 2012, SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR said…

आदरणीय दीपक 'कुल्लवी' जी अभिवादन और स्वागत है आप का मित्र बनने पर ....आप के पिता श्री विद्रोही जी को भी मेरा नमन .

.आप की नगरी कुल्लू मनाली है ही ऐसी प्रभुवर कि सब भागे चले आते हैं वैसे ही मै यानी 'भ्रमर' भी भ्रमण करते आप की वादियों तक उत्तर प्रदेश से कई प्रदेशों तक होते आ पहुंचा हूँ और प्रभु कृपा से आप सब के मधुर गान और रचनाओं ,व्यास नदी के तट पहाड़ी वादियों में  प्रेमियों का प्रेम पाते कुछ दिन यहाँ भी गुजारने चलता फिरता रहता हूँ ...
जय साईं ..
भ्रमर ५ 
At 2:32pm on June 8, 2012, अरुण कान्त शुक्ला said…

धन्यवाद कुल्लवी जी .

At 10:31pm on June 4, 2012, MAHIMA SHREE said…

आपकी आभारी हूँ कुलवी जी , धन्यवाद

At 2:35pm on March 27, 2012, PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA said…

aadarniy dipak ji, sadar abhivadan.

aapka sneh mila , utsah badha. aap jaisi mahan hasti ka ashirvachan mere liye anmol hai. aap koyle ko hira kah rahe hain. aap jaise surya ki roshni se prakashit hone ka prayas karunga. abhar.

At 10:29am on March 17, 2012, PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA said…

aadarniya mahoday, sadar abhivadan. aapne mujhe mitr banaya , abhar. 

At 3:51pm on August 10, 2011, Shanno Aggarwal said…
आपका बहुत धन्यबाद, दीपक जी.
At 4:52pm on July 7, 2011, Ananda Shresta said…

Thank You for being with me .दोस्ति बढाने के लिए हार्दिक धन्यबाद् ।

 

At 10:18am on June 24, 2011, Neelam Upadhyaya said…
Ji bahut-bahut dhanyawaad
At 2:43pm on May 16, 2011, R N Tiwari said…
धन्यवाद ! 
At 10:37am on May 13, 2011, Azeez Belgaumi said…

दीपक  जी .... आदाब  .... शुक्रिया  के  आप  ने  मेरे  दर्द  को  महसूस  किया ...

अज़ीज़ बेलगामी
09900222551

At 8:07pm on May 3, 2011,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…
At 4:22pm on February 23, 2011, Team Admin said…

दीपक जी

इस वेबसाइट(ओपन बुक्स ऑनलाइन) पर दुसरे वेबसाइट का लिंक देना मन है...त्वरित कार्यवाई के साथ लिंक हटा दी गयी है....

विशेष जानकारी के लिए ओपन बुक्स ऑनलाइन की प्रकाशन सम्बन्धी नियमावली का लिंक निचे दे रहा हूँ...एक बार देख लेंगे....
आशा है आप सहयोग करेंगे....
आपका
ADMIN
OPEN BOOKS ONLINE

At 9:47am on November 4, 2010, Admin said…
इन्त्जारोपरांत आपकी दो रचना जो दीपावली आधारित थी "OBO लाइव महा इवेंट" अंक १ मे प्रबंधन स्तर से कर दी गई है आप उसे नीचे दिये लिंक पर देख सकते है |
http://www.openbooksonline.com/forum/topics/obo-1/showLastReply
At 11:55pm on October 2, 2010, PREETAM TIWARY(PREET) said…
At 8:44pm on September 15, 2010, Admin said…
आपका तरही मुशायरे के लिये भेजा गया पोस्ट जो नीचे लिखा हुआ है उसे मुशायरा मे पोस्ट कर दिया गया है जिसे आप नीचे के लिंक पर देख सकते है ....
http://openbooksonline.com/forum/topics/obo-2?id=5170231%3ATopic%3A18867&page=8#comments

उन्ही के कदमों में जा गिरा ज़माना है
इश्क़-ओ-मुहब्बत का जिनके पास ख़ज़ाना है
वफ़ा की सूली पे जो हँसता हुआ चढ़ जाए
नाम-ए-बेवफ़ाई से बिल्कुल जो अंजाना है
ईद और दीवाली में जो फ़र्क़ नहीं करता
अल्ला और राम को एक जिसने माना है
आसां नहीं है जीना ऐसे जनू वालों का
शॅमा की मुहब्बत में हँसकर जल जाते परवाने हैं
'दीपक कुल्लवी उन सबको करता है सलाम
इंसानियत का बोझ जो हंसकर उठाते हैं

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-105
"इल्म से अपने दिमाग़ों में चराग़ाँ कर देंमेरे उस्ताद जिसे चाहें ग़ज़ल ख़्वाँ कर दें डूब कर रंग में…"
2 minutes ago
Surkhab Bashar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-105
"मोहतरम जनाब समर कबीर साहब  आदब  बहुत उम्दा ग़ज़ल हुई है दाद के साथ मुबारक बाद कुबूल…"
1 hour ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-105
"वाह !"
1 hour ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-105
"इससे पहले कि ये सब चाक गरेबाँ कर दें वोट जो पास है अपने उसे क़ुरबां कर दें बच गया जो हो ज़रा आँख में…"
1 hour ago
Surkhab Bashar replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-105
"ग़ज़ल आओ इस देश को मिलजुल के गुलिस्ताँ कर दें इसके उजड़े हुए शहरों में चराग़ाँ कर दें हम वतन के…"
2 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-105
"राह दुश्वार बहुत है इसे आसां कर दें ख़ून से अपने बयाबां को गुलिस्ताँ कर दें आज़माने के लिए अज़्म को…"
2 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post 'मुझे भी!' (लघुकथा) :
"आदाब। बहुत-बहुत शुक्रिया जनाब समर कबीर साहिब।"
4 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"समस्त परिवारजन को रंगोत्सव पर हार्दिक बधाइयां और शुभकामनाएं।"
4 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"जनाब गणेश जी "बाग़ी" साहिब आदाब, बहुत-बहुत  मुबारकबाद ।"
4 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post नवगीत-वेदना ने नेत्र खोले-बृजेश कुमार 'ब्रज'
"उत्साहवर्धन के लिए हार्दिक धन्यवाद आदरणीय समर कबीर जी..आपको भी होली की शुभकामनाएं.."
7 hours ago
Tasdiq Ahmed Khan commented on Tasdiq Ahmed Khan's blog post ग़ज़ल (यूँ ही तो न मायूस हम हो गए)
"जनाब ब्रजेश कुमार साहिब  , ग़ज़ल में आपकी शिर्कत और हौसला अफज़ाई का बहुत बहुत शुक्रिया I "
10 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"जुगे जुगे जियऽ ओबीओ के लाल !! .. जै जै .. जै हो.. "
10 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service