For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

2122 1212 22

.
मत  कहो  आप  दौरे   गुरबत   है ।
चश्मेतर  हूँ  ये   वक्ते  फुरकत  है ।।

कुछ तो भेजी खुदा ने  आफ़त है ।
ये  तबस्सुम  है  या  क़यामत  है ।।

उसकी किस्मत को दाद  देता  हूँ ।
जिसको हासिल तुम्हारी कुर्बत है ।।

अलविदा  मत  कहें  हुजूर  अभी ।
बज़्म   को  आपकी  ज़रूरत  है ।।

इश्क़  में  क्या  बताऊँ  मैं  तुमको ।
थोड़ी  उल्फ़त है बाकी तुहमत है ।।

ख्वाहिशें सबकी अपनी अपनी हैं ।
हाशिये   पर  यहाँ   मुहब्बत   है ।।

कैसे आज़ाद  कह  दूं मैं  खुद को ।
दिल पे अब  तक  तेरी हुक़ूमत है ।।

 

फिक्र  मुझको  रक़ीब की तब तक ।
हुस्न  जब तक  तेरा  सलामत है ।।

कुछ  तो  इल्ज़ाम  मुझ पे आएगा ।
ये तो  दुनिया  है इसकी आदत है ।।

तब   मिली  है  शिकस्त  आंखों ।को । 
जब  भी अश्क़ों ने  की बगावत  है ।।

ख्वाहिशें  सबकी अपनी  अपनी हैं ।
हाशिये   पर    यहाँ    मुहब्बत   है ।।

           नवीन मणि त्रिपाठी
           मौलिक अप्रकाशित

Views: 39

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Samar kabeer on December 24, 2019 at 2:19pm

जनाब नवीन मणि त्रिपाठी जी आदाब,ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें ।

'कुछ तो भेजी खुदा ने  आफ़त है ।
ये  तबस्सुम  है  या  क़यामत  है'

इस मतले के दोनों मिसरों में रब्त नहीं है,देखियेगा ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Samar kabeer commented on Zohaib Ambar's blog post ग़ज़ल
"जनाब ज़ोहेब 'अम्बर' जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है,बधाई स्वीकार करें । ग़ज़ल के साथ अरकान…"
23 minutes ago
Samar kabeer commented on प्रशांत दीक्षित 'सागर''s blog post वीर जवान
"जनाब प्रशांत दीक्षित 'सागर' जी आदाब,ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है,बधाई स्वीकार करें । जनाब…"
1 hour ago
Samar kabeer commented on vijay nikore's blog post प्रथम मिलन की शाम
"प्रिय भाई विजय निकोर जी आदाब,बहुत उम्द: कविता लिखी आपने,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।"
1 hour ago
Samar kabeer commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post लिए सुख की चाहतें हम - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'(गजल)
"जनाब लक्ष्मण धामी 'मुसाफ़िर' जी आदाब, ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है,बधाई स्वीकार करें…"
1 hour ago
dandpani nahak commented on vijay nikore's blog post समय पास आ रहा है
"आदरणीय विजय निकोरे जी प्रणाम ! बहुत बहुत बधाई बेहतरीन रचना के लिए वाह क्या कहने ! "इस"घड़ी…"
1 hour ago
Samar kabeer commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post मिट्टी की तासीरें जिस को ज्ञात नहीं -लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'(गजल)
"//यूँ दुनिया को सबका ही घर कहता हैमुझ से बसेरा लेकिन मत कर कहता है// वाक्य विन्यास अभी ठीक नहीं…"
2 hours ago
Samar kabeer commented on Manoj kumar Ahsaas's blog post अहसास की ग़ज़ल-मनोज अहसास
"//इस शेयर में मैंने जलाल का अर्थ तेज प्रकाश लिया है यह मैंने एक शब्दकोश में पढ़ा था बाकी आप बताने…"
2 hours ago
vijay nikore commented on vijay nikore's blog post प्रतीक्षा
"सराहना के लिए आपका हार्दिक आभार, प्रिय भाई समर कबीअर जी"
2 hours ago
vijay nikore commented on vijay nikore's blog post नियति का आशीर्वाद
"सराहना के लिए आपका हार्दिक आभार, मित्र लक्ष्मण जी"
2 hours ago
vijay nikore commented on vijay nikore's blog post समय पास आ रहा है
"सराहना के लिए आपका हार्दिक आभार, भाई समर कबीर जी।"
2 hours ago
Manan Kumar singh replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-58 (विषय: परिवर्तन)
"आपका आभार आदरणीय।"
4 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-58 (विषय: परिवर्तन)
"आ. भाई ओमप्रकाश जी, बहुत मार्मिक कथा हुई है । हार्दिक बधाई ।"
4 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service