For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

कितना अच्छा होता .....

कितना अच्छा होता .....

कितना अच्छा लगता है
फर्श पर
चाबी के चलते खिलौने देखकर
एक ही गति
एक ही भाव
न किसी से कोई गिला
न शिकवा
ऐ ख़ुदा
कितना अच्छा होता
ग़र तूने मुझे भी
शून्य अहसासों का
खिलौना बनाया होता
अपना ही ग़म होता
अपनी ही ख़ुशी होती
न लबों से मुस्कराहट जाती
न आँखों में नमी होती
सब अपने होते
हकीकत की ज़मीं न होती
ख़्वाबों का जहां न होता
बस ऐ ख़ुदा
तूने हमें भी वो चाबी अता की होती
तो न कोई तड़प होती
न कोई अरमां होता

ये
दिल
दर्द से आशना होता

सुशील सरना
मौलिक एवं अप्रकाशित

Views: 513

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Sushil Sarna on October 4, 2016 at 10:27pm

आद.  Arpana Sharma जी प्रस्तुति पर आपकी आत्मीय बधाई का हार्दिक आभार। 

Comment by Arpana Sharma on October 4, 2016 at 3:42pm
आदरणीय सुशील जी, बहुत ही सुंदर भावार्थ लिए कविता है। आपको बहुत बधाई
Comment by Sushil Sarna on October 3, 2016 at 2:48pm

आदरणीय  PRAMOD SRIVASTAVA जी प्रस्तुति पर आपकी स्नेहिल प्रतिक्रिया एवम आत्मीय बधाई का हार्दिक आभार। 

Comment by PRAMOD SRIVASTAVA on October 3, 2016 at 2:44pm

बहुत ही सुंदर रचना के लिए बधाई ।

Comment by Sushil Sarna on September 28, 2016 at 3:34pm

आदरणीय रामबली गुप्ता जी प्रस्तुति पर आपकी स्नेहिल प्रतिक्रिया एवम आत्मीय बधाई का हार्दिक आभार। 

Comment by रामबली गुप्ता on September 23, 2016 at 11:36am
वाकई अनूठी रचना हुई है आद0 भाई सुशील सरना । दिल से बधाई लीजिये।
Comment by Sushil Sarna on September 22, 2016 at 8:29pm

आदरणीय कल्पना भट्ट जी प्रस्तुति पर आपकी आत्मीय बधाई का हार्दिक आभार। 

Comment by Sushil Sarna on September 22, 2016 at 8:29pm

आदरणीय शिज्जु शकूर जी प्रस्तुति पर आपकी स्नेहिल प्रतिक्रिया एवम आत्मीय बधाई का हार्दिक आभार। 

Comment by KALPANA BHATT ('रौनक़') on September 22, 2016 at 4:02pm

आदरणीय सुशिल सरना जी बहुत बहुत बधाई |


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by शिज्जु "शकूर" on September 22, 2016 at 3:43pm

आदरणीय सुशील सरना सर आपकी रचना को महीने की सर्वश्रेष्ठ चुने जाने पर बहुत बहुत बधाई

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity


सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"जय हो.. "
1 hour ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय अशोक भाई साहब, आपकी अपेक्षाओं पर अब खरा उतर पा रहा हूँ, इसी की हार्दिक प्रसन्नता…"
1 hour ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"जय-जय  इस मुखर अनुमोदन के लिए हार्दिक धन्यवाद, गनेस भाई  शुभातिशुभ"
1 hour ago
Ashok Kumar Raktale replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय बाग़ी जी सादर, प्रस्तुत दोहों को सुन्दर पाने के लिए आपका ह्रदय से आभार. सादर "
1 hour ago
Ashok Kumar Raktale replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीया अनामिका सिंह जी सादर, प्रस्तुत दोहों को चित्र पर बेहतरीन पाने के लिए आपका बहुत-बहुत आभार.…"
1 hour ago
Ashok Kumar Raktale replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"जी ! उत्तम. सादर नमस्कार. आदरणीय बागी जी. सादर."
2 hours ago

मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi" replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
" ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 का समय कल तक के लिए बढ़ा दिया गया है, अब…"
2 hours ago
Ashok Kumar Raktale replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय सौरभ जी सादर प्रणाम, मैं तो बिलकुल सहमत हूँ. सौंवे आयोजन की अवधि तीन दिवस होगी मैं तो ऐसा…"
2 hours ago
Satyanarayan Singh replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय बागी जी रचना को मान देने के लिए आपका बहुत बहुत आभार आदरणीय सादर नमन"
2 hours ago

मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi" replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"जी आदरणीय सौरभ भाई साहब, आयोजन को एक दिन के लिए बढ़ा देना उचित होगा. "
2 hours ago
Satyanarayan Singh replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय बागी जी सादर प्रस्तुति पर आपकी उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया हेतु आपका हृदय से आभार आदरणीय "
2 hours ago

मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi" replied to Admin's discussion ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 100 in the group चित्र से काव्य तक
"भाई सत्यनारायण जी, आपकी दूसरी प्रस्तुति भी अच्छी और चित्र के अनुरूप हुई है, बहुत बहुत बधाई आपको."
2 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service