For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

वह कथा कहूँ जो नहीं कही

अम्बर में कलानिधि घूम रहा 

एक निर्झरिणी थी झूम रही 

लहरी थी तट को चूम रही |

अनवरत तरंगे बहती थी 

सब हंसी-ख़ुशी से रहती थी 

और शिला चोट सब सहती थी 

चल-चल, कल-कल कर कहती थी |

वह घटना हुई थी अकस्मात

रजनी के चौखट शुभ प्रभात 

और वेगमयी थी प्रबल वाट 

धारा को हुई थी अश्रुपात |

धारा ने अश्रु नयन लिया 

करबद्ध नदी से विनय किया 

अब आगे मैं नहीं बहूँगी 

तुमसे दूर मैं नहीं रहूँगी,

दूर जुदाई डंसती है 

सारंग की तरंगे हँसती है 

कह खारा पानी बस्ती है |

सुन धार व्यथा को निर्झरिणी 

अपने ही बगल में बिठलाया

जीवन जीने का मंत्र है क्या 

उसे बड़े प्यार से सिखलाया |

यह सबको पता है भली-भांति 

तुम कितना करते मुझे प्यार 

पर तब तक ही तेरा जीवन 

जब तक बहना तेरा व्यापार,

मैं कैसे दृष्टिपात करूँ 

बनता देखूँ तुझको तालाब 

बिछुड़न का गम रहता हरदम 

है मेरे अंदर भी सैलाब,

जीवन तेरा तो बहना है 

तू क्या जाने यह गहना है 

बस यही बात मुझे कहना है 

किसको आकर के रहना है,

बहता जा जब तक जीवन है 

भू पर जन्मा यह क्या कम है 

मत कभी कहो गम ही गम है 

अम्बर में चंदा हरदम है |

(मौलिक व अप्रकाशित)

Views: 295

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Dr.Prachi Singh on March 11, 2014 at 1:26pm

बहती धारा का नदिया से कहना कि नहीं बह कर जाना उसे... और नदिया का उसे समझाना की बहना ही उसका कर्तव्य है.. और इस कहन के अंत में जीवन जीने की सीख देना... अंतर्भाव के स्तर पर यह अभिव्यक्ति बहुत पसंद आयी मुझे आपको बहुत बहुत बधाई विवेक झा जी.

लेकिन कथ्य संयोजन बहुत बिखरा बिखरा सा लगा.. दुसरे बंद में वचन दोष भी दिखा.

इसी कथ्य को कम शब्दों में समेटने का प्रयास होना चाहिए था..ज्यादा प्रभावी रहता.

आप और साथी पाठकों की भी अतुकांत रचनाएं समझते बूझते पढ़ते जाएं..बहुत कुछ स्पष्ट होता चलेगा 

इस सद्प्रयास पर मेरी हार्दिक शुभकामनाएं 

Comment by विजय मिश्र on March 6, 2014 at 5:59pm
"बहता जा जब तक जीवन है
भू पर जन्मा यह क्या कम है
मत कभी कहो गम ही गम है
अम्बर में चंदा हरदम है |" - मन को स्पर्श करती सार्थक सन्देश देती सुंदर रचना |बधाई विवेकजी
Comment by Neeraj Neer on March 5, 2014 at 8:28pm

स सुन्दर रचना के लिए बधाई ..

Comment by Shyam Narain Verma on March 4, 2014 at 11:15am
बहुत सुन्दर रचना के लिये आपको बधाई
Comment by Baidyanath Saarthi on March 4, 2014 at 10:57am

वह घटना हुई थी अकस्मात

रजनी के चौखट शुभ प्रभात 

और वेगमयी थी प्रबल वाट 

धारा को हुई थी अश्रुपात |..... क्या कहने ! वाह 

Comment by Meena Pathak on March 4, 2014 at 9:56am
Bahut sundar Rachna Badhai aap ko
Comment by मनोज कुमार सिंह 'मयंक' on March 3, 2014 at 10:19pm

प्रिय अनुज एक कहानी को काव्यात्मक रूप देने का अच्छा प्रयास है..पर कहीं कहीं टूटन सी प्रतीत हुई..यह छंद कौन सा है..और अगर केचुआ छंद भी है तो भी लयबद्धता बाधित हो रही है..जैसे

धारा ने अश्रु नयन लिया 

करबद्ध नदी से विनय किया...इसमें यदि आप धारा ने आंसू नयन लिए..करबद्ध नदी से विनय किया

भी कहते तो भी लय नहीं टूटता..ऐसा मेरा मानना है..दूसरी बात कथ्य पर थोड़ा सा ध्यान दे दीजिए..कविता वंडरफुल हो जायेगी..  

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"जनाब दयाराम मेठानी जी आदाब, तरही मिसरे पर ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, बधाई स्वीकार करें । 'मादकता…"
8 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"आदरणीय दयाराम मेठानी जी नमस्कार बहुत अच्छी ग़ज़ल हुई है  हार्दिक बधाई स्वीकार करें "
17 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"भाई, आपको जैसा उचित लगे करते रहें,मैंने आपकी ग़ज़ल पर टिप्पणी देकर जो हिमाक़त की है,उसका अफ़सोस है ।"
20 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"आदरणीय मुनीश 'तन्हा ' नादौन जी आदाब बहुत अच्छी ग़ज़ल हुई है  हार्दिक बधाई स्वीकार करें…"
20 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"आदरणीय नादिर ख़ान साहब आदाब बहुत अच्छी ग़ज़ल हुई है हार्दिक बधाई  स्वीकार करें चौथा शैर क्या ख़ूब…"
24 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"आदरणीय नाकाम जी आदाब अच्छी ग़ज़ल हुई है हार्दिक बधाई स्वीकार करें !"
26 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"आदरणीय अमित कुमार 'अमित ' जी आदाब बहुत अच्छी ग़ज़ल हुई है  हार्दिक बधाई स्वीकार करें !…"
30 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"आदरणीया राजेश कुमारी दी जी प्रणाम बहुत अच्छी ग़ज़ल हुई है हार्दिक बधाई स्वीकार करें तीसरा शैर ख़ास…"
35 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"मुआफ़ी चाहता हूँ जनाब टंकण त्रुटि से 'ग़ज़ल' गगल हो गया है ! बहुत शर्मिंदा हूँ "
38 minutes ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"आदरणीय तस्दीक़ अहमद ख़ान साहब आदाब ! बहुत बहुत शुक्रिया अपना वक़्त निकाल कर ग़ज़ल तक आने और मेरा हौसला…"
43 minutes ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-123
"आदरणीय मैंने आपसे कोई मिसाल मांगने की हिमाक़त नहीं की है, आप संदर्भ से हटकर बात कर रहे हैं, मैंने…"
52 minutes ago
Keshav mishra is now a member of Open Books Online
59 minutes ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service