For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

रफ़ी का इक सदाबहार नगमा..............

फिल्म-- हँसते जख्म
गाना-- हां ये माना मेरी जान मोहब्बत सजा है
गायक-- मोहम्मद रफ़ी

तौबा तौबा ये जवानी ये जवानी का गुरूर
इश्क के सामने सर फिर भी झुकाना ही परा
कैसा कहते थे ना आयेंगे ना आयेंगे
मगर दिल ने इस तरह पुकारा तुम्हे आना ही परा

ये माना मेरी जान मुहब्बत सजा है
मजा इसमें इतना मगर किसलिए है
वो इक बेकरारी जो अब तक इधर थी
वोही बेककारी उधर किसलिए है

बहलना ना जाने बदलना ना जाने
तमन्ना मचल के सम्हलना न जाने
करीब और आओ कदम तो बढाओ
झुका दूं ना मैं सर तो ये सर किसलिए है
ये माना मेरी जान मुहब्बत सजा है
मजा इसमें इतना मगर किसलिए है

नज़ारे भी देखे इशारे भी देखे
कई खूबसूरत सहारे भी देखे
नाम क्या चीज है,
इज्जत क्या चीज है सोने चांदी की
हकीकत क्या है लाख बहलाए कोई दौलत से
प्यार के सामने दौलत क्या है

जो मयखाने जा कर नशा गर उठाऊ
तो फिर ये नशीली नजर किसलिए है
ये माना मेरी जान मुहब्बत सजा है
मजा इसमें इतना मगर किसलिए है

तुम्ही ने सवारा तुम्ही ने सजाया
मेरे सुने दिल को तुम्ही ने बसाया
जिस चमन से भी तुम गुजर जाओ
हर कलि पर निखर आ जाये
रूठ जाओ तो रूठ जाये खुदा
और हस दो तो बहार आ जाये

तुम्हारे कदम से है घर में उजाला
अगर तुम नहीं तो वो घर किसलिए है
ये माना मेरी जान मुहब्बत सजा है
मजा इसमें इतना मगर किसलिए है
वो इक बेकरारी जो अब तक इधर थी
वोही बेककारी उधर किसलिए है...........................

Views: 2388

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Rana Pratap Singh on September 6, 2010 at 9:43pm
रफ़ी साहब की ये कव्वाली आज भी रोंगेटे खड़ी कर देती है|
Comment by PREETAM TIWARY(PREET) on April 7, 2010 at 12:05pm
dhanybaad ganesh bhaiya,bijay bhaiya aur raju bhai.....raua log ke ee gaana likhal pasand aail ee humra khatir khushi ke baat baa....aage bhi hum likhat rahab....
and ur welcome ishika...collection to bahut saare hain rafi ke lekin bas thoda samay ki kami ke kaaran nahi likh pata hoon lekin fir bhi kosis rahti hai ki adhik se adhik likhu...aage bhi kosis jaari rahegi ki apne busy schedule me se samay nikal kar kuch likhat rahon....
Comment by Raju on April 6, 2010 at 7:56pm
Thankyou Preetam bhaiya for sharing this with us
Comment by ISHIKA MISHRA on April 6, 2010 at 5:50pm
thanks a lot preetam jee.....this song is also one of my favorite....thanks for share with us...
this song is always available in my mobile and lappy also....i hear this nice song daily.....
agar aapke paas aur bhi rafi ke acchhe gaane ho to please yahan post kare....
we r waiting for the next song of rafi...........

Ishika Mishra
Comment by BIJAY PATHAK on April 6, 2010 at 4:51pm
Preetam ji purani yaad taza kai deni , Dhanyabad

मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on April 6, 2010 at 8:52am
बहुत सुंदर गीत खोज कर लाये है प्रीतम भाई, ये गीत आज भी जब बजता है तो चलते हुवे कदम ठिठक जाते है और दिल मजबूर हो जाता है की पूरा गीत सुन कर ही आगे बढ़ा जाये, बहुत बहुत धन्यबाद ईस गीत को पोस्ट करने के लिये ,

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity


सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (दिलों से ख़राशें हटाने चला हूँ )
"आदरणीय नीलेश जी, किसी दोष का होना और न मानना, किसी दोष होना और मान लेना, लेकिन उसे दूर न करना,…"
3 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (दिलों से ख़राशें हटाने चला हूँ )
"एक और उम्दा ग़ज़ल और उसपे हुई चर्चा...वाह"
4 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (ग़ज़ल में ऐब रखता हूँ...)
"पूछने का लाभ भरपूर मिला...शुक्रिया आदरणीय समर कबीर जी,सौरभ पांडेय जी..और अमीरुद्दीन जी...नीलेश जी…"
4 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की - तमन्नाओं को फिर रोका गया है
"एक अलग ही अंदाज की ग़ज़ल पढ़ने को मिली आदरणीय नीलेश जी..और उसपे हुई चर्चा बड़ी महत्वपूर्ण है।"
4 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on नाथ सोनांचली's blog post विदाई के वक़्त बेटी के उद्गार
"वाह आदरणीय क्या ही शानदार भावपूर्ण रचना है...बधाई"
4 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on Anjuman Mansury 'Arzoo''s blog post ग़ज़ल -सूनी सूनी चश्म की फिर सीपियाँ रह जाएँगी
"वाह क्या कहने...बहुत खूबसूरत ग़ज़ल कही है...हार्दिक बधाई..."
4 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on Anjuman Mansury 'Arzoo''s blog post ग़ज़ल - मिश्कात अपने दिल को बनाने चली हूँ मैं
"बढ़िया ग़ज़ल कही आदरणीया बधाई..."
4 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की - तमन्नाओं को फिर रोका गया है
"धन्यवाद आ. सुरेन्द्रनाथ भाई "
4 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on Aazi Tamaam's blog post ग़ज़ल: किसी कँवल का हंसीं ख़ाब देखने के लिये
"भाई आजी तमाम जी जिस तरह से आप मेहनत कर रहे हैं...निश्चय ही एक दिन दोषरहित ग़ज़ल कहेंगे...ऐसी मेरी…"
4 hours ago
Nilesh Shevgaonkar commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (दिलों से ख़राशें हटाने चला हूँ )
"आ. सौरभ सर,योजित काफ़िया में यदि बढ़ा हुआ अक्षर हटाने के बाद भी दोनों शब्द सार्थक हों जैसा इस केस में…"
4 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post अपने दोहे .......
"आदरणीय अमीरुद्दीन साहिब, आदाब - सृजन आपकी मनोहारी प्रशंसा का दिल से आभारी है सर । सादर नमन"
4 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post अपने दोहे .......
"आदरणीय छोटे लाल सिंह जी सृजन के भावों को मान देने का दिल से आभार"
4 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service