For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

दोहा सप्तक -७( लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' )

मन्थन कर के सिन्धु का, बँटवारे में कन्त
राजनीति को क्यों दिए, बहुत विषैले दन्त।१।
*
दुख को तो विस्तार है, सुख में लगा हलन्त
ऐसी हम से भूल क्या, कुछ तो बोलो कन्त।२।
*
वैसे कुछ तो बाल भी, कहते सत्य भदन्त
मन छोटी  सी  कोठरी, बातें  रखे अनन्त।३।
*
आया है उत्कर्ष का, यहाँ न एक बसन्त
केवल पतझड़ में जिये, यूँ जीवन पर्यन्त।५।
*
सुख तो मुर्दा देह सा, केवल दुख जीवन्त
जाने किस दिन आ स्वयं, ईश करेंगे अन्त।४।
*
कहलाने की होड़ में,ओछे लोग महन्त
वैसा ही पहने फिरें, जैसा अम्बर सन्त।६।
*
देता  कोई  दूर   से ,  क्या  आशीष  अनन्त
पतझड़ में जो आ गया, औचक यहाँ वसन्त।७।
*
मौलिक/अप्रकाशित
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'

Views: 155

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' on February 12, 2022 at 1:41pm

आ. भाई बृजेश जी , सादर अभिवादन।.दोहों पर उपस्थिति व उत्साहवर्धन के लिए हार्दिक धन्यवाद।

Comment by बृजेश कुमार 'ब्रज' on February 12, 2022 at 11:26am

सुंदर बहुत सुंदर दोहे आदरणीय...

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Amit swapnil replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-143
"आ. ऋचाजी बढ़िया गजल कही आपने, बधाई  स्वीकार करें।"
3 hours ago
Amit swapnil replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-143
"आ. मेठानीजी बढ़िया गजल कही आपने, बधाई  स्वीकार करें।"
3 hours ago
Amit swapnil replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-143
"आ. दंडपानीजी बढ़िया गजल कही आपने, बधाई  स्वीकार करें।"
3 hours ago
Amit swapnil replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-143
"आ. सुजानजी बढ़िया गजल कही आपने, बधाई  स्वीकार करें।"
3 hours ago
Amit swapnil replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-143
"आ. गुरप्रीतजी बढ़िया गजल कही आपने, बधाई  स्वीकार करें।"
3 hours ago
Amit swapnil replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-143
"आ. मननजी बढ़िया गजल कही आपने, बधाई  स्वीकार करें।"
3 hours ago
Amit swapnil replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-143
"आ. नवीनजी बढ़िया गजल कही आपने, बधाई  स्वीकार करें।"
3 hours ago
Amit swapnil replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-143
"आ. धामीजी बढ़िया गजल कही आपने, बधाई  स्वीकार करें।"
3 hours ago
Amit swapnil replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-143
"आ. प्रकाशजी बढ़िया गजल कही आपने, बधाई  स्वीकार करें।"
3 hours ago
Amit swapnil replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-143
"आ. तस्दीकजी बढ़िया गजल कही आपने, बधाई  स्वीकार करें।"
3 hours ago
Amit swapnil replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-143
"आ. गणवीरजी बढ़िया गजल कही आपने, बधाई  स्वीकार करें।"
3 hours ago
Amit swapnil replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-143
"आ. शुक्लाजी बढ़िया गजल कही आपने, बधाई  स्वीकार करें।"
3 hours ago

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service