For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

santosh khirwadkar
Share

Santosh khirwadkar's Friends

  • सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप'
  • Gurpreet Singh
  • KALPANA BHATT ('रौनक़')
  • बसंत कुमार शर्मा
  • Samar kabeer
  • Gajendra shrotriya
  • मिथिलेश वामनकर
 

santosh khirwadkar's Page

Latest Activity

santosh khirwadkar commented on santosh khirwadkar's blog post गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर.....संतोष
"धन्यवाद  आ.बृजेश जी !!!!"
Wednesday
santosh khirwadkar commented on santosh khirwadkar's blog post गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर.....संतोष
"शुक्रिया भाई श्री निलेश जी !!!"
Wednesday
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on santosh khirwadkar's blog post गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर.....संतोष
"वाह वाह आदरणीय..बेहतरीन ग़ज़ल"
Wednesday
Nilesh Shevgaonkar commented on santosh khirwadkar's blog post गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर.....संतोष
"आ. संतोष दादा,अच्छी ग़ज़ल हुई हैबधाई "
Wednesday
santosh khirwadkar commented on santosh khirwadkar's blog post गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर.....संतोष
"शुक्रिया आ.महाजन साहब"
Wednesday
santosh khirwadkar commented on santosh khirwadkar's blog post गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर.....संतोष
"धन्यवाद आ.आशुतोष जी !!!!!"
Wednesday
santosh khirwadkar commented on santosh khirwadkar's blog post गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर.....संतोष
"आभार आदरणीया नीलम जी !!!!"
Wednesday
santosh khirwadkar commented on santosh khirwadkar's blog post गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर.....संतोष
"धन्यवाद आ.त्रिपाठी जी !!!!"
Wednesday
santosh khirwadkar commented on santosh khirwadkar's blog post गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर.....संतोष
"धन्यवाद आ.डॉ.सिंग साहब!!!"
Wednesday
Harash Mahajan commented on santosh khirwadkar's blog post गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर.....संतोष
"हम वफ़ाओं की वो तस्वीर सँभाले हुए हैं।।.....वाह !! आ० संतोष जी सूंदर प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत बधाई ।"
Wednesday
Dr Ashutosh Mishra commented on santosh khirwadkar's blog post गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर.....संतोष
"आदरणीय भाई संतोष जी दिल के जज्वातों को बखूभी पिरोया है आपने इस ग़ज़ल में इस रचना के लिए हार्दिक बधाई सादर "
Wednesday
Neelam Upadhyaya commented on santosh khirwadkar's blog post गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर.....संतोष
"आदरणीय संतोष जी बहुत सुंदर ग़ज़ल की प्रस्तुति । बहुत बहुत मुबारकबाद ।"
Apr 18
Naveen Mani Tripathi commented on santosh khirwadkar's blog post गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर.....संतोष
"आ0 संतोष जी बहुत सुंदर ग़ज़ल के लिए बधाई  मुझे हर शेर अच्छा लगा ।"
Apr 17
डॉ छोटेलाल सिंह commented on santosh khirwadkar's blog post गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर.....संतोष
"आदरणीय सन्तोष जी आपकी गजल भावनाओं से ओत प्रोत है बेहतरीन गजल लिखने के लिए बहुत बहुत बधाई"
Apr 17
santosh khirwadkar commented on santosh khirwadkar's blog post गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर.....संतोष
"प्रणाम आदरणीय समर साहब....तहेदिल से शुक्रिया!!!"
Apr 17
Samar kabeer commented on santosh khirwadkar's blog post गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर.....संतोष
"जनाब संतोष जी आदाब,बहुत अच्छी ग़ज़ल हुई है,दाद के साथ मुबारकबाद पेश करता हूँ ।"
Apr 17

Profile Information

Gender
Male
City State
Bhopal
Native Place
Indore
Profession
Govt service
About me
National table-tennis player/coach

Santosh khirwadkar's Blog

गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर.....संतोष

अरकान:-

फ़ाइलातुन फ़इलातुन फ़इलातुन फ़ेलुन

गुज़रे वक़्तों की वो तहरीर सँभाले हुए हैं,

दिल को बहलाने की तदबीर सँभाले हुए हैं।।

बाँध रक्खा है हमें जिसने अभी तक जानाँ,

हम महब्बत की वो ज़ंजीर सँभाले हुए हैं।।

देखते रहते हैं अजदाद के चहरे जिसमें,

हम वफ़ाओं की वो तस्वीर सँभाले हुए हैं।।

जिन लकीरों में नजूमी ने कहा था,तू है,

दोनों हाथों में वो तक़दीर सँभाले हुए हैं।।

वस्ल की शब…

Continue

Posted on April 17, 2018 at 11:21am — 16 Comments

खुली आँखें हैं और सोया हुआ हूँ ...संतोष

अरकान:-

मफ़ाईलुन मफ़ाईलुन फ़ऊलुन

खुली आँखें हैं,पर सोया हुआ हूँ

तुम्हारी याद में डूबा हुआ हूँ।।



बदन इक दिन छुआ था तुमने मेरा

उसी दिन से बहुत महका हुआ हूँ।।



मुझे पागल समझती है ये दुनिया

तसव्वुर में तेरे खोया हुआ हूँ।।



जहाँ तुम छोड़कर मुझको गये थे

उसी रस्ते पे मैं बैठा हुआ हूँ।।



ख़ुदा का है करम 'संतोष' मुझ पर

हर इक महफ़िल पे मैं छाया हुआ हूँ।।

#संतोष_खिरवड़कर

(मौलिक एवं…

Continue

Posted on March 29, 2018 at 4:30pm — 12 Comments

ज़िंदगी से दूर कब तक.....संतोष

अरकान:फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फाइलुन

ज़िन्दगी से दूर कब तक जाओगे,

किस तरह सच्चाई को झुटलाओगे।।

सादगी इतनी मियाँ अच्छी नहीं,

ज़िन्दगी में रोज़ धोका खाओगे।।

तल्ख़ यादें दिल से मिटती ही नहीं,

ज़िन्दगी में चैन कैसे पाओगे।।

तुम ग़मों को मात देना सीख लो,

अश्क पीकर कब तलक ग़म खाओगे।। 

अपनी कमज़ोरी को ज़ाहिर मत करो,

वरना हर सौदे में घाटा खाओगे।।

(मौलिक एवं…

Continue

Posted on March 12, 2018 at 11:00pm — 15 Comments

तेरे नज़दीक ही हर वक़्त ....”संतोष”

 

फ़ाइलातुन फ़ईलातुन फ़ईलातुन फ़ेलुन

तेरे नज़दीक ही हर वक़्त भटकता क्यों हूँ

तू बता फूल के जैसा मैं महकता क्यों हूँ

मैं न रातों का हूँ जुगनू न कोई तारा पर

उसकी आँखों में मगर फिर भी चमकता क्यों हूँ

इस पहेली का कोई हल तो बताओ यारो

हिज्र की रातों में आतिश सा दहकता क्यों हूँ

घर बनाया है तेरे दिल में उसी दिन से सनम

सारी दुनिया की निगाहों में खटकता क्यों हूँ

हासिदों को बड़ी तश्वीश है इसकी…

Continue

Posted on January 20, 2018 at 11:21am — 8 Comments

Comment Wall

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

  • No comments yet!
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Mohammed Arif commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post वार हर बार (लघुकथा)
"आदरणीय शेख शहज़ाद उस्मानी जी आदाब,                  …"
13 minutes ago
Samar kabeer commented on बासुदेव अग्रवाल 'नमन''s blog post ग़ज़ल (कैसी ये मज़बूरी है)
"जनाब निलेश जी आदाब,आम तौर पर हास्य रचना को 'हज़ल' कह दिया जाता है,लेकिन ये ग़लत है…"
16 minutes ago
Samar kabeer commented on बासुदेव अग्रवाल 'नमन''s blog post ग़ज़ल (कैसी ये मज़बूरी है)
"जनाब बासुदेव अग्रवाल 'नमन' जी आदाब, मज़ाहिया ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें…"
23 minutes ago
Samar kabeer commented on Manan Kumar singh's blog post गजल(ओ प न बु क् स औ न ला इ न)
"जनाब मनन कुमार सिंह जी आदाब,अच्छी ग़ज़ल है, बधाई स्वीकार करें ।"
40 minutes ago
TEJ VEER SINGH commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post वार हर बार (लघुकथा)
"हार्दिक बधाई आदरणीय शेख उस्मानी साहब जी।बेहतरीन एवम समयानुकूल संदेश देती सुंदर लघुकथा।"
1 hour ago
Shyam Narain Verma commented on babitagupta's blog post शांत चेहरे की अपनी होती एक कहानी............
"सुन्दर सार्थक रचना  ने लिये आपको बधाई …."
1 hour ago
Shyam Narain Verma commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post वार हर बार (लघुकथा)
"सुन्दर लघुकथा के लिये आपको बधाई ॥"
1 hour ago
Sheikh Shahzad Usmani posted a blog post

वार हर बार (लघुकथा)

"मुझे हमेशा लगता है कि कोई मुझे जान से मारने की कोशिश कर रहा है!""मुझे हमेशा लगता है कि कोई मुझे…See More
1 hour ago
Nand Kumar Sanmukhani posted blog posts
1 hour ago
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' commented on बासुदेव अग्रवाल 'नमन''s blog post ग़ज़ल (कैसी ये मज़बूरी है)
"आ0 नीलेश जी आपकी प्रतिक्रिया का हृदय से आभार। ग़ज़ल शैली की यह रचना पाठकों को अगर थोड़ा भी गुदगुदा…"
4 hours ago
Mohammed Arif commented on Mohammed Arif's blog post लघुकथा--बोध
"आपकी प्रतिक्रिया ने सफल लघुकथा होने की मोहर लगा दी । दिली आभार आदरणीय शेख शहज़ाद उस्मानी जी ।"
6 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani commented on Mohammed Arif's blog post लघुकथा--बोध
" वाह। आदाब। बेहतरीन प्रतीकात्मक बोधात्मक सृजन के लिए तहे दिल से बहुत-बहुत मुबारकबाद मुहतरम…"
9 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service