For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

योगराज प्रभाकर's Comments

Comment Wall (85 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 9:16am on May 22, 2012, डॉ. सूर्या बाली "सूरज" said…

योगराज जी, 'मेट्रो' में छपी  सुंदर रचना के लिए बहुत बहुत  बधाई!!!

At 10:42pm on April 17, 2012, लक्ष्मण रामानुज लडीवाला said…
स्नेहिल योग राजजी, आज आपकी प्रोफाइल और कुछ कविताए, छंद पकैयां,
माँ बांप, भ्रूण ह्त्या पढ़ कर अच्छा लगा, आपसी साहित्यिक,सामाजिक विचारों 
का आदान प्रदान करने मै आपसे जुड़ कर ख़ुशी अनुभव करते हुए गौरवान्वित 
महसूस करूँगा | 
-लक्ष्मण प्र. लडीवाला,जयपुर 
At 11:22pm on April 9, 2012, SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR said…

महामृत्युंजय सम, वंश के लिए जो बेटा,

उसी तरह कन्या भी, गायत्री का जाप है !

आदरणीय योगराज जी ...काश लोग ये मूर्खता पूर्ण काम छोड़ दें बेटियों जिनके बिना अस्तित्व ही संभव नहीं उनके प्रति ये .. ..सुन्दर सन्देश देती रचना ..जय श्री राधे 


भ्रमर ५ 
At 10:38pm on April 2, 2012, PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA said…

mitra banane hetu dhanyvad.

At 3:25pm on November 18, 2011, ganesh lohani said…

subhkamnayen

bahut bahut badhai

At 5:38am on November 17, 2011, Shyam Bihari Shyamal said…

मि‍त्रता-प्रस्‍ताव को गर्मजोशी से स्‍वीकार करने के लि‍ए आभार योगराज प्रभाकर जी... ओपेन बुक्‍स ऑनलाइन  पर आपसे जुड़कर प्रसन्‍नता हुई। यहां मेरी गति‍वि‍धि‍यां अभी सीमि‍त हैं। दरअसल यहां के तौर-तरीके मैं जज्‍ब नही कर सका हूं। आशा है आपलोगों के सहयोग-सहकार से गति‍ बन जाएगी। सधन्‍यवाद मि‍त्र...  

 

At 10:11pm on August 28, 2011, Sushant Jain 'Ankur' said…
Kripya islah kar dijiye ..

http://www.openbooksonline.com/profiles/blog/list?user=2a1re9fb5h8hg

Dhanyawad ,

Sushant Jain 'Ankur'
At 11:31pm on August 13, 2011, इमरान खान said…
मुहतरम उस्ताद योगराज जी मुझे OBO के मोबाइल वर्ज़न का लिंक दिखाई दिया, लगा के मैं ख्वाब तो नहीं देख रहा हूँ, क्लिक किया तो पाया के ये हक़ीक़त है, यह साइट मोबाइल पर बहुत फास्ट चल रही है, मेरे कई दोस्त तो OBO से इसीलिए नहीं जुड़ पा रहे थे, उनके मोबाइल की MEMORY ही जवाब दे देती थी। मोबाइल वर्ज़न बनाने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया।
At 12:23pm on July 17, 2011, Rash Bihari Ravi said…
भैया योगराज जी आपको बधाई,
शादी की सालगिरह शुभ दिन आई ,
भैया योगराज जी आपको बधाई,
भाभी से बोलियेगा मैं छोटा भाई ,
दे रहा उनको भी संग में बधाई ,
ये दिन बार बार आये हजार बार ,
सदियों तक मिले सब को मिठाई ,
भैया योगराज जी आपको बधाई,
हार्दिक बधाई और शुभ कामना ,
गुरु गणेश और पुरे OBO का कहना ,
बड़े भाई मेरे हरदम खुश रहना ,
करते हैं हम भगवन से दुहाई ,
भैया योगराज जी आपको बधाई,
At 1:14pm on June 4, 2011, nemichandpuniyachandan said…
Shreemaan,Yograj Jee Prabhakar sahib, Aapke dwara housala-afzai ke liye anek dhanywad.
At 11:35am on April 19, 2011, nemichandpuniyachandan said…
Shree,Yograj Jee "prabhakar" Sahib,aapkee zarra-nawazee ke liye bahut-bahut shukriya.
At 1:31pm on April 7, 2011, nemichandpuniyachandan said…
aapki zarra-nawazee ke liye bahut shukriya.
At 2:09pm on March 8, 2011, nemichandpuniyachandan said…
Shree,YograjRaj Ji "Prabhakar" Sahib,Aap Dvaraa Housala-Afzai Ke Liye Bahut-Bahut Dhanyvaad.Muaaph Karna,Kisi Shayar Ne Khoob Kahaa Hei :- Ab Itr Bhi Lagaaye To ,Muhabbat Ki Boo Nahi Aati |Vo Zamanaa Havaa Huaa Jab Paseenaa Gulaab Thaa. 
At 1:49pm on March 3, 2011, Sanjay Rajendraprasad Yadav said…

योगराज प्रभाकर जी नमस्कार............

 
"अभिराजअभी" मेरा ही (टाईटल)   ए रचना मैंने ही भोजपुरीदुनिया.काम  पर  डाली है, openbooksonline.com , का मेंबर होने के नाते उसे दोबारा मैंने ,,ओबो,, पर वही रचना प्रदर्शित की ,अब फैसला आप को करना है, की एक ही आदमी की एक ही रचना दो साइड पर प्रदर्शित की जा सकती है की नहीं ,??????????/
आप का जो भी फैसला होगा OBO का मेंबर होने के नाते हमें मान्य है,
आपका अपना सभासद
संजय आर यादव (राजू)
At 9:53pm on December 17, 2010, Nemichand Puniya said…

sir, I am much obelijed to u . many thanks

At 11:16pm on November 27, 2010, Lata R.Ojha said…
मेरी रचना को सराह के उत्साह बढ़ाने के लिए धन्यवाद योगराज जी :)
At 3:34pm on November 18, 2010, Rash Bihari Ravi said…
राह दिखाने वाला तुझे सत सत नमन हैं ,
आज आपको दू बधाई यैसा मेरा मन हैं ,
आप ने ही सुधारि मेरी हिंदी की चमन हैं ,
नाम मेरा गुरु मगर आपका शिष्य हम हैं ,
बारमबार बोलूं मुबारक ओ भी लगता कम हैं ,
जन्म दिन की लीजिये बधाई मेरे बड़े भाई ,
जुग जुग जिये आप और करते रहें भलाई ,
आओ दोस्तों एक साथ बोले आवाज मिलाकर ,
जन्म दिन मुबारक हो भैया योगराज प्रभाकर ,
At 2:35pm on November 18, 2010, Rash Bihari Ravi said…
janam din mubarak ho
At 9:46am on November 18, 2010, PREETAM TIWARY(PREET) said…

At 9:34am on November 18, 2010,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…
प्रेम प्रेरणा प्रतिष्ठा, दिये सबको आदर,
दिल मे इक घर बनाये, मित्र प्रिय प्रभाकर,
मित्र प्रिय प्रभाकर जनम दिन आपका खाश,
सफल एवं दीर्घ हो जीवन आप छुवे आकाश,
जब तक संसार रहे कायम हो नेम व फेम,
मिले सदा स्नेह आपका मिलता रहे प्रेम ,

Happy Birthday Yograj Sir,

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की- जिन की ख़ातिर हम हुए मिस्मार; पागल हो गये
"आ. भाई नीलेश जी, सादर अभिवादन । अत्यधिक ध्यानाकर्षक व मनभावन गजल हुई है । कई बार पढ़ चुका पर मन भरा…"
5 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Rupam kumar -'मीत''s blog post ज़हर पी के मैं तेरे हाथ से मर जाऊँगा (रूपम कुमार 'मीत')
"आ. भाई रूपम जी, अभिवादन। अच्छी गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
24 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on सालिक गणवीर's blog post नहीं दो चार लगता है बहुत सारे बनाएगा.( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आ. भाई सालिक गणवीर जी, सादर अभिवादन। उम्दा गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
34 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसको भाया भीड़ का होकर खो जाना -लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई रूपम जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति व मनभावन प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार ।"
42 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसको भाया भीड़ का होकर खो जाना -लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई सालिक गणवीर जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति व सराहना के लिए आभार ।"
44 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसको भाया भीड़ का होकर खो जाना -लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई अमीरुद्ददीन जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति व सराहना के लिए आभार ।"
44 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसको भाया भीड़ का होकर खो जाना -लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई समर जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति व सराहना के लिए आभार । अंंतिम शेर को आपके…"
46 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसको भाया भीड़ का होकर खो जाना -लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. भाई नीलेश जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति व सराहना के लिए आभार । अंंतिम शेर को आपके…"
47 minutes ago
Rupam kumar -'मीत' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसको भाया भीड़ का होकर खो जाना -लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आ. लक्ष्मण जी,ग़ज़ल के प्रयास के लिए बधाई, बह्र-ए-मीर पर ख़ूब शे'र कहे आपने वाह!!"
5 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post जब-जब ख़्वाब सुनहरे देखे - ग़ज़ल
"आदरणीय बसंत कुमार शर्मा जी आदाब, बहतरीन ग़ज़ल हुई है दाद के साथ मुबारकबाद पेश करता हूँ, सादर।"
5 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on अमीरुद्दीन 'अमीर''s blog post ग़ज़ल (न यूँ दर-दर भटकते हम...)
"आ, अमीरुद्दीन साहिब जी, आदाब अच्छी ग़ज़ल हुई वाह!! चौथा शे'र ख़ूब पसंद आया,  "न जाने…"
5 hours ago
Rupam kumar -'मीत' commented on सालिक गणवीर's blog post नहीं दो चार लगता है बहुत सारे बनाएगा.( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आ, सालिक सर्, प्रणाम बहुत ख़ूब ग़ज़ल हुई है, और दूसरा शे'र क्या ही कहने वाह!! फ़लक पर वो नये…"
5 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service