For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

झील मिल सितारों का आँगन होगा...............kuch purani yaadein meri apni

ee gaana hamar favorite ha aur ee gaana par hum prize bhi le chukal bani jab hum 9th class me rahni tab.....wo samay ego program me hum aur hamar ego dost(humra pados me hi raheli) gawle rahni jaa aur first prize milal rahe.....wo prize wala photo abhi humra lage naikhe naa ta wo bhi lagawle rahti.......
ta lee padhi raua sab bhi aur batayi ki kauna movie ke gaana ha ee aur ke gawle baa.....

झील मिल सितारों का आँगन होगा
रिमझिम बरसता सावन होगा
ऐसा सुन्दर सपना अपना जीवन होगा

झील मिल सितारों का आँगन होगा
रिमझिम बरसता सावन होगा
ऐसा सुन्दर सपना अपना जीवन होगा

प्रेम की गली में एक छोटा सा घर बनायेंगे
कलिया ना मिले ना सही काटों से सजायेंगे
बगिया से सुन्दर वो बन होगा
रिमझिम बरसता सावन होगा

तेरी आँखों से सारा संसार मैं देखूंगी
देखूंगी इसपार या उसपार मैं देखूंगी
नैनो को तेरा ही दर्शन होगा
रिमझिम बरसता सावन होगा

फिर तो मस्त हवाओं के झोके हम बन जायेंगे
नैना सुन्दर सपनो के झरोखे बन जायेंगे
मन आशाओं का दर्पण होगा
रिमझिम बरसता सावन होगा

झील मिल सितारों का आँगन होगा
रिमझिम बरसता सावन होगा.........................................

Views: 796

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by amit on April 12, 2010 at 8:40pm
really ye geet bahut hi achha hai aur ye to pratek generation ke logo ko pasand aata hai because ye to evergreen song hai
Comment by sushmit singh on April 12, 2010 at 3:28pm
का हो भैया हमणि के भूले तो नही.
वैसे आप का यह गाना तो दिल को भा गया....
आप इतने गाने कहाँ से लाते रहते हो
Comment by Babita Gupta on April 10, 2010 at 10:31pm
yey geet merey bhi pasand ka hai, yaad aa gaya mujhko gujara jamanaaaaaaaa
Comment by Rash Bihari Ravi on April 8, 2010 at 7:22pm
ee gaana hamar favorite ha aur ee gaana par hum prize bhi le chukal bani jab hum 9th class me rahni tab.....wo samay ego program me hum aur hamar ego dost(humra pados me hi raheli) gawle rahni jaa aur first prize milal rahe.....wo prize wala photo abhi humra lage naikhe naa ta wo bhi lagawle rahti.......
ta lee padhi raua sab bhi aur batayi ki kauna movie ke gaana ha ee aur ke gawle baa..... jai ho preetam bhai lagal raha
Comment by Admin on April 8, 2010 at 10:30am
यह गाना मेरे भी पसंद का है पहले दूरदर्शन पर चलने वाले रंगोली मे अक्सर देता रहता था.

मुख्य प्रबंधक
Comment by Er. Ganesh Jee "Bagi" on April 8, 2010 at 7:43am
Jivan Mritue फिल्म का ये गीत काफ़ी खूबसूरत है, मुझे भी यह गीत काफ़ी पसंद है,
Comment by ISHIKA MISHRA on April 8, 2010 at 12:26am
superb.............waise itne gaane aapko yaad kaise rahte hain.... kuch tips mujhe bhi dijiye.......
waise ye gaana bahut acchha hai.....

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post दोहा मुक्तक .....
"आदरणीय नाथ जी सृजन के भावों को मान देने का दिल से आभार आदरणीय"
5 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post बुझते नहीं अलाव. . . . (दोहा गज़ल )
"आदरणीया रचना जी सृजन के भावों को मान देने का दिल से आभार।"
5 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post गज़ल - ज़ुल्फ की जंजीर से ......
"आदरणीय गुमनाम जी सृजन के भावों को मान देने और सुझाव का दिल से आभार"
5 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post फिर किसी के वास्ते .......
"आदरणीय अरुण जी सृजन आपकी मनोहारी प्रशंसा का दिल से आभारी है सर"
5 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post सिन्दूर -(क्षणिकाएँ )
"आदरणीय जी सृजन के भावों को मान देने का दिल से आभार"
5 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post आँधियों से क्या गिला. . . . .
"आदरणीया जी सृजन के भावों को मान देने का दिल से आभार"
5 hours ago
AMAN SINHA commented on नाथ सोनांचली's blog post अर्धांगिनी को समर्पित (दुर्मिल सवैया पर आधारित)
"आदरणीय  नाथ सोनांचली जी,  बहुत मनमोहक रचना हेतु बधाई।"
7 hours ago
amita tiwari posted a blog post

बरगद गोद ले लिया

ज़मीन पर पड़ा  अवशेषबरगद का मूल आधार शेष सोचता है आजकल तक था बरगद विशालबरगदी सोच,बरगदी ख्यालबरगदी…See More
20 hours ago
amita tiwari commented on amita tiwari's blog post बरगद गोद ले लिया
"आ ०  नाथ सोनांचली जी आपकी  टिप्पणी के लिए  आभार .मुझे  प्रोत्साहन मिला है…"
20 hours ago
amita tiwari commented on amita tiwari's blog post बरगद गोद ले लिया
"आ०  चेतन प्रकाश जी  सुप्रभात  आपकी  टिप्पणी और सुझावों के लिए आभारी हूँ…"
20 hours ago
Rakshita Singh commented on Sushil Sarna's blog post आँधियों से क्या गिला. . . . .
"आदरणीय सुशील जी, सादर प्रणाम । बहुत ही खूबसूरत पंक्तियाँ हार्दिक बधाई स्वीकार करें। "
21 hours ago
AMAN SINHA posted a blog post

क्या रंग है आँसू का

क्या रंग है आँसू का कैसे कोई बतलाएगा?सुख का है या दु:ख का है ये कोई कैसे समझाएगा?कभी किसी के खो…See More
yesterday

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service