For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Jitendra sharma
Share
 

Jitendra sharma's Page

Latest Activity

Samar kabeer commented on Jitendra sharma's blog post लौट के आये उड़ान से - ग़ज़ल
"ठीक है । 'कल-कलान' का अर्थ क्या है ?"
Feb 16
Jitendra sharma commented on Jitendra sharma's blog post लौट के आये उड़ान से - ग़ज़ल
"आदरणीय Samar kabeer जी दोनों कवाफ़ी बदले है एक बार देख लें।"
Feb 16
Jitendra sharma posted a blog post

लौट के आये उड़ान से - ग़ज़ल

दिन-भर जो बात करते रहे आस्मान सेसूरज ढला तो लौट के आये उड़ान सेथा वक़्त का ख़याल या हारे थकान सेनिकले थे घर से सुब्ह जो अपने गुमान सेआसां नहीं बुलन्दी को छूना, ये है फ़लकगुज़री हर एक राह तो मुश्किल चढ़ान सेटूटे हुए सितारों से हो किसको वास्तानिस्बत रही सभी को फ़क़त आस्मान सेखामोशियों से करते हैं हालत मेरी बयांआँखों से बहते अश्क मेरे बेजुबान-सेजब मग़रिबी हवाओं से मुरझा गया चमनकैसे रखें उमीद किसी नौजवान सेबदलेंगे ज़िन्दगी तेरे हालात एक दिनबदली हवा की चाल लगे कल-कलान सेजाने ये किस दयार के इन्सां हैं दोस्तोजो…See More
Feb 16
Jitendra sharma commented on Jitendra sharma's blog post लौट के आये उड़ान से - ग़ज़ल
"जी बहुत शुक्रिया आदरणीय समर कबीर साहब।"
Feb 16
Samar kabeer commented on Jitendra sharma's blog post लौट के आये उड़ान से - ग़ज़ल
"जनाब जितेंद्र शर्मा जी आदाब,ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें । 'जो हौसला लिये थे चले आशियान से' इस मिसरे में क़ाफ़िया दुरुस्त नहीं सहीह  शब्द है, 'आशियाना' देखियेगा  । 'है लग रहा बदलती हवा के रुझान…"
Feb 15
Jitendra sharma posted blog posts
Feb 13
Jitendra sharma shared their blog post on Facebook
Feb 13
Jitendra sharma joined Admin's group
Thumbnail

हिंदी की कक्षा

हिंदी सीखे : वार्ताकार - आचार्य श्री संजीव वर्मा "सलिल"
Jan 16
Jitendra sharma replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-102
"आदरणीय महेंद्र जी, सादर धन्यवाद"
Dec 29, 2018
Jitendra sharma replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-102
"आदरणीय राज नवादवी साहब, बहुत बहुत शुक्रिया।"
Dec 29, 2018
Jitendra sharma replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-102
"आदरणीय मोहन जी बहुत बहुत शुक्रिया साहब"
Dec 29, 2018
Jitendra sharma replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-102
"जी बिल्कुल"
Dec 29, 2018
Jitendra sharma replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-102
"जनाब समर कबीर साहब आदाब, बहुत बहुत शुक्रिया जनाब । आपकी इस्लाह सर आंखों पर, बिल्कुल सुधार लूंगा और आगे भी पूरा ध्यान रखूंगा।"
Dec 29, 2018
Jitendra sharma replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-102
"मयकदों में शाम गुजरे हाल कैसा बन गयामेरा दिल अब दिल नही उनका खिलौना बन गया हम सुनाने आये उनको हाल ए दिल अपना मगरउन के कानों तक न पहुँचा और फ़साना बन गया यार मेरे पूछते है हाल दिल का जब मुझेमैंने हँस कर कह दिया दिल का तमाशा बन…"
Dec 29, 2018
Jitendra sharma replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-101
"आदरणीय मोहम्मद आरिफ जी इतनी शानदार प्रतिक्रिया एवं हौसला अफ़ज़ाई के लिए शुक्रिया"
Nov 24, 2018
Jitendra sharma replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-101
"आदरणीय समर कबीर जी आपकी प्रतिक्रिया एवं सुझाव देने का बहुत शुक्रिया इन्हें अमल में लाने की पूरी कोशिश करूंगा"
Nov 24, 2018

Profile Information

Gender
Male
City State
Ahmedabad
Native Place
Jhunjhunu, Rajasthan
Profession
Private job
About me
I am an independent writer of Gazal and poet ,Writing for own soul

Jitendra sharma's Blog

लौट के आये उड़ान से - ग़ज़ल

दिन-भर जो बात करते रहे आस्मान से

सूरज ढला तो लौट के आये उड़ान से

था वक़्त का ख़याल या हारे थकान से

निकले थे घर से सुब्ह जो अपने गुमान से

आसां नहीं बुलन्दी को छूना, ये है फ़लक

गुज़री हर एक राह तो मुश्किल चढ़ान से

टूटे हुए सितारों से हो किसको वास्ता

निस्बत रही सभी को फ़क़त आस्मान से

खामोशियों से करते हैं हालत मेरी बयां

आँखों से बहते अश्क मेरे बेजुबान-से

जब मग़रिबी हवाओं से मुरझा गया…

Continue

Posted on February 13, 2019 at 5:30pm — 4 Comments

Comment Wall

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

  • No comments yet!
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
""ओबीओ लाइव तरही मुशायरा" अंक 107 को सफ़ल बनाने के लिए सभी ग़ज़लकारों और पाठकों का आभार व…"
1 hour ago
अजय गुप्ता replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"शुक्रिया अनीस जी"
1 hour ago
अजय गुप्ता replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"शुक्रिया अमित जी"
1 hour ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"जनाब समर कबीर साहब उपयोगी जानकारी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया ...."
1 hour ago
अजय गुप्ता replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"शुक्रिया मोहन जी"
1 hour ago
अजय गुप्ता replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"आभार जनाब"
1 hour ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"भाई आलोचना कोई भी करे अगर वो दुरुस्त लगे तो हर सदस्य को या तो उस आलोचना से सहमत होना चाहिए या असहमत…"
1 hour ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"जनाब नादिर ख़ान साहिब आदाब,तरही मिसरे पर ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें । 'हर किसान…"
1 hour ago
नादिर ख़ान replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"शुक्रिया डॉ अमर नाथ झा  साहब "
1 hour ago
Dr Amar Nath Jha replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"वाह। बधाई जनाब नादिर खान साहेब। "
2 hours ago
Dr Amar Nath Jha replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"जी सर। सही कह रहे हैं आप। लेकिन कई बार लोग ये भी सोचते हैं कि आपने तो ग़ज़ल की तनकीद कर ही दी है।…"
2 hours ago
Dayaram Methani replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-107
"उजले कपड़े दिल का काला लगता हैबनता अपना पर बेगाना लगता है...................अति सुंदर। बधाई स्वीकार…"
2 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service