For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा- अंक 36(Now Closed With 965 Replies)

परम आत्मीय स्वजन,

"ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" के 36 वें अंक में आपका हार्दिक स्वागत है. इस बार का तरही मिसरा,हिन्दुस्तान को अपना दूसरा घर कहने वाले मरहूम पाकिस्तानी शायर अहमद फ़राज़ की बहुत ही मकबूल गज़ल से लिया गया है.

पेश है मिसरा-ए-तरह...

"अभी कुछ और करिश्मे ग़ज़ल के देखते हैं"

अ/१/भी/२/कु/१/छौ/२/र/१/क/१/रिश/२/में/२/ग/१/ज़ल/२/के/१/दे/२/ख/१/ते/१/हैं/२

१२१२    ११२२    १२१२    ११२

 मुफाइलुन फइलातुन  मुफाइलुन फइलुन

(बह्र: मुजतस मुसम्मन् मख्बून मक्सूर )

* जहां लाल रंग है तकतीई के समय वहां मात्रा गिराई गई है 
** इस बह्र में अंतिम रुक्न को ११२ की बजाय २२ करने की छूट जायज़ है 
रदीफ़ :- के देखते हैं  
काफिया :-  अल (ग़ज़ल, महल, संभल, टहल, निकल, चल, ढल, उबल आदि)
 

मुशायरे की शुरुआत दिनाकं 28 जून दिन शुक्रवार लगते ही हो जाएगी और दिनांक 30 जून दिन रविवार समाप्त होते ही मुशायरे का समापन कर दिया जायेगा.

अति आवश्यक सूचना :-

  • "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" में प्रति सदस्य अधिकतम दो गज़लें ही प्रस्तुत की जा सकेंगीं
  • एक दिन में केवल एक ही ग़ज़ल प्रस्तुत करें
  • एक ग़ज़ल में कम से कम 5 और ज्यादा से ज्यादा 11 अशआर ही होने चाहिएँ.
  • तरही मिसरा मतले में इस्तेमाल न करें
  • शायरों से निवेदन है कि अपनी रचनाएँ लेफ्ट एलाइन, काले रंग एवं नॉन बोल्ड टेक्स्ट में ही पोस्ट करें
  • वे साथी जो ग़ज़ल विधा के जानकार नहीं, अपनी रचना वरिष्ठ साथी की इस्लाह लेकर ही प्रस्तुत करें
  • नियम विरूद्ध, अस्तरीय ग़ज़लें और बेबहर मिसरों वाले शेर बिना किसी सूचना से हटाये  जा सकते हैं जिस पर कोई आपत्ति स्वीकार्य नहीं होगी

मुशायरे के सम्बन्ध मे किसी तरह की जानकारी हेतु नीचे दिये लिंक पर पूछताछ की जा सकती है....

 

फिलहाल Reply Box बंद रहेगा जो   28 जून दिन शुक्रवार लगते ही खोल दिया जायेगा, यदि आप अभी तक ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार से नहीं जुड़ सके है तो www.openbooksonline.com पर जाकर प्रथम बार sign up कर लें.


मंच संचालक 
राणा प्रताप सिंह 
(सदस्य प्रबंधन समूह) 
ओपन बुक्स ऑनलाइन डॉट कॉम 

 

Views: 8891

Replies are closed for this discussion.

Replies to This Discussion

वाह आशीष जी, शानदार गज़ल लेकर आये हैं. गज़ल में भावों की सहजता और सादगी मन को छू गई है.

पतंगा जानता है उस शमा को कौन है वो ?
मगर ये उसकी वफ़ा है, कि जल के देखते हैं ॥

पतंगे की इस वफा को हजारों दाद...............वाह !!!!!!!!!!!!!!

तहेदिल से शुक्रिया आदरणीय अरुण जी !!

""सँभल-सँभल के चलेहम मगररहे तन्हा चलो अब इश्क में ही परफिसलके देखते हैं ॥

अभी तो आँसुओं से रोशनाई बन पड़ी है अभी कुछ और करिश्मे ग़ज़लके देखते हैं॥"".....आदरणीय...आशीष जी, बहुत खूब ....हार्दिक बधाई

बहुत-बहुत शुक्रिया आदरणीय जीतेन्द्र जी !!

"जी, तहे दिल से आभार....

इस संज़ीदा कोशिश के लिए ढेर सारी शुभकामनाएँ आशीष भाई जी..

विलम्ब से सही लकिन प्रतिभागिता के लिए बहुत बहुत बधाई

शुभेच्छाएँ

बहुत - बहुत शुक्रिया सर  !!
प्रतिभाग करके तसल्ली होती है :))))

पतंगा जानता है उस शमा को कौन है वो ?
मगर ये उसकी वफ़ा है, कि जल के देखते हैं ॥

पतंगे जानते हैं उस शमा को कौन है वो ?

मगर ये उनकी वफ़ा है, कि जल के देखते हैं ॥

 प्रस्तुति पर बधाई भाई, समय कम है . 

बहुत-बहुत शुक्रिया आदरणीय !!  :)

वो अपने आप को पल पल बदल के देखते हैं

बदलते वक़्त के जो साथ चल के देखते हैं

 

बहुत से हर्फ़ जहन में मचल के देखते हैं

अभी कुछ और करिश्मे ग़ज़ल के देखते हैं

 

ख़ुशी औ गम है दो पहलू हमारे जीवन के

जो आज गम हैं तो आगे निकल के देखते हैं

 

हैं जिनकी जेब भरी जेब काटकर हरदम

वही हैं आज जो सपने महल के देखते हैं 

 

बबूल बोते रहे रात दिन जतन कर जो

चुभन भरे वो अभी फल फसल के देखते हैं

 

नक़ल अकल से करो दीप कारनामा हो  

अकल को छोड़ अब जलवे नक़ल के देखते हैं  

 

संदीप पटेल “दीप”

""ख़ुशी औ गम है दो पहलू हमारे जीवन के

जो आज गम हैं तो आगे निकलके देखते हैं.....बबूलबोतेरहेरातदिन जतन करजो

चुभन भरेवो अभी फलफसलके देखतेहैं"""आदरणीय.....संदीप जी, बहुत खूब, ...हार्दिक बधाईयां

 

हैं जिनकी जेब भरी जेब काटकर हरदम

वही हैं आज जो सपने महल के देखते हैं...  बहुत खूब भाई संदीप जी  !!

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Samar kabeer commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post सदमे में है बेटियाँ चुप बैठे हैं बाप - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"जनाब लक्ष्मण धामी 'मुसाफ़िर' जी आदाब,अच्छे दोहे लिखे आपने,बधाई स्वीकार करें । 'आदम…"
2 minutes ago
Samar kabeer commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"जनाब नवीन मणि त्रिपाठी जी आदाब,ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें । 'हर इक सू से सदा ए…"
22 minutes ago
Samar kabeer commented on Sushil Sarna's blog post कुछ क्षणिकाएँ : ....
"जनाब सुशील सरना जी आदाब,अच्छी क्षणिकाएँ लिखीं आपने,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।"
37 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Sushil Sarna's blog post तितली-पुष्प प्रेम :
"आ. भाई सुशील जी, सम्वादात्मक रुप में सुन्दर दोहे हुए हैं । हार्दिक बधाई।"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Manan Kumar singh's blog post एनकाउंटर(लघुकथा)
"आ. भाई मनन जी, समसामयिक विषय पर अच्छी कथा हुई है । हार्दिक बधाई।"
3 hours ago
विमल शर्मा 'विमल' commented on विमल शर्मा 'विमल''s blog post थामूँ तोरी बाँहे गोरी / तिन्ना छंद
"आद० लक्ष्मण धामी जी ..हार्दिक आभार आपका"
4 hours ago
Manan Kumar singh posted a blog post

एनकाउंटर(लघुकथा)

'कभी - कभी विपरीत विचारों में टकराव हो जाया करता है। चाहे - अनचाहे ढंग से अवांछित लोग मिल जाते…See More
5 hours ago
PHOOL SINGH posted a blog post

एक पागल की आत्म गाथा

दुनियाँ कहे मै पागल हूँमै कहता पागल नहीं, बस घायल हूँकभी व्यंग्य, कभी आक्षेप कोखुद पर रोज मैं सहता,…See More
5 hours ago
Naveen Mani Tripathi posted a blog post

ग़ज़ल

2122 2122 2122 212कुछ मुहब्बत कुछ शरारत और कुछ धोका रहा ।हर अदा ए इश्क़ का दिल तर्जुमा करता रहा…See More
5 hours ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आ0 लक्ष्मण धामी मुसाफ़िर साहब तहेदिल से बहुत बहुत शुक्रिया"
6 hours ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आ0 प्रदीप देवीशरण भट्ट साहब तहेदिल से बहुत बहुत शुक्रिया"
6 hours ago
Naveen Mani Tripathi commented on Naveen Mani Tripathi's blog post ग़ज़ल
"आ0 सुशील सरना साहब तहेदिल से बहुत बहुत शुक्रिया।"
6 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service