For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

 शख्स उसको भी तो दीवाना समझ बैठे थे हम l
जो था अच्छा उस को बेचारा समझ बैठे थे हम l


अब न जीतेगा ज़माना भी हमेशा की तरह,
जिस तरह का था उसे वैसा समझ बैठे थे हम l


गीत गाया था बहारों पर सुनाया था कहाँ,
जब ख़िज़ाँ को भी अगर अपना समझ बैठे थे हम l


फूल ये बिखरा तो खुशबू सा शजर बनता मिला,
"इस ज़मीन ओ आसमां को क्या समझ बैठे थे हम l"


ये जहाँ बदला मगर ये जिंदगानी क्यूँ नहीं,
झूठ दुनिया जिस कहे सच्चा समझ बैठे थे हम l

मौलिक व अप्रकाशित"

Views: 84

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Samar kabeer on February 25, 2020 at 11:47am

जनाब मोहन बेगोवाल जी आदाब,ओबीओ के तरही मिसरे पर ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें ।

'जिस तरह का था उस वैसा समझ बैठे थे हम'

इस मिसरे में 'उस' को "उसे" कर लें ।

'ये जहाँ बदला मगर ये जिंदगी क्यूँ नहीं'

ये मिसरा बह्र से ख़ारिज हो रहा है,'ज़िन्दगी' को "जिंदगानी" कर लें,बह्र में आ जायेगा ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"आदरणीय सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' जी बेहतरीन ग़ज़ल की बधाई स्वीकार करें।"
29 minutes ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"आदरणीय चेतन प्रकाश जी नमस्कार। आदरणीय बेहतरीन ग़ज़ल हुई । इस रदीफ़ के साथ तंग क़ाफ़िया होने के…"
32 minutes ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"आदरणीय दण्डपाणि 'नाहक' जी नमस्कार। बेहतरीन ग़ज़ल हुई बधाई स्वीकार करें। आदरणीय मतले में…"
36 minutes ago
Tasdiq Ahmed Khan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"गज़ल मासिवा ग़म के सनम से कोई ख़वाहिश नहीं की फिर भी हैरत है मुझे उसने नवाज़िश नहीं की देख कर…"
1 hour ago
Anil Kumar Singh replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"2122 1122 1122 112/22 1- आपने अपनी इनायात की बारिश नहीं की ये न कह देना कि महरूम ने कोशिश नहीं…"
2 hours ago
सालिक गणवीर replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"2122 1122 1122 22/112 तिश्नगी में भी मियाँ पानी की ख़्वाहिश नहीं कीमर गए प्यासे मगर उनसे गुज़ारिश…"
2 hours ago
सुरेन्द्र नाथ सिंह 'कुशक्षत्रप' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"वो भी अनजान रहा दर्द की पुर्सिश नहीं कीअपने हालात की मैंने भी नुमाइश नहीं की रूखी सूखी में ही ख़ुश…"
2 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"2122 - 1122 - 1122 - 112    ज़ुल्म सहते रहे ज़ालिम से गुज़ारिश नहीं की  और उसने भी…"
7 hours ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"सादगी से रहे यारो कोई साज़िश नहीं की हमने दुनिया में किसी शख़्स से रंज़िश नहीं की उसका पाना तो हमारे…"
8 hours ago
Chetan Prakash replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"तरही ग़ज़ल ः 2122 1122 1122 22 ( 112 ) ज़ब्र -ओ्- ज़ुल्म की दुनिया में रिहाइश नही की गर सहारा वो…"
8 hours ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"प्रणाम आदरणीय"
8 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-125
"स्वागतम"
8 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service