For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गनेश जी "बागी")

Featured Videos

All Videos (358)

  • Mann Ka Murm.wmv

    Mann Ka Murm.wmv

    "मन का मर्म" मेरी लिखी यह कविता आप यहाँ मेरी आवाज मेँ सुन सकते हैँ. आप की टिप्पणियोँ की प्रतीक्षा र… Mohinder Kumar Nov 10 6 views

  • Mera Basant.wmv

    Mera Basant.wmv

    "मेरा बसंत" मेरी लियी एक कविता आप यहाँ मेरी आवाज मेँ सुन सकते हैँ. आप की टिप्प्णियोँ की प्रतिक्षा र… Mohinder Kumar Nov 10 5 views

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Dr. Vijai Shanker commented on somesh kumar's blog post उसके हज़ारों रूप लगें
"फूल खिलते हैं ,महकते हैं, मुरझा जाते हैं किसी को रस ,किसी का यश , किसी का उत्कर्ष,किसी का आशीष लगे…"
15 minutes ago
Dr. Vijai Shanker commented on मिथिलेश वामनकर's blog post मेंह्दी वाले हाथ (मिथिलेश वामनकर)
"वाह , कुछ काल्पनिक , कुछ वास्तविक। सुन्दर। बधाई आदरणीय मिथिलेश वामनकर जी , सादर।"
47 minutes ago
Hari Prakash Dubey commented on मिथिलेश वामनकर's blog post मेंह्दी वाले हाथ (मिथिलेश वामनकर)
"बहुत ही सुन्दर रचना  ईश्वर  ने कैसा रचा, तेरा  मेरा साथ । मेरी ताकत बन गए, मेंह्दी…"
2 hours ago
मिथिलेश वामनकर commented on गिरिराज भंडारी's blog post जो गुज़र गया वो गुज़र गया ( ग़ज़ल ) गिरिराज भंडारी
"इस कठिन बह्र में आपकी बहुत अच्छी कमांड है आ. गिरिराज सर .... ये ग़ज़ल बहुत ही उम्दा है ....बस…"
3 hours ago
मिथिलेश वामनकर commented on गिरिराज भंडारी's blog post फ़क़त दो चार पल की बात है ये ( ग़ज़ल - गिरिराज भन्डारी )
"कबूतर, तुम यक़ीं करना समझ कर कहूँ क्या? आदमी की जात है ये उम्दा शेर ...बधाई आपको "
3 hours ago
मिथिलेश वामनकर commented on गिरिराज भंडारी's blog post बह के पानी की तरह अब दूर तक वो जायेगा ( ग़ज़ल ) गिरिराज भंडारी
"बंदरों को फिर मिला शायद मसलने के   लिये फूल ने मंसूबा कल बान्धा था खिलने के लिये…"
3 hours ago
मिथिलेश वामनकर commented on गिरिराज भंडारी's blog post ग़ज़ल - कभी दोश अश्कों से तर रहा ( गिरिराज भंडारी )
"वाह वाह वाह बह्र-ए-कामिल ..... बहुत ही उम्दा .... इस कठिन बह्र पर आपका कलाम देखकर दिल बाग़…"
3 hours ago
मिथिलेश वामनकर commented on Shyam Narain Verma's blog post यार बैरी बना आशिकी के लिये |
"शोर होता रहा रौशनी के लिये |लोग लड़ते रहे ढीबरी के लिये | बेबसी का नज़ारा न देखा कोई ,मार होती रही…"
3 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post शामिल न हुए अब तक हम उनकी दुआओं में,
"आदरणीय नीलेश भाई , आपकी भावांजलि में मेरी भी भावनाये शामिल कर कर रहा हूँ । बहुत सुन्दर मार्मिक गज़ल…"
5 hours ago
मिथिलेश वामनकर commented on Sushil Sarna's blog post मौसम भी नीर बहायेगा ………….
"इस बेहतरीन, सुन्दर और भाव पूर्ण रचना के लिये आपको बधाइयाँ आदरणीय…"
5 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on गिरिराज भंडारी's blog post गीत / नवगीत - बर्तन भांडे चुप चुप सारे ( गिरिराज भंडारी )
"आदरणीय विजय शंकर भाई , उत्साह वर्धन के लिये आपका बहुत शुक्रिया ।"
5 hours ago

सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी commented on गिरिराज भंडारी's blog post गीत / नवगीत - बर्तन भांडे चुप चुप सारे ( गिरिराज भंडारी )
"आदरणीय सोमेश भाई आपका दिली आभार !"
5 hours ago

© 2014   Created by Admin.

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service