For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Admin's Discussions (862)

Discussions Replied To (368) Replies Latest Activity

"A lot of thanks to Mr Preetam jee and Mr Raju jee for sharing these informative matt…"

Admin replied Apr 4, 2010 to आइए अपने अपने प्रदेश को एक दूसरे से परिचित कराए...

4 Apr 4, 2010
Reply by Admin

"बहुत बढ़िया और लाभदायक जानकारी दिये है राजू जी, बहुत बहुत धन्यबाद."

Admin replied Apr 4, 2010 to "Shortcuts for Computer"

4 Apr 5, 2010
Reply by Amrendra Kumar

"गुरु जी इ कहावत गलत नैखे बनल की "जैसन करे वो वोइसन पावे ,पूत भतार के आगे आवे" , गलत…"

Admin replied Mar 26, 2010 to बाइक चोर ,

4 Mar 29, 2010
Reply by Raju

"hahahaha, bahut sahi Ratnesh bhai, ham raaur baat sey puri tarah sahmat baani."

Admin replied Mar 26, 2010 to बाबा सत्येन्द्र नाथ के तीन दावा

8 Mar 29, 2010
Reply by Raju

"प्रीतम जी, सबसे पहिले त हम रौवा के धन्यवाद देब की रौवा एगो और बाबा के खुराफात के बार…"

Admin replied Mar 26, 2010 to बाबा सत्येन्द्र नाथ के तीन दावा

8 Mar 29, 2010
Reply by Raju

"सुप्रीम कोर्ट ने तो फैसला सुना दिया, लेकिन क्या यह लागू हो पायेगा हमारे समाज में | ए…"

Admin replied Mar 24, 2010 to कैसे होगा सुप्रीम कोर्ट का फैसला समाज को हजम ?

6 Oct 21, 2010
Reply by Ratnesh Raman Pathak

"रत्नेश भाई सबसे पहिले त हम रउआ के ऐह मन्च से ऐतना गम्भीर मुद्दा शुरू करे खातिर धन्यब…"

Admin replied Mar 22, 2010 to अबकी केकरा सर पर जाई बिहार के ताज ?

9 Sep 18, 2010
Reply by Rash Bihari Ravi

"सबसे पहले तो मै आपको पहला और इतना गम्भीर बिषय पर चर्चा करने हेतु धन्यबाद देता हू । द…"

Admin replied Mar 17, 2010 to माई

8 Apr 6, 2010
Reply by Amrendra Kumar

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Dr. Vijai Shanker commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post सदमे में है बेटियाँ चुप बैठे हैं बाप - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
"आदरणीय लक्ष्मण सिंह धामी जी , इस गंभीर, सामयिक और शिक्षाप्रद प्रस्तुति के लिए बधाई , सादर।"
2 hours ago
Dr. Vijai Shanker commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post कठिन बस वासना से पार पाना है-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'( गजल )
"आदरणीय लक्ष्मण सिंह धामी जी , इस गंभीर प्रेरक प्रस्तुति के लिए बधाई , सादर।"
2 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post कुछ क्षणिकाएँ : ....
""आदरणीय   लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी सृजन पर आपकी ऊर्जावान प्रतिक्रिया…"
8 hours ago
Usha commented on Usha's blog post ज़िन्दगी - एक मंच । (अतुकांत कविता)
"आदरणीय श्री लक्ष्मण जी, कविता आपको पसंद आई, ह्रदय से आपका आभार। सादर।"
14 hours ago
डॉ छोटेलाल सिंह commented on डॉ छोटेलाल सिंह's blog post आक्रोश
"आदरणीय लक्ष्मण धामी जी उत्साह वर्धन के लिए आपका दिल से आभार"
15 hours ago
Manan Kumar singh posted a blog post

अप टू डेट लोग(लघुकथा)

'भूं  भूं...भूं' की आवाज सुन भाभी भुनभुनाई-- ' भोरे भोरे कहां से यह कुक्कुड़ आ गया रे?' '  कुक्कुड़…See More
15 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted a blog post

कठिन बस वासना से पार पाना है-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'( गजल )

१२२२/१२२२/१२२२अमरता देवताओं  का  खजाना हैमनुज तूने कभी उसको न पाना है।१।यहाँ मुँह तो  बहुत  पर  एक…See More
15 hours ago
SALIM RAZA REWA posted a blog post

गुलशन-ए -दिल में टहलने वो अगर आएँगे   - सलीम रज़ा

2122 1122 1122 22गुलशन-ए -दिल में टहलने वो अगर आएँगे      फूल जितने है वो क़दमों में बिखर…See More
15 hours ago
Sushil Sarna posted a blog post

दो मुक्तक (मात्रा आधारित )......

दो मुक्तक (मात्रा आधारित )......शराबों में शबाबों में ख़्वाबों में किताबों में। ज़िंदगी उलझी रही…See More
15 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on डॉ छोटेलाल सिंह's blog post आक्रोश
"आ. भाई छोटेलाल जी, सादर अभिवादन। समसामयिक विषय पर उत्तम दोहे रचे हैं । हार्दिक बधाई।"
16 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Usha's blog post ज़िन्दगी - एक मंच । (अतुकांत कविता)
"आ. ऊषा जी, अच्छी कविता हुई है । हार्दिक बधाई।"
16 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल नूर की- तू ये कर और वो कर बोलता है.
"आ. भाई नीलेश जी, सादर अभिवादन। बहुत ही उम्दा गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
16 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service