For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

रोशनी के सामने ये तीरगी क्या चीज़ है ( २३ )

रोशनी के सामने ये तीरगी क्या चीज़ है 
वक़्त की आंधी के आगे आदमी क्या चीज़ है 
***
जब थपेड़े ग़म के खाता है जहाँ में आदमी
तब उसे मालूम होता है ख़ुशी क्या चीज़ है 
***
एक बच्चे की कोई भी आरज़ू पूरी हो जब 
ग़ौर से फिर देखिये चेहरा हँसी क्या चीज़ है 
***
ग़ुरबतों से लड़ के जिसने ख़ुद बनाया हो मक़ाम 
बस वही तो जानता है मुफ़लिसी क्या चीज़ है
***
शह्र में तो प्यास का अहसास क्या होगा जनाब
गांव में जाकर के देखो तिश्नगी क्या चीज़ है 
***
जब तिरंगे में विदाई पुत्र को देता पिता 
उससे पूछो आँख की होती नमी क्या चीज़ है 
***
जह्र पी लेती है जो होकर दिवानी प्यार में 
सिर्फ मीरा ने ही जाना बंदगी क्या चीज़ है 
***
मुब्तला है जिस्म के धंधे में उससे पूछिए 
बेबसी क्या चीज़ है और खीरगी क्या चीज़ है 
***
आज तो है घर बड़ा रहता जहाँ पर है 'तुरंत '
पर उसे मालूम है ये झोंपड़ी क्या चीज़ है
***
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत' बीकानेरी
***

(मौलिक एवं अप्रकाशित )

Views: 31

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' on February 8, 2019 at 2:52pm

दिगंबर नासवा साहेब ,आदाब | 

स्नेहिल सराहना के लिए हार्दिक आभार !
Comment by दिगंबर नासवा on February 8, 2019 at 1:19pm

बहुत खूब ...

अच्छे खनकदार शेर हैं कुछ तो ... वाह वाह निकल ही जाती है ... 

बहुत बधाई ....

Comment by गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' on February 7, 2019 at 9:53pm

आदरणीय Samar kabeer साहेब ,आदाब | आपकी सराहना के साथ साथ इस्लाह ने न केवल मेरा हौसला बढ़ाया है बल्कि मेरी कमियों को ठीक से समझने में भी मदद की है | मुझे आपकी शरण में बहुत पहले आ जाना चाहिए था | आप निस्वार्थ जो साहित्य की सेवा कर रहे हैं एवं भटके हुओं को राह दिखा रहे हैं ,उसके लिए आपका शुक्रगुज़ार हूँ | आप द्वारा सुझाये गए सभी संशोधन सटीक एवं कलाम में चार चाँद लगाने वाले होते हैं | आपके इस जज़्बे को सलाम | 

Comment by Samar kabeer on February 7, 2019 at 3:41pm

जनाब गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत' जी आदाब,ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है,बधाई स्वीकार करें ।

'जब थपेड़े ग़म के खाकर सुर्ख़रू हो आदमी'

इस मिसरे में 'सुर्ख़रु' शब्द मुनासिब नहीं,मिसरा यूँ कर सकते हैं:-

'जब थपेड़े ग़म के खाता है जहाँ में आदमी'

'इक वही बस जानता है मुफ़लिसी क्या चीज़ है'

इस मिसरे को यूँ करना उचित होगा:-

'बस वही तो जानता है मुफ़लिसी क्या चीज़ है'

'आप तो बस तिश्नगी का ढूंढते हल मयकशी'

इस मिसरे को यूँ करना उचित होगा:-

'शह्र में तो प्यास का अहसास क्या होगा जनाब'
'पर उसे मालूम होती झोंपड़ी क्या चीज़ है'

इस मिसरे को यूँ करना उचित होगा:-

'पर उसे मालूम है ये झोंपड़ी क्या चीज़ है'

बाक़ी शुभ शुभ ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"आ. अंजलि जी, अच्छी गजल हुयी है । हार्दिक बधाई।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"आ. भाई दिगम्बर जी, सादर अभिवादन ।सुंदर गजल हुयी है । हार्दिक बधाई ।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"आ. भाई तस्दीक अहमद जी, बेहतरीन गजल हुयी है । हार्दिक बधाई।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"आ. भाई सुरेंद्र जी, लाजवाब गजल हुई है । दिल से बधाई स्वीकारें।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"आ. भाई जावेद जी सादर आभार।"
1 hour ago
mirza javed baig replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"जनाब अनीस शैख़ साहिब आदाब ग़ज़ल के उम्दा प्रयास के लिए दिली मुबारक बाद "
5 hours ago
mirza javed baig replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"जनाब बलराम धाकड़ जी आदाब ग़ज़ल के उम्दा प्रयास के लिए मुबारक बाद  अकाबेरीन की इस्लाह …"
6 hours ago
mirza javed baig replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"जनाब नादिर ख़ान साहिब आदाब  शानदार ग़ज़ल के लिए दिली मुबारक बाद "
6 hours ago
mirza javed baig replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"जनाब लक्शमण धामी जी आदाब  आपके प्रयास ओर ग़ज़ल कहने के जज़्बे को सलाम"
6 hours ago
mirza javed baig replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"जनाब सुरेंद्र नाथ जी उम्दा ग़ज़ल के लिए दिली मुबारक बाद "
6 hours ago
mirza javed baig replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"जनाब सुरेंद्र नाथ जी उम्दा अशआर के लिए दिली मुबारक बाद "
6 hours ago
mirza javed baig replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-104
"जनाब नादिर ख़ान साहिब आदाब  हौसला अफ़ज़ाई का बहुत बहुत शुक्रिया। "
6 hours ago

© 2019   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service