For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Let's Work for our Soul

Deplorable, Devastating, Disheartening
their condition was.
Garbage, Dirt, Poverty
Unfortunate their life was.
Irrespective of all odds and pains
Surreal, Sublime, Satisfying
Their smiles were,
Inwards & outwards visible with
Joyful, delighted, happy faces
In the wait of distributions.
My heart full of sense of gratitude
Overflowed with humanity & humbleness
Stood there, passing eatables
Felt, as if they were not just grains
But lot more than that.
Wondering.. ! how meager a sacrifice
Of time and money it was
Showering genuine joyous smiles
Faces all vibrant and victorious
Holding their shares in small hands.
That being the most pious work
My physical self sensed goosebumps
Soul felt contended somewhat,
Signalling to perforn such goodfeel tasks, quiet often more often.

Composed by Swastik Sawhney

Views: 111

Replies to This Discussion

Dear Swastik Sawhney, Beautiful expression of thoughts in a most empathetic manner. Great going. Wonderful piece of poetry. Congratulations.

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post आँगन वो चौड़ा खेत के छूटे रहट वहीं - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"अच्छी ग़ज़ल कही आदरणीय"
34 minutes ago
Zid posted a video

Beautiful Song | Aaj Bhi Kehete Hai Mujhse | GazalKing Zid

#gazalking_Zid #romanticsong Lyrics:- 1. Let the eyes turbid with desire to meet love 2.get to see eyes that too are waiting 3.and let this event proceed wit...
2 hours ago
Neeta Tayal posted a blog post

जरा याद उन्हें भी कर लो

"जरा याद उन्हें भी कर लो"भारत मेरा देश है औरहिन्दी मातृभाषा है।मैं भारत का प्रेमी हूं,और प्रेम ही…See More
4 hours ago
Amrita Sinha is now a member of Open Books Online
5 hours ago
सालिक गणवीर commented on सालिक गणवीर's blog post जिसको हम ग़ैर समझते थे...(ग़ज़ल : सालिक गणवीर)
"आदरणीय रवि भसीन 'शाहिद'साहिबआदाबग़ज़ल पर आपकी मौजूदगी और हौसला अफजाई के लिए आपका तह-ए-दिल…"
10 hours ago
Madhu Passi 'महक' commented on Madhu Passi 'महक''s blog post यूँ ख़यालों में सनम आने लगे हैं...(ग़ज़ल मधु पासी 'महक')
"आदरणीय रवि भसीन 'शाहिद' जी नमस्कार! ग़ज़ल तक आने और हौसला अफ़ज़ाई के लिए आपकी तह-ए-दिल से…"
12 hours ago
Admin added a discussion to the group चित्र से काव्य तक
Thumbnail

"ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक-112

आदरणीय काव्य-रसिको,सादर अभिवादन ! ’चित्र से काव्य तक’ छन्दोत्सव का यह आयोजन लगातार क्रम में इस…See More
22 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' commented on सालिक गणवीर's blog post जिसको हम ग़ैर समझते थे...(ग़ज़ल : सालिक गणवीर)
"आदरणीय सालिक गणवीर साहिब, नमस्कार। बहुत ख़ूब ग़ज़ल हुई है जनाब, आपको इस पर ख़ूब सारी दाद और…"
23 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' commented on Dipu mandrawal's blog post मशीनी पुतले
"आदरणीया Dipu mandrawal साहिबा, बहुत ख़ूब। बड़ी सच्चाई है आपके अल्फ़ाज़ में। सादर"
23 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' commented on Madhu Passi 'महक''s blog post यूँ ख़यालों में सनम आने लगे हैं...(ग़ज़ल मधु पासी 'महक')
"आदरणीया Madhu Passi 'महक' साहिबा, बहुत ख़ूब ग़ज़ल कही आपने! ओबीओ के मंच पर आपको इस…"
23 hours ago
Madhu Passi 'महक' posted a blog post

यूँ ख़यालों में सनम आने लगे हैं...(ग़ज़ल मधु पासी 'महक')

बह्रे-रमल मुसद्दस सालिम2122 / 2122 / 2122यूँ ख़यालों में सनम आने लगे हैंदिल को मेरे अब वो महकाने लगे…See More
yesterday
Dipu mandrawal posted a blog post

मशीनी पुतले

ये जो चलते फिरते मशीनी पुतले हो गए हैं हम । अंधेरे जलसों के धुएँ में खो गए हैं हम । किसी के अश्क़…See More
yesterday

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service