For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Manjeet kaur
Share

Manjeet kaur's Groups

 

Manjeet kaur's Page

Latest Activity

Manjeet kaur replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100 (भाग -2)
"राज़ ऐसा बता गया है मुझे समझो, जीना सिखा गया है मुझे । अब ये धरती लगे मुझे जन्नत ख़्वाब ऐसा दिखा गया है मुझे । नींद मीठी सी आई है मुझको कोइ लोरी सुना गया है मुझे । राज़ उनका न आएगा लब पर अपनी कसमें दिला गया है मुझे । ना ज़रूरत रही सफ़ीना की चलना…"
yesterday
Manjeet kaur replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-100
"राज़ ऐसा बता गया है मुझे समझो, जीना सिखा गया है मुझे । अब ये धरती लगे मुझे जन्नत ख़्वाब ऐसा दिखा गया है मुझे । नींद मीठी सी आई है मुझको कोइ लोरी सुना गया है मुझे । राज़ उनका न आएगा लब पर अपनी कसमें दिला गया है मुझे । ना ज़रूरत रही सफ़ीना की चलना…"
yesterday
Manjeet kaur replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-99
"ढूंढा जहां ये सारा कि सच्चा कहें जिसे हम भीड़ में तलाशते अपना कहें जिसे । ख़्वाहिश में मंज़िलों की हैं भटके इधर उधर कोई मिली न राह कि रस्ता कहें जिसे । जाने क्यूँ रूठ कर मिरा महबूब चल दिया किस बात पे ख़फ़ा है वो , शिकवा कहें जिसे । दुनिया ने किसको…"
Sep 27
Manjeet kaur replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-99
"आदरणीय कबीर साहब, आपकी ग़ज़ल पढ़ना एक खूबसूरत एहसास, बहुत कुछ सीखने को मिलेगा, मुबारकबाद पेश करती हूँ।"
Sep 27
Manjeet kaur replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 89 in the group चित्र से काव्य तक
"आदरणीय ,धन्यवाद, हौसला अफ़ज़ाई का शुक्रिया।"
Sep 22
Manjeet kaur replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 89 in the group चित्र से काव्य तक
"धन्यवाद आदरणीय राजेश कुमारी जी, सुझाव पर यकीनन अमल होगा ।"
Sep 22
Manjeet kaur replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 89 in the group चित्र से काव्य तक
"शक्ति छंद न सोचा जिसे था ,विपत वो पड़ी नदी रूप धरकर भयानक खड़ी न सूझे हमें अब कि जाएं कहाँ नदी बीच डूबा बना आशियाँ । धरा जल मग्न हो गई है सभी नहीं रूप देखा विकट ये कभी बिठा टोकरी बाल बढ़ती चली बना भाग देखो अजब ये छली । इधर है उधर है नहीं छोर है चली…"
Sep 22
Manjeet kaur replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-95
"शेख उस्मानी साहब, हौसला अफ़ज़ाई का तहे दिल से शुक्रिया"
Sep 15
Manjeet kaur replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-95
"आदरणीय कबीर साहब,शुक्रिया, कमियों को दूर करने की पूरी कोशिश रहेगी धन्यवाद"
Sep 15
Manjeet kaur replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-95
"शुक्रिया ,जनाब आरिफ़ मोहम्मद जी, भूलवश शीर्षक रह गया ,धन्यवाद"
Sep 15
Manjeet kaur replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-95
"आदरणीय बबीता जी ,हौसला अफ़ज़ाई का शुक्रिया ।"
Sep 15
Manjeet kaur replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-95
"गलती सुधार पहली पंक्ति में 'वो भी क्या दिन थे' टाइपिंग में गलत हो गया है क्षमा चाहूंगी ,धन्यवाद"
Sep 15
Manjeet kaur replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-95
"था कायम दिलों में आपस करार, वो भी क्या देश न थे बदला ज़माना हैं बदले विचार, वो भी क्या दिन थे बचपन के दिन थे लगते सुहाने गाते थे मिलकर मीठे तराने उड़ती हो जैसे पंछी की डार, वो भी क्या दिन थे चिट्ठी औ ख़त की बातें पुरानी मोबाइल की दुनिया लगती…"
Sep 15
Manjeet kaur replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-98
"आदरणीय आरिफ साहब, हौसला अफ़ज़ाई का शुक्रिया ।"
Aug 24
Manjeet kaur replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-98
"आदरणीय कबीर साहब, आपकी टिप्पणी हमारे लिए मार्ग दर्शक होती है आपके मशविरा सर आँखों पर ,धन्यवाद"
Aug 24
Manjeet kaur replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-98
"शमअ दिल की जो जली हम ये बुझाते भी नहीं साँझ को अब तो कभी दीप जलाते भी नहीं । ख़्वाब बनकर हैं बसे वो मेरी आँखों में सदा पास आते भी नहीं दूर वो जाते भी नहीं । मुस्कुराहट लिए लब पर यूँ तो मिलते हैं सभी हाथ मिलते हैं मगर दिल वो मिलाते भी नहीं । रात…"
Aug 24

Profile Information

Gender
Female
City State
Gurgaon, harayana
Native Place
Punjab
Profession
Housewife
About me
I write hindi poetry and gazal haiku chand geet etc. ,,

Comment Wall

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

  • No comments yet!
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Ajay Tiwari replied to Rana Pratap Singh's discussion ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा-अंक100 में शामिल सभी ग़ज़लों का संकलन (चिन्हित मिसरों के साथ)
"आदरणीय राणाप्रताप जी, संकलन की त्वरित प्रस्तुति के लिए हार्दिक बधाई.   ग़ज़ल सं.…"
2 hours ago
Afroz 'sahr' replied to Rana Pratap Singh's discussion ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा-अंक100 में शामिल सभी ग़ज़लों का संकलन (चिन्हित मिसरों के साथ)
"जनाब राणा प्रताप साहिब, इस त्वरित संकलन और बेहद कामयाब आयोजन के लिए आपको ढेरों बधाईयाँ"
3 hours ago
Ajay Tiwari replied to Rana Pratap Singh's discussion ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा-अंक100 में शामिल सभी ग़ज़लों का संकलन (चिन्हित मिसरों के साथ)
"आदरणीय राणाप्रताप जी, संकलन की प्रस्तुति के लिए हार्दिक बधाई.   मेरी दूसरी ग़ज़ल का ये…"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post दुख बयानी है गजल - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"आ. भाई विजय निकोर जी, गजल पर उपस्थिति और प्रशंसा के लिए आभार ।"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Rana Pratap Singh's discussion ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा-अंक100 में शामिल सभी ग़ज़लों का संकलन (चिन्हित मिसरों के साथ)
"आ. भाई राणा प्रताप जी, गजल संख्या ग्यारह (11) के 6 शेर की दूसरी पंक्ति में "झट से पल में'…"
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Rana Pratap Singh's discussion ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा-अंक100 में शामिल सभी ग़ज़लों का संकलन (चिन्हित मिसरों के साथ)
"आ. भाई राणा प्रताप जी, त्वरित संकलन के लिए कोटि कोटि बधाई । नेट की समस्या ने अनेक गजलों तक पहुँचने…"
3 hours ago
Krishnasingh Pela shared Admin's discussion on Facebook
3 hours ago
Krishnasingh Pela shared Admin's discussion on Facebook
3 hours ago
Krishnasingh Pela shared Admin's discussion on Facebook
3 hours ago
नादिर ख़ान replied to Rana Pratap Singh's discussion ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा-अंक100 में शामिल सभी ग़ज़लों का संकलन (चिन्हित मिसरों के साथ)
"आदरणीय राणा प्रताप साहब क्या कहने इधर मुशायरा ख़त्म हुआ उधर संकलन तैयार है  बड़ी रेज़ सर्विस है…"
3 hours ago
KALPANA BHATT ('रौनक़') replied to Rana Pratap Singh's discussion ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा-अंक100 में शामिल सभी ग़ज़लों का संकलन (चिन्हित मिसरों के साथ)
"इस सफल आयोजन के लिए सभी को हार्दिक बधाई| आदरणीय समर भाई जी को विशेष बधाई |  बहुत उम्दा गज़लें…"
3 hours ago

प्रधान संपादक
योगराज प्रभाकर replied to Rana Pratap Singh's discussion ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा-अंक100 में शामिल सभी ग़ज़लों का संकलन (चिन्हित मिसरों के साथ)
"जिंदाबाद राणा भाई जिंदाबाद."
3 hours ago

© 2018   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service