For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Amit Kumar
Share
  • Feature Blog Posts
  • Discussions
  • Events
  • Groups
  • Photos
  • Photo Albums
  • Videos
 

Amit Kumar's Page

Profile Information

Gender
Male
City State
Delhi
Native Place
Bihar
Profession
Service

Comment Wall (4 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Nilesh Shevgaonkar commented on जयनित कुमार मेहता's blog post दिन गुज़रता रहा, रात ढलती रही (ग़ज़ल)
"वाह ..बहुत खूब ,,बधाई "
59 minutes ago
Nilesh Shevgaonkar commented on Nilesh Shevgaonkar's blog post ग़ज़ल- निलेश "नूर"
"शुक्रिया आ. जयनीत भाई"
1 hour ago

AMOM
जयनित कुमार मेहता commented on Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan"'s blog post गुनगुनाऊँ मैं- ग़ज़ल (पंकज)
"आदरणीय पंकज मिश्र जी, सुन्दर ग़ज़ल के बधाई आपको।। मतले में खामोश के पहले 'बहुत' का प्रयोग…"
1 hour ago
राज़ नवादवी posted a blog post

राज़ नवादवी: एक अपरिचित कवि की कृतियाँ- ४3 (दिल रेल की पटरी है और तुम एक आती-जाती ट्रेन)

दिल रेल की पटरी है  और तुम एक आती-जाती ट्रेन  तुम सीने को रौंद के जाते हो  तभी अच्छे लगते हो  जब…See More
2 hours ago

AMOM
जयनित कुमार मेहता posted a blog post

दिन गुज़रता रहा, रात ढलती रही (ग़ज़ल)

212 212 212 212दिन गुज़रता रहा, रात ढलती रहीदिल में उम्मीद की शम्अ जलती रहीसोचकर,किस क़दर फ़ासला ये…See More
2 hours ago
Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan" posted a blog post

गुनगुनाऊँ मैं- ग़ज़ल (पंकज)

1222 1222 1222 1222बहुत खामोश रहने से है बेहतर गुनगुनाऊँ मैं।कभी खुद की कभी औरों की ख़ातिर…See More
2 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Dr T R Sukul's blog post बसंती गंध
"अंतर्लय से अनुप्राणित इस कविता से निस्सृत मनस-द्वंद्व पाठक की संवेदनशीलता से तारतम्यता बैठा पाने…"
3 hours ago
Manoj kumar Ahsaas commented on Manoj kumar Ahsaas's blog post ग़ज़ल.....इस्लाह के लिए...मनोज अहसास
"बहुत बहुत आभार मित्र सादर"
3 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Hari Prakash Dubey's blog post ‘धुंध’ : हरि प्रकाश दुबे
"अजीब ही धंधा है ! :-))) बहरहाल, इस प्रस्तुति केलिए हार्दिक शुभकामनाएँ.  "
9 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan"'s blog post 26 जनवरी विशेष- पंकज मिश्र
"इस प्रयास् अकेलिए हार्दिक शुभकामनाएँ.   एक बहुत ही प्रसिद्ध बहर को तनिक सा फेर-बदल करदिया है…"
9 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post अक्षम्य कर्म (लघुकथा) / शेख़ शहज़ाद उस्मानी
"क्या ग़ज़ब की घटना है ! कर्म तो वाकई अक्षम्य था प्रियंका का. प्रस्तुति के लिए हार्दिक शुभकामनाएँ. "
9 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on pratibha pande's blog post मैं राजपथ हूँ [ गणतंत्र दिवस पर ]
"आदरणीया प्रतिभाजी, इस प्रस्तुति की गहनता ध्यानाकृष्ट करती है.  हार्दिक बधाई व…"
9 hours ago

© 2016   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service