For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Vasudha Nigam's Comments

Comment Wall (13 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 9:40am on September 24, 2012, कुमार गौरव अजीतेन्दु said…

आदरणीया वसुधा जी.....कहानी को पसंद करने के लिये आपका हार्दिक आभार.........

At 6:42am on September 22, 2012, कुमार गौरव अजीतेन्दु said…

आदरणीया वसुधा जी.....कहानी को सराहने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद........

At 10:10am on July 31, 2012, Deepak Sharma Kuluvi said…
वसुधा निगम जी 
बहुत सुन्दर नाम.....

मित्रता के लिए शुक्रिया कुछ हमसे सीखिए कुछ हमें सीखिए....जो दुनियाँ के काम आए

दीपक कुल्लुवी
09350078399
At 11:08am on July 30, 2012, Deepak Sharma Kuluvi said…

sundar rachnayen..............

kuluvi

At 2:22pm on July 28, 2012, लक्ष्मण रामानुज लडीवाला said…

मुझे आपके साथ दोस्ती करने में हर्ष हो रहा है,

स्वागत है आपका आदरणीय वसुधा निगम जी 

At 8:23pm on July 27, 2012, Rekha Joshi said…

आपके संरक्षण मे खुद को सुरक्षित महसूस करती हूँ मै,

यूं ही पूरा जीवन मुझे सुरक्षित महसूस, पापा कराओगे न।,पापा की प्यारी वसुधा जी आपका स्वागत है ,बेहद खुबसुरत रचना ,बधाई 

 

At 3:38pm on July 19, 2012, अरुन 'अनन्त' said…

वसुधा जी मेरी रचना पसंद करने के लिए शुक्रिया.

At 10:19am on May 25, 2012, डॉ. सूर्या बाली "सूरज" said…

अच्छी रचना लगी वसुधा जी। आपको बहुत बहुत बधाई !

At 10:06am on July 9, 2011,
मुख्य प्रबंधक
Er. Ganesh Jee "Bagi"
said…
At 5:59pm on June 29, 2011, Santosh Kumar Thakur said…
very nice
At 3:23pm on June 28, 2011, Rash Bihari Ravi said…
dhanyabad dosti kabul karne ke liye
At 10:18am on June 24, 2011, PREETAM TIWARY(PREET) said…
At 7:23pm on June 22, 2011, Admin said…

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Md. Anis arman posted a blog post

ग़ज़ल

12122, 121221)वो मिलने आता मगर बिज़ी थामैं मिलने जाता मगर बिज़ी था2)था इश्क़ तुझसे मुझे भी यारा तुझे…See More
3 hours ago
Sushil Sarna posted blog posts
3 hours ago
सालिक गणवीर posted blog posts
3 hours ago
Md. Anis arman commented on Md. Anis arman's blog post ग़ज़ल
"जनाब लक्ष्मण धामी साहब ग़ज़ल तक आने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया "
3 hours ago
Md. Anis arman commented on Md. Anis arman's blog post ग़ज़ल
"जनाब समर कबीर साहब ग़ज़ल तक आने और अपनी प्रतिक्रिया देने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया "
3 hours ago
सालिक गणवीर commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल-दिल दिया हमने
"आदरणीया रचना जी सादर अभिवादन एक उम्दः ग़ज़ल के लिए बधाइयाँ स्वीकार करें"
10 hours ago
TEJ VEER SINGH posted a blog post

आत्म घाती लोग - लघुकथा -

आत्म घाती लोग - लघुकथा - मेरे मोबाइल की  घंटी बजी। स्क्रीन पर दीन दयाल का नाम था। मगर दीन दयाल का…See More
10 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल-दिल दिया हमने
"आदरणीय चेतन प्रकाश जी हौसला बढ़ाने के लिए आभार। आदरणीय बहुत ध्यान रखती हूँ फिर भी नुक़्ते कहीं न…"
11 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल-दिल दिया हमने
"आदरणीय समर कबीर सर् आदाब।सर् हौसला बढ़ाने के लिए बेहद शुक्रिय:।सर् फेयर में आपके कहे अनुसार सुधार…"
11 hours ago
Chetan Prakash posted a blog post

ग़ज़ल

221     2121     1221     212रस्मो- रिवाज बन गयी पहचान हो गयी वो दिलरुबा थी मेरी जो भगवान हो…See More
yesterday
Chetan Prakash left a comment for रणवीर सिंह 'अनुपम'
"आदरणीय रणवीर सिंह 'अनूप' आपकी टिप्पणी मैंने अभी देखीं! आपने समारोह के समाप्त होने पर…"
yesterday
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post दोहा त्रयी. . . .
"आदरणीय चेतन प्रकाश जी आपकी मनोहारी प्रशंसा का दिल से आभार । सर तीसरा दोहा एडिट से रह गया । अभी…"
yesterday

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service