For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

पिता वह खूबसूरत नाम है उस इंसान का जो अपने बच्चों की सारी ख्वाहिशों को पूरी करने में दिन रात एक कर देते हैं, उनके लिए सारे कष्टों को झेलते हैं, उन्हें दो समय की भले ही न रोटी मिले पर कहीं न कहीं से वे अपने बच्चों का पेट भरने के लिए दो समय की रोटी का इंतजाम करते हैं। 

वे धूप, ठंडक, आंधी-तूफ़ान, बारिश, किसी की परवाह किये बगैर दिन-रात मेहनत करते हैं। वे भले ही कभी अच्छे स्कूल में न पढ़े हों पर अपने बच्चों को हमेशा अच्छे स्कूल में पढने के लिए भेजते हैं। ताकि वे पढ़ लिखकर कुछ बन सकें जैसी ज़िन्दगी उन्होंने जी है वैसी उनके बच्चे न जियें। 

माँ- बाप तो ईश्वर से भी बड़े हैं जो आपको एक नया जन्म देते हैं, आपको एक नयी दुनिया दिखाते हैं, आपको नया नया काम करने के लिए उत्साहित करते  रहते हैं। वे हर कदम दर कदम आपका साथ देते हैं, आपको कभी दुखी नहीं करते हैं। ईश्वर तो एक कल्पना है जिसे किसी ने नहीं देखा है और माँ -बाप तो साक्षात् ईश्वर का रूप है जिसे आप देख सकते हैं, छू सकते हैं, महसूस कर सकते हैं। आप किसी भगवान् की पूजा न करो बस सच्चे दिल से अपने माँ - बाप की सेवा करो देखो भगवान् तुमसे वैसे ही खुश हो जायेंगे। और जो माँ -बाप को रुलाकर भगवान् की पूजा करता है, व्रत रखता है भगवान् उससे खुश नहीं होते हैं कारण एक तरफ आप भगवान् रूपी माँ-बाप का निरादर करते हैं और दूसरी तरफ पूजा तो ईश्वर कैसे आप से खुश होगा आप खुद ही सोचिए। 

लेकिन हमारे महान देश में कुछ ऐसे बच्चे हैं जो अपने माता-पिता को कुछ नहीं समझते हैं कारण उनकी लाइफ स्टाइल या फिर गरीबी। मैं इन बच्चों के बारे में कुछ नहीं लिखूंगा बस एक नसीहत दूंगा की माता-पिता बहुत खुशनसीब लोगों को ही मिलते हैं और उनकी वैल्यू सिर्फ एक अनाथ ही समझ सकता है। 

 

पिता के बारे में और क्या लिखूँ, मुझे कुछ समझ में नहीं आता क्योंकि पिता उस हीरे के सामान है जिसकी वैल्यू सिर्फ एक जौहरी (अनाथ ) ही समझ सकता है।

मैं पापा के ऊपर कुछ पंक्तियाँ लिखी हैं जो मैं अपने पापा को father day पर गिफ्ट करना चाहता हूँ -

"दुनिया के सबसे प्यारे मेरे पापा 

कभी न करते किसी बात की न-न। 

अपने गम को हमसे छुपाकर, 

हमारी सारी ख्वाहिशों को पूरी करते। 

हमारे सारे कष्टों को सहते, 

ऐसे हैं हमारे प्यारे पापा। "

"मौलिक व अप्रकाशित"

Views: 318

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by बृजेश नीरज on June 12, 2013 at 7:28am

Happy Fathers Day!

Comment by SAURABH SRIVASTAVA on June 10, 2013 at 7:47pm

aapka sabhi ka bahut dhanyawaad 

Comment by सूबे सिंह सुजान on June 10, 2013 at 4:06pm

पिता जीवन देने वाले हैं..एक आत्मा को पृथ्वी पर लाने वाले हैं..पिता का मूल्य...एक पिता जानता है...उसकी संतान में उसकी जान होती है।।।    आपको इस प्रस्तुति पर बधाई।

Comment by Shyam Narain Verma on June 10, 2013 at 12:14pm
इस प्रस्तुति हेतु बहुत-बहुत बधाई व शुभकामनाएँ................

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

मनोज अहसास commented on मनोज अहसास's blog post अहसास की ग़ज़ल:मनोज अहसास
"आदरणीय मुसाफिर साहब हार्दिक आभार सादर"
19 minutes ago
मनोज अहसास commented on मनोज अहसास's blog post अहसास की ग़ज़ल:मनोज अहसास
"आदरणीय समर कबीर साहब सादर प्रणाम कृपा दृष्टि बनाये रखें बहुत बहुत आभार सादर"
19 minutes ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...
"कहते हैं न, धीरे-धीरे रे मना, धीरे सबकुछ होय..  एक समय से इस निर्णय की प्रतीक्षा थी. देर आयद,…"
8 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"वाह। एक बहुत ही उम्दा सृजन विषयांतर्गत। निश्चित रूप से यह एक संस्मरणात्मक शैली की बढ़िया लघुकथा हो…"
11 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"आदाब। आपकी धारदार रोचक शैली और शिल्प में बढ़िया रचना। हार्दिक बधाई जनाब मनन कुमार सिंह जी। आप जैसे…"
11 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"सादर नमस्कार। मेरी जानकारी अनुसार गद्य में 'संस्मरण' सर्वथा एक भिन्न महत्वपूर्ण विधा है…"
12 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"आदाब। हार्दिक स्वागत। पंक्ति इंगित करते हुए कम शब्दों में सारगर्भित समीक्षात्मक टिप्पणी, राय और…"
12 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"आ. भाई नाथ सोनांचली जी, अभिवादन। अच्छी लघुकथा हुई है। हार्दिक बधाई।"
13 hours ago
pratibha pande replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"आपको रचना पर देखना सुखद है।हार्दिक आभार आदरणीया प्राची जी"
14 hours ago
pratibha pande replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"हार्दिक आभार आदरणीय "
14 hours ago
pratibha pande replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"हार्दिक आभार आदरणीय तेज वीर सिंह जी"
14 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Dr.Prachi Singh replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-92 (विषय: रोटी)
"ओह आजकल आधुनिक परिवेश में चपातियों का गिन कर बनाया जाना और सबका अलग अलग कमरों में भी खाना अकेले खा…"
14 hours ago

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service