For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

धूप, दीप, नैवेद बिन, आया तेरे द्वार

भाव-शब्द अर्पित करूँ, माता हो स्वीकार

 

उथला-छिछला ज्ञान यह, दंभ बढ़ाए रोज

कुंठाओं की अग्नि में, भस्म हुआ सब ओज

 

चलते-चलते हम कहाँ, पहुँच गए हैं आज

ऊसर सी धरती मिली, टूटे-बिखरे साज

 

मौन सभी संवाद हैं, शंकाएँ वाचाल

काई से भरने लगा, संबंधों का ताल

 

नयनों के संवाद पर, बढ़ा ह्रदय का नाद

अधरों पर अंकित हुआ, अधरों का अनुनाद

 

तेरे-मेरे प्रेम का, अजब रहा संयोग

नयनों ने गाथा रची, नयनन योग-वियोग

 

जटिल सभी अभिप्राय हैं, क्लिष्ट हुए सब शब्द

जड़ होती संवेदना, अवमूल्यन प्रत्यब्द  

 

लहर-लहर हर भाव है, भँवर हुआ अब दंभ

विह्वल सा मन ढूँढता, रज-कण में वैदंभ 

Views: 656

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by बृजेश नीरज on July 19, 2014 at 9:52pm

आदरणीय गोपाल जी, आपका हार्दिक आभार!

वैदम्भ का दूसरा अर्थ अणु है. दोनों में से एक अर्थ तो समझना ही पड़ेगा. :))

Comment by बृजेश नीरज on July 19, 2014 at 9:18pm

आदरणीय गिरिराज जी, आपका हार्दिक आभार! आपने एक बहुत बड़ी त्रुटि की और इंगित किया इसके लिए विशेष आभार!

Comment by बृजेश नीरज on July 19, 2014 at 9:17pm

आदरणीय शरदिंदु जी, बहुत आभार आपका!

Comment by बृजेश नीरज on July 19, 2014 at 9:16pm

आदरणीया राजेश कुमारी जी, आपका बहुत-बहुत आभार!

Comment by बृजेश नीरज on July 19, 2014 at 9:15pm

आदरणीया कल्पना जी आपका हार्दिक आभार!!

Comment by JAWAHAR LAL SINGH on July 19, 2014 at 8:26pm

धूप, दीप, नैवेद बिन, आया तेरे द्वार

भाव-शब्द अर्पित करूँ, माता हो स्वीकार

हम सब की भावना भी यही है ..सादर!

Comment by डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव on July 19, 2014 at 4:28pm

प्रिय ब्रिजेश जी

भंडारी जी का कथन सही लग रहा है i ऐसा किया जा सकता है - जटिल सभी भावार्थ है ---- सादर  i

Comment by डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव on July 19, 2014 at 4:22pm

प्रिय ब्रिजेश जी

आपके अधिकांश दोहे विमुग्धकारी है  अंतिम दोहे में '' वैदम्भ ''  शंकर का पर्याय है यह समझने में पसीने छूटेंगे i  पर आपको बहुत बहुत बधाई i


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by गिरिराज भंडारी on July 19, 2014 at 11:39am

आदरनीय बृजेश् भाई , सभी दोहे एक से एक रचे हैं ॥ दिली बधाइअयाँ स्वीकार करें ॥

उथला-छिछला ज्ञान यह, दंभ बढ़ाए रोज

कुंठाओं की अग्नि में, भस्म हुआ सब ओज ------- इस दोहे ने तो जैसे मेरे दिल की बात ही कह दी ॥ हार्दिक बधाई ॥

जटिल सभी अभिप्राय हैं --- आदरणीय , इस पद की मात्रा  एक बार और  गिन लीजिये ,  मेरे हिसाब से 14 मात्रायें हो रही हैं ॥


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by sharadindu mukerji on July 19, 2014 at 2:05am

अद्भुत, अद्भुत बृजेश जी.....दोहे भी मुझे इस तरह आकर्षित कर सकते हैं यह 50 साल बाद पहली बार मुझे लगने लगा है. 50साल पहले कबीरदास और रहीम ने मुझे ऐसे ही चौंकाया था. मज़ा आ गया इन दोहों के कथ्य और कथन की मस्ती में आप्लुत होकर. सादर.

 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

surender insan replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"2122 2122 2122 212 ज़िन्दगी के कैनवस में रंग भरने के लिए।कुछ हुनर तो चाहिए यह काम करने के…"
9 minutes ago
munish tanha replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"वाह संजय शुक्ला जी अच्छी ग़ज़ल5वां शेर खास तौर बधाई"
22 minutes ago
munish tanha replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"हर किसी से दोस्ती करता उभरने के लिए वक़्त ने पैदा किया नेता जो धरने के लिए हल्क धरती का है सूखा और…"
35 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"जनाब संजय शुक्ला जी आदाब, तरही मिसरे पर अच्छी ग़ज़ल कही आपने,बधाई स्वीकार करें ।"
57 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"जनाब रवि शुक्ला जी आदाब, तरही मिसरे पर अच्छी ग़ज़ल हुई है, बधाई स्वीकार करें ।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"आ. भाई चेतन जी अच्छी गजल हुई है । हार्दिक बधाई ।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"आ. भाई रवि जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति ओर सराहना के लिए धन्यवाद। आपका कहना उचित है । पर कई…"
1 hour ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"जनाब डॉ. छोटेलाल सिंह जी आदाब, तरही मिसरे पर ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है, बधाई स्वीकार करें । 'जी…"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"आ. रचना बहन, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति ओर सराहना के लिए धन्यवाद।"
1 hour ago
Sanjay Shukla replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"देर मत कर कूद पड़ तू जंग करने के लिए सोचना मत वक़्त कम है यार डरने के लिए /1 लोग तो मसरूफ़ हैं सब…"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"आ. रिचा जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति ओर सराहना के लिए धन्यवाद।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-132
"आ. भाई छोटेलाल जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति ओर सराहना के लिए धन्यवाद।"
1 hour ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service